कुछ दिन तो गुजारो बैंकॉक में

डालो अपनी चाबी किसी और के लॉक में
आओ, कुछ दिन तो गुजारो बैंकॉक में

डाले रहते हो हाथ अपनी ही बीवी के पेटीकोट में
आओ, कुछ दिन तो गुजारो बैंकॉक में

पराई चूत का रस लगाओ अपने कोक पे
आओ, कुछ दिन तो गुजारो बैंकॉक में

ढूंढो अपनी खुशी किसी और के फ्रॉक में
आओ, कुछ दिन तो गुजारो बैंकॉक में

खुलकर ठोको तुम गली-रस्ते-चौंक में
आओ, कुछ दिन तो गुजारो बैंकॉक में

रहते हो हमेशा बीवी के खौफ में
कुछ दिन तो गुजारो बैंकॉक में…
bangkok

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! कुछ दिन तो गुजारो बैंकॉक में

प्रातिक्रिया दे