मेरे पति ने मुझे उनके दोस्त से चुदते देख लिया-1

(Mere Pati Ne Mujhe Unke Dost Se Chudte Dekh Liya- Part 2)

मेरा नाम जाह्नवी है और यह मेरी पहली कहानी है.
जिस घटना के बारे मैं बताने जा रही हूँ, इस घटना के बाद मेरी पूरी जिंदगी बदल गई!

मैं एक शादीशुदा महिला हूँ, देखने में सुन्दर हूँ. अब कितनी सुन्दर हूँ मुझे नहीं पता… बस इतना पता है कि जो मुझे देखते हैं, बस देखते ही रहे जाते हैं!

मेरी शादी को चार साल हो गये हैं, शादी से पहले मुझे चुदाई के बारे में कुछ नहीं पता था, बस सुना था कि ऐसा कुछ होता है! मेरे पति ने मुझे सब सिखा दिया, शादी के पहले साल में वो मुझे रोज ब्लू फिल्म दिखाते और अन्तर्वासना पर कहानी पढ़ कर सुनाते, धीरे धीरे मुझे बहुत मजा आने लगा!

फिर अचानक उनका ध्यान मेरे से हटने लगा, मुझे पहले लगा कि काम की वजह से मुझ पर ध्यान नहीं दे पा रहे हैं! मुझे पहले लगा कि सब ठीक हो जायेगा पर धीरे धीरे हमारे बीच दूरी बढ़ती गयी और हम जहाँ रोज चुदाई करते थे, पहले हफ्तों में और अब तो महीनों में होती थी!

एक दिन मेरे पति अपने एक दोस्त को घर ले आये, उसका नाम दीपक था. उसने जैसे ही मुझे देखा, बस देखता रह गया.
फिर वे दोनों छत पर चले गये और दारू पीने लगे!

मैंने खाना लगा दिया था, दीपक खाना खाते वक्त नशे में मुझे ही घूरे जा रहा था, मुझे थोड़ा अजीब सा लगा.
फिर खाना खाने के बाद वो जाने लगा, मौका देख उसने मेरे पीछे हाथ फेरा और निकल गया!

इस बात को मैंने इतनी गम्भीरता से नहीं लिया, मैंने सोचा कि गलती से लग गया होगा!

दीपक फिर एक दिन मेरे पति के साथ आया, दारू पी खाना खाया और फिर जाते वक्त मेरे पीछे चुटकी काटी और चल दिया!
तब मुझे यकीन हो गया था कि दीपक जानबूझ कर मुझे छेड़ रहा है!

यह सोच कर मुझे गुस्सा आया पर वो मेरे पति दोस्त था तो मैं इस लिये कुछ बोल नहीं पाई!

यह सिलसिला एक महीने चला, वो आता, छेड़ता और चला जाता और मैं चुप… किसी से कुछ नहीं बोलती!

एक दिन अचानक उसका फ़ोन आया.
जब मैंने पूछा- कौन?
तो उसने नाम बताया.
मैंने गुस्से में उसे खूब सुनाई और वो सुनता रहा. बाद में वो मुझसे माफी मांगने लगा कि अब ऐसा नहीं होगा!

फिर उसके फोन आने लगे, पहले तो मुझे अच्छा नहीं लगता था किसी दूसरे आदमी से बात करना… फिर धीरे धीरे उसकी बातें अच्छी लगने लगी! वो घण्टों मेरे से फोन पर बात करता था.
धीरे धीरे मेरा भी मन उसे मिलने के लिए करने लगा पर डरती थी मेरे पति को पता लगेगा तो क्या होगा!

दीपक का हमारे घर आना जाना बढ़ गया, वो हफ्ते में तीन चार बार घर आता, कभी कभी वो मेरे लिये गिफ्ट भी लाता और कुछ खाने को मैं जब भी उससे कुछ मंगवाती, वो लाकर देता था!

एक दिन दीपक फिर मेरे पति के साथ घर आया, दोनों ने दारू पी और खाना खाकर जाने लगा तब उसने अपनी बाइक की चाभी अंदर कमरे में छोड़ दी.

मेरे पति उसे बाहर छोड़ने जाते हैं, उसे पता था!

जैसे ही मेरे पति बाहर बाइक के पास गये, दीपक चाभी लेने के बहाने कमरे आया और उसने मुझे पकड़ा, एक जोरदार किस किया और चल दिया.
मैं तो इतना डर गई कि बाहर निकली ही नहीं!

उस रात मैं सो नहीं पाई, बस दीपक का किस मुझे बार बार याद आ रहा था कि सालों बाद किसी ने इतनी जोर से किस किया!

