गलतफहमी-2

(Galatfahami- Part 2)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

नमस्कार दोस्तो, आपका संदीप साहू कहानी का अगला भाग लेकर एक बार फिर हाजिर है। आप लोगों के ईमेल मुझे लगातार प्राप्त हो रहे हैं, सभी का जवाब दे पाना संभव नहीं है, इसलिए इस कहानी में मैंने सभी को एक साथ जवाब देने का प्रयत्न किया है।

अब तक आपने मेरी दिनचर्या, मेरे दुकान में ग्राहकों का आना-जाना, मेरे दोस्तों के हंसी मजाक, और इसी बीच एक भाभी के साथ हो रहे नोक-झोंक को पढ़ा।
अब आगे..

भाभी मेरी दुकान में आई, उन्हें मुझसे कुछ बातें करनी थी तो मैंने कहा- आप चाहें तो यहाँ रोज आ सकती हैं, या मुझे ही घर पर बुला लीजियेगा।
भाभी मुस्कुराई, बोली- जब बुलाना होगा मैं बुला लूंगी, पर तुम यह बताओ कि मैं यहाँ आ तो सकती हूं ना?
मैंने कहा- हाँ भाभी जी, आप कभी भी आ सकती हैं… यह आपकी ही तो दुकान है।

तब उन्होंने इत्मिनान की गहरी सांस ली और अगले ही पल उदास होते हुए कहा- संदीप, बुरा मत मानना, मैं घर में अकेले बोर हो जाती हूं, पड़ोस की औरतें एक दूसरे की चुगली में लगी रहती हैं इसलिए उनके साथ भी अच्छा नहीं लगता, और मयंक (उनका बेटा) तो स्कूल गया रहता है, और कभी-कभी अपने पापा के पास भी रुक जाता है, तो मैं इधर-उधर घूम के समय बिताती हूं।
मैंने सिर्फ हम्म कह कर बात खत्म कर दी क्योंकि भाभी जी की इन बातों से मुझे उस वक्त कोई मतलब ही नहीं था, पर भाभी जी का इशारा मुझे कुछ-कुछ समझ आ रहा था।

फिर भाभी ने कहा- और तुम बताओ..! तुम्हारा तो दिन दोस्तों के बीच अच्छे से गुजर जाता होगा, और घर जाते ही बीवी से चिपक जाते होंगे।
तभी मैंने तपाक से कह दिया- क्यों, भैया घर जाते ही आपसे चिपक जाते हैं क्या?
भाभी कुछ नहीं बोली और उठ कर जाने लगी, मुझे लगा कि मैंने कुछ ज्यादा कह दिया, मैंने भाभी से कहा- क्यों भाभी, मैंने कुछ ज्यादा कह दिया क्या? सॉरी!
भाभी ने कहा- नहीं, ऐसी बात नहीं है, मुझे कुछ काम याद आ गया, मैं चलती हूं, आप अपना नम्बर मुझे दे सकते हैं क्या?
मैंने कहा- क्यों नहीं भाभी जी… लिखिये..
भाभी जी ने मेरा नम्बर सेव किया और सीढ़ियों पर पहुँचते ही पलट कर पूछने लगी- आपका व्हाटसप नम्बर भी यही है ना?
मैंने ‘जी भाभी जी…’ कहते हुए उन्हें घूर कर देखा.. और वो मुस्कुरा कर चली गई.

उनके जाने के बाद याद आया कि मैंने तो उनका नम्बर लिया ही नहीं… और वो क्या बात करने आई थी, यह भी नहीं पता, उनकी लंबी बातें चंद मिनटों में खत्म हो गई।
मैं यही सोचता रहा, शाम को समर्थ आया, मैंने उसे सारा वाकिया बताया तो उसने कहा- भाई, तू मान या मत मान, भाभी को डोज चाहिए।
मैंने कहा- चुप बे, कमीना, तू तो साले गलत ही सोचता है।
मैंने उसको ऐसा कह तो दिया पर ‘सच्चाई यही है’ मैं भी यही सोच रहा था।

अगले कुछ दिन भाभी नहीं आई, ना ही उसका फोन आया। पर इस बीच किसी अनजान आदमी का मिस कॉल आता था, खास कर जब मैं घर पे होता था।
दो दिन परेशान होकर मैंने उस नम्बर को ट्रूकालर में चेक किया, उसमें किसी कविता झा का नाम आया, मैं समझ नहीं पाया कि ये कौन है.
अब तो मैं भी उसको काल करने लगा ताकि वो उठाये और मैं उसका स्वागत गालियों से करूं।
पर वो काल उठाती ही नहीं थी।

पहले मैं ये सोच कर खुश था कि भाभी होगी मुझसे मस्ती कर रही है, पर भाभी का नाम तो तनु है और वो लोग तो मेहता लिखते हैं।
अब मैं यह सोच कर परेशान था कि फिर ‘ये कौन है जो मेरे पीछे पड़ी हुई है?’

