मोना की प्यारी चूत-2

प्रेषक : संदीप

और बारी थी दुनिया की सबसे सुन्दर लड़की की सबसे सुन्दर चूत की, जिसको मैं बड़े प्यार से और धैर्य के साथ चाटना चाहता था।

जैसे ही मैंने उसकी प्यारी और फूली हुई चूत पर चुम्बन लिया, उसके मुँह से एक तेज़ सिसकारी निकली, “आह…!”

और जोर से उसने मेरा सर अपनी चूत पर दबा दिया और कांपते हुए अपनी प्यारी चूत से रस छोड़ दिया।

अह ! इतना स्वाद रस मैं आज तक नहीं भूल सकता।

फिर मैंने अपनी गर्म जीभ से उसकी चूत को नीचे से ऊपर की तरफ धीर-धीरे से फेरा, और वो पागल हो गई, नीचे से अपने कूल्हे हिलाने लगी।

मैं अपनी जीभ से उस कामुक चूत को चाटने लगा और उस स्वादिष्ट कामरस को पीने लगा, जो उसकी चूत रह रह कर छोड़ रही थी।

आज तो इस हसीन परी के साथ प्यार करके तो मैं जैसे स्वर्ग में आ गया था। सच बोलूँ तो ज़िन्दगी में पहले बार इतना मजा आ रहा था।

लगभग 15 मिनट उसकी प्यारी चूत चाटने के बाद अब बारी थी उसको चोदने की ! इस दौरान वो कम से कम 2 बार अपना रस छोड़ चुकी थी, जिसे मैं बड़े मज़े ले-लेकर पी गया।

उसके होंठों से संतुष्टि के अस्फुट स्वर निकल रहे थे, ऐसे महसूस हो रहा था जैसे बंजर धरती पर पहले सावन की पहली फुहार पड़ी हो और मैं भी उस जैसी हसीन परी का साथ पाकर निहाल हो चुका था।

वो एकदम से तड़प उठी और धीरे से बोली- भैया, प्लीज़ अब नहीं रहा जाता, जल्दी से डाल दो अन्दर !

मुझे लगा कि यही वक्त है, तो मैंने भी बिना देरी किये अपना लण्ड उसकी प्यारी और गीली चूत के छेद पर रखा और धीरे-धीरे अन्दर डालने लगा।

‘पर उफ्फ्फ्फ़ !!!’ कितनी कसी हुई चूत थी उसकी !

मैंने अपने एक हाथ से अपने लण्ड को मोना की चूत पर ठीक से टिकाया और उसको चूत के अन्दर डालने की कोशिश की, पर लण्ड उसकी चूत से फिसल गया।

मैंने फिर कोशिश की पर फिर मेरा लण्ड फिसल गया।

अब मैंने इधर-उधर देखा तो मुझे एक वैसलीन की एक शीशी मिली। मैं उसके ऊपर से हटा और वैसलीन की शीशी ले आया।

मैं फ़िर से अपनी उसी अवस्था में आ गया।

मैंने लेटे-लेटे ही वैसलीन की शीशी खोली और उसकी उसकी चूत के उपर खूब सारी वैसलीन लगा दी।

फिर मैंने अपने लण्ड के सुपारे को खोला और उसमें भी वैसलीन लगाई।

अब मैंने अपने लण्ड को फिर से उसकी चूत के फांकों के बीच में रखा और अन्दर धकेलने की कोशिश की, किन्तु इस बार शायद चिकनाई ज्यादा होने के कारण लण्ड उसकी चूत से फिर फिसल गया।

अबकी मैंने अपने लण्ड को फिर से रखा और अपने दोनों हाथों को मोना की जांघों के नीचे से निकाल कर उसके कन्धों को पकड़ लिया। इस तरह पकड़ने के कारण, अब वो बिल्कुल पैर भी नहीं बंद सकती थी और हिल भी नहीं सकती थी।

अब मैंने एक जोर से धक्का मारा, मोना के हलक से बड़ी तेज ‘चीख’ निकल पड़ी। मेरे लण्ड का सुपाड़ा उसकी चूत की फांकों को अलग करता हुआ अन्दर घुस गया था।

वो चिल्लाने लगी- हाय, मैं मर गई !