अब हमारी फोन पे सेक्स चैट होने लगी मगर कभी हिम्मत नहीं हुई कि जब मेरे पति घर पर न हों तो उसे घर बुला लूँ!

एक संडे दीपक और मरे पति दिन भर साथ में ही थे हमारे घर पर थे. दीपक उस दिन कुछ ज्यादा खुश था, उसे जब भी मौका मिलता, वो मुझे छेड़ देता. मेरे मना करने के बाद भी दिन ऐसे ही कट गया और फिर रात हुई दोनों का प्रोग्राम चला!

आज वो होने वाला था जो मैंने कभी सोचा नहीं था!

वे दोनों नीचे उतर कर आये, मुझे लगा कि अब खाना खायेंगे. मैंने पूछा तो बोले- अभी और पीनी है!
दोनों बाजार गये और लाक़र पीने लगे!

जब दीपक आया तो ऐसा लगा कि अब यह घर जाने की हालत में नहीं है, मैंने अपने पति बोल कर उसे यहीं सोने को कह दिया!

अब हम सोने लगे, तब दीपक ने दूसरे कमरे से आवाज़ दी कि उसे पानी चाहिये.
मैं उसे पानी देने गई तो वो सीधा मेरे सामने खड़ा था.
मैंने जब पूछा तो कहा- तुम्हारे पति को मैंने ज्यादा पिला दी, वो सो जाएं तो मेरे कमरे में आ जाना!
मैं ‘ठीक है.’ कहकर चली आई!

पर मैं सोच रही थी ये जग गये तो क्या होगा, बस यही सोच कर मेरा दिल ट्रेन की रफ्तार जैसे भाग रहा था.
सोचते सोचते रात के 1 बजे गये, दीपक हमारे कमरे में आ गया और मुझे बुलाने लगा.
यह देख कर मैं और डर गई, मैं दीपक को मना कर रही पर वो मान नहीं रहा था!

जैसे तैसे मैंने उसे अपने कमरे में भेजा फिर मैं अपने पति को चैक करके हिम्मत जुटा कर बेड से नीचे उतरी और फिर धीरे धीरे दीपक के कमरे की तरफ जाने लगी!
जैसे ही मैं कमरे के गेट पर पहुंची, दीपक ने मेरा हाथ पकड़ कर अंदर खीच लिया और मुझे जोर जोर से किस करने लगा!

मैं तो पहले ही डरी होई थी इस लिए कुछ बोल ही नहीं पाई, दीपक मुझे किस किये जा रहा था!

थोड़ी देर बाद मैं दीपक को मना करने लगी कि वो जग जायेंगे, रहने दो!
पर दीपक रुका नहीं, दीपक मुझे किस किये जा रहा था!

इससे पहले कुछ और बोलती, दीपक ने मेरी शर्ट ऊपर खींच कर उतार दिया. रात को मैंने अंदर कुछ नहीं पहना था इसलिये मेरे मोम्मे दीपक के सामने थे!
कमरे में एक हल्की लाइट जल रही थी जिसकी रोशनी में दीपक मेरे मोम्मे कदेख रहा था!

दीपक मेरे मोम्मे हल्के से दबाने लगा और मेरी डर के मारे जान निकली जा रही थी.

दीपक रुका नहीं वो अपना काम करे जा रहा था! पहली बार कोई दूसरा मर्द मेरे मोम्मे दबा रहा था, मुझे डर लग रहा था पर अब उसके साथ मजा भी आ रहा था!

थोड़ी देर बाद दीपक मोम्मे दबा के मेरे एक मोम्मे को मुंह में लेकर चूसने लगा, मैं भी चुदाई के नशे में डूबती जा रही थी, मेरी ना हाँ में बदल गई!

दीपक मेरे मोम्मे चूसे जा रहा था, साथ उसने मेरी सलवार का नाड़ा खोल दिया, मेरी सलवार नीचे सरक गई!

अब मैं दीपक के सामने नंगी खड़ी थी, मुझे थोड़ी शर्म आ रही थी, मैंने सामने पड़ी चादर से खुद को ढक लिया पर दीपक ने चादर खींच कर हटा दी!

अब दीपक ने मुझे जमीन पर गिरा दिया और मेरी चूत में उंगली डालने लगा, मेरी चूत तो पहले ही पानी पानी हो रही थी! दीपक ने जैसे ही मेरी चूत में उंगली डाली, उसकी पूरी उंगली मेरी चूत में चली गई और मेरे मुंह से एक सिस्कारी निकल गई!

