चुदासी की उदासी

(Chudasi Ki Udasi: Sali Ki Beti Ko Choda)

दोस्तो, मेरा नाम अशोक है, मैं 45 साल का हूँ। मैं अक्सर अन्तर्वासना पर सेक्सी कहानियाँ पढ़ता हूँ और सच बताता हूँ कि जब कोई कहानी बहुत अच्छी लगती है, तो पढ़ते हुये मुट्ठ भी मारता हूँ। जबकि बीवी है, उसको भी पेलता हूँ। पर सेक्स चीज़ ही ऐसी है, जब दिमाग में चढ़ता है, तो लंड पानी छोड़े बिना चैन नहीं लेता, फिर या तो फुद्दी मारो या मुट्ठ मारो।
मैं तो ये देखता हूँ कि मौके पर क्या उपलब्ध है, फुद्दी या हथेली।

खैर, अब मैं आपको अपनी बात सुनाता हूँ। दरअसल मैं एक तरह से सेक्स का पागलपन की हद तक दीवाना हूँ। मेरे मन में हर वक़्त यही ख्याल चलते रहते हैं कि मैं कब किसकी फुद्दी मारूँ। मुझे
सेक्स के मामले में उम्र, रंग, कद, काठी, धर्म, ज़ात किसी भी चीज़ की परवाह नहीं होती। यहाँ तक मर्द या औरत की भी नहीं, जब काम मेरे दिमाग में चढ़ता है, तो मुझे सिर्फ डालने के लिए सुराख चाहिए, बहुत बार तो मैंने अपने फ्रिज में लगी चौड़े मुँह वाली पानी की बोतल में भी अपना लंड घुसा कर सेक्स किया है। अपने जितने रिश्तेदार हैं, उन सबकी लड़कियों, औरतों पर मेरी नज़र है। चाहे कोई भी हो, मेरी साली हो, सहलज हो, मेरी कोई बहन भाभी हो, या इनमें से किसी की भी बेटी बहन हो, मुझे सिर्फ उनकी फुद्दी और मम्मे ही दिखते हैं। छोटे बड़े, काले गोरे, सख्त नर्म, लटके या उठे हुये, कच्चे या पके हुये, बस मम्मे होने चाहिए, जिनहे मैंने अपने मुँह में लेकर चूस सकूँ, और एक फुद्दी हो, या गांड हो जिसमें मेरा लंड घुस सके।

मैंने अपनी शादी से पहले और बाद में भी अपनी आदतों को नहीं सुधारा है, बल्कि ये और खराब हुई हैं। मैंने बहुत से लड़के, लौंडे, पट्ठे, और दो हिजड़ों को भी चोदा है। अब जब आपकी सेक्स लाइफ बहुत शानदार हो तो आपको अपना खुद का भी ख्याल रखना पड़ता है। मैं खुद को बहुत फिट रखता हूँ, हर रोज़ सुबह 4 बजे उठ कर दौड़ने जाता हूँ। रोज़ अपने लंड और टट्टों की बादाम के तेल से मालिश करता हूँ। अपनी बगलों और झांट के बाल हमेशा साफ रखता हूँ और हर वक़्त खुशबू में नहाया रहता हूँ।

मेरी एक साली है, मेरी बीवी से तो बड़ी है, 54 साल की हो चुकी है, मगर अब भी मुझे वो बहुत पसंद है, दूध जैसी गोरी, और खूब भरा हुआ बदन। आज भी अगर वो मुझे ऑफर करे तो मैं 100% उसको चोद दूँ। उसकी दो बेटियाँ है, दोनों जवान है, बड़ी की शादी हो चुकी है, मगर मैं अपनी साली की दोनों बेटियों को अपने ख्यालों में चोद चुका हूँ। सच में कहाँ मिलती हैं।

