कामवासना पीड़िता के जीवन में बहार-1

(Kamvasna Pidita Ke Jeewan Me Bahar- Part 1)

एक औरत कामवासना के वशीभूत हो क्या क्या कर गुजरती है, मेरी इस कहानी में पढ़ें!

दोस्तो, मेरा नाम रूपा राठौर है, मैं 39 साल की एक शादीशुदा औरत हूँ. मेरा एक बेटा है जो अभी कॉलेज में पढ़ता है। पति मेरे विदेश में नौकरी करते हैं तो साल में सिर्फ एक बार ही आते हैं। बस वो 15-20 दिन मेरे लिए ईद जैसे होते हैं और जब वो वापिस चले जाते हैं तो मेरे जीवन में फिर से वीरानी छा जाती है।

आप सोचते होंगे कि अगर ये औरत अकेली है, तो क्यों नहीं इसने किसी से चक्कर चला लिया, जो इसकी अधूरी इच्छाओं को पूरा करता। मगर मैंने ये कोशिश की थी पर उसमें भी मैंने धोखा खाया।
मुझे मेरा जीवन नर्क लगता था मगर फिर मेरे जीवन में बहार आई, मगर इस बहार के पीछे की सच्चाई जान कर आप भी हैरान रह जाओगे कि कैसे कोई मेरे इस नीरस जीवन में बहार लाया। मैं आपको अपनी सारी कहानी खुल कर बताती हूँ।
कौन है … क्या है रूपा!

मैं रूपा एक मध्यमवर्गीय घर से हूँ। बचपन से ही घर का माहौल काफी घुटा सा रहा। तो जी तो बहुत चाहता था मगर पापा और भाई लोगों के डर की वजह से मैं कभी भी किसी भी लड़के से दोस्ती नहीं कर पाई। इसकी दूसरी वजह यह भी थी कि मैं बचपन से गोल मटोल सी थी, देखने में सुंदर हूँ, गोरी चिट्टी हूँ, कद थोड़ा छोटा है, इस वजह से थोड़ी भारी लगती हूँ।

स्कूल के बाद कॉलेज शुरू हुआ मगर अभी मैं बी ए के फ़ाइनल ईयर में ही थी कि घर वालों ने मेरी शादी पक्की कर दी। पढ़ाई में मैं ठीक ठाक सी थी, तो मैंने भी शादी से कोई खास इंकार नहीं किया. पता तो मुझे भी था कि मुझे कौन सा डॉक्टर इंजीनियर बनना है, बी ए करके भी तो रोटी ही पकानी है, कपड़े धोने हैं, बर्तन माँजने हैं।

मेरी शादी हो गई, पति अच्छे मिले, मुझे बहुत प्यार दिया। शादी के बाद दूसरी रात को मुझे पता चला कि सुहागरात क्या होती है। मुझे तो यह था कि मेरे पति किस-विस करेंगे, मगर उन्होंने तो मुझे नंगी करके वो सब किया जिसके बारे में मैंने सोचा भी नहीं था।
काफी दर्दनाक था वो सब … मगर उस दर्द ने मुझे बहुत मज़ा दिया।

उसके बाद तो ये सब रोज़ की ही बात हो गई। दो चार दिन में दर्द सब खतम हो गया और फिर तो मज़ा ही मज़ा रह गया। सारा दिन मैं अपने पति की इंतज़ार करती और जैसे ही रात होती, मेरी तो खुशी का ठिकाना ही ना होता। पति भी अपनी पूरी जवानी मुझ पर बार बार लुटाते।

धीरे धीरे नई नई बातें जानने को सीखने को मिली। शादी के बाद ही पता चला कि जिस गंदी सी चीज़ से हम लोग सुसू करते हैं, पोट्टी करते हैं, उस गंदी चीज़ को चूसने चाटने का भी अपना ही मज़ा है, और बढ़िया मज़ा है। यह बात अलग है के पहली बार जब मैंने उनका चूसा तो मुझे उल्टी आने को हुई, मगर बाद में मैं खुद मांग कर चूसने लगी।
वो भी सिर्फ मेरे पीरियड्स के दिन छोड़ कर हर रोज़ मेरी इतनी चाटते कि मैं तो बेहाल हो जाती।

