बहन का यौवन-1

अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार ! आप सबको मेरी अगली कहानी का इन्तजार करवाने के लिए माफ़ी।

मेरे घर में मेरे अलावा मेरे माता-पिता और मेरी एक छोटी बहन है। मेरी उम्र 24 साल है जबकि मेरी बहन तान्या 22 साल की है। यह चार साल पहले की बात है जब वो 18 साल की थी, 18 साल की उम्र में ही उसका यौवन पूरा निखर आया था। चूचे 34 के, चूतड़ 32 की और कमर 26 की, होंठ बिल्कुल पतले गुलाब की तरह और वो बहुत ही फ़ैशनेबल थी जैसे ऊँची ऐडी की सेंडल पहनना, स्लीवेलेस ड्रेस पहनना।

मैं तभी से उसको चोदना चाहता था मगर कभी हिम्मत नहीं कर पाया। उसके यौवन के कारण कई लड़के हमारे घर के आस-पास मंडराते रहते थे। इतनी रूपवती होने के बावजूद तान्या में बिल्कुल घमंड नहीं था।

बारहवीं की परीक्षा के बाद पापा चाहते थे कि तान्या इंजिनीयरिंग करे मगर तान्या डीयू में एडमिशन लेना चाहती थी। वैसे तो तान्या का कोई बॉयफ़्रेंड नहीं था मगर शायद वो वो सब करना चाहती थी जो इस उम्र की सारी लड़कियाँ करना चाहती हैं।

मुझे इस बात का पूरा अंदाजा था, आखिर पापा को उसकी जिद के आगे झुकना पड़ा। चूँकि तान्या को डीयू के फॉर्म के बारे में कोई जानकारी नहीं थी इसलिए पापा ने मुझे उसके साथ जाने के लिए कहा, जिसके कारण तान्या थोड़ी हिचकिचाई।

अगले दिन मैंने सुबह-सुबह कार निकाली और नोर्थ कैम्पस की तरफ चल दिए। तान्या नोर्थ कैम्पस के कुछ कॉलेज देखना चाहती थी तो हम नोर्थ कैम्पस में घूमने लगे, लोग हमे ऐसे देख रहे थे जैसे हम किसी दूसरे ग्रह से आये हैं।

इस पर तान्या ने मुझसे पूछा- भैया, लोग हमे घूर क्यूँ रहे हैं?

तो मैं कहना चाहता था कि तुम बहुत सुन्दर हो मगर गलती से मैंने सुन्दर की जगह सेक्सी कह दिया।

मेरे मुँह से सेक्सी शब्द सुनकर तान्या मुस्कुरा दी।

जब हम मिरांडा हाउस कॉलेज के सामने पहुँचे तो मैंने देखा कुछ लड़कियाँ सिगरेट का कश ले रही थी और छल्ले हवा में उड़ा रही थी और तान्या उनको घूर-घूर कर देख रही थी।

कुछ देर के बाद हम वहाँ से घर की तरफ़ चल दिए। थोड़ी दूर चलने के बाद मैंने अपनी कार साइड में लगा दी और अपने लिए एक सिगरेट जलाई। तान्या जानती थी कि मैं सिगरेट पीता हूँ, मगर आज वो मुझे अजीब से तरीके से देख रही थी। जब मैं दुबारा

कार में पहुँचा तो देखा, तान्या के चेहरे पर एक परेशानी थी। चूँकि हम दोनों भाई-बहन होने के साथ-साथ अच्छे दोस्त भी थे इसलिए

मैंने सीधा ही तान्या से परेशानी का कारण पूछा तो वो बोली कि वो भी सिगरेट ट्राई करना चाहती है।

उसकी बात सुनकर मुझे कोई हैरानी नहीं हुई। मैंने सोचा यही मौका है इससे अपनी बात कहने का, मैंने कहा- मैं अगर तुम्हें इस बात कि इजाजत दे दूँ तो क्या तुम मेरी एक इच्छा पूरी करोगी?

उसने कहा- क्या करना होगा?

तो मैंने कहा- मैं तेरे साथ एक डांस करना चाहता हूँ !

तो वो हंसी और तुरंत हाँ बोल दी, उसकी हंसी में एक शरारत थी क्योंकि वो जानती थी मैं उससे कुछ और ही चाहता हूँ।

मैंने आगे एक सुनसान जगह पर कार रोकी और एक सिगरेट तान्या की तरफ बढ़ा दी, जैसे ही वो पहला कश लेने लगी तो बहुत जोरों से खांसने लगी और सिगरेट सड़क पर फेंक दी, इसके बाद हम घर चल दिए।

अगले दिन मम्मी-पापा को किसी काम से बाहर जाना था, जब मम्मी-पापा घर से चले गए तो मैं तान्या के कमरे में पहुंचा, उसने उस वक्त सफ़ेद रंग की टी-शर्ट और स्कर्ट पहनी हुई थी और होंठों पर गहरे लाल रंग की लिपस्टिक थी।