बात तब बनी जब मेरी साली की बड़ी बेटी के बेटा हुआ। पहले तो मैं अपनी पत्नी के साथ उसका बच्चा देखने गया, सभी रिश्तेदार थे तो कोई खास बात नहीं हुई, जो भी रिश्तेदारी थी, हम निभा कर आ गए।
करीब दो महीने बाद फिर मेसेज आया कि बड़ी बेटी आई हुई है, आप भी आकर मिल जाओ।
हम फिर मिल आए, उस दिन मैंने देखा। नीतू, मेरी साली की बेटी ने कैप्री के साथ एक बिन बाजू की टी शर्ट सी पहन रखी थी जिसमें से दिखता तो कुछ नहीं था, मगर हाँ, टी शर्ट की बाजू से इतना मुझे दिख गया कि उसने अपने ब्रा के पीछे वाले हुक नहीं लगा रखे थे, ताकि बच्चा बार बार दूध पिये तो हुक खोलने की ज़रूरत न पड़े, बस टी शर्ट और ब्रा उठाई और उसे दूध पिला दिया। मैं तो सोच रहा था कि कभी ऐसा मौका भी मिले जब मैं उसे दूध पिलाते हुये देखूँ और बहाने से उसके मम्मे के दर्शन भी कर लूँ।

एक बार बहुत पहले जब वो हमारे घर आई थी तो उसके सोते हुये, मैंने मम्मे दबाये थे, तब तो वो थी भी बस 18-19 साल की, छोटे छोटे मम्मे थे उसके, अब तो उसके मम्मे खूब भारी हो रहे थे, और दूध से भरे हुये थे। मैंने उसकी टी शर्ट पर दूध से गीला होने के निशान देखे थे।

हमारा दो तीन दिन रुकने का प्रोग्राम था। ना जाने क्यों मुझे लगा के नीतू कुछ उदास उदास सी है। मैंने बातों बातों में उस से पूछा भी- क्या बात है नीतू, तू बड़ी चुप चुप सी है, तू तो घर की रौनक है, सबसे ज़्यादा तू बोलती है, फिर अब क्या हुआ?
वो बोली- कुछ नहीं मासड़जी, बस वैसे ही।
तभी उसकी माँ, यानि मेरी साली बोल पड़ी- वो बस बेबी करके ना!

मगर मैंने सोचा कि बच्चा तो अच्छा भला है, तंदरुस्त है, एक्टिव है, फिर क्या दिक्कत हो सकती है। फिर दिमाग में एक विचार कौंधा, अरे यार, एक महीने से ऊपर हो गया, इसे अपने माएके में बैठे, तो ये तो लंड लेने को तड़प रही होगी। हो न हो, ये इसी लिए चुपचाप है, अब अपने घर वालों को क्या बताए कि इसे अब अपने पति की या यूं कहो एक कड़क लंड की ज़रूरत महसूस हो रही है।
मैंने मन ही मन सोचा ‘अरे नीतू बेटी, अगर तुझे लंड चाहिए तो अपने मासड़जी का लंड ले ले, एकदम कड़क है, मजा आ जाएगा।

जैसे ही ये बात मैंने अपने मन में सोची, नीतू ने एकदम से सर उठा कर मेरी तरफ देखा जैसे वो मेरे मन की बात जान गई हो, मैंने भी हल्के से अपना सर हिला दिया, जैसे उसे हाँ कहा हो।
और फिर मैंने उसकी आँखों में एक अलग सी चमक देखी जिसे मैं कुछ समझा कुछ नहीं समझा।

चलो, दिन बीत गया, रात हो गई, खाना खाया। खाना खा कर सोने की बात हुई।
मैंने कहा- मुझे तो भाई अलग बिस्तर देना, मुझे तो सुबह 4 बजे उठ कर सैर करने जाना होता है।

तो मेरी सहूलियत के लिए मुझे बड़े हाल में दीवान पे एडजस्ट किया गया, बाकी सब बेडरूम में सेट हो गए, बच्चे बड़े सब। नीतू अपने बेटे के साथ अपनी छोटी बहन के रूम में थी। अब मेरा हाल रूम सब के बीच में था। मेरे बिल्कुल सामने किचन, एक तरफ ड्राइंग रूम और एक तरफ बाथरूम था। मैं तो साढ़े नौ, दस बजे तक सो गया, मगर ये सब लोग जागते रहे और बातें करते रहे।

रात के करीब डेढ़ बजे मुझे पेशाब का प्रेशर महसूस हुआ, तो मैं उठ कर पेशाब करके आया, और फिर से अपने बेड पे लेट गया। मगर उसके बाद मुझे नींद नहीं आई। मैं बेड पे लेटा करवटें बदलता रहा।

