दोस्त की बीवी की चुदाई करके उसकी मदद की

(Dost Ki Biwi Ki Chudai Karke Uski Madad Ki)

यह सेक्स स्टोरी है कि कैसे मेरे पति के दोस्त ने उसकी बीवी को चोद कर उसकी प्यास बुझाने को कहा क्योंकि एक एक्सीडेंट के बाद उसका लंड खड़ा नहीं हुआ और वो अपनी बीवी को चुदाई की आग मे जलता हुआ नहीं देख सकता था।

खबर वाकयी बुरी थी… रवि का दफ्तर से फोन आया था कि उसके दोस्त प्रशांत का एक्सीडेंट हो गया है।
प्रशांत दो महीने पहले ही नौकरी करने नागपुर आया था।

दस मिनट में रवि दफ्तर से घर आये और मुझे साथ लेकर अस्पताल चल दिये।

अस्पताल में पता चला कि प्रशांत का ऑपरेशन चल रहा है। ऑपरेशन थियेटर के बाहर प्रशांत की पत्नी ममता अकेली बैठी थी, हमें देखते ही उसकी सांस में सांस आई।

दो घंटे के बाद डॉक्टर बाहर निकले।
प्रशांत बच गया था लेकिन कमर के नीचे का हिस्सा सुन्न पड़ गया था.. डॉक्टरों के मुताबिक पूरी तरह से ठीक होने में तीन साल लग सकते थे.. या फिर कोई चमत्कार.. इसकी भी संभावना थी।

प्रशांत और ममता के घर वाले आये.. प्रशांत की नई नौकरी थी इसलिये नागपुर छोड़ने को तैयार नहीं था, घर से ही दफ्तर का काम करने लगा था।
रवि नियम से रोज प्रशांत के घर जाते थे। हमारी रविवार की छुट्टी भी आमतौर पर प्रशांत के घर ही मनती थी।

धीरे धीरे कब चार महीने निकल गये… पता ही नहीं चला।
आज रविवार था, रवि ने चलने को कहा… मुझे घर पर कुछ काम था इसलिये मैंने उसे अकेले ही जाने को कह दिया।

घऱ पर प्रशांत अकेला था। उसकी आँखों में उदासी देख रवि ने पूछ लिया।
प्रशांत कहने लगा- समस्या बड़ी भी है और गंभीर भी… साथ में निजी भी है।
अचानक वो रवि से बोला- तू दूर कर सकता है मेरी उदासी।

रवि ने हैरानी से कहा- पूरी बात बता… सवाल भी कर रहा है और जवाब भी दे रहा है।
प्रशांत ने कहा- देख यार, नई नई शादी हुई है हमारी.. हादसे से पहले मैं ममता की कभी तीन बार तो कभी दो बार रोज चुदाई करता था लेकिन पिछले चार महीने से सब बंद है। लंड खड़ा ही नहीं होता है। रोज रात को ममता बहुत कोशिश करती है… कल रात तो उसकी आंखों से पानी निकलने लगा था। हारी बीमारी अपनी जगह है और सेक्स की भूख अपनी जगह… उसकी यह भूख शादी के बाद मैंने ही पैदा की है और अब मैं ही उसकी भूख नहीं मिटा पा रहा हूँ!

रवि ने हैरानी से पूछा- इसमें मैं क्या कर सकता हूं?

प्रशांत ने कहा- सब कुछ… देख मेरी बात समझ… घर की बात घर में ही रह जायेगी। ठीक होने में तीन साल लग सकते हैं… तब तक ममता अपने मन को कैसे मारेगी… कहीं उल्टा सीधा न हो जाये… तू उसकी भूख को शांत कर दे।
रवि ने चौंकते हुए कहा- क्या फालतू की बात करता है।
प्रशांत बोला- फालतू की बात नहीं है। अच्छा बता रेनू भाभी जब 15 दिन मायके रह कर आती हैं तो पहली चुदाई कैसी होती है।
रवि ने कहा- बात तो तेरी सही है। पंद्रह दिन बाद तो राशन पानी लेकर चढ़ जाती है… कोई शर्म लिहाज नहीं… ऐसा लगता है कि जबरदस्ती चोदन कर रही हो… लेकिन वो मेरी बीवी है, ममता राजी नहीं होगी।

प्रशांत बोला- आगे की बात मुझ पर छोड़ दे। ममता बाजार से आने वाली होगी… तू बगल के कमरे में छुप जा और खिड़की से नजारा देखते रहना।