ऐसे ही दो तीन दिन बीत गये।
फिर एक दिन व्हाटसप पर मैसेज आया- सॉरी.. नम्बर उसी परेशान करने वाली का था।
और उसने सॉरी के अलावा और कुछ नहीं लिखा।

अब उस नम्बर से मिस कॉल आने बंद हो गये.. पर दिन में तीन टाईम मैसेज आता रहा, और हर बार सिर्फ सॉरी लिखा होता था, मन हुआ कि ब्लॉक कर दूं, पर लड़का हूं ना तो थोड़ा कमीना तो रहूंगा ही… मैंने सोचा कि क्या पता सामने से कोई खूबसूरत आयटम चैट कर रही हो, इसलिए बर्दाश्त करता रहा।

इस बीच भाभी एक दो बार दुकान आई पर मैंने उनसे कुछ पूछने की हिम्मत नहीं की और ना ही उनके आव-भाव से ही कुछ महसूस हुआ।

फिर मैंने दुकान से ही बैठे-बैठे मैसेज में उसे धमकी दी कि अपना परिचय बताओ नहीं तो मैं रिपोर्ट करता हूं.
सामने से मैसेज आया- जाओ कर दो.. किसने रोका है। हम भी देखते हैं कि सॉरी बोलने की क्या सजा मिलती है।

कसम से यार… मैं सन्न रह गया कि कोई मुझे एक हफ्ते से सॉरी बोल रहा है और मैं रिपोर्ट की बात कर रहा हूं।
मैंने कहा- ऐसी बात नहीं है. मैं खुद आपसे ऐसे व्यवहार के लिए शर्मिंदा हूं। कृपया करके अपना परिचय बताओ।
तब उसने कहा- अब आये ना लाईन पे… पहले वादा करो की मेरी छेड़खानियों को माफ करोगे और मुझसे दोस्ती करोगे?
मैंने आनन-फानन में हाँ कहा और उसके जवाब का इंतजार करने लगा.

जवाब आया- मैं तेरी दादी माँ हूं और साथ ही स्माईली जिसमें वो मुझे चिढ़ा रही थी।
साली कमीनी मेरी सिधाई का फायदा उठा रही थी।
मेरी दादी तो अपना गिलास नहीं उठा सकती तो फोन क्या खाक चलायेगी।

मैं झुँझला रहा था, तभी उसी नम्बर से कॉल आया, मैं फोन उठाकर बकने ही वाला था कि मेरे कानों में खनकती आवाज आई.. वो जोरो से हंस रही थी, खिलखिला रही थी.. उसकी आवाज में एक मधुरता थी.. निश्छलता थी… वो लोटपोट हो रही थी.. उसकी मासूम आवाज में एक सम्मोहन था।
वो हंसती ही रही, खिलखिलाती ही रही, और मैं सुनता ही रहा… बस सुनता ही रहा।

मैंने वो आवाज पहचान ली थी वो तनु भाभी की ही आवाज थी। मेरे मन में बहुत सी बातें थी जो मैं भाभी से पूछना चाहता था, पर मैंने उन्हें खुलकर हंसने दिया, बीच में रोकने की कोशिश भी नहीं की।
पता नहीं क्यों मैं भाभी को बहुत खुश देखना चाहता था, शायद ऐसा इसलिए क्योंकि मैंने तनु भाभी के खूबसूरत चेहरे पर हमेशा एक कमी महसूस की थी। वो कमी क्या थी, ये तो मैं आज भी नहीं जानता पर उसका हंसना मेरे दिल को सुकून दे रहा था।

भाभी हंसते हुए ही कहने लगी- संदीप तुम नहीं जानते कि मैं कितने बरसों बाद ऐसे खुलकर हंस रही हूं। थैंक्स संदीप, थैंक्स डियर, थैंक्स यार..!
भाभी ने मुझे पहले तुम कहा फिर यार.. मैं भाभी के बदलते तेवर को, हैरानी से महसूस करता रहा पर कहा कुछ भी नहीं।

ऑडियो सेक्स स्टोरी- नेहा की बस में मस्ती   सेक्सी लड़की की आवाज में सेक्सी कहानी का मजा लें!