थोड़ी देर बाद मैंने देखा के बगल वाले कमरे का दरवाजा खुला और नीतू कमरे से बाहर आई, पहले तो उसने आस पास देखा, और फिर बड़े ध्यान से मेरे बेड की ओर देखा.
मैं जाग तो रहा था, मगर सोने का नाटक कर रहा था, थोड़ी सी आँख खोल कर मैं उसे ही देख रहा था और मन ही मन सोच रहा था- देख क्या रही है मेरी जान, आजा, तेरी फुद्दी मेरा ही लंड चाहती है।
मगर नीतू बाथरूम में गई, उसने लाइट तो जलाई मगर दरवाजा बंद नहीं किया। पूरा खुला दरवाजा छोड़ कर वो पेशाब करने बैठ गई, मुझे अपने बेड पर उसकी फुद्दी से निकलने वाले पेशाब की आवाज़ सुन रही थी। पेशाब की आवाज़ सुनते ही मैंने अपना लंड पकड़ लिया ‘आह, मेरी जान नीतू इस वक़्त बाथरूम में नंगी फुद्दी लिए बैठी पेशाब कर रही है, अरे उसकी तो गोल मोटी गांड भी दिख रही होगी। क्या किया जाए, मुझे उसको नंगी देखना है। उठ कर बाथरूम में घुस जाऊँ। पेशाब के बहाने, देखें क्या कहती है’

मैंने सोचा और ये सोच दिमाग में आते ही मैं उठा, अपना लोअर नीचे को खिसका कर अपना लंड बाहर निकाला और अपने हाथ में पकड़ कर हिलाते हुये बाथरूम की तरफ बढ़ा, मगर फिर ख्याल आया ‘अगर वो मेरी तरह ना सोचती हो, तो साले जूते कितने पड़ेंगे, ये सोचा है। अपनी ही बेटी जैसी लड़की पर बुरी नज़र रखते हो।’

मैं रुक गया, मगर मेरा लंड अब भी मेरी हाथों में था, बाथरूम के अंदर से पेशाब की आवाज़ अब नहीं आ रही थी, मगर नीतू भी बाहर नहीं आई। मैं दबे पाँव आगे बढ़ कर अंदर देखा, नीतू कमोड पर बैठी थी, उसने अपनी कैप्री पूरी उतार दी थी और वो नीचे को सर झुकाये, अपनी फुद्दी से खेल रही थी। मैं देखने लगा कि ये साली कर क्या रही है।

पहले तो वो सिर्फ अपनी फुद्दी को को छू कर देख रही थी, मगर फिर उसने अपने हाथ की एक उंगली अपनी फुद्दी में अंदर डाल ली।
‘ओ तेरे की…’ मैंने सोचा ‘ये तो साली हस्तमैथुन कर रही है।’

धीरे धीरे उसकी उंगली करने की स्पीड बढ़ने लगी। उसकी आँखें बंद थी, उंगली अंदर बाहर करते करते वो बोली- आह, मर रही हूँ, कोई तो आ जाओ, मेरे पति देव आ जाओ, कोई पड़ोसी ही आ जाओ; और आ कर चोद डालो मुझे।
फिर थोड़ी देर उंगली करके बोली- अरे मासड़जी आप बाहर बेसुध हुये सो रहे हो, आप ही उठ कर आ जाओ।
मेरे तो पाँव के नीचे से ज़मीन निकल गई, मतलब ये इतनी चुदासी हुई पड़ी है कि किसी से भी चुदने के तैयार है। मतलब ये के मेरे लिए तो ये सुनहरी मौका है, और वो भी इसका पानी छूटने से पहले। अगर मैं इस वक़्त इस को दबोच लूँ तो मैं इसे चोद सकता हूँ।

मेरे सहलाने से मेरा लंड पूरा तन चुका था। चोदने को मैं बेताब था, और चुदने को वो बेकरार थी। बस अगले ही पल मैं आँखें सी मलता हुआ बाथरूम के सामने जा खड़ा हुआ। नीतू की आँखें अब भी बंद थी। हम दोनों में बस 7-8 फीट का ही फर्क था। जैसे उसको भी कुछ अंदेशा हुआ हो, उसने अपनी आँखें खोली और फिर सर घुमा कर मेरी तरफ देखा। उधर वो नंगी और इधर मैं भी अपना लंड निकाले खड़ा था।