जैसे दिन के बाद रात आती है, खुशी के बाद गम, और मिलन के बाद जुदाई … ठीक उसी तरह हमारी इस खुशगवार ज़िंदगी में कष्ट आए। शादी के दो साल बाद मेरे एक बेटा पैदा हुआ। बेटा स्कूल जाने लगा मगर मेरे पति की नौकरी जिस कंपनी में थी, उन्होंने मेरे पति को विदेश में जॉब की ऑफर दी। ज़्यादा पैसा और अच्छे जीवन की चाह में मेरे पति हम दोनों माँ बेटे को छोड़ कर विदेश चले गए कि अभी कुछ साल की ही तो बात है, बस यूं समय बीत जाएगा।

मगर समय था कि जैसे बीतना ही भूल गया। मेरा जीवन तो जैसे मरुस्थल हो गया। पति के जाने के बाद मैं अपनी कामवासना से बहुत परेशान हो गई, दिन तो कट जाता, मगर रात नहीं कटती थी। अपने पति से प्यार था, तो मैंने एक बार फोन पर उनको अपनी समस्या बताई।
अगली बार जब वो आए तो मुझे एक प्लास्टिक का लंड दे गए, बोले- अगर कभी दिल करे तो इसका इस्तेमाल करना।

उनके जाने के बाद मैंने उस प्लास्टिक के लंड का खूब इस्तेमाल किया। कभी कभी हाथ से भी कर लेती, जैसे मेरे पति मेरी चूत के दाने को अपनी उंगली से सहला कर या अंदर उंगली डाल कर मेरा पानी निकाल देते थे, मैं वैसे ही करती। प्लास्टिक लंड लेती, मगर मर्द की कमी को कोई भी चीज़ पूरा नहीं कर पाती। बस इतना ज़रूर था कि जब मेरा पानी निकल जाता तो मैं शांत होकर बैठ जाती.

मगर फिर मेरे मन में पुरुष के स्पर्श की चाह हमेशा रहती। सब कुछ सेक्स ही नहीं होता। अपने पति की बाईक के पीछे बैठ कर बाज़ार घूमने जाना, उनके कंधे पर सर रख कर सोना, उनसे छोटी छोटी फरमाइशें करना, गोल गप्पे, चाट पपड़ी, डोसा, पाव भाजी, साड़ी, सूट, और ना जाने क्या क्या। वो सब कुछ जो एक पति अपनी पत्नी को सेक्स के अलावा देता है, वो सब मेरी ज़िंदगी में खत्म हो चुका था। मैं इस सबके लिए भी तड़प रही थी। बेटा भी अब बड़ा हो चुका था, उसके साथ बाज़ार तो जा आती थी, मगर वो तो बेटा है, पति वाला हक तो मैं उस पर जता नहीं सकती थी।

उन्हीं दिनों मेरे पति के एक मित्र मुझे एक दिन बाज़ार में मिले. कुछ औपचारिकता के बाद उन्होंने मुझे अपने घर आने का निमंत्रण दिया। उसके बाद एक दो और मुलाकातें हुई। बेशक वो शादीशुदा थे, बीवी बच्चे वाले थे, मगर पता नहीं क्यों मेरे दिल को वो भा गए, और कुछ ही दिन बाद वो वक्त भी आया, जब उन्होंने मुझे अपनी बांहों में भर कर अपने प्यार का इज़हार भी कर दिया।

मैं तो पहले ही प्यार की प्यासी थी, मैं क्या कहती। मैं ना तो हाँ कह सकी न ही इन्कार कर सकी। मगर मुझे अपनी बांहों में भर कर उन्होंने जैसे ही कहा- रूपा, तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो, मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ।
उसके बाद तो उन्होंने मुझे बेतहाशा चूमना शुरू कर दिया मेरे चेहरे पर यहाँ वहाँ!

मैं तो बस चुपचाप खड़ी उनके चुम्बनों की बारिश में भीगती रही और ऐसी मदहोश हुई कि मुझे पता ही नहीं चला कि कब उन्होंने मुझे बेड पर लेटा दिया। जब मुझे होश आया, तब मैं बेड पर बिल्कुल नंगी पड़ी थी और वो मेरे पास ही बेड पर बैठे सिगरेट पी रहे थे। मैं तो जैसे किसी नींद से जागी, जैसे कोई बुरा ख्वाब देखा, या कोई हसीन ख़्वाब टूटा। मुझे कुछ समझ सा नहीं आ रहा था कि ये सब क्या हो गया। क्यों मैं इतनी कमजोर पड़ गई कि एक गैर मर्द सिर्फ दो चार मुलाकातों के बाद ही मुझे चोद गया।

सिगरेट पीकर वो उठे और चले गए। मैं अपने आप को कोसती रही कि ये मैंने क्या किया, मगर अब क्या हो सकता था।

दो दिन बाद वो फिर आए। इस बार तो कुछ ज़्यादा कहने की ज़रूरत ही नहीं पड़ी। मैं खुद ही मर रही थी, तो वो मेरे लिए जीवनदान ले कर आए थे। उनके आने से पहले मैं सोच रही थी कि मैं मना कर दूँगी, रोकर, हाथ जोड़ कर यह अवैध रिश्ता खत्म कर दूँगी। मगर जैसे ही वो आए, मैं खुद जा कर उनसे लिपट गई और फिर वही सब हुआ.