तभी भाभी जी की हंसी रुकने लगी और सिसकियों में बदल गई… भाभी अचानक जोर से रोने लगी.. मैं समझ नहीं पा रहा था कि क्या हुआ.. मैंने दो बार फोन पर आवाज लगाई- भाभी.. भाभी.. वो भाभी..!
और मुझे उधर से भाभी के आंसू पोंछने जैसा कुछ प्रतीत हुआ।

भाभी फिर कहने लगी- जब मैं दसवीं में थी तब हमारे स्कूल का टूर बना था, हम चालीस स्टूडेंट पांच टीचरों के साथ झांसी ग्वालियर गये थे। उस समय जो मैं हंसी थी वह शायद ही कभी भूल पाऊंगी।
और फिर रोने और हंसने की मिलीजुली आवाज आने लगी।

मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था कि भाभी जी को ये क्या हो गया है।

तभी भाभी जी ने कहा- चलो थोड़ी देर बाद व्हाटसप पे बात करती हूं, मयंक आ गया है।
और फोन कट गया।

थोड़ी देर पहले का मेरा सारा आवेश अब कौतुहल में बदल गया था, मैं भाभी से प्रेम करूं या दोस्ती या महज सैक्स… ये मुझे समझ ही नहीं आ रहा था। क्योंकि उनसे घृणा तो मैं कर ही नहीं सकता था।
आंसू उनकी आंखों से झरे पर मन मेरा शांत हुआ, क्या इसी को अटैचमेंट कहते हैं?1?
पर भाभी जी के साथ तो मेरा कोई अटैचमेंट तो है ही नहीं, फिर ये क्या था? खैर कुछ भी हो वो नम्बर भाभी जी का था और अब हम दोस्त थे।
दोस्ती कितनी आगे बढ़ेगी, यह तो वक्त बतायेगा।

मैं इसी उधेड़बुन में ही था कि मैसेज की घंटी बजी, भाभी जी का मैसेज था- हाँ संदीप बोलो?
मैंने तुरंत ही लिखा कि पहले तो आप ये बताओ कि आपने सिम किसके नाम से ले रखी है, मैंने सब पता कर लिया है। आपने कविता झा के नाम से सिम लिया है। और आप मेरे साथ इस तरह से मस्ती क्यों कर रही थी?
जवाब था- अरे यार, सिम मैंने शादी के पहले ली थी, और कविता मेरा ही नाम है, शादी के वक्त कुंडली में राशि नहीं जम रही थी, इसलिए नाम बदल कर शादी करनी पड़ी। और रही बात मेरी इस मस्ती की, तो ये तुम्हारी ही गलती है।
मैंने चौंक कर कहा- मेरी गलती! वो कैसे?
तो भाभी ने कहा- जब मैंने तुम्हारा नम्बर लिया तब तुमने मेरा नम्बर नहीं लिया था, इसलिए तुम्हें सजा मिली। और एक बात यह भी है कि मैं तुमसे सच्ची और गहरी दोस्ती करना चाहती हूं, तो अगर इतनी मस्ती नहीं होती तो हम एक दूसरे से बहुत संकोच करते रहते, कोई भी रिश्ता बीना नोक-झोंक के अधूरेपन का अहसास दिलाता है। और हाँ मैं भले ही तुम्हारी भाभी हूं पर मैं सिर्फ 28 की हूं और तुमसे छोटी हूं, इसलिए तुम मुझे नाम से बुलाया करो, और मैंने तुम्हें अपना दोस्त मान लिया है इसलिए तुम कह कर बुलाती हूं। तुम्हें कोई तकलीफ तो नहीं है ना..!

मैंने लिखा- कोई तकलीफ नहीं, वैसे मैं आपको 30 की समझता था पर आप तो 28 की निकली।
कहते हुए आगे लिखा- आप कुछ बताते-बताते रुक गई थी, अब बताओ ना?
जवाब में भाभी ने लंबी सांस ली और कहा- नहीं संदीप, वो सब मत पूछो, अभी मैं तुमसे बहुत ज्यादा नहीं खुली हूं, इसलिए ये सब मैं नहीं बता पाऊंगी।
मैंने और ठटोलते हुए कहा- प्यार मोहब्बत का चक्कर था क्या?
उसने भी कहा- हाँ चक्कर तो यही था.. लेकिन अभी वो बातें रहने दो.. अभी तुम बस इतना जानो कि मैं अकेलेपन की शिकार हूं, और मुझे तुम्हारा साथ चाहिए।

कहानी लंबी है धैर्य के साथ पठन करें। कहानी कैसी लग रही है, आप अपनी राय इस पते पर या डिस्कस बॉक्स पर दे सकते हैं।
[email protected]
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! गलतफहमी-2