उसकी आँखों से गंगा-जमुना बहने लगी। वो बड़ी तेजी से अपना सर हिला रही थी।

अब मैंने अपने होंठ फिर से उसके होंठों पर कस कर चिपका दिए और एक जोर का धक्का फिर मारा।

अबकी मेरा लण्ड उसकी चूत को और फाड़ता हुआ करीब दो इंच घुस गया। उसकी चूत एकदम गरम भट्टी बनी हुई थी।

मैं अपने लण्ड के द्वारा उसकी कुँवारी चूत की गर्मी महसूस कर रहा था।

2-3 सेकेण्ड के बाद फिर से एक धक्का मारा तो अबकी आधे से ज्यादा लण्ड उसकी चूत में घुस गया। अब मैं उसी अवस्था में रुक गया और उसके होंठों को कस कर चूसने लगा।

उसकी चूत इतनी कसी हुई थी कि मुझे लगा कि मैं आसानी से अपने लण्ड को उसकी चूत में अन्दर-बाहर नहीं कर पाऊँगा और उत्तेजना के कारण जल्दी ही झड़ जाऊँगा।

इसलिए मैंने जोर से एक धक्का और मारा, अबकी मेरा पूरा लण्ड उसकी चूत में समा गया।

मैंने अपनी जांघ पर कुछ गीला-गीला महसूस किया, मुझे समझ आ गया कि इसकी चूत की झिल्ली फट गई है और खून निकल रहा है।

आज जब मुझे अपनी बहन मोना की सील टूटने का अनुभव मिला तो मैं इतना उत्तेजित हो गया कि मैं अपने आप पर काबू नहीं कर पाया और इसी उत्तेजना में मेरा वीर्य निकलने लगा।

मेरा गर्म-गर्म वीर्य मेरी बहन मोना की चूत के अन्दर निकल रहा था, वो भी मेरे लण्ड से निकलने वाले गर्म वीर्य को महसूस कर रही थी अपनी दोनों आँखों को बंद करके !

मोना की चूत इतनी कसी हुई थी कि वीर्य निकलने के दौरान लण्ड अपने आप झटके मारने लगता है, पर मेरे लण्ड को उसकी चूत के अन्दर झटके मारने की जगह भी नहीं मिल रही थी।

खैर मेरा लण्ड वीर्य निकलने के बाद कुछ ढीला हुआ, मैं धीरे से उठा, देखा तो मोना की चूत से खून का ज्वालामुखी फट गया था।

उसकी जांघ, मेरी जांघ और चादर खून से सनी हुई थी, उसकी चूत से अब गाढ़ा खून (मेरे वीर्य की वजह से) निकल रहा था।

मैंने देखा मोना बेहोश सी लग रही थी, मैं जल्दी से रसोई में गया और पानी की बोतल लाकर उसके चेहरे पर पानी के छींटें मारे, उसने धीरे से आँखें खोलीं।

मुझे उसकी ‘करराहट’ साफ़ सुनाई दे रही थी, आँखों से आंसू बंद ही नहीं हो रहे थे।

मैं वहीं पास में ही बैठ गया और उसके बालों को सहलाने लगा।

थोड़ी देर बाद वो कुछ सामान्य हुई, तो मैंने उसे कहा- जान, चलो मैं तुम्हारी चूत को साफ़ कर दूँ, आज मैंने तुम्हारी चूत का उद्घाटन कर दिया है।

उसने थोड़ा उचक कर अपनी चूत को देखा और बोली- भैया यह क्या कर दिया आपने?

मैंने कहा- परेशान मत हो, पहली बार तो यह होता ही है और अच्छा हुआ कि मैंने कर दिया, अगर कहीं बाहर करवाती तो पता नहीं कितना दर्द होता?

