बहन का लौड़ा -1

(Bahan Ka Lauda-1)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

हाय दोस्तो.. आप सब के क्या हाल-चाल हैं? आपने मुझे थोड़ा भी रेस्ट नहीं लेने दिया.. मेरे पास कितने ईमेल आए कि नई कहानी जल्दी लिखो.. तो लो आप सब दोस्तों के लिए मैं नई कहानी लेकर आ गई..

आप सोच रहे होंगे कि मैंने कहानी का यह कैसा नाम दिया है.. यह तो एक गाली है.. मगर दोस्तोम यह सारी कहानी इस नाम पर ही आधारित है.. आप बस आनन्द लेते जाओ सब समझ आ जाएगा।
दरअसल यह कहानी एकदम रियल है.. बस थोड़ा सा अपना अंदाज मिक्स करके लिख रही हूँ।
तो चलो अब बातें तो होती रहेंगी.. हम कहानी की ओर चलते हैं।

यह बात 18 अगस्त 2013 मुंबई की रात की है.. 11 बजे किसी की शादी हो रही थी और नाच-गाने का प्रोग्राम चल रहा था।
स्टेज लगा हुआ था और एक बेहद खूबसूरत लड़की.. जिसकी उम्र कोई लगभग 20 साल की होगी.. वो नाच रही थी और तमाशा देखने वाले उसे देख कर मज़ा ले रहे थे। कोई उसके चूतड़ों पर हाथ मार देता.. तो कोई उसके मम्मों को दबा देता।

सभी- अरे मेरी राधा.. वाह क्या नाचती है तू.. उम्माह.. मज़ा आ गया.. तेरे जिस्म को तो छूने दे.. अरे भागती कहाँ है तू..

सुनील- अरे अरे.. भाई साहब मेहरबानी करके बैठ जाओ.. देखो आप ऐसा करोगे ना.. तो हम अभी नाच-गाना बन्द कर देंगे।

यह है सुनील.. इस नाटक मंडली का करता-धरता.. दरअसल ये लोग किसी की शादी वगैरह में प्रोग्राम करते फिरते हैं बाकी ऐसा कोई खास नहीं.. बस अपना गुजारा चला लेते हैं।

रात को जब प्रोग्राम ख़त्म हुआ तो यह नाटक मंडली अपने घर की ओर चल दी।
रात के करीब 2 बजे एक छोटे से घर में ये सब दाखिल हुए।

अरे मैं तो आपको बताना ही भूल गई.. इनके ग्रुप में कुल 6 सदस्य हैं.. एक सुनील जो लगभग 40 साल का है.. उसे आप इन सबका बॉस कह सकते हो.. बाकी 2 हरीश और मनोज.. जो करीब 28 साल के होंगे.. ये महफ़िल में गाना गाते हैं इनके अलावा एक छोटा लड़का है.. कोई 15 साल का अनुज.. तमाशा देखने वाले जब राधा पर पैसे फेंकते हैं यही अनुज सब जमा कर लेता है.. इसका यही काम है।

आखिर में नीरज और राधेश्याम दोनों ही लगभग 20 साल के आस-पास होंगे।
नीरज प्रोग्राम में हीरो बनता है.. और राधेश्याम हीरोइन… जब डांस करना होता है दोनों साथ-साथ सबको खुश कर देते हैं।

अरे अरे नहीं.. आप गलत समझ रहे हो.. 6 सदस्य पूरे हो गए.. इनके यहाँ लड़की नहीं है.. अपना राधेश्याम ही राधा है.. वो लड़की की ड्रेस में रहता है। उसका यही काम है और सही मायने में इस पूरे ग्रुप की जान भी वही है।

अब यह ऐसा क्यों है.. और इस कहानी में ऐसा क्या खास है.. जो मैं लिख रही हूँ.. तो दोस्तों आप अच्छे से जानते हो.. मैं ऐसी-वैसी कहानी नहीं लिखती।

इस कहानी में वो सब कुछ है.. जो आपको मज़ा देगा.. मगर अब मेरी कहानी है.. तो पन्ने धीरे-धीरे ही खुलेंगे ना!
चलिए आगे देखिएगा.. अब क्या होता है..