रवि चुपचाप दूसरे कमरे की खिड़की के पास छुप कर बैठ गया।

ममता के कमरे में आते ही प्रशांत ने कहा- आज सेक्स की इच्छा हो रही है।
ममता उसकी बात सुनकर खुशी से पागल हो गई, कहने लगी- बस दो मिनट इंतजार करो, अभी नहा कर आती हूं।

दो मिनट के भीतर ममता कमरे से में घुसी तो पूरी तरह से नंगी थी। उसकी तनी हुई चूचियों और बालों से पानी टपक रहा था। कमरे में घुसते ही वो प्रशांत पर चढ़ गई और उसका लंड पीने लगी। इसी समय प्रशांत ने उसकी चूचियां मसलनी शुरू कर दी… ममता और भी ज्यादा गर्म हो चुकी थी… वो लंड को आइसक्रीम की तरह चाट रही थी लेकिन पांच मिनट की कोशिश के बाद भी लंड में कोई हलचल नहीं हुई।
हताश होकर वो बिस्तर पर लेट गई।

प्रशांत ने ममता से कहा- देख यार.. इसे खड़ा होने में तीन साल लग सकते हैं। तू कहे तो तेरा कोई इंतजाम कर दूं?
ममता गुस्से में बोली- क्या मजाक करते हो… दुबारा ऐसी बात मत करना!
प्रशांत ने कहा- यही हाल रवि का भी है, वो भी मेरी बात मानने को तैयार नहीं है।
ममता चौंक कर बोली- रवि… किस रवि की बात कर रहे हो?

प्रशांत ने मुस्कराते हुए कहा- वही तेरी रेनू भाभी वाला रवि… उसने तो अब तक तेरी पूरी जवानी देख ली है।
इतना कह कर प्रशांत ने रवि को आवाज लगाई और कमरे में आने को कहा।
ममता ने जल्दी से अपनी चुन्नी ओड़ ली…

रवि कमरे में आया तो प्रशांत कहने लगा- तूने देखा न… ममता की सेक्स की भूख को… प्लीज मेरी बात मान ले!
प्रशांत की बात सुनकर रवि ने कहा- यार, तेरी बात तो ठीक है लेकिन भाभी राजी नहीं हो रही हैं न…
रवि की निगाह ममती की जवानी पर थी… चुन्नी के नीचे उसकी जवानी साफ नजर आ रही थी… .ममता की धड़कनें इतनी तेज थीं कि उसकी चूचियों का उठना और गिरना साफ नजर आ रहा था।

प्रशांत ने हल्के से ममती की चुन्नी खींच ली.. उफ… क्या जवानी थी…
रवि को अपना लंड तनता हुआ महसूस हुआ।
ममता ने शर्म के मारे आँखों को अपने हाथों से बंद कर लिया था।

प्रशांत ने आंख मारते हुए रवि से कहा- चल चुदाई मत कर… ममता की चूची पी ले…
इसके बाद उसने ममता से कहा- देख तेरी पूरी जवानी देख ली है… और रवि का लंड भी खड़ा हो गया है… तुझे नहीं चुदवाना तो मत चुदवा… बस चूची तो पीने दे।
यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

प्रशांत की बात सुन कर रवि ममता के ऊपर चढ़ गया… रवि का लंड ममता की चूची से टकरा रहा था… उसने हल्के से ममता का चूचुक मुंह में भर लिया और धीरे-धीरे चूसने लगा।
ममता के मुंह से सिसकारी निकलने लगी… उम्म्ह… अहह… हय… याह…

इसी समय प्रशांत ने रवि से कहा- चल तेरा हिसाब बराबर हो गया… अब ममता को छोड़ दे…

प्रशांत की बात सुनकर रवि खड़ा हो गया।
तभी ममता ने अपनी आंख खोली… उसे चार महीने में पहली बार सेक्स का नशा चढ़ा था… उसने प्रशांत से कहा- तुम कह तो सही रहे हो, मैं चुदवाने को तैयार हूं लेकिन मेरी एक शर्त है… जब तुम ठीक हो जाओगे तो रेनू भाभी की चुदाई करोगे।

रवि पर तो इस समय ममता की चूत का नशा चढ़ा था उसने तुरंत हां कर दी और अगले दो सैंकेड में उसके कपड़े उतर चुके थे।

