शादी से पहले पति के सामने चुत चुदाई-3

(Shadi Se Pahle Pati Ke Samne Chut Chudai- Part 3)

This story is part of a series:

मेरी xxx पोर्न कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे मेरी लालची माँ मेरे होने वाले पति के साथ हम दोनों को अकेले घर में छोड़ कर चली गयी.
मेरे पति ने मेरी कामुकता जगा कर मुझे नंगी कर लिया. मेरे होने वाले पति मेरी छाती पर बैठ कर मेरी चूचियां चोद रहे थे कि मेरी चूत में कुछ लंबा मोटा सा घुस गया.

मुझे अब तक ये नहीं पता चला कि मेरी चूत को चोद कौन रहा है और वह इतनी सावधानी बरत रहा था कि उसका बदन कैसे भी बालू को टच ना हो।
होती भी कैसे बालू मेरे मुंह में चढ़ा था तो उसका पूरा शरीर मेरे कंधे से ऊपर मुंह के पास था और जो मेरी चूत को चोद रहा था, उसका पूरा लौड़ा अन्दर और वो दोनों टांगों के बीच में यानि मेरे कमर के नीचे था।
अब जो मेरी चूत चोद रहा था, वो लन्ड अन्दर बाहर करने के साथ साथ मेरे दोनों बूब्स भी जोर जोर से दबाने लगा.

मुझे बालू के ऊपर बड़ा गुस्सा आता, जो मेरे हाथ कंधे सब दबाये मेरे मुंह में लंड डाले उल्लू की तरह गधा साला मुंह में मेरे लन्ड डाले पागल है, मुझे दो तीन बार लगा था कि कोई है… परदा हिला था, मोबाइल भी थोड़ा चमका था, मैं बोली भी थी कि लगता है कोई है।
पर बालू बेवकूफ ने हर बार मुझे चुप करा दिया कि तुम फालतू में डर रही हो, मूड खराब कर रही हो.

मैं ये भी बोली थी कि ‘अंदर से भी बंद कर लो’ भले ही मम्मी बाहर से कुंडी लगा दी है।
पर बालू ने कोई एक बात नहीं मानी मेरी, उसी का परिणाम कि शादी बालू गधे से होने वाली है और मेरी चूत उसके मौजूदगी में कोई और चोदे जा रहा है।

करीब पांच से सात मिनट हो गये लगभग उसे मेरी चूत को चोदते हुए अब बूब्स भी दबा रहा था न जाने ऐसा क्या हुआ कि वो पूरा का पूरा असहनीय दर्द जिससे लगा कि मैं मर जाऊंगी, वो सारा का सारा दर्द एक दम से जाने कैसे गायब हो गया, और अब मैं फिर जाने किस नशे में खोने लगी कि मुझसे अब बिल्कुल रहा नहीं जा रहा था, बस यही लग रहा था कि वो जो भी हो मेरी चूत में और जम के धक्के मारे और फाड़ दे जितनी ताकत हो उतनी पूरी ताकत से चोदे!
मैं मम्मी कसम एक एक शब्द पूरा सच बता रही हूं।

एक लंड बालू का मेरे मुंह में घुसा है और एक लन्ड उसका जिसको अभी देखा भी नहीं, उसका लन्ड मेरी चूत की बहुत मस्त चुदाई कर रहा है। मैं उससे लिपट जाना चाहती थी जो मेरी चूत को चोद रहा था.
तभी एकदम से बालू अकड़ने लगा और अपने हाथ से मेरे बाल पकड़ कर जोर जोर से अपने लंड से मेरे मुंह को चोदते हुए, मेरे मुंह में ही अपने लन्ड का पूरा रस भर दिया और बोला- तू एक नम्बर की मस्त साली रण्डी है रियल की, तूने मस्त कर दिया।

और फिर उठा और जैसे उठा वो और मुड़ा, मैंने देखा कि ये तो कमीना आशीष है जिसने मुझे जून 2013 में अपनी मामा की शादी में पटा लिया था, वो मेरे नगर से तीस किलोमीटर दूर तपा गांव का रहने वाला है,जब मुझे उससे प्यार हुआ तब वह सागर पालिटेक्निक से डिप्लोमा कर रहा था और तभी मेरे नगर में अपने मामा के यहां अपने मामा की बेटी की शादी में मुझे दो बार प्रपोज भी किया और मैंने उसको हां भी कर दिया था और उससे बात भी करने लगी थी।
फिर किसी बात पर हम लड़ कर अलग हो चुके थे लेकिन लड़ाई होने से पहले उस दौरान आशीष मुझे चार पांच बार चोद चुका था.

आज उसने अपनी चाह फिर से पूरी कर ली मुझे चोद कर, बालू पीछे मुड़ते ही जैसे देखा कि वो मेरी चूत को चोद रहा है। बिल्कुल गुस्से में आग बबूला होकर आशीष से लिपट गया और गालियां देने लगे- मार डालूंगा तुझे, मेरी होने वाली बीवी की तूने कुत्ते चूत को चोदा!

