चुटकुले- शादी और शादीशुदा

(Chutkule- Shadi aur Shadishuda)

शादी का एक विज्ञापन

हमारी गाय जैसी सीधी सादी कन्या के लिए कोल्हू के बैल जैसे वर की आवश्यकता है…

***
सब कह रहे हैं कि शादीशुदा भाइयों के अच्छे दिन आने वाले हैं…
बीवियां मायके जाने वाली हैं,
मोहल्ले की पुरानी सेट्टिंग आने वाली है…
.
.
.
पर मुझे यह समझ नहीं आ रहा कि जिनकी बीवियां मायके जाने वाली हैं, तो क्या इनका मायका जंगल में है?
वहां भी तो कुछ लोग उनकी इन्तजार में बैठे होंगे जैसे आप यहाँ बैठे हो?

***

भारतीय नारी संस्कार वाली होती है

वह कभी किसी के सामने अपने पति को

‘Abe Gadhe’
और
‘Oye Gadhe’

या
‘Sun Gadhe’

नही बोलती

इसलिए वो short में
‘A.G.’
और
‘O.G.’
और
‘Suno G’

बोलती है…
***
Active – Passive
.
.
.
पत्नी- सोने की चैन कब दोगे?

पति- चैन से सोने कब दोगी?

***

घर में पति का स्थान स्प्लिट ऐ सी की तरह होता है…

बाहर वो कितना भी बड़ा हो…
कितना ही शोर करता हो…

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता !!

घर के अंदर वो साइलेन्ट, शांत, ठन्डा रिमोट से चलने वाला ही होता है…

***

मियाँ बीवी लन्दन में एक चर्च में गए तो बीवी ने क्रॉस पर मसीह की मूर्ति देख कर उनके पैर छू लिए।

मियाँ यह देख कर अपनी बीवी से बोला- तुमने मेरे पैर तो आज तक नहीं छुये?

बीवी ने बहुत बढ़िया जवाब दिया- पहले तू लटक तो… फिर देख !

***

मियाँ- आजकल तुम मुझे ना तो सिगरेट पीने से रोकती हो, ना शराब पीने से? क्या बात है?

पत्नी- पिछले हफ्ते LIC वाला आया था, बीमे के सब फायदे बता कर गया है!

***

जब मियाँ बीवी खूब जम कर लड़ाई कर चुके तो बीवी ने खीज कर पैर पटकते हुये कहा- मैं जा रही हूँ अपने मायके… वहाँ जाकर तलाक़ के लिये मुक़दमा दायर करूँगी !

मियाँ जी ने कहा- चल हट ! अब ऐसी झूठी झूठी, मीठी मीठी बातें कर के मुझे रिझाने की कोशिश मत कर!

***

जरा सोचिये पति प्यार में अपनी पत्नी के लिए गुलाब का फूल लेकर आये और प्यार से ही उसके गाल पर फूल मारे तो पत्नी क्या कहेगी?

इंग्लिश वाइफ- यू आर सो नॉटी !

पंजाबी बीवी- ओये होए… तुस्सी वड्डे रोमांटिक हो रये ओ जी …

हरियाणवी घर आली- रै मरणे जोग्गे… के कर्र रया तों … देक आँख फुट ज्या गी…
***

पत्नी का मायका

मई का पावन महीना शुरू होने जा रहा है,
बीवी को सामने बैठा कर उसके मायके की खूब तारीफ करें,
उसके मायके की ढेर सारी अच्छी अच्छी बातें करें !

मैं जानता हूँ कि यह कार्य बहुत दुष्कर और असहनीय कष्टप्रद है,
परन्तु कुछ पाने के लिए कुछ तो खोना ही पड़ता है!

तो अपने दाँत भींचकर, पीड़ा सहन करते हुए बीवी को मायके की जबरन याद दिलायें,
इतना कि वह मायके जाने के लिए तड़प उठे!

तब फिर एक दिन वह सुख भरा दिन आयेगा जब बीवियाँ मायके जायेंगी.

अपनी मन की अपार ख़ुशी को छुपाते हुए उदास हृदय से प्यारको नुमाया करते हुए बीवी को रेलगाड़ी में बैठा कर स्टेशन पर तब तक खड़े रहें जब तक कि गाड़ी (बीवी) निगाहों से ओझल न हो जाये…
फिर नाचते कूदते हुये मित्रों को आमन्त्रित करते हुए घर आयें और चीख चिल्ला कर जोर जोर से गाएँ –
दुख भरे दिन बीते रै भैय्या…
अब सुख आयो रे…
HAPPY MAY… उनके लिए जिनकी बीवी मायके गई!

***

What did you think of this story??

Comments

सबसे ऊपर जाएँ