वो मेरे कान में बोली- भैया, आपने मेरा ख्वाब पूरा कर दिया है !

और एक गहरी मुस्कुराहट उसके चेहरे पर फैल गई।

मैं उसकी बात से इतना खुश हो गया कि मैंने उसको बेतहाशा चूमना शुरू कर दिया और उसके माथे, आँखों, नाक को चूमते हुए मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में घुसेड़ दी।

वो मेरी जीभ को चूसने लगी, मेरे दोनों हाथ उसकी चूचियों को मसल रहे थे, अब बर्दाश्त करना मुश्किल था।

मैंने एक हाथ से लण्ड को उसकी चूत के ऊपर सेट किया और उत्तेजना में जोर से धक्का मार दिया। मेरा आधा लण्ड उसकी चूत की फांकों को अलग करता हुआ घुस गया।

वो इस बार भी चीख पड़ी और बोली- क्या आज भर में ही मार दोगे मुझे?

मैंने कहा- नहीं मेरी जान, तुमको तो बहुत सम्भाल कर रखूंगा।

फिर मैंने अपने लण्ड को धीरे-धीरे डालना शुरू किया।

उसको लण्ड के चूत में जाने का अहसास हो रहा था।

जब मेरा पूरा लण्ड उसकी चूत में चला गया, तो मैंने उसकी चूचियों को पीना शुरू कर दिया लण्ड अन्दर तक डालने के बाद मैं 2 मिनट रुका और उसके चुचूक मुँह में लेकर चूसने लगा।

अभी तक उसकी चूत मेरे लण्ड को बर्दाश्त कर चुकी थी, तो उसने भी मज़े लेते हुए अपने कूल्हे नीचे से हिलाने शुरू कर दिए।

मुझे लगा कि उसको भी मज़ा आने लगा है तो मैंने उसकी दोनों टांगें अपने कन्धों पर रख कर अपना लण्ड अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।

मैं लगातार उसकी चूत में अपना लण्ड पेल रहा था, पूरा बाहर निकालता और एक झटके से उसकी चूत के अन्दर तक घुसा देता। किसी-किसी धक्के में तो लण्ड उसकी बच्चेदानी को छू जाता।

और जब ऐसा होता तो उसके मुँह से “सीईईईईई!! ओह !!” जैसी आवाज़ आती।

बहुत मज़ा आ रहा था उसको चोदने में। अभी 7-8 मिनट ही हुए थे, तो मुझे लगा कि मैं झड़ जाऊँगा।

शायद उसको यह पता चल गया, तो जैसे ही मैं झड़ने की कगार पर पहुँचा, तो उसने मेरे कानों में धीरे से कहा- जानू, मेरे मुँह में डाल दो, डोंट वेस्ट इट…!

मुझे अपने कानों पर विश्वास नहीं हुआ।

वो जल्दी से उठी और मेरा लण्ड अपने मुँह में ले कर चूसने लगी।

“…अह्ह…” मैं तो ज़न्नत में आ गया था जैसे !

थोड़ी देर उसके चूसने के बाद मैंने अपना सारा ‘लावा’ उसके मुँह में छोड़ दिया जो वो गटागट सारा पी गई।

मुझे एहसास था कि मैं कहाँ हूँ इसलिए अपने होंठ दबा गया। वर्ना तो मेरी, कामुक सिसकारी और किलकारी दूर तक जाती। इतना मज़ा आया मुझे !

उसने सारा रस पी लिया और मेरा लण्ड चाट चाट कर साफ़ कर दिया।

एक बार फिर मैंने उसे गले लगा लिया और चुम्बनों की बारिश कर दी।

उसके बाद तो मेरा सिलसिला चल निकला, अब मैं और मोना सबके सामने तो भाई बहन की तरह रहते, किन्तु अकेले में हम पति-पत्नी की तरह रहते हैं और मजे कर रहे हैं।

उम्मीद है कि मेरी यह कहानी आपको पसंद आई होगी, आपके विचारों का इंतज़ार रहेगा।

Leave a Reply