ज़िम में तीन चूत और एक लंड-1

(Gym Me Teen Chut Aur Ek Lund- Part 1)

सभी भाभी जी लोगों को और अन्तर्वासना के पाठकों को आपके अरमान का नमस्कार! दोस्तो मेरी पिछली सेक्स स्टोरी
पुलिस वाली की चूत का चक्कर

के अन्तर्वासना पर प्रकाशित होने के बाद मेरे पास करीब सौ से ज्यादा भाभियों और लड़कियों के मेल आए, जिसमें मेरी पहली कहानी पुलिस वाली की चुत का चक्कर के तीनों भागों को सभी ने काफी सराहा और अगली कहानी के लिए रिक्वेस्ट की. कुछ ने तो मुझसे मिलने की इच्छा भी जाहिर की, लेकिन मेरी पहली कहानी की घटना के बाद तो जैसे लाइफ ही बदल गई.

अन्नू और डॉली ने मुझे काम छुड़ा कर अपने साथ ही रख लिया. अब मैं उन्हीं के साथ रहता हूँ. उन्होंने अपनी कई सहेलियों से मिलवाया और ऐश करवाई. दोनों की दोस्ती इंडिया में लगभग सभी शहरों में थी. उनके यहाँ काफी महिलाओं का आना जाना था, सभी हाई प्रोफाइल घर की या बड़ी पोस्ट पर या बड़े बड़े बिजनेस मेन की पत्नियां या उन्हीं के घर में से थीं.

उनकी उन्हीं फ्रेंड्स में एक एकता की बात लिख रहा हूँ. एकता फिगर के मामले में डॉली की टक्कर की है. उसकी उम्र करीब 45 साल की है. वो दो बच्चों की माँ है. उसकी एक लड़की की शादी जयपुर के हीरा व्यापारी के यहाँ हुई है. हीरा व्यापारी की पत्नी का अन्नू और डॉली के यहाँ आना जाना था. एकता के पति मुंबई में इनकम टैक्स में बड़ी पोस्ट पर हैं. छापे डालने का काम भी करते हैं, इसलिए काफी पैसे वाली पार्टी थी.

एक बार एकता एक सप्ताह के लिए अन्नू और डॉली के यहाँ आई हुए थी. अन्नू और डॉली ने मुझे घर में शार्ट पहनने से मना किया हुआ था, तो मैं जॉन अब्राहिम वाली चड्डी में ही घर में रहता था. घर में ही जिम था तो मैंने कसरत करके अपना शरीर अच्छा कर लिया था. खाने पीने की भी कोई कमी नहीं थी.

एकता जब आई तो उसे लेने अन्नू ही एयरपोर्ट गई थी. जब वो आई उस वक्त मैं अपने ऊपर वाले रूम में था. घर के अन्दर मुझे जोर जोर हंसी की आवाज़ आई. मैंने गैलरी से देखा तो एकता, अन्नू और डॉली काफी हंस हंस के और आपस में किस करते हुए बातें कर रही थीं.

मैं ऊपर से देख रहा था, तभी अन्नू ने मुझे देखा और आवाज दी- कम ऑन अरमान कम.. ज्वाइन अस.

मैं नीचे उतरने लगा तो एकता मुझे ही देखे जा रही थी. जब मैं उनके बीच पहुँचा तो अन्नू और डॉली ने उठ के मुझे एकता के सामने ही बारी बारी से किस किया और गुड मॉर्निंग कहा.

एकता ने पूछा- ये लड़का कौन है?
डॉली ने कहा- ये हमारा सेवक है, जो हमारी रात दिन सेवा करता है.
यह सुन कर एकता उठी और बोली- मेहमानों की सेवा भी करोगे या नहीं?
मैंने दोनों की तरफ देखा और अन्नू ने कहा- बिंदास एन्जॉय करो यार..

इतना सुनते ही एकता ने मेरे सर को अपनी तरफ खींचा और एक लॉन्ग स्मूच करते हुए मेरे सीने पर हाथ फिराने लगी. साथ ही वो एक हाथ से मेरे लंड को दबाने लगी. मेरा भी मूड बनने लगा, मैं भी अब एकता को अपनी ओर खींच कर उसकी कमर में हाथ डाल कर स्मूच करने लगा.

इतने में डॉली ने कहा- अरे पहली मुलाकात में इतना काफी है.
मैंने भी एकता को ढीला छोड़ दिया.

