जमाई से चूत गांड चुदाई

(Jamayi Se Chut Gand Chudai)

मेरा नाम सुलेखा है, मैं ग्वालियर की रहने वाली हूँ। मेरी उम्र 35 साल है. दिखने में गोरी हूँ और मेरी चूचिया बहुत टाइट है काई मर्दो ने मेरा शिकार करना चाहा लेकिन कोई नहीं कर सका। मेरे हसबैंड मुझसे उम्र में कुछ बड़े है।

जो स्टोरी मैं आप लोगों को बताने जा रही हूँ, वो एकदम रियल है.

मेरी शादी को 10 साल हो गये हैं लेकिन है मुझे कोई बच्चा नहीं है। मेरे पति के बड़े भाई भाभी की मौत के बाद उनकी बेटी डिम्पी को हम लोगों ने पाला, अब उसकी उम्र 22 साल है तो उसकी शादी के लिए हम लोग परेशान थे।

डिम्पी की शादी हमने कुछ समय बाद तय कर दी, भिंड के पास लंडका का नाम केतन था वो 27 साल का था, उसकी कपड़े की दुकान थी। हमने डिम्पी की शादी उससे कर दी।

अब घर पर मैं और मेरे पति रह गए। मेरे पति मुझे न के बराबर ही चोदते थे पर मैं बहुत गर्म हो जाती थी, मेरी कामुकता का कोई इलाज नहीं हो पा रहा था.
इस तरह दिन बीत गए।

एक दिन मेरे जमाई और बेटी घर आये, मैंने उनकी बड़ी सेवा की।

कुछ देर बाद बेटी ने मुझे अकेले में ले जा कर बताया कि जमाई को भांग खाने की लत है.
बेटी बोली- वो भांग खा कर रात में बहुत परेशान करते हैं.
मैं समझ गयी कि बेटी के कहने का क्या मतलब है।

बेटी की यह बात सुन कर मुझे भी जमाई जी से मजे लेने का मन करने लगा। मैं जब भी जमाई के सामने जाती अपनी गांड मटकाती अपनी चूचियों के दर्शन कराती थी. मेरी बेटी का पति भी मुझे बड़ी प्यासी नजरों से देखता!
एक दिन मैं उसके सामने पेटीकोट ब्लाऊज में चली गयी, मेरे ब्लाऊज से मेरी चूचियों के निप्पल साफ दिख रहे थे।
लेकिन बात इससे बनी नहीं… उन्होंने कोई कदम मेरी ओर नहीं बढ़ाया, कुछ दिन बाद वो चले गए और मेरी प्यास अधूरी रह गयी।

एक दिन जमाई जी अपनी दूकान का माल खरीदने के काम से ग्वालियर आये और रात को हमारे घर आ गए। उनको देख कर लग रहा था कि उन्होंने भांग खा रखी है, उनकी आँखें लाल थी.
मैंने उन्हें खाना दिया और एक कमरे में लिटा दिया।

आधी रात को मेरे कमरे के दरवाजे पे दस्तक हुई, मैंने उठ कर देखा तो दरवाजे पर जमाई जी थे। मेरे पति नींद में थे, मैंने पूछा- क्या हुआ?
वो बोला- मुझे पानी चाहिये.
मैंने उसे पानी दिया, उसके कमरे उसे लिटाने लगी।
वो लेट गया.

मैंने उससे पूछा- नींद नहीं आ रही है क्या?
वो बोला- नहीं!
मैंने कहा- क्यों?
वो बोला- बिना दूध पिए मुझे नींद नहीं आती!
मैंने कहा- दूध ला दूँ?
वो बोला- लाने की क्या जरूरत है, आपके पास है तो!

मैं समझ गयी कि जमाई जी मुझे चोदने के मूड में है।

मैंने हँसते हुए कहा- है तो… मगर अब दूध निकलता नहीं है!
वो बोला- कुछ दिन मेरा साथ दो, निकल आयेगा।
मैंने अपने ब्लाऊज के ऊपर से अपनी चूचियों को दबाते हुए कहा- अच्छा तो पी लो!