हम दोनों ने एक दूसरे को आँखों में देखा, दोनों अभी स्तब्ध थे कि कौन पहल करे। मगर पहल तो हमेशा मर्द को ही करनी पड़ती है।
मैं अपना लंड पकड़े बाथरूम के अंदर दाखिल हुआ, तो वो भी उठ कर खड़ी हो गई, मगर इस से पहले वो अपनी कैप्री ऊपर को उठा कर अपना नंगा बदन ढंकती, मैंने आगे बढ़ कर उसका हाथ पकड़ लिया और उसे अपने साथ लिपटा लिया।
पहले वो थोड़ा सा झिझक रही थी, मगर जब मेरा तना हुआ लंड उसके पेट से लगा तो जैसे उसने अपनी मूक सहमति दे दी हो। मैंने उसे अपनी गोद में ही उठा लिया और उठा कर अपने बेड पे ले गया।

मैंने उसे बेड पे लेटा कर सबसे पहले उसकी कैप्री और चड्डी उतार दी और अपना भी लोअर और चड्डी उतार दिये।
मैंने लेटने लगा तो वो बोली- बाथरूम की बत्ती तो बंद कर दो।
मैंने झट से जाकर बाथरूम की बत्ती बंद कर दी और फिर से आकर उसके साथ लेट गया।

पहले साथ में लेटा, वो चुपचाप सीधी लेटी रही, फिर मैं उसके ऊपर जा चढ़ा। मेरे ऊपर आते ही उसने अपनी टाँगें खोल दी, मैंने थोड़ा सा नीचे को खिसका, और अपना लंड उसकी फुद्दी पे सेट करने लगा मगर उसने खुद ही मेरा लंड पकड़ कर अपनी फुद्दी पर सेट कर लिया; और अगले ही पल मेरे लंड का टोपा उसकी गीली फुद्दी में घुस गया। उसने अपनी टाँगें खोल कर अपनी दोनों एड़ियाँ मेरे चूतड़ों से लगा ली और नीचे को दबाया, जैसे कह रही हो- मासड़ जी पूरा घुसा दो मेरे अंदर।

मैंने भी जल्दी से जल्दी अपना लंड उसकी फुद्दी में पूरा घुसा दिया; और अगले कुछ ही पलों में अपना लंड उसकी गीली फुद्दी में अंदर बाहर करते हुये कहा- आह, नीतू मज़ा आ गया, आज मेरी बरसों की तमन्ना पूरी हो गई, जब तुम छोटी सी थी, तब से तुम को चोदने के बारे में सोचता था, मगर देखो आज मौका मिला। पर मुझे ये समझ नहीं आया, तुम इसके लिए तैयार हो गई।
वो बोली- मासड़ जी, 2 महीने हो चुके हैं, अपने पति से दूर, वो अभी दो महीने और बाहर रहेंगे, तब तक मैं क्या करती। रोज़ हाथ से करती हूँ।
मैंने कहा- मैं बाथरूम के बाहर खड़ा सुन रहा था, तुमने धीरे से फुसफुसाया था, तुमने मुझे भी पुकारा था।
नीतू बोली- मुझे पता है मासड़जी, आपकी निगाह मुझ पर ठीक नहीं है। मुझ पर क्या, आप इतने ठर्की हो कि आपकी नज़र सब पर बुरी ही, किसी को आप अच्छी निगाह से नहीं देखते।

मुझे बड़ा महसूस हुआ कि यार बच्चे भी मुझे गलत समझते हैं।

क्या आप अन्तर्वासना की सहयोगी साईट पर सेक्स चैट करके पैसे कमाना चाहती हैं? (केवल लड़कियों के लिए)
इसके लिए आपके पास अकेला कमरा, अपना कम्प्यूटर / लैपटॉप हैड फोन और तेज इन्टरनेट कनेक्शन होना चाहिए. आपको हिंदी या अंग्रेजी या किसी भी अन्य भारतीय भाषा का ज्ञान होना चाहिए. अधिक जानकारी के लिए [email protected] पर मेल करें!

