अजब चाची की गजब कहानी

प्रेषक : सनी पहलवान

बात सुनो भाई बात सुनो, एक पते की बात सुनो !

मेरे और मेरी चाची के बीच के सेक्स का ये राज सुनो !!

यह हसीन ख्वाब तब से चालू होता है जब से मेरी चाची मेरे चाचा से शादी करके हमारे घर आई। मेरे चाचा एक सुस्त प्रकृति के इंसान हैं, दुबले-पतले मुरझाये से देख के तो यही लगता है कि नपुंसक हैं !

उनकी शादी के समय तो ऐसा कुछ नहीं हुआ पर जब शादी के बाद एक दिन मैंने चाची को कपड़े बदलते देखा तो मैं पागल सा हो गया। चाची उस समय २९ साल की थी और मैं १८ साल का। मेरे लंड ने नया-नया उठना सीखा था। उनको ब्रा-पैंटी में देखकर मेरा लंड कुमार तो बिलकुल आपे से ही बाहर हो गया ! इच्छा हुई उसी वक़्त जाकर योनि क दर्शन कर आऊं।

कुछ दिन तो सब सामान्य रहा, फिर एक दिन जब चाची अपने कमरे में अकेली थी तो मैं उनके कमरे में यह देखने गया कि आखिर यह माल कर क्या रहा है !

मैंने देखा कि वो नंगी लेटी हुईं थी और एक बैंगन को अपनी चूत में डाल रही थीं। मेरा लौड़ा फिर से खड़ा हो गया। मैं आँख बंद करके उस मालजादी को चोदने के सपने देखने लगा !

इतने में ही मेरा ध्यान भंग हुआ एक आवाज से, यह आवाज मेरी चाची की ही थी, वो बोलीं- सनी बाहर क्यूँ खड़े हो? अंदर आ जाओ !

मैं एकदम से डर गया- अरे इसने कैसे देख लिया मुझे ?

अंदर गया तो चाची ने तब तक एक गाऊन पहन लिया था ! हाय उस गाऊन में भी क्या लग रही थीं वो ! उफ्फ्फ्फ़ एकदम बम्पर माल !सांवला-सलोना शरीर ! उस पर ये बड़े बड़े दूध ! मस्त चौड़ी गांड और गोल गोल जांघें ! पूरे बदन से यौवन टपक रहा था जैसे ! मैं तो दीवाना हो गया था !

तभी चाची मुझसे बोली- क्या देखते रहते हो सनी तुम मेरे कमरे के बाहर खड़े होकर?

मैं बोला- कुछ नहीं चाची जी ! बस ऐसे ही खड़ा हुआ था !

वो बोली- अगर तू ऐसे ही खड़ा हुआ था तो तेरा यह हथियार क्यूँ इतना खड़ा हुआ है?

मैं यह सुनकर एकदम सकपका गया लेकिन हिम्मत जुटाकर बोला- हथियार ? कौन सा हथियार ?

चाची बोली- अरे मेरे मिटटी के माधव ! हथियार मतलब तुम्हारा पप्पू ! याने कि तुम्हारा लंड !

मैं- नहीं चाची जी ! कैसी बात कर रही हैं आप ? मैं तो बस .. यूँही .. . और कुछ नहीं !

चाची- सुन रे लौंड़े ! जल्दी से बता दे- क्या कर रहा था? नहीं तो सब को बुलाकर बोलूंगी कि यह साला मेरी इज्जत लूटना चाहता है !

मैं तो घबरा गया एकदम से फिर मैं बोला- मैंने आपको नंगा देख रहा था, आप बहुत सुंदर हो ! मुझसे चुदवाओगी क्या आप ?

चाची- हाँ मेरे राजा ! मैं तो कब से चाह रही थी कि कोई माँ का लवड़ा फंसे तो कुछ अपनी भी प्यास शांत हो जावे ! ये तेरा चाचा तो बड़ा थकेला इंसान हैं , साला न चुम्मा लेता हैं न दूध दबाता है और न चूत चाटता है, साला मुझे भी लंड चूसने नहीं देता ! यहाँ तक कि बहनचोद कोई गन्दी बात भी नहीं करता है! शादी को दो महीने हो गए लेकिन इस भोसड़ी वाले ने सिर्फ दो बार चोदा है ! चोदा क्या है, दो मिनट मे लंड हिला के सो जाता है साला ! तू अच्छा हट्टा-कट्टा है ! तेरे से तो कुतिया के जैसे चुदुंगी मैं !