उसके बाद तो रूटीन बन गया, हफ्ते में दो तीन बार वो आते और मुझे जम कर पेलते। मुझे अभी अपने पति की कोई कमी महसूस नहीं होती थी। मैं पूरी तरह से उनके दोस्त के प्रेम में पागल हो चुकी थी। मगर जितना जल्दी हमारा ये रिश्ता शुरू हुआ, उतनी ही जल्दी हम दोनों में टकराव भी हो गया, सिर्फ 8 महीने में ही हम लड़ झगड़ कर एक दूसरे से हमेशा के लिए अलग भी हो गए।

मगर जो कामवासना की आग मेरे बदन में जल रही थी, उसे कैसे शांत करती मैं। घर में सारा दिन बैठी पागलों की तरह टीवी देखती रहती और कुछ न कुछ खाती रहती। भरी भरी तो मैं पहले भी थी, मगर अब तो सब कहने लगे कि ‘रूपा मोटी हो गई … रूपा मोटी हो गई।’ मगर मुझे लगता अब मुझे किसने देखना है तो मैं किसी की बात की कोई परवाह नहीं करती।

हां मगर सेक्स के लिए अब मैं बाहर किसी और को देखने के बजाये सिर्फ अपने हाथ पर ही भरोसा करती। जब दिल करता तो पति का दिया डिल्डो या अपनी उंगलियों से ही खुद को संतुष्ट करती। बेटा भी अभी कॉलेज में हो गया था। अब नई नई जवानी चढ़ी थी तो खुद को फिट और स्मार्ट दिखने के लिए जिम जाने लगा। कुछ ही समय में उसकी बॉडी भी शेप में आने लगी, और वो भी बढ़िया हैंडसम दिखने लगा।

एक दिन वो मुझसे बोला- मम्मी आप भी जिम जॉइन कर लो। सब आपको मोटी मोटी कहते हैं, आप भी सबको, फिट और स्लिम हो कर दिखा दो।
पहले तो मैंने मना कर दिया मगर उसके काफी ज़ोर देने पर मैंने वही जिम जॉइन किया जिसमें मेरा बेटा जाता था। जिम में ट्रेनर है संदीप। मेरे बेटे से तो वो काफी बड़ा है मगर मेरे बेटे के साथ उसकी बहुत दोस्ती थी तो उसने मुझे बहुत डीटेल में हर बात समझाई, मुझे खुद फूड चार्ट बना कर दिया, क्या खाना है, कब खाना है, क्या नहीं खाना।

मैं भी उसकी दी हुई हर बात को तहे दिल से मानती। मगर मुझे ये सब कसरत करना बहुत अजीब लगता था, और मैं ही थी जो उस जिम में सबसे मोटी थी तो मुझे बड़ा अजीब सा लगता। इतने भरी गोल मटोल बदन को हिलाना, और वो सब कुछ करना। खुद को शीशे में देख कर ही मुझे बड़ा अजीब लगता.

एक दिन मुझे मेरा जिम ट्रेनर बोला- मैडम, मुझे लगता है कि आपको कुछ खास अटेन्शन देनी पड़ेगी।
मैंने पूछा- क्यों?
वो बोला- मैंने नोटिस किया है, आप एक्सरसाइज़ के दौरान एक तो बहुत जल्दी थक जाती हो दूसरा आप दी गई टास्क को पूरा भी नहीं करती।
मैंने कहा- जब मैं थक ही जाती हूँ, तो फिर टास्क पूरा कैसे कर सकती हूँ।
वो बोला- अगर आप दोपहर को आ सकती हो, तो मैं आपको वो सब एक्सरसाइज़ दे सकता हूँ, जिससे आपकी बॉडी फैट बहुत जल्दी कम हो जाएगी और आप जल्दी स्लिम हो कर वो सब एक्सरसाइज़ कर पाओगी।
मैंने कहा- ठीक है, मैं दोपहर को आ जाया करूंगी।

मेरी कामवासना की कहानी जारी रहेगी.
[email protected]

कहानी का अगला भाग: कामवासना पीड़िता के जीवन में बहार-2

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top