पर वो बोली- बस जब मुझे सेक्स की इच्छा जागृत हुई, तो मुझे सबसे पहले आप ही याद आए, इसलिए मैंने आपका नाम पुकारा। पर मुझे नहीं पता था कि आप बाहर ही खड़े मुझे सुन रहे हो।
मैंने कहा- नीतू, ऊपर आओगी?
वो बोली- ठीक है।
मैंने अपना लंड नीतू की फुद्दी से बाहर निकाला और नीचे लेट गया, तो नीतू उठ कर आई और मेरे ऊपर बैठ गई, खुद मेरा लंड पकड़ का अपनी फुद्दी पर सेट किया और अपनी फुद्दी में ले लिया। मैं सिर्फ नीचे लेटा था, वो मेरे ऊपर खुद उठक बैठक करने लगी।

मैंने उसकी टी शर्ट ऊपर उठा कर उसके मम्मे बाहर निकाले, तो उसने अपनी टी शर्ट और ब्रा दोनों उतार दिये। जब मैंने उसके मम्मे दबाये, तो उसके थनों से दूध की धारें टपक पड़ी, बहुत सा दूध मेरे सीने और मुँह पर भी गिर गया।
मैंने कहा- नीतू, क्या मैं तुम्हारा दूध पी लूँ?
वो बोली- पी लो, आप मुझे मजा दे रहे हो तो आपको भी पूरे मज़े लेने का अधिकार है।
मैंने उसका एक मम्मा पकड़ा और नीचे को खींच कर अपने मुँह से लगाया, और जब अपने मुँह में लेकर चूसा तो दूध ही दूध मेरे मुँह में भर गया। बेशक दूध का कोई खास स्वाद नहीं था, मगर फिर भी मैंने उसके मम्मे खूब दबा दबा के उसका दूध पिया।

अब रात का वक़्त था, अगर हम थोड़ा सा भी शोर करते तो आस पास के कमरे में कोई जाग सकता था, इसलिए हम चुप ही रहे, अगर कोई बात की भी तो एक दूसरे के कान में फुसफुसा कर की। कमरे में सिर्फ नीतू की फुद्दी से होने वाले पिच पिच की आवाज़ ही आ रही थी।

5-7 मिनट बाद नीतू नीचे उतर गई, मेरे कान में बोली- मेरे न पेट में दर्द सा होने लगा है, मैं ऊपर बैठ कर नहीं कर सकती, आप ही ऊपर आ जाओ।
उसे आराम से लेटा कर मैं उसके ऊपर आ गया, उसकी दोनों टाँगें मोड़ कर मैंने अपना लंड उसकी फुद्दी पे रखा और अंदर डाल दिया, फिर से पिच पिच शुरू हो गई। नीतू ने मेरे दोनों कंधे पकड़ रखे थे, थोड़ी सी चुदाई के बाद मैं उसके ऊपर लेट गया तो उसने मुझे अपनी बाहों में भर लिया।

उसके मम्मी मेरे वज़न से दब रहे थे और इसी वजह से दूध चू चू कर उसके मम्मों से बह रहा था. जैसे जैसे मैं नीतू को चोद रहा था, वो और मेरे अंदर को घुसती जा रही थी। उसका मुँह खुला था, कभी मैं उसके होंठ चूस लेटा, तो कभी उसके खुले मुँह में अपनी जीभ डाल देता, वो भी मेरे होंठ और जीभ चूस कर मेरा साथ देती।
फिर मेरे कान के पास अपना मुँह करके बोली- मासड़ जी तेज़ करो, मैं होने वाली हूँ।

मैंने थोड़ी से स्पीड तेज़ की तो अगले ही पल उसने मुझे कस के अपनी बाहों में जकड़ लिया और नीचे से ज़ोर ज़ोर से अपनी कमर उठा उठा कर मारने लगी। मैं रुक गया, क्योंकि वो खुद ही नीचे से अपनी पूरी ताकत लगा रही थी, और फिर वो नीचे को गिर गई, मैंने फिर से उसकी चुदाई शुरू कर दी।
और उसके साथ ही मेरा भी काम हो गया, मैं भी उसकी फुद्दी में ही झड़ गया।