रवि का छः इंच का लंड फनफना रहा था… ममता ने उसके लंड को मुंह में लिया और हल्के हल्के चूसने लगी… ममता का लंड पीने का अंदाज कुछ ऐसा था कि रवि तड़फने लगा।
ममता मुस्करा कर बोली- और देवर राजा… चूत देखने में बड़ा मजा आ रहा था… अब देखो मेरी जीभ का कमाल…

ममता की बात सुनकर रवि को जोश आ गया… उसने खड़े खड़े ही झटके से ममता को गोदी में उठाया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया… ममता किसी बच्चे की तरह उसकी गोदी में थी और रवि का लंड उसकी चूत में झटके दे रहा था।

रवि की पकड़ से छूटने के लिये ममता ने बहुत जोर लगाया लेकिन रवि ने उसने निकलने नहीं दिया… रवि का लंड ममता की चूत में काफी अंदर तक जा रहा था।
ममता हांफते हुए बोली- अरे क्या मेरी चूत फाड़ ही डालोगे… अब मैं तुम्हारा माल हूं… आराम से खाओ।

ममता की बात सुनकर रवि को अपनी गलती का अहसास हुआ, उसने ममता को बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी चूची पीने लगा… ममता की सिसकारी तेज होने लगी।

थोड़ी ही देर के बाद ममता ने रवि को रुकने का इशारा किया, उसने रवि को लेटने को कहा और खुद रवि के ऊपर चढ़ गई। जाहिर था कि सेक्स का ये पूरा खेल वो अपने हाथों में रखना चाहती थी।
ममता ने धीरे से अपनी चूत में रवि का लंड डाला और झटके देने शुरू कर दिये… धीरे धीरे उसके झटके तेज होते गये… रवि भी अपनी पूरी ताकत से झटके मार रहा था… कमरे में दोनों की तेज चीख गूंजने लगी और एक तेज चीख के साथ ममता कटे पेड़ की तरह गिर पड़ी थी।

तीन मिनट के बाद जब ममता की आंख खुली तो उसके मुंह से फिर एक चीख निकली… उसकी चीख सुनकर रवि घबरा गया… .ममता प्रशांत के लंड को देख रही थी… जो काम चार महीने में नहीं हुआ वो ममता-रवि की चुदाई से हो गया था… प्रशांत का फूला हुआ लंड फनफना रहा था।
दूसरी तरफ ममता की आंखों से खुशी के आंसू निकल रहे थे।

अगले दिन रवि, प्रशांत और ममता डॉक्टर के पास पहुंचे और सच सच पूरी बात बता दी… उनकी बात सुनकर डॉक्टर काफी खुश हुआ, उसने कहा- उत्तेजना की वजह से प्रशांत के लंड की नसों पर जोर पड़ा और लंड खड़ा हो गया… लेकिन नसें अभी कमजोर हैं प्रशांत के लंड पर जोर नहीं डालें लेकिन हफ्ते में एक बार ऐसा जरूर करें ताकि पैरों की नसों में भी ताकत आ सके।

इसके बाद रवि और ममता हफ्ते में एक दिन जमकर चुदाई करने लगे। इस इलाज का यह असर पड़ा कि एक साल के भीतर ही प्रशांत चलने फिरने लगा।
अब डॉक्टर ने उसे ममता की चुदाई करने को भी कह दिया था।

पहली बार जब उसने चुदाई का प्लान बनाया तो रवि को भी बुलाया और तीनों ने मिलकर सेक्स किया।
इसी के बाद ममता ने रवि को अपनी शर्त याद दिलाई… यानी अब प्रशांत को मेरी यानी रेनू की चुदाई करनी थी।

तीनों ने मुझे घेरने की योजना बनाई… इसके मुताबिक ममता ने मुझे फोन किया और बताया कि प्रशांत पूरी तरह से ठीक हो गये हैं और सेक्स भी करने लगे हैं।
यह सुन कर मैंने कहा- चलो, किसी दिन घर पर आ जाओ।
मेरी बात सुनकर ममता बोली- भाभी, बाकी तो ठीक है लेकिन प्रशांत ने एक साल तक सेक्स नहीं किया है इसलिये कहीं भी किसी गर्म चीज को देखकर इन्हें सेक्स की इच्छा होने लगती है और डॉक्टर का कहना है कि अभी इच्छा को मत मारना। और भाभी आप भी तो काफी गर्म हो…

मैंने भी उसे छेड़ते हुए कहा- क्या बात है… चल मेरे यहां भी प्रशांत की इच्छा मत मारना, उसकी पूरी गर्मी निकाल देना।
मुझे क्या पता कि ममता तो रवि और प्रशांत दोनों के साथ मजे लूट रही है और अब वो तीनों शर्त पूरी करने के लिये मुझे फंसाने की तैयारी में हैं।