एकता बोली- तुम दोनों की चॉइस अच्छी है.. जवान लड़का है, इसकी जवानी का रस निचोड़ रही हो दोनों.
ये सुन के दोनों खिलखिला कर हंसने लगीं.

अन्नू बोली- अरे यार एकता, तू थक गई होगी.. फ्रेश हो जा, थोड़ा आराम कर ले. ये यहीं है हमारी सेवा करने के लिए.. इसका मजा बाद में ले लेना.

इसके बाद तीनों उठीं, अन्नू एकता को उसका रूम दिखाने लगी. मैं और डॉली ऊपर कमरे में आ गए, फिर मैं दिन में करीब एक बजे के आस पास उठा, नहाया और देखा कि अन्नू और डॉली अपने काम पर गई हुई थीं. मैंने कॉल करके कन्फर्म किया, एकता को देखा तो अपने रूम में सो रही थी. मैंने उन्हें उठाना ठीक नहीं समझा और मैं डाइनिंग टेबल पर बैठ के हमारी काम वाली बाई को खाने का कहा, उसने मुझे खाना दिया मैंने खाया और रूम में जा के टीवी देखने लगा.

तभी अन्नू का मेरे पास फोन आया- एकता उठ गई क्या?
मैंने बताया कि वो सो रही हैं तो अन्नू बोली- हम दोनों चार बजे तक आ जाएंगी, फिर हम शाम को कहीं चलेंगे.
मैंने हां कहा और फिर वापस टीवी देखने लग गया.

करीब ढाई बजे मैंने नीचे आवाज़ सुनी, देखा तो एकता उठ चुकी थी. गैलरी से मैं नीचे आके सोफे पर एकता के पास बैठा. एकता मेरे सीने पर अपना सर रख के फिर से सोने का नाटक करने लगी.
मैंने कहा- उठो नहा लो, खाना खा लो चार बजे दोनों आ जाएंगी, हमें शाम को बाहर चलना है.
एकता ने कहा- मैं बहुत थक गई हूँ.. तुम हेल्प करो ना.
मैंने कहा- क्या हेल्प करूँ?
एकता ने कहा- मुझे नहला दो प्लीज.

मैंने एकता को अपनी बांहों में उठाया और बाथरूम की तरफ चल दिया. मैंने उसे बाथटब में बैठा दिया और एक एक कर उसकी टी-शर्ट को, फिर केप्री को निकाला. ब्रा तो एकता ने पहनी ही नहीं थी तो कबूतर झट से आज़ाद हो गए. उसके 36 साइज़ के एकदम सख्त मम्मे मुझे ललचाने लगे. मैं टब के ऊपर बैठ कर उसके कबूतरों पर हाथ से पानी डालने लगा और उनको साफ करने लगा.
एकता ने कहा- तुम भी आओ न!

मैं भी एकता के पीछे टब में बैठ कर उसकी गर्दन को पीठ को गालों को चूमने लगा और हाथों से बूब्स को मसलने लगा. एकता के बूब्स और डॉली के मम्मे लगभग बराबर साइज़ के थे. करीब 45 मिनट तक हम दोनों साथ में नहाये. फिर दोनों ने बाहर आ के- ड्रेस पहनी और खाने की टेबल पर आकर बैठ गए. मैंने बाई को आवाज़ दी. बाई ने एकता का खाना लगाया और मुझे बादाम का शेक दिया.

हम दोनों खाना खा ही रहे थे कि घंटी बजी, बाई ने दरवाज़ा खोला तो दोनों मैडम ही थीं.
दोनों आके मेरे आस पास कुर्सी पर बैठ गईं और बोलीं- और क्या किया दोनों ने अकेले अकेले?

एकता ने कहा- अरमान ने मुझे अच्छे से सारे शरीर पर बॉडी वाश से नहलाया और फिर मुझे यहाँ उठा कर खाना खिलाने लाया ही था कि तुम दोनों आ गईं.

अन्नू बोली- हमारे सेवक की सेवा से मजा आ रहा है या नहीं?
एकता बोली- यार, मेरे पास ऐसा सेवक हो तो मैं दिन रात बेडरूम में ही रहूँ. मेरा ब्वॉयफ्रेंड तो मुझे टाइम देता ही नहीं, जब बोलो मिलने का.. तो बोलता है बिजी हूँ..
इतने में डॉली बोली- अरे नो टेंशन, अभी तू यहाँ है, हमारा सेवक किसी का दिल नहीं तोड़ता, सबको खुश करता है.
वो हंसने लगी तो अन्नू बोली- शाