मोना की प्यारी चूत-1

दोस्तो, मैं भी अन्तर्वासना की कहानियों को नियमित पढ़ता हूँ, मैंने सोचा, मैं भी अपनी कहानी आप सबको बताऊँ।

यह मेरी पहली कहानी है, उम्मीद तो यही है कि सभी कुंवारी चूतें फड़फ़ड़ा जायेंगी और मेरे भाइयों के लण्ड फड़क उठेंगे, उनको फाड़ने के लिए। कृपया अपनी प्रतिक्रिया जरूर भेजिएगा।

मेरा नाम संदीप है उम्र 23 साल कद 6 फीट शरीर भरा हुआ और लंड 7 इंच। मैं अपने परिवार का सबसे बड़ा लड़का हूँ।

यह तब की बात है, जब मैंने +2 के पेपर दे रखे थे और रिजल्ट के इन्तजार में था। तब मैं पूरा दिन घर पर ही रहता था।

एक दिन की बात है, सुबह 6 बजे मेरे फूफा जी का फोन आया और मुझे तभी अपने घर आने को कहा। फिर उन्होंने पापा से कुछ बात की और फोन कटते ही पापा मुझे बोले तू बाइक ले और अभी उनके घर जा और मुझे कोई कारण भी नहीं बताया।

बस बोले- तू जल्दी जा।

मैं भी तुरंत निकल पड़ा। उनका घर मेरे घर से 35 किलोमीटर दूर है। करीब आधे घंटे बाद मैं वहाँ पहुँच गया।

वहाँ जाते ही मुझे पता चला कि मेरी बुआ की लड़की रात से घर से गायब है। मेरे पैरों के नीचे से जैसे जमीन खिसक गई हो।

हमें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि हम क्या करें?

मैंने मोबाइल से भी कॉल डिटेल निकालने की कोशिश की, पर कुछ हाथ न लगा ऐसे ही 3-4 घंटे निकल गए।

फिर करीब 11 बजे मेरे मोबाइल पर मेरे एक बहुत पुराने दोस्त की कॉल आई। उसे मेरी आवाज से पता लग गया कि कुछ गड़बड़ है। मुझे भी लग रहा था कि शायद इसे कुछ पता है। लेकिन न वो कह पा रहा था, न मैं, हम इधर-उधर की बातें घुमाते रहे।

फिर उसने पूछ ही लिया, “बुआ की लड़की क्या कर रही है?”

मैं निरुत्तर था, अब इसे क्या बताऊँ?

मैं बोला- कुछ नहीं, घर में ही है।

उसने मेरा झूठ पकड़ लिया और बोला- यार मैंने उसे अभी तो हिसार कोर्ट में देखा है।

मैं फिर हैरान था, लेकिन फिर मैंने उसे सब कुछ सच बता दिया और बोला- उसे पकड़ कर घर ले जाये, और उसके साथ जो भी है, उसे भी साथ ले जा।

उसने अपने कुछ दोस्तों और घरवालों को बुलाया और उन सब को घर ले गया।

करीब 2 घंटे में हम सब भी गाड़ी लेकर उसके घर पहुँच गए थे। वहाँ जाकर पता लगा कि वो एक लड़के से कोर्ट में शादी करने वाली थी।

हम सब हैरान थे। उस लड़के को भी हमने समझा कर घर भेज दिया था।

बुआ की लड़की को घर ले आये। हमें बहुत देर हो गई थी। इसीलिए हम सब मेरे घर ही रुक गए थे, क्योंकि बुआ का घर दूर था।

हम सब रब का शुक्र मना रहे थे कि बहुत बड़ी अनहोनी होने से बच गई थी। लेकिन ऊपर वाले को तो कुछ और ही मंजूर था।

बुआ की लड़की को मेरे कमरे में सोने को कहा गया था।

फूफा जी बोले- बेटा रात को इसका ध्यान रखना कि ये फिर से न भाग जाये।

फिर हम सब सो गए। मैं और बुआ की लड़की एक ही कमरे में थे।

जैसे ही मैं कमरे में गया। वो जाते ही मुझसे लिपट कर रोने लगी और बोली- भैया, आपने मेरी जिंदगी बचा ली, मैं अब कभी ऐसी गलती नहीं करुँगी।

मैंने भी उसे समझा दिया, मैंने उससे पूरी बात पूछी। फिर हम सो गए। हम दोनों एक ही बिस्तर पर थे।

अब शुरू होती हमारी असली कहानी।

पहले में- मेरी बुआ की लड़की मोना के बारे में बता दूँ। उसकी उम्र 21 साल थी। रंग बिल्कुल साफ़, फिगर 34-28-36।

जो उसे देख ले उसकी ‘आह’ निकल जाये। न जाने कितने लड़के उसके नाम की मुठ मारते थे।

रात को अचानक मेरी आँख खुली तो देखा कि मोना ने मेरे लोअर में हाथ डाल रखा था और मेरे लण्ड को हाथ में ले रही थी।

मैंने उसके मुँह पर थप्पड़ मार दिया और बोला- ये तू क्या कर रही है?