अब दीपक मेरी चूत में उंगली घुमा रहा था और मुझे मजा आ रहा था. फिर थोड़ी देर बाद उसने उंगली निकाल कर मेरी चूत जीभ से चाटने लगा!
वैसे तो मेरे पति भी चूत चाटते थे पर आज जो मजा आ रहा था, वो मजा पहले कभी नहीं आया था!

मैं तो भूल ही चुकी थी कि मेरे पति बाहर सो रहे हैं, बस सेक्स के नशे में डूब चुकी थी और इंतजार कर रही थी कि दीपक कब मेरी चूत में अपना लंड डालेगा!

दीपक ने अपने कपड़े पहले ही उतार दिए थे, बस अंडरवियर में था, उसका लंड तना हुआ दिख रहा था, अंडरवियर में उसका लंड बहुत बड़ा लग रहा था!

दीपक मेरी चूत चाटे जा रहा था थोड़ी देर बाद उसने अपना अंडरवियर उतार दिया जब मैंने उसका लंड देखा तो मेरे होश उड़ गये!
दीपक का लंड मेरे पति के लंड से दुगना लंबा और मोटा था मैं तो देखती रह गई!

दीपक ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपना लंड पकड़ा दिया उसका लंड एकदम लोहे की रॉड की तरह लग रहा था!
मैं भी मस्ती में उसके लंड को सहलाने लगी तभी वो बोला- मुँह में लो!
वैसे तो मैंने अपने पति का मुँह में लिया है पर दीपक का तो इतना मोटा था मैंने दीपक को मना करने लगी!
पर दीपक कहाँ मानने वाला था, उसने मेरे मुँह में लंड दे दिया, मुझे थोड़ी दिक्कत हुई पर कुछ देर लेने के बाद निकाल लिया!

अब दीपक मेरे ऊपर आया और मेरी चूत में लंड टिका कर मुझे किस करने लगा और नीचे से एक धक्का मारा, उसका लंड मेरी चूत को चीरता हुआ पूरा अंदर घुस गया! और मेरी इतनी जोर से चीख निकली, उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरी तो जान निकल गई.
दीपक ने मेरा मुँह दबा लिया मैं दीपक से निकालने को बोल रही थी पर वो धीरे धीरे लंड को अंदर बाहर करने में लगा था!
इतना दर्द तो मुझे अपनी सुहागरात को भी नहीं हुआ था, मुझे आज ऐसा लग रहा था कि मैं पहली बार चुद रही होऊँ!

फिर थोड़ी देर बाद मेरे दर्द मजे में बदल गया और मैं सब भूल कर चुदाई का मजा लेने लगी.
दीपक नशे में खूब जोर जोर से चोद रहा था और मेरे मोम्मे रगड़े जा रहा था! ऐसी चुदाई तो मेरे पति ने भी कभी नहीं की थी! मैं तो जैसे आसमान में उड़ रही थी और उस आसमान से उतरना नहीं चाहती थी, बस सोच रही थी, दीपक मुझे चोदता रहे!

चुदाई करते करते काफी देर हो गई थी, दीपक नशे में था इसलिये उसका माल नहीं निकल रहा था! वो गर्मी के दिन थे हम दोनों पसीने में तर हो गये थे, दोनों एक दूसरे के ऊपर फिसल रहे थे, बहुत मजा आ रहा था!

फिर कुछ और देर चुदाई के बाद दीपक और तेज तेज मुझे चोदने लगा, मुझे पता लग गया कि दीपक का अब माल निकलने वाला है, मैं दीपक का साथ देने लगी क्योंकि मैं भी झड़ने वाली थी!
वैसे तो मैं एक बार झड़ चुकी थी.

अब दीपक जोर जोर से करता जा रहा था. फिर उसने मेरी चूत में सारा माल निकल दिया, साथ ही मैं भी झड़ गई!
यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

दीपक मेरे ऊपर ढेर हो गया, मैंने भी दीपक को कस कर दबा लिया!

उस रात हमने तीन बार चुदाई करी और सुबह 5 बजे मैं अपने पति के पास जाकर सो गई!

दोस्तो, आप सोच रहे होंगे कि कहानी का नाम कुछ और कहानी कुछ और…
मैं आप सबको बता दूँ कि मेरे पति ने मुझे ये सब करते देख लिया था.

उसके बाद क्या हुआ, मैं आपको अगली कहानी में बताऊँगी!

मेरी पहली गैर मर्द से चुदाई आप सबको कैसी लगी, जरूर बताना!
मैं जल्द वापस आऊंगी!
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! मेरे पति ने मुझे उनके दोस्त से चुदते देख लिया-1