मैंने उसे उसका वादा याद दिलाया और डांस के लिए कहा। उसने तुरंत हाँ कह दी, मैंने उसे अपने कमरे में चलने को कहा और अपने लैपटॉप पर ‘आशिक बनाया आपने’ गाना लगा दिया, पहले तो तान्या शरमाई मगर मेरी उत्सुकता देख हाँ कह दी।

मैंने भी मौका ना गंवाते हुए उसे अपनी बाहों में जकड़ लिया और डांस करने लगा। कुछ पलों के बाद मैंने अपनी शर्ट उतार दी।

उसने कारण पूछा, तो मैंने कहा हमें गाने में जो हो रहा है वो करना है ताकि हम महसूस कर सकें।

इससे पहले वो कुछ और सोचती मैं उसे फिर से अपनी बाहों में पकड़ा और उसके होंठों पर एक पप्पी दी और इमरान हाश्मी की तरह उसकी टी-शर्ट और स्कर्ट उतार फेंकी। मैंने उसकी ऊँची एडी वाली सेंडल नहीं उतारी। इसके बाद अंडरवियर के अलावा अपने सारे कपड़े उतार फेंके और उसके होंठों का रसपान करने लगा।

तान्या मेरा पूरा सहयोग कर रही थी, उसने खुद ही अपनी ब्रा-पेंटी उतार कर एक तरफ रख दी और मेरी अंडरवियर उतारने लगी। अंडरवियर उतारने के बाद मैंने अपना लंड उसके हाथों में थमा दिया और उसे चूसने को कहा।

तो उसने मेरे गालों पर तमाचा मारा और बोली- मैं कोई रंडी नहीं हूँ जो तुम्हारा लंड चूसूंगी !

मैंने उसके सर के बाल पकड़े और उसके होठों में अपना लंड घुसा दिया। थोड़ी ना-नुकुर के बाद वो मेरा लंड चूसने के लिए मान गई और फिर लॉलीपोप की तरह काफी देर तक मेरा लंड चूसती रही।

चूँकि तान्या सेक्स के लिए पूरी तरह तैयार थी इसलिए मैंने उसे बाहों में उठाया और बिस्तर पर ले जाकर लिटा दिया और उसकी टाँगें चौड़ी कर दी और उसकी चूत का दरवाजा खोल दिया। उसकी चूत देखते ही मैं समझ गया कि तान्या पहले किसी से चुद चुकी है।

मैंने तान्या से पूछा- और कितनों से अपनी चूत चुदाई है?

तो उसने कहा- तुम पहले हो।

यह सुनते ही मैंने अपना लंड जो कि 7 इंच तक खड़ा हो चुका था, एक ही झटके में अंदर डाल दिया। तान्या इस झटके को सहन नहीं कर सकी और चिल्ला पड़ी।

मैंने उससे दुबारा पूछा तो वो बोली- पापा के दोस्तों ने उसे चोदा है !

यह सुनते ही मुझे गुस्सा आ गया और मैंने बचा हुआ लंड उसकी चूत में अंदर डाल दिया और खूब जोर जोर से झटके मारने लगा।

कुछ देर में उसे परम आनन्द की अनुभूति हुई और मेरा भी झड़ने वाला था।

मैंने उसकी चूत से अपना लंड निकाला और उसे फिर से चूसने को बोला। इस बार उसने एक रंडी की तरह मेरा पूरा लंड खाली कर दिया।

इसके बाद हम दोनों बाथरूम में जाकर साथ नहाए, उससे जाना कि कैसे पापा के दोस्तों ने उसे चोदा था और उससे वादा लिया अगर भविष्य में कोई भी ऐसी बात होती है तो वो सबसे पहले मुझे बताए।

इसके बाद हम दोनों फिर बिस्तर में आ गए और मैंने उसे एक बार फिर चोदा। चोदने के बाद मैंने उसे सिगरेट पीना सिखाया।

कुछ दिनों तक ऐसे ही मेरा और तान्या का चुदाई कार्यक्रम चलता रहा। कुछ दिनों के बाद तान्या ने मुझे बताया पापा के दो दोस्त तान्या को चोदना चाहते हैं। मैंने तान्या को साथ में लिया और गुस्से में कार लेकर एक-एक करके उन दोनों के घर पहुँचा और उनकी पत्नियों और बच्चों को उनके बाप के बारे में बता दिय।

उन दोनों ने वादा किया कि आज के बाद वो तान्या को परेशान नहीं करेंगे।

इसके बाद क्या-क्या हुआ और तान्या का यौवन क्या रंग लाया, यह अगली कहानी में पढ़ेंगे। यह कहानी आपको कैसी लगी, मुझे जरूर बताइए।
3067

Download a PDF Copy of this Story बहन का यौवन-1

Leave a Reply