सन्ता और पप्पू के चुटकुले

एक बार पप्पू ने सन्ता की दुकान से 45 रूपए का सामान खरीदा और उसे 5 के नोट में 5 की आगे 0 लगा कर दिया और कहा- ये लो 50 रूपए 5 रूपए वापस दो।

सन्ता को यह पता चल गया तो उसने सोचा कि इसका बदला लेना चाहिए।

तो उसने जेब से 50 का नोट निकाला और उसका 0 पेंसिल से काट दिया और बोला- ले पकड़ 5 रूपए, अब तो हिसाब बराबर?

***

एक दिन सन्ता का लंड फनफना कर खड़ा हो गया और चुदाई की ज़बरदस्त इच्छा होने लगी।

घर में उसका 8 साल का लड़का पप्पू भी था, सन्ता ने सोचा कि इसको किसी काम में लगा देता हूँ और बीवी प्रीतो की चुदाई कर लूँगा जब तक।

उसने पप्पू को कहा- बेटा पप्पू, बालकनी में खड़े हो जाओ और सब कुछ बताओ कि बाहर क्या क्या हो रहा है।

पप्पू बालकनी में गया और सन्ता ने प्रीतो की चुदाई शुरू कर दी।

पप्पू बालकनी में खड़ा होकर बोला- पापा, विश्वकर्मा अंकल गार्डन में पानी दे रहे हैं।

…अनेजा आंटी अपने कुत्ते को टहला रही हैं।

…आहूजा अंकल अपनी कार साफ़ कर रहे हैं।

…पूरी अंकल कोचर अंकल के साथ क्रिकेट खेल रहे हैं।

…जावेद अंकल मोहन अंकल से लड़ रहे हैं और

…सलमान की माँ सलमा उसके बाप इरफ़ान से चुद रही है..

सन्ता चुदाई करते करते- अबे तुझे कैसे पता?

पप्पू- सलमान भी बालकनी में खड़ा है…

***

सन्ता मास्टर- ‘She is kidding’ इसका हिन्दी में अनुवाद करो !

पप्पू- वह बच्चे पैदा कर रही है।

सन्ता यह जवाब सुन कर बौखला गया और कहा- यह गलत है।

पप्पू तपाक से बोला- मास्टर जी, ‘Kid’ का मतलब क्या होता है?

सन्ता- बच्चा !
पप्पू- तो ‘She is kidding’ का मतलब यही हुआ ना ‘वह बच्चे पैदा कर रही है।

***

    सन्ता मास्टर कक्षा में पप्पू से- इस वाक्य में खाली स्थान भरो !

    नौ सौ चूहे खाकर बिल्ली — चली.

    पप्पू- नौ सौ चूहे खाकर बिल्ली -हौले हौले- चली.

    सन्ता- अबे मूर्ख, इतना भी नहीं पता?

    नौ सौ चूहे खाकर बिल्ली -हज को- चली.

    पप्पू- मास्टर जी, मैंने तो आपकी लिहाज में बिल्ली को हौले हौले चला भी दिया!

    सच तो यह है कि नौ सौ चूहे खाकर बिल्ली हिल भी नहीं सकती !

    ***

    एक घर में तीन लोग रहते थे सन्ता, उसकी बीवी प्रीतो और इन दोनों का बच्चा पप्पू !

    एक रात सन्ता अपनी बीवी प्रीतो को जोर जोर से चोद रहा था। प्रीतो अपने मुँह से जोर जोर को सिसकारियाँ ले रही थी तो सन्ता भी अपने मुँह से चोदते वक्त आवाजें निकाल रहा था, सन्ता और प्रीतो की आवाज पूरे घर में गूँज रही थी।

    दोनों की आवाज से उनका बेटा पप्पू नींद से जग उठकर बैठ गया। पप्पू ने देखा कि उसके पापा पूरे नंगे होकर मम्मी पर लेटे हुये हैं। मम्मी ने अपने पैर हवा में फैलाये हुये हैं और पापा मम्मी के ऊपर पड़े उसकी जांघों के बीच में धक्के मार रहे हैं और उसकी मम्मी जोरों से चिल्ला रही है।

    पप्पू मम्मी की जांघों के बीच में देखता है तो उसे उसके पापा का लंड उसकी मम्मी की चूत से अंदर बाहर आते जाते दिखाई देता है। तो पप्पू उत्सुकतापूर्वक पापा से पूछता है- पापा, यह मम्मी की टांगों के बीच में क्या है जो अंदर बाहर आता जाता रहता है?