क्यूँ नहीं मेरी रानी ! बिलकुल संतुष्ट कर दूंगा, तुझे तो मैं ऐसा चोदूँगा कि तू साली बीच सड़क मे भी चुदवाने के लिए राजी हो जायेगी ! ऐसा माल जैसा शरीर लेकर अभी तक प्यासी बैठी है ? पर अब तेरी गांड को मैं अपने लंड के प्यार से सराबोर कर दूंगा ! एक काम करते हैं, यह चाचा कल जा रहा है बाहर ! तू तो यहीं रहेगी और तेरा कमरा भी घर से थोड़ा हट के है, मैं किसी बहाने से रात को तेरे कमरे में आ जाऊंगा, फिर बहनचोद दोनों मिल के सेक्स का आतंक मचाएंगे !

चाची- प्लान तो मस्त है ! तू एक काम करना, एक अद्धा दारू और एक बटर चिकन भी ले आना ! मस्त दारू पी के मूड बनायेगा ! और हाँ मादरचोद सिगरेट लाना मत भूलना ! साला पूरे तीन महीने हो गए दारू को हाथ लगाये ! इतना सीधा पति मिला है कि साला चूत को भी नहीं देख पाता ! पर आज अभी थोड़ा सा सेक्स तो कर ही लेते हैं ! तेरा लंड तो मैं आज ही चाखुंगी लौंड़े !

फिर मैंने धीरे धीरे चाची के दूध सहलाना चालू कर दिए चाची ने भी मेरे लंड को मसलना शुरू कर दिया ! मैंने चाची के गाऊन को उतार दिया और उनके बटले पीने लगा ! साली रंडी ऐसी आवाजें निकाल रही थी जैसे ब्लू फिल्म में मालू राण्डें निकालती हैं- हाय ! उफ़ सनी मादर चोद ! उफ़ साले और मसल हां हा हाय …. उफ़ ..उफ्फ्फ साले फ़ोड़ दे आज तो तू इनको ! फिर उसने झट से मेरा लौड़ा अपने मुँह मे ले लिया !

और मैं जन्नत में पहुँच गया ! वो खींच खींच कर मेरे लौड़े को चूसने लगी मैं भी उसकी फ़ुद्दी को सहलाने लगा ! आह आह क्या मजा आ रहा था ! आह, लौड़ा तो पूरा टाइट हो गेला था ! फिर सुपाड़े को चूसने लगी मेरी चाची !

फिर मुझसे बोली- अब चल गांडू मेरी बुर चाट तू !

मैं झुका और देखा तो आज क्या दर्शन हुए हैं योनि देवी के ! वाह वाह मजा आ गया- हलकी गुलाबी बुर थी चाची की पर एकदम टाइट न थी। ऐसा लग रहा था कि बहुत चुद चुकी है।

मैंने पूछा- एक बात बता रंडी ! मेरी चाची बनाने से पहले कित्तों से खेली-खाई हैं तू ?

वो बोली- छः महीने तक तो एक बॉयफ्रेंड था, उसने चोदा ! लेकिन इस सील को तोड़ने का श्रेय तो मेरे जीजाजी को जाता है ! वो बहुत अय्याश इंसान हैं ! मेरी दीदी को अलग अलग तरीके से चोदते हैं ! अबकी बार मैं उनके यहाँ जाउंगी तो तू भी चलना ! मेरी दीदी, जीजाजी, जीजाजी के भाई, उनकी पत्नी, जीजाजी की बहन और बहनोई मिलकर ग्रुप सेक्स करते हैं ! हम भी शामिल हो जायेंगे !

फिर मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया ! उसके बाद मैंने अपना लौड़ा उसकी चूत में डाल दिया और धक्के पे धक्का मारने लगा ! वो भी मस्ताती जा रही थी ! आह आह …उफ़ …हे …आह आह मेरे राजा ! मेरे जानेमन ! मुझे कुत्ते के जैसे चोदो ! आहऽऽ फाड़ डालो आज इस बुर को ! चूत के चिथड़े उड़ा डालो आज ! आज आह आज ……. ऐसा चोदो की बस मजा आ जाये !

मैंने चाची को दस मिनट तक चोदा और झड़ गया !

चाची संतुष्ट हो गई थी आज ! बोली- कल रात को चार-पाँच बार चोदना ताकि मेरी ये छिनाल बुर भी पानी छोड़ दे !

फिर मैं बाहर आ गया !

भाई लोग मेल करो कि कहानी कैसी लगी !

अगली कहानी में अगली रात की चुदाई का वर्णन करूँगा ! अगर मेरी चाची आपको पसंद आई हो तो उसके बारे में भी लिखें।

Leave a Reply