समलैंगिक Homosexual Lesbian

एक आदमी की तीन बेटियाँ और एक बेटा था।

एक दिन जब वह आदमी अपने घर के बगीचे में बैठा हुआ अखबार पढ़ रहा था।

तो उसकी बड़ी बेटी उसके पास आई और बोली- पापा, मैं सोनिया से प्यार करती हूँ, और उसी से शादी करूँगी।

पिता आश्चर्य से- मतलब तुम समलैंगिक (Lesbian) हो? चलो कोई बात नहीं, बस खुश रहना।

वह आदमी फिर अखबार पढ़ने लगता है कि इतने में उसकी दूसरी बेटी आई, बोली- पापा, मैं भी सुषमा से प्यार करती हूँ और उसी से शादी करना चाहती हूँ।

पिता- ओह ! तुम भी समलैंगिक (Lesbian) हो ! खैर चलो तुम भी खुश रहना।

वह आदमी फिर अखबार पढ़ने लग जाता है कि तभी उसकी तीसरी बेटी ने आकर कहा- पापा, मैं भी मीरा से प्यार करती हूँ और उसी से शादी करना चाहती हूँ।

यह सुन वह आदमी गुस्से से बौखला गया, बोला- एक और समलैंगिक(Lesbian) ! बहनचोद, क्या इस घर में ऐसा कोई भी नहीं जिसे किसी लड़के से प्यार हो और उससे शादी करना चाहता हो?

बेटा- पापा, मैं हूँ ना ! मैं राहुल से प्यार करता हूँ, उसी से शादी करुँगा।

Download a PDF Copy of this Story समलैंगिक Homosexual Lesbian

Leave a Reply