राधे- हट साली क्या कुतिया जैसी जिंदगी है रंडी बना कर रख दिया है सालों ने.. सोचा था.. मुंबई जाकर कुछ करूँगा.. नाम कमाऊँगा.. मगर साली किस्मत यहाँ खींच लाई।

नीरज- अरे यार.. मायूस क्यों होता है.. अब इतने साल हो गए तुझे यहाँ.. और हर बार प्रोग्राम के बाद तू ऐसे ही गुस्सा हो जाता है।
राधे- तू तो चुप ही रह साला.. तुझे क्या पता मेरे साथ क्या गुजरती है। जब मैं लड़की बनता हूँ.. साला तू बन कर देख कभी.. तब पता चलेगा..

नीरज- यार तू अच्छे से जानता है.. तेरे सिवा कोई भी लड़की नहीं बन सकता.. फिर भी हर बार यही बोलता है.. अब भगवान ने तुझे बनाया ही ऐसा है.. तो हम क्या कर सकते हैं।

दोस्तो, आपको बता दूँ कि राधे के जिस्म की बनावट एकदम लड़की जैसी थी.. उसका चेहरा और बदन एकदम लड़कियों जैसा.. छोटे-छोटे हाथ और हाथ-पाँव पर एक बाल का नाम नहीं.. यहाँ तक कि बचपन से आज तक राधे के चेहरे पर भी बाल नहीं आए.. भगवान ने उसको लड़की बनाते-बनाते लड़का बना दिया.. बस झांटें और लौड़ा दे दिया.. ताकि वो मर्द लगे.. उसके सीने पर भी बाल नहीं थे।

वह ऊपर वाला चूचों को थोड़े बड़े कर देता तो भी चलता.. बेचारा जब प्रोग्राम पर जाता है.. टेनिस की 2 बॉल लगा कर ब्रा पहनता है.. और हाँ आपको एक खास बात बता दूँ।

राधे का लौड़ा करीब 8″ का है.. और मोटा भी ऐसा कि.. हाथ में बराबर ना आए और हाँ मिमिक्री तो ऐसी कमाल की करता है खास कर लड़की की आवाज़ तो ऐसी निकालता है.. कि सुनने वाला 1% भी शक नहीं करता कि यह लड़का है।

इतनी बारीक और मीठी आवाज़ निकालता है कि लड़कों की ही निकल जाती है।

राधे- यार… ये भगवान ने मेरे साथ मजाक सा किया है.. मुझे ऐसा बना दिया और लौड़ा भारी-भरकम दे दिया.. साली वो रंडी शीला भी चुदवाते समय नाटक करती है.. कहती है तू बहुत तड़पा कर चोदता है.. तुझे ज़्यादा पैसे देने होंगे।

नीरज- तो साले सही तो बोल रही थी वो.. तू एक घंटा तक उसे चोदेगा.. तो डबल पैसे ही लेगी ना.. मेरा तो साला 20 मिनट में ही निकल जाता है।
राधे- पता नहीं साला.. मेरा नसीब ही ऐसा है।
नीरज- यार ये तेरे हाथ पर क्या निशान है.. अजीब सा.. मैं रोज सोचता हूँ कि पूछू.. पर भूल जाता हूँ।
राधे- पता नहीं.. बचपन का है ये.. चल सो जा.. सुबह बात करेंगे।

नीरज- यार भगवान ने तुझे ऐसा बनाया है इसके पीछे जरूर कोई वजह होगी.. देख लेना एक दिन तुम्हें समझ में आएगा कि तुम ऐसे क्यों हो.. चल सो जा.. रात बहुत हो गई है।

दोस्तो, आप सोच रहे होंगे.. मैं यह कैसी कहानी ले आई.. जिसमें अभी तक कोई लड़की का नाम नहीं आया.. तो अब आ जाएगा.. टेंशन किस बात का है.. दरअसल यह कहानी का एक पहलू था। अब आपको कहानी का दूसरा पहलू बता देती हूँ ताकि कहानी समझने में आसानी हो।

दिन 19 अगस्त 2013, पुणे… सुबह के 7 बजे एक 45 साल का कामजोर सा आदमी कुर्सी पर बैठा अख़बार पढ़ रहा था।

ये हैं दिलीप त्यागी.. अच्छे-ख़ासे पैसे वाले हैं. इनकी पत्नी अब इस दुनिया में नहीं हैं तो बेचारे बस गमगीन से रहते हैं।

मीरा- गुडमॉर्निंग पापा.. ये लो आपकी चाय हाजिर है..