    तो उसके पापा चोदते हुये ही पप्पू को बताता है- बेटा तुम्हारी मम्मी बीमार है इसलिये मैं उसे इंजेक्शन दे रहा हूँ, ताकि यह जल्द ठीक हो जाये।

    बस पप्पू ने इतना ही याद रख लिया।

    कुछ दिन बाद पप्पू के पापा सन्ता किसी काम के सिलसिले में दो दिनों के लिये बाहर गए। सन्ता काम निपटा कर घर आया तब पप्पू उनके पास भाग कर आया, बोला- पापा पापा, आप जब काम के लिये बाहर गये थे ना !!! तब मम्मी बहुत बीमार थी।

    सन्ता ने पप्पू से पूछा- तो तुम लोग डॉक्टर के पास गये थे ना?

    पप्पू कहता है- नहीं, हम डॉक्टर के पास नहीं गये थे, मम्मी ने घर में ही इलाज कर लिया।

    सन्ता ने पूछा- कैसे?

    तो पप्पू कहता है- आप हर रात को मम्मी की टांगों के बीच में जो इंजेक्शन देते हो ना? वही इंजेक्शन मम्मी ने हमारे पड़ोसी बन्ता का टांगों के बीच में, गुरनाम का पीछे से, और घनशाम का मुँह में इन तीनों के एक साथ लिये थे।

    ***

    प्रॉफेसर सन्ता हिंदी की कक्षा में- गाली की परिभाषा बताओ?

    पप्पू- अत्यधिक क्रोध आने पर शारीरिक रूप से हिंसा न करते हुए..
    मौखिक रूप से की गई हिंसात्मक कार्यवाही के लिए चुने हुए..
    शब्दों का समूह जिसके उच्चारण के पश्चात मन को अत्यन्त शांति का अनुभव होता है,
    उसे हम गाली कहते हैं।

    प्रोफेसर सन्ता- पप्पू जी, आपके चरण कहाँ हैं?

    ***

    सन्ता पप्पू से- बेटा, तुम्हें कैसी बीवी चाहिए?
    पप्पू- पापा, मुझे बीवी नहीं परी चाहिए जो रात को आये और सुबह चुपचाप चली जाये।
    सन्ता- भोसड़ी के, वो परियाँ नहीं गश्तियाँ होती हैं !

    ***

    सन्ता- वाह पप्पू वाह! शाबास! तेरी पसन्द पे नाज़ है मुझे! तू जिस लड़की से आँख-मटक्का करता है वो बिलकुल चाँद है चाँद!

    पप्पू- पापा… आज तो आपने कह दिया और मैंने सुन लिया.. अब दोबारा मेरी प्रेमिका को कभी चाँद मत कहना…

    सन्ता- क्यों भई? क्या हुआ…?

    पप्पू- हुआ कुछ नहीं, पर आपकी बात बेमेल है,

    क्योंकि चाँद मेल

    और मेरी प्रेमिका फ़ीमेल है !

    इसके अलावा चाँद दागदार है,

    और मेरी प्रेमिका आगदार है !

    सन्ता- बस इत्ती सी बात…?

    पप्पू- बात इत्ती सी नहीं है !

    चाँद पे अब तक 17 लोग चढ़ चुके हैं,

    जिनमें एक कुत्ता भी था…

    हा हा हा!

    ***

    पापा सन्ता अपने बेटे पप्पू से- बेटा, कहाँ जा रहे हो?

    बेटा पप्पू- पापा जी, चूत मारने जा रहा था, कोई काम था क्या?

    सन्ता- रहने दे बेटा, कोई फ़ायदा नहीं है, मुझे ३० साल हो गये चूत मारते हुए। पर यह नहीं मरती, यह तो अमर है।

    ***

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top