दोनों मार पीट करने लगे, बालू आशीष को नहीं पहचानता था और आशीष बालू को नहीं जानता था। इसी बीच मैंने पास पड़ा तौलिया उठा कर अपनी नंगी चूत को परदे में कर लिया था.

आशीष बोला- हरामी साले, तेरी बीवी होने वाली है, अभी हुई तो नहीं… अभी जितनी तेरी है उतनी सबकी है, उसे दिक्कत नहीं जिसे चोदा तू कौन होता है बे रोकने वाला, और तू जान ले जब ये स्कूल में थी तब से मैं इसका ब्वायफ्रेंड हूं और ये मेरी गर्लफ्रेंड है। आज से पहले पांच बार इसे चोद चुका हूं समझे, अभी चार महीने से मेरी लड़ाई चल रही है इससे बात नहीं हो रही मेरी इसीलिए आया था कि इससे माफी मांगूंगा और जमकर चोदूंगा, इसके जैसा बिस्तर पर कोई लड़की नहीं हो सकती। पर चार महीने मैं दूर रहा तो इस कमीनी ने तुझे फंसा लिया! बिना चुदे तो यह रह नहीं सकती, बहुत कमीनी है ये… इसके चक्कर में तू बर्बाद हो जाएगा। पहले सुन… तेरी पूरी वीडियो बना ली है, पर्दे के पीछे से फोटो भी खींची है। सबको दिखाऊँगा और बताऊंगा तेरे कारनामे… तू शादी का बोल के वन्द्या की चुदाई करता है। देख ले ये फोटो देख!

उसने जैसे ही अपने मोबाइल में फोटो दिखाई, उस फोटो में बालू जीभ निकाल कर मेरी चूत चाटने में लगा है.

फोटो देखते ही बालू के तेवर ढीले पड़ गए और एकदम से आशीष को सॉरी बोलने लगा, बोला- माफ़ कर दे भाई… प्लीज ये फोटो डीलिट कर दे, मुझे मारना है, मार ले, गाली देना है, गाली दे ले… पर प्लीज ये फोटो डीलिट कर दो।
आशीष बोला:
मैं डिलीट कर दूंगा, मुझे कोई दिक्कत नहीं पर पहले वन्द्या को जी भर के चोदूंगा, उसके बाद तुरंत डीलिट कर दूंगा।
पिछले चार साल से जब भी आता हूं अपने गांव तपा तब कोटर आके या इसे सतना बुला कर जम के चोदता हूं और जिस दिन तक लौट के नहीं आता हूं तब तक वन्द्या को याद कर कर के दिन में दो तीन बार मुट्ठ मारता हूं।
आज तुम्हारी वजह से चोदने को मिला, मैं यह सोचता था कि वन्द्या सबसे चुदाई करवाती है बस मुझे उल्लू बनाती है।
जितने यहां के लड़के और बड़े उम्र के आदमी जब वन्द्या की बात करते हैं तो सब इसे एक नम्बर की रंडी या छिनाल ही बोलते हैं। पर गजब है यार इतनी सेक्सी लड़की जिस जिस को मिली होगी, उसकी तो किस्मत बन जाती है.
और मैं तो बस इसे चोदने के लिए पागल था, ऐसे घर आया कि वन्द्या को देखूंगा फ़िर घर जाकर इसके नाम से मुट्ठ मारूंगा आया तो बाहर से सांकर दरवाजा पे चड़ी थी मैं वापस जाने लगा कि अंदर टीवी की आवाज़ सुनाई दी गाने की तेजी से, मैं रूक गया मैं सोचा अंदर वन्द्या होगी कोई गलती से सांकल गेट पर चढ़ा गया होगा।
मैंने सांकल खोला और आवाज भी लगाई ‘कोई है?’ पर जब कोई नहीं बोला तो अंदर आया तो इस रूम में बाहर रूका तब टीवी की आवाज़ तेज थी पर लड़के की आवाज सुनाई दे दी.
तभी मैं एलर्ट हो गया कि कुछ गड़बड़ी है, वैसे भी वन्द्या यहां की बहुत फेमस आइटम है, किसी ना किसी को फंसा के ये रखती है, वन्द्या भले उम्र में कम कम है पर बहुत चालू आइटम है।
और फिर धीरे से परदे के पीछे से जो नजारा दिखा उसे देखकर तो मैं पागल हो गया तब तुम वन्द्या की पैंटी उतार रहे थे और जैसे तुम वन्द्या की चूत चाटने लगे मैं फोटो और वीडियो बनाने लगा और सोच लिया कि आज वन्द्या को बिना चोदे नहीं जाऊंगा.
मैं एक हाथ से वीडियो और फोटो ले रहा था, और दूसरे हाथ से लंड को पकड़ कर हाथ से ही हिलाये जा रहा था, वो ‘माई गॉड…’ क्या माल है ये वन्द्या, जब तुमने इसके मुंह में लंड डाल दिया तब आईडिया आया कि अब चुपके से जाके सीधे चोद दूं इसे!
वन्द्या की चूत बिल्कुल बह रही थी और ये टांगों को फैला कर बहुत ज्यादा चुदाई करवाने को बेताब थी।
बस फिर आ गया मैं चुपचाप… मुझे न तुम देख पाये ना वन्द्या देख पाई, पहले चूत में उंगली डाली तो चूत रस से उंगली गीली हो गई और उंगली घुसाते ही वन्द्या ने पूरी अपनी टांगों को फैला दिया और अपनी टांगों को चौड़ा कर ऊपर कर लिया. मैंने सोचा कि ये तो पागल हो रही है चुदवाने के लिए, लोहा गरम है हथोड़ा मार दो!
तब मैंने जल्दी से एकदम लंड वन्द्या की चूत में फिट किया और सीधा एक झटके में अपना पूरा लंड पूरी ताकत से घुसा दिया जैसे अंदर पूरा घुसा तो वन्द्या की कमर और सीना अकड़ गया, मैं जान गया कि इस को दर्द हो रहा है तो फिर लन्ड निकाल के दूसरा झटका मारने को तैयार हुआ तो मेरी नज़र चूत में पड़ी तो उसमें से रस निकल रहा था, मैंने अपना लन्ड देखा तो उसमें भी वन्द्या की चूत का रस लगा हुआ था, तब मैं समझ गया कि ये वन्द्या बहुत मस्त चुदासी माल थी, आज मुझे इसकी चूत की गर्मी निकाल कर वन्द्या को ठंडा करना पड़ेगा।
तब मेरा जोश और बढ़ गया और मैं जम कर चोदने लगा. इसके मुंह में तुम्हारा लंड घुसा था, नहीं ये रो रो के चिल्ला चिल्ला कर पागल कर देती.
इसका दर्द करीब पांच मिनट बाद खत्म हो गया था, शायद तभी अब वन्द्या अपनी कमर उछाल कर मस्त चूत को ऊपर करके चुदवाने लगी थी, जब इसको जन्नत का मज़ा आने लगा. तब तुम उठ गये और मुझे मारने लगे।