वो बोली- कुछ नहीं भैया और अचानक से मेरे होंठों से अपने होंठ मिला दिए और जबरदस्त तरीके से चूसने लगी, और एक हाथ से मेरे लण्ड को जोर-जोर से हिला रही थी।

मैं भी अपना कण्ट्रोल खो बैठा और उसे जोर-जोर से चूमने लगा। हम दोनों के मुँह से ‘आह-आह’ की आवाज आ रही थी।

फिर उसने मेरी टी-शर्ट भी निकाल दी और मेरी छाती पर काटने लगी। उसने जगह-जगह अपने दांत गड़ा दिए।

हम दोनों एक-दूसरे को बुरी तरह से चूम रहे थे। मैंने भी उसकी कमीज निकाल दी और फिर उसका नाड़ा भी खोल दिया।

अब वो केवल ब्रा और पैन्टी में रह गई थी। गुलाबी ब्रा और पैन्टी में, वो बिल्कुल कटरीना लग रही थी।

मैंने उसे पकड़ कर नीचे लेटा दिया और उसके शरीर को बुरी तरह से चूमने लगा।

मैंने भी कई जगह अपने दांत गड़ा दिए थे। जैसे उसने अंडरवीयर खींचा, मेरा बड़ा मोटा सांवला लण्ड देख उसका मुँह खुला रह गया।

मेरे लण्ड को मसलने के लिए पकड़ा तो पागल हो गई।

“क्या हुआ?”

“इतना बड़ा औज़ार? कैसे पाला है इस शेर को?” कह कर वो चूमने लगी।

“क्यूँ पहले कभी कोई लण्ड नहीं देखा?”

“नहीं पहली बार है, ऐसा लण्ड ब्लू फिल्मों में ही देखा है।” वो सुपारे को चूसने लगी।

“चल एक साथ दोनों एक दूसरे को चूमते हैं !”

‘उफ्फ्फ्फ़’… इतने बड़े और नर्म और गर्म मम्मों की मैंने कल्पना तक नहीं की थी।

मैंने हाथ पीछे ले जाकर उसकी ब्रा का हुक खोल दिया। हुक खुलते ही उसके बड़े और सेक्सी मम्मे मेरे हाथों में थे।

‘हे भगवन !!!’ मैं अपनी किस्मत पर नाज़ कर उठा कि इतने सेक्सी, सुन्दर मुखड़े और सेक्सी बदन की मलिका अब मेरी है।

शुरू से ही मुझे बड़े-बड़े और नर्म मुलायम मम्मे बहुत अच्छे लगते हैं। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

उसके ऊपर चढ़ कर उसके मम्मे चूसने लगा..

वो “अह्ह्ह…ओह्हह्ह…सीईईए…”करने लगी।

इतनी धीरे कि सिर्फ मेरे कानों तक ही पहुँच रही थी।

मैंने दुबारा उसके होठों से शुरुआत की, थोड़ी देर तक उसके शहद से भरे होठों को चूसा। उसकी जीभ, फिर नीचे आ कर उसकी गर्दन को चाटा, फिर उसके अंगूर के दाने के आकार के चुचूकों को होठों में लेकर कम से कम 15 मिनट तक चूसता रहा…।

वो तब तक बहुत ही ज्यादा गर्म हो चुकी थी। मुझे अपने से लिपटाये मेरे सर को अपने मम्मों से सटा रही थी, और अचानक मैंने उसके हाथ को अपने लण्ड पर महसूस किया।

मैं समझ गया कि अब यह मुझसे चुदना चाहती है, जो सही भी था।

मैंने भी अब मम्मों को छोड़ा और उसका पेट चूमते हुए उसकी जांघों तक आ गया।

पहले तो मैंने उसकी जांघें चाटी और जानबूझ कर उसकी चूत की तरफ ध्यान नहीं दिया ताकि वो खुद तड़प कर मुझे चूत चाटने के लिए बोले।

मेरी उंगलियाँ अब उसकी कुँवारी चूत की फांकों को अलग-अलग करने लगीं थी।

मैंने अपनी एक ऊँगली उसकी चूत के अंदर घुमा कर जायजा लेना चाहा पर उसकी चूत इतनी कसी हुई थी कि मेरी उंगली उसके अन्दर जा ही नहीं सकी।

खैर मैंने उसको धीरे-धीरे सहलाना चालू रखा। जल्दी ही मुझे लगा कि मेरी उंगली में कुछ गीला और चिपचिपा सा लगा और मेरी प्यारी बहना का शरीर कुछ अकड़ने लगा।

मैं समझ गया कि इसकी चूत को पहली बार किसी मर्द की उंगलियों ने छुआ है, जिसे यह बर्दाश्त नहीं कर सकी और इसका योनि-रस निकल आया है।

मैं तुरंत अपनी उँगलियों को अपने मुँह के पास ले गया, क्या खुशबू थी उसकी कुँवारी चूत की !

अब उसकी सिसकारियाँ तेज़ होने लगी थी, बदन कांपने लगा था।

ज़ाहिर था कि वो झड़ने वाली थी और अचानक उसने मेरा सर पकड़ कर मेरा मुँह अपनी चूत पर रख दिया। बिना बोले उसने मुझे कह दिया कि मेरी चूत चाटो !

और बारी थी दुनिया की सबसे सुन्दर लड़की की सबसे सुन्दर चूत की, जिसको मैं बड़े प्यार से और धैर्य के साथ चाटना चाहता था।

जैसे ही मैंने उसकी प्यारी और फूली हुई चूत पर चुम्बन लिया, उसके मुँह से एक तेज़ सिसकारी निकली, “आह…!”

और जोर से उसने मेरा सर अपनी चूत पर दबा दिया और कांपते हुए अपनी प्यारी चूत से रस छोड़ दिया।

कहानी जारी रहेगी।

Leave a Reply