उसने मुझे पकड़ कर लिटा लिया, मेरे ऊपर आकर मेरे होठों को चूसने लगा, एक हाथ से मेरी चूचियों को ब्लाऊज के ऊपर से मसलने लगा.
मेरे मुख से आआह अस्ससस्स की आवाज आने लगी. वो अपने मुंह के थूक को मेरे मुंह में भरने लगा, मेरे ब्लाऊज के हुक खोलने लगा. जैसे ही मेरा ब्लाऊज खुला, मेरे दोनों बड़ी बड़ी चुचियाँ हवा में आ गयी क्योंकि मैंने ब्रा नहीं पहनी थी।

वो मेरी चूचियों के काले बड़े निप्पलों को मुख में लेकर चूसने लगा, मुझे मजा आ रहा था, मैं आआह स्स्स की आवाज कर रही थी. मैंने उसकी चड्डी को उतार दिया, उसके लंड को हाथ में ले लिया. उसका लंड लगभाग 7″ का था, गर्म लंड था, मैं उसको सहलाने लगी.

कुछ देर बाद मैंने अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल कर नीचे कर दिया, अंदर पैंटी नहीं थी।

मेरी चूत में वो उंगली करने लगा, मेरी गर्दन पर, कभी चूचियों पर किस करने लगा. मैं वासना से भर चुकी थी।
उसने मुझे कहा- सासू जी, अब मेरे लंड को भी चूस लो.

हम दोनों नंगे एक दूसरे को लिपटे थे, मैंने उठ कर उसके लंड को मुंह में ले लिया और आराम से हल्के हल्के उसे चाटने लगी.
जमाई जी आआह स्स्सश उईईई की आवाज करने लगा. मैंने उसके लंड हो हल्के से अपने दांतों से दबाया वो आआह बोला- सासू जी, काटो मत, निकल जायेगा।

जब मैंने उसके लंड को हाथ में पकड़ का अपनी जुबान का सिरा उसके मोटे लंड के सुपारे पर रखा और उसको चाटने लगी.
तब वो बोला- गया सासू जी!
उसने अपना माल मेरी चूचियों पर निकाल दिया।

मैं अपने निप्पलों को मुंह में लेकर उसके माल को चाटने लगी और उससे बोली- आआह जमाई जी! अपनी सासु जी की चूत चाट लो!
वो जैसे तैयार था, उसने मुझे लिटाया, मेरी दोनों टाँगों को फैलाया, अपने मुँह को मेरी चूत पर रख कर चाटने लगा।
मैंने अपने हाथ से उसके सर को पकड़ रखा था, मेरी आँखें बंद हो रही थी मैंउम्म्ह… अहह… हय… याह… जमाई जी चाटो! आआह!
उसने मेरी चूत के दाने को अपने दांतों से पकड़ लिया, मैं बेचैन होने लगी।

मैं बोलने लगी- आआह जमाई जी पी लो मेरी बुर! आआह आआह गयी मैं!
मैंने अपना पानी छोड़ दिया, वो मेरी चूत में मुंह रख कर मेरा पानी पी गया।

हम दोनों हाँफने लगे चिपक कर लेट गए, बातें करने लगे. उसने मुझसे कहा- मुझे पता था कि तुम चुदासी हो!
मैंने कहा- वो तो मैं हूँ ही!
उसने पूछा- अब ससुर जी नहीं लेते क्या?
मैंने कहा- उनका अब खड़ा ही नहीं होता, तभी तो तुमसे चुदवा रही हूँ।

मैं उसके लंड पर हाथ सहलाने लगी, वो खड़ा हो गया, मैंने कहा- आपका लंड तैयार हो गया मेरी चूत फाड़ने को!
वो मेरी चूत सहलाते हुए मेरे ऊपर आ गया और मैंने उसके लंड के सुपारे को अपनी चूत पर रख कर कहा- पेल दो जमाई जी!
उसने एक धक्का मारा, मेरी चूत गीली होने की वजह से उसका लंड अंदर घुस गया, मैं चिल्लाने लगी- आआह जमाई जी, निकालो… दर्द हो रहा है!

