तुझे मज़ा आयेगा-1

प्रेषक : अनिल

मैं अपने कमरे में म्यूजिक सुन रही थी कि अचानक किसी गाने के गायक के नाम का नहीं पता होने से अपने भैया को मैंने जोर से आवाज़ दी। घर में मेरे और भैया के सिवा और कोई नहीं था। हमारे माता-पिता किसी रिश्तेदार की शादी में दो दिन के लिए बाहर गए थे। दो-तीन बार बुलाने पर मुझे भैया का कोई जवाब नहीं आया। मुझे कुछ अजीब सा लगा। मैं अपने कमरे से निकल कर नीचे आई और फिर से आवाज़ दी पर फिर भी कोई जवाब नहीं आया। सारे कमरे मैंने देखे पर भैया कहीं भी नहीं थे। मैं फिर बाथरूम की तरफ गई।

मैंने बाथरूम का दरवाज़ा धीरे से खोला तो देखा की भैया की जींस घुटनों तक नीचे थी। मुझे लगा कि मेरे भैया ने एक हाथ से अपने पेशाब वाली चीज़ को पकड़ रखा है और उसे आगे पीछे कर रहे हैं। उनके गले से कुछ अजीब सी आवाज़े निकल रही थी। मैं यह सब देख कर दंग रह गई और वहाँ से हिल न सकी। मेरी आँखें उनके पेशाब वाली चीज़ पर अटक गई। वो उस वक्त बहुत लम्बा और मोटा लग रहा था।

मैंने ऐसे अभी तक कुछ नहीं देखा था।

मुझे अचानक लगा कि मेरी टांगों के बीच मैं कुछ होने लगा है। मैं अपने गाने के बारे मैं सब-कुछ भूल चुकी थी।

तब भैया ने नज़र उठा कर मेरी तरफ देखा और एकदम से चौंक गए और अपनी पेशाब वाली चीज़ को हाथों से छुपाने की कोशिश की। पर मैं तो उनकी पेशाब वाली चीज़ को ही देख रही थी कि जैसे किसी ने मुझे मन्त्रमुग्ध कर दिया हो। तब भैया मेरी तरफ बढ़े और मेरा हाथ पकड़ लिया। मैं भी उनकी तरफ खिंचती चली गई। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मेरे ऊपर किसी ने कोई जादू कर दिया है।

तभी भैया ने मेरा दायां हाथ पकड़ा और उसे धीरे से अपनी पेशाब वाली चीज़ पर रख दिया। मैंने अभी तक भैया की तरफ नहीं देखा था। मैंने उनकी पेशाब वाली चीज़ अपने हाथ में पकड़ ली और मुझे जैसे करंट सा लगा। उनकी पेशाब वाली चीज़ बहुत गर्म सी थी और उसकी आगे वाली मोरी से कुछ लेस जैसी चीज़ भी निकल रही थी।

भैया ने अपना हाथ मेरे उस हाथ पर रख दिया जिस हाथ से मैंने उनकी पेशाब वाली चीज़ पकड़ रखी थी। उनका हाथ मेरे हाथ पर रखते ही मुझे लगा कि मेरा पेशाब निकल गया है। मेरी कच्छी भीग गई हो पर इस पेशाब करने से मुझे जैसे कोई बेहोशी सी आ गई हो। इस तरह की अनुभूति मुझे जिंदगी में कभी भी नहीं हुई थी। तब भैया अपना हाथ मेरे हाथ पर रख कर अपनी पेशाब वाली चीज़ को आगे पीछे करने लगे। थोड़ी देर बाद भैया ने अपना हाथ मेरे हाथ से उठ लिया और मैं तब भी उनकी पेशाब वाली चीज़ आगे पीछे करने लगी। मेरे भैया ने अपने दोनों हाथों से मेरे चेहरे को पकड़ लिया और अपने होंठ मेरे होंठों पे रख दिए। मैं तो जैसे जल उठी और अपने हाथ से जोर जोर से उनकी पेशाब वाली चीज़ को आगे पीछे करने लगी।

