किस्सा एक चुदाई का

पहले गाण्ड पे काट लिया हमने

फिर फुद्दी को चाट लिया हमने

फिर दिया होंठों पे नमकीन बोसा

बड़ी देर तलक मम्मों को चूसा

उन्गली कर के पानी दिया निकाल

बोली वो तड़प के जल्दी से डाल

जोश-ऐ-सहवास में लौड़े को रखा चूत पे

दोनों हाथ जमा दिए उसके दूध पे

सब्र का बंधन अचानक टूट गया

चुदाई से पहले बाहर ही छुट गया !

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! किस्सा एक चुदाई का

प्रातिक्रिया दे