मैंने और बालू ने उसकी पूरी बात सुनी, मुझे लगा कि मेरा पुराना यार बिल्कुल सच बोल रहा है, तब मैं उन दोनों के बीच पहली बार बोली- आशीष, जो हुआ, वो तो हो चुका है, प्लीज मेरे चक्कर में आपस में मत लड़ो, मैं तुम दोनों से हाथ जोड़ती हूं। जिसको जो करना है, जल्दी करो बस दोनों इतना ध्यान रखना कि मैं एक लड़की हूं जो करना है कर लो पर मुझे बदनाम मत करना।

तभी आशीष बोला- मैं नहीं करूंगा बदनाम… पर मुझे तुम्हें पूरा चोदना है. अभी इस तुम्हारे होने वाले पति को समझाओ!
और आशीष बोला- बालू भाई, बोलो चोद लूं मस्त? बस ज्यादा से ज्यादा बीस मिनट की बात है।

तब सर झुका कर बालू बोला- मुझे कुछ नहीं पता इस बारे में, जो वन्द्या को ठीक लगे… उसी से बात करो!
बालू ने अपना सर नीचे कर लिया.

तब आशीष ने मेरी तरफ देखा, मैं आशीष की तरफ देखकर मुस्कुरा दी और वो मेरी आंखों में देखकर चोदने का इशारा किया तो फिर से मैं हंस दी और आंखों को नीचे कर लिया.
तो आशीष जो भी समझा हो… बालू से बोला- भाई तुम्हें तो कोई प्राब्लम नही है अगर मैं अभी इस सेक्सी रंडी वन्द्या को चोदूंगा तो?
बालू बोला- अब तो तुम कर ही चुके हो, सब अब भला मुझे क्या प्राब्लम हो सकती है, मुझे कोई प्राब्लम नहीं है… पर उसके बाद वीडियो और फोटो डीलिट करना पड़ेगा। पर फिर भी एक बार वन्द्या से पूछ लो!

आशीष बोला- अरे वन्द्या से क्या पूछना है। बालू भाई, तुम यहीं रहोगे इसी रूम में जब मैं वन्द्या को चोदूंगा अभी तब या थोड़ी देर को बाहर जाओगे?
बालू बोला- यहीं रहूंगा।
तब मैं बोली- आप को अच्छा नहीं लगेगा… आप बाहर चले जाते?
पर बालू बोला- नहीं, मैं यहीं रहूंगा!

तो आशीष बोला- रहने दो!
कहानी जारी रहेगी.
मेरी हॉट पोर्न स्टोरी में हर एक बात सच है! मेरी नंगी चुदाई की xxx कहानी आपको कैसी लगी? आप मुझे मेरी मेल आईडी पर मेल भेज कर बता सकते हैं।
[email protected]