अभी तक हम भाई बहन ने कोई भी शब्द आपस में नहीं बोला था।

अचानक मुझे लगा कि भैया एकदम से अकड़ गए हैं और उसी वक्त उनकी पेशाब वाली मोरी से एक पिचकारी सी निकली और मेरे पेट पर और कई छींटे मेरे मुँह पर पड़े। मेरे भैया उसके बाद एकदम से नीचे बैठ गए और लम्बी सी सांसें लेने लगे। मुझे पता नहीं था कि मैं क्या करूँ क्योंकि मेरी पेशाब वाली जगह से भी पानी निकल रहा था और मुझे समझ नहीं आ रहा था कि यह क्या है। यह पेशाब नहीं था पर मैं तो जैसे उड़ रही थी, मेरे जिस्म में एक आग सी लगी थी जो इतना मज़ा दे रही थी कि कुछ न पूछो।

फिर मैंने एक ऊँगली से वो लेस उठाया जो मेरे भैया की पेशाब वाली जगह से निकला था और अपने मुँह में चाट लिया। इतना स्वाद आया कि मैंने हर जगह जो वो लेस गिरा था, अपनी ऊँगली से उठाया और चाटना शुरू कर दिया।

जब मैं वो लेस चाट रही थी तो अचानक भैया ने पूछा- मेरी बहना, स्वाद लग रहा है क्या ?

मैं तो शर्म के मारे जैसे लाल हो गई और अपनी नज़रें नीचे कर ली।

भैया ने कहा- बोल न ? अच्छा लगा मेरा जूस ?

मैंने नज़रें नीचे करके कहा- भैया क्यों पूछते हो ऐसी बातें !

भैया बोले- तूने तो मेरा जूस चख लिया, मुझे भी अपना चखने दे ना !

मैंने कहा- कैसे चखोगे?

भैया बोले- तुझे नंगी होना पड़ेगा !

मैंने कहा- मुझसे यह नहीं होगा।

भैया बोले- तूने तो मुझे नंगा देख ही लिया, तो फिर मैं तुझे क्यों न देखूं ! और मैं तुझसे वादा करता हूँ कि तुझे बहुत ही मज़ा आएगा जब मैं तेरा जूस पिउँगा तो।

मैं कुछ देर कुछ ना बोली तो भैया ने एकदम मुझे अपने बाँहों में घेर लिया और मेरे को चूमना शुरू कर दिया।

उनके हाथ मेरे वक्ष पर आ गए और मुझे लगा जैसे मेरे चुचूक अपने आप अकड़ गए हों। मेरी चूचियाँ छोटी हैं पर बहुत कड़क हैं। मेरे चुचूक काफी लम्बे हैं। मेरे भैया ने मुझे उसी वक्त फर्श पर लिटा दिया और मेरी शोर्ट्स नीचे कर दी। मेरे में कुछ भी हिम्मत नहीं थी कि मैं उनको रोक सकती। मेरे जिस्म में तो जैसे एक आग थी जो बुझना चाहती थी।

मेरे भैया ने मेरी कच्छी भी उतार फेंकी। मैं नीचे से बिल्कुल नंगी हो गई थी। फिर मेरे भैया नीचे झुकते चले गए और अपनी जीभ मेरी पेशाब वाली जगह पे रख दी, मुझे लगा जैसे मेरी जान ही निकल गई हो।

उनकी जीभ मेरी पेशाब वाली जगह पर लगते ही मुझे लगा जैसे मेरा पूरे साल का पेशाब एक बार ही निकल गया हो और मैंने भैया का सर अपनी टांगों में दबा लिया।

भैया ने अपना सर ऊपर किया और पूछा- क्या मैंने गलत कहा था कि तुझे मज़ा आयेगा जब मैं तेरे जूस पिउँगा?

मैंने आँखे बंद किये ही कहा- भैया, प्लीज़ ले लो जितना जूस चाहिए तुम्हें। मैं तो तुम्हारी गुलाम हूँ, जैसे बोलेगे वैसे ही करूँगी।

आगे की कहानी अगली बार

Download a PDF Copy of this Story तुझे मज़ा आयेगा-1

Leave a Reply