दोस्तो, ये हैं मीरा त्यागी.. इनकी बेटी उम्र 18 साल.. भरा-पूरा जिस्म है.. शरारती बहुत है.. अपने पापा की लाड़ली ये दिखने में एकदम आलिया भट्ट Alia Bhatt जैसी लगती हैं कोई 5 साल पहले माँ की मौत के बाद यह टूट सी गई थी.. मगर दिलीप जी ने इसे इतना प्यार दिया कि इसको कभी माँ की कमी महसूस ही नहीं हुई।

दिलीप- अरे तुम चाय लेकर क्यों आई हो.. मैंने घर में नौकर किस लिए रखे हैं. तुम काम मत किया करो।
मीरा- अरे पापा, यह कोई काम है.. अब आपको चाय तो मैं ही दूँगी.. क्योंकि आप वर्ल्ड के सबसे बेस्ट पापा हो..
दिलीप- और तुम दुनिया की सबसे अच्छी बेटी हो.. जाओ अब तैयार हो जाओ स्कूल नहीं जाना क्या?

मीरा ने आगे बढ़कर दिलीप जी के गाल पर एक पप्पी दी और ‘आई लव यू’ कहा और वहाँ से अपने कमरे में चली गई।

दस मिनट बाद वो जब वापस आई.. दिलीप जी की आँखों में आँसू थे.. वो अख़बार में देख कर रो रहे थे.. मीरा उनके पास आई और अख़बार में देखने लगी कि ऐसी क्या खबर है.. जो उसके पापा की आँखों में आँसू आ गए।

अख़बार में एक 5 साल के बच्चे का फोटो था.. नीचे लिखा था गुमशुदा की तलाश।
बस यही वो खबर थी.. मीरा समझ गई कि पापा क्यों रो रहे हैं।
उसने जल्दी से अख़बार पापा से छीन लिया और गुस्सा हो गई।

मीरा- पापा हद हो गई.. यह क्या बात हुई.. इतनी सी बात के लिए आप रो पड़े.. ऐसे कैसे चलेगा पापा.. प्लीज़..
दिलीप- मीरा यह इतनी सी बात नहीं है.. ऐसी खबर देखता हूँ तो अपने आपको कोसता हूँ.. मेरी वजह से ये सब हुआ है काश.. मैं वहाँ नहीं जाता तो अच्छा होता काश…

दिलीप जी फूट-फूट कर रोने लगे तो मीरा भी उनसे लिपट कर रोने लगी।
काफ़ी देर तक वो दोनों ऐसे ही रहे.. तब कहीं उनकी नौकरानी ने आकर उनको समझाया.. तो वो चुप हुए।

फिर मीरा अपने स्कूल चली गई और दिलीप जी वहीं रहे।

इनकी नौकरानी के बारे में भी आपको बता दूँ.. इसका नाम ममता है.. इसकी उम्र कोई 20 साल होगी.. साल भर पहले ही इसकी शादी हुई है.. इसका जिस्म भी बड़ा मादक है। लंबे बाल.. गेहुआ रंग और इसके चूचे एकदम तने हुए.. 34″ के हैं। कमर ठीक-ठाक है और उठी हुई गाण्ड भी 34″ की है.. ये दिखने में बड़ी कामुक लगती है.. मगर ये अपने काम से काम रखती है सुबह आती है शाम का खाना बना कर वापस चली जाती है।

दोस्तो, उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी.. मैं कहानी के अगले भाग में आपका इन्तजार करूँगी.. पढ़ना न भूलिएगा.. और हाँ आपके पत्रों का भी बेसब्री से इन्तजार है।
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! बहन का लौड़ा -1