कुछ देर उसी तरह एक दूसरे से चिपक कर लेटे रहने के बाद मैं उस से अलग हुआ। मैंने उसके कान में कहा- नीतू यार अभी दिल नहीं भरा, एक बार मैं और करना चाहता हूँ।
वो बोली- दिल तो मेरा भी नहीं भरा, मगर अभी मुझे अपने बेटे के पास जाना है। हम कल दिन में छत पे मिलेंगे और वहीं पे करेंगे।

मैं साइड पे हो गया, तो उसने उठ कर कपड़े पहने और चली गई। मैंने भी कपड़े पहने और सो गया, मगर उसके बाद इतनी गहरी नींद आई कि सुबह 7 बजे उठा।

उसके बाद दोपहर को करीब 3 बजे मैं छत पर गया, वहीं पर थोड़ी देर बाद नीतू आ गई, अपने बेटे के साथ। बेशक वहाँ भी हमने जल्दी जल्दी में सेक्स किया, मगर दिन में मैं पहली बार उसे नंगी देखा और पहले दिल भर के उसके मम्मे चूसे, उसकी फुद्दी चाटी, और गांड भी चाटी, फिर उसको चोदा।

कोई आधा घंटा हम दोनों की चुदाई का दौर चला, पहले तो नीतू का बेटा सो रहा था, मगर बाद में जाग गया और लेटे लेटे हमे देखने लगा।
मैंने मन में सोचा ‘देख ले देख ले, तेरी माँ को तेरा नानु कैसे चोद रहा है।’
ये चुदाई तो रात की चुदाई से भी अच्छी रही।

चुदाई के बाद मैंने उस से कहा- नीतू ये जो पल हमने एक साथ बिताए हैं, मैं इनकी एक यादगार अपने पास रखना चाहता हूँ, अगर तुम बुरा न मानो, तो क्या मैं तुम्हारी नंगी की कुछ फोटो खींच लूँ, अपने मोबाइल में?
वो बोली- बेशक खींच लो, मगर किसी को दिखाना मत।
उसके बाद मैंने उसकी नंगी की 15 के करीब पिक्स खींची, उसकी फुद्दी के क्लोस अप भी लिए.

जाने से पहले वो बोली- मासड़जी, एक बात कहूँ?
मैंने कहा- बोल बेटी?
वो बोली- बड़ा मस्त लंड है आपका, बिल्कुल पत्थर जैसा।
मैंने कहा- फिर लेना चाहोगी?
वो बोली- बिल्कुल, जब भी मौका मिले!

मैंने कहा- तो एक काम और भी कर सकती है मेरे लिए क्या?
वो बोली- क्या काम?
मैंने कहा- देख अब तुझे तो पता ही है कि मैं कैसा हूँ। तू शादीशुदा है, कल को अपने घर चली जाएगी, मैं जब यहाँ आऊँगा तो मुझे तेरी याद आएगी, अगर तू अपनी छोटी बहन से मेरी सेटिंग करवा दे, ताकि मैं जब भी यहाँ आऊँ, तो अपना चक्कर चलता रहे।
वो बोली- दिक्कत ये है मासड़ जी कि छोटी इस तरफ बिल्कुल भी नहीं है, उसने अभी तक कोई बॉय फ्रेंड नहीं बनाया तो आपसे सेक्स के लिए कैसे मान सकती है।
मैंने कहा- चलो कोई बात नहीं, तेरी फुद्दी ले ली, मुझे इसी में बहुत खुशी है। खुश तो खैर तुम भी बहुत हो, लगता है सारी उदासी झड़ गई तुम्हारी।

वो चहक कर बोली- अरे मासड़ जी, शादीशुदा औरत के अगर लंड न फिरे तो वो तो उदास होगी ही। हाँ, पर अब मेरी तसल्ली हो गई है, अब मैं सच में खुश हूँ।
मुझे उस पर इतना प्यार आया कि मैंने पकड़ कर उसका मुँह चूम लिया और कहा- तो आज रात को भी चुदासी की उदासी दूर करूंगा, खुद ही आ जाना।
नीतू ने एक प्यारी सी मुस्कान दी और अपने बेटे को गोद में उठा कर चली गई।
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! चुदासी की उदासी