वो धीरे धीरे लंड अंदर बाहर करने लगा. मुझे अच्छे लग रहा था. जैसे ही उसने स्पीड बढ़ाई, मैं आआह सिसस्स करने लगी, मैं अपने हाथ से अपनी चूत के किनारे सहलाने लगी. वो धकापेल मुझे चोदने लगा, मैं आआह आआह की आवाज कर रही थी- आआह जमाई जी… फट गई रे उईईई आआह!
मैंने अपना पानी छोड़ दिया लेकिन वो सांड के जैसे मुझे चोद रहा था, मैं दोनों हाथों से उसकी पीठ नोच रही थी।

करीब 20 मिनट बाद हो आआह करते हुए वो बोला- सासु जी, कहाँ डालूं?
मैंने कहा- अंदर ही!
उसने अपना सारा माल मेरी चूत में भर दिया और बगल में गिर गया।

मैंने अपनी चूत में हाथ लगया तो उससे खून निकल रहा था। मैं उठ कर अपने कमरे में गयी मेरे पति सो रहे थे, मैं लेट गयी और सो गयी.

सुबह जमाई जी चले गए, मेरी चूत भी सूज आयी पर मैं खुश थी।

15 दिन बाद जमाई जी मेरे घर आये और मुझे ले जाने, बेटी ने बुलाया था.
जमाई जी ने ट्रेन की टिकेट करा ली थी। सुबह ही जमाई जी जाग गए. मैं तैयार थी, मैंने लाल साड़ी पहनी थी, जमाई जी के साथ ट्रेन में बैठ गयी। मेरे बगल में जमाई जी बैठे थे जमाई जी मेरी कमर में हाथ डाल दी.
एक घण्टे में मैं उनके शहर पहुँच गयी।

पहले तो मुझे लगा वो मुझे अपने घर ले जा रहे थे। मगर वो मुझे पहले अपनी दुकान ले गए उसके ऊपर एक कमरा था.
मैंने कहा- जमाई जी, आप मुझे कहाँ ले आये?
वो बोला- आप को पहले चोदूँगा तब घर चलेंगे.
मैं मना करने लगी वो नहीं माना।

वो मुझे पकड़ कर किस करने लगा, मेरी साडी उतार दी, ब्लाऊज के ऊपर से मेरी चूचियों को दबाने लगा.

मैंने अपना ब्लाऊज उतारा और ब्रा भी… उसके लंड को पकड़ कर हिलाने लगी. उसने जल्दी से मुझे नंगी कर दिया और खुद भी नंगा हो गया. मैंने अपनी चूत मसलते हुए कहा- जल्दी मार लो मेरी चूत!
वो हँसता हुआ बोला- चूत तो मार चुका हूँ, अब गांड की बारी है.
मैंने कहा- नहीं!

मेरे लाख मना करने पर वो नहीं माना, उसने पहले से ही तेल रख लिया था, पहले तो उसने मेरी गांड पर तेल लगाया और अपने लंड पर भी! मुझे नीचे झुकाया और अपने लंड को मेरी गांड के छेद में डालने लगा, पहले तो नहीं गया।

फिर जोर लगा कर उसने जैसे ही सुपारा अंदर किया, मेरी गांड में दर्द होने लगा मैंने कहा- जमाई जी, दर्द हो रहा है!
उसने एक धक्का लगाया और आधा लंड अंदर कर दिया।

मैं चिल्लाने लगी- आआह जमाई जी… फाड़ दी मेरी गांड! आआह बहुत दर्द हो रहा है!
उसने जैसे ही दूसरा धक्का लगाया, उसका पूरा लंड मेरी गांड में चला गया।
मैं रोने लगी, फड़फड़ाने लगी.

वो धक्के लगाने लगा, आआह वोआआआआ की आवाज से कमरा गूँज गया. मुझे भी मजा आ रहा था, मैं जोर जोर से अपनी गांड मरवाने लगी.
10 मिनट तक उसने मेरी गांड मारी, फिर उसका माल निकल गया।

कुछ देर बाद मैंने कहा- अब घर चलो!
वो मान गया.

मैं ठीक से चल भी नहीं पा रही थी।
घर गयी तो बेटी ने पूछा- क्या हुआ?
मैंने कहा- टाँग में दर्द है।

अगली स्टोरी में बताऊँगी कि फिर क्या हुआ.
मुझे मेल करें कि सास की चुदाई की स्टोरी कैसी लगी।

धन्यवाद
नितिन डी.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top