खैर… रविवार की शाम थी… मैं भी पंगा लेने के मूड में थी, मैंने जानबूझ कर लो कट का ब्लाउज पहना था। मेरी दोनों चूचियाँ किसी को भी पागल करने वालीं थीं। दरअसल मैं प्रशांत का सेक्स के लिये पागलपन देखना चाहती थी।

प्रशांत और ममता शाम के समय घर पर आये… हमारी बातें चल रहीं थी… अचानक मैंने देखा कि प्रशांत की निगाहें मेरी चूचियों के उभार पर हैं, उसकी सांस तेज चलने लगी थी।

प्रशांत ने ममता से कहा- अब कंट्रोल नहीं हो रहा है… चुदाई की तैयारी करो।
उसने कपड़े उतारने शुरू कर दिये।

मैं हक्की बक्की थी।

अचानक रवि ने मुझसे कहा- रेनू यार.. तेरी चूचियों को देखकर ही प्रशांत उत्तेजित हो गया है… तू कमरा छोड़ कर मत जाना…
मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं।

दूसरी तरफ ममता ने भी कपड़े उतारने शुरू कर दिये थे… दो मिनट के भीतर दोनों नंगे हो गये थे।
तभी रवि ने प्रशांत से कहा- यार तू रेनू की चूची देख कर गर्म हुआ है तो उसी की चूची ही क्यों नहीं पीता है।

अब मेरा पारा चढ़ने लगा था, मैंने कहा- ये क्या कह रहो हो रवि… शर्म नहीं आ रही है।
रवि कहने लगा- यार रेनू तू समझदारी से काम ले… प्रशांत का इलाज चल रहा है, तूने जानबूझ कर उसे गर्म किया है… अब तेरी चूची ही उसे ठंडा कर सकेंगी… वरना इस बात का भी डर है उसे फिर से फालिज का अटैक न हो जाये।

रवि की बात सुन कर मैं भी घबरा गई, मैंने कहा- ठीक है… चलो चूची पिला देती हूं… लेकिन ममता…

मेरी बात पूरी होने से पहले ही ममता बोली- रेनू यार… मेरी पहली चिंता प्रशांत है… वो किससे चुदाई कर रहा है वो मेरे लिये कोई मायने नहीं रखता।

कमरे के बदलते माहौल को देखकर मैं हैरान थी… अचानक रवि ने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिये।

अब कमरे में प्रशांत, ममता और मैं नंगे खड़े थे… प्रशांत ने मेरी चूची पीनी शुरू कर दी… किसी दूसरे से चुदाई का मजा ही अलग होता है… उसका लंड मेरी चूत से टकरा रहा था, मुझे भी चुदाई का नशा चढ़ रहा था।
चूची पीते पीते प्रशांत ने मुझे गोदी में उठाया और अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया।

उसके झटके बढ़ने लगे थे… तभी ममता ने प्रशांत को रोका और कहा- नहीं, रेनू तुम्हारे ऊपर चढ़ेगी।

जब प्रशांत नहीं माना तो ममता ने कहा- भूलो मत… पहली बार चुदाई करते समय मैं भी रवि के ऊपर चढ़ी थी।
ममता की बात सुनकर पूरे कमरे में सन्नाटा छा गया… मैं भी उसकी बात सुनकर हैरान थी… मैंने एक के बाद एक कई सवाल खड़े कर दिये।

इसके बाद ममता ने पूरी कहानी बताई और कहा कि रवि की चुदाई की वजह से ही प्रशांत जल्दी ठीक हुआ है और डॉक्टर ने भी चुदाई करते रहने की सलाह दी थी। उसने यह भी बताया कि पहली चुदाई के समय ही यह तय हो गया था कि ठीक होने के बाद प्रशांत मुझे यानि रेनू को चोदेगा।
उसी शर्त को आज पूरा किया जा रहा है।

ममता की बात सुनकर मेरा गुस्सा शांत हो गया, मैंने कहा- ठीक है… लेकिन अब प्रशांत मुझे और रवि ममता को चोदेगा और एक ही कमरे में एक साथ चोदा चोदी होगी।

और मेरे इस ऐलान के साथ ही कमरे में चीख औऱ सिसकारी तेज होने लगी थी।

मुझे उम्मीद है कि आपको यह हिंदी सेक्स स्टोरी पसन्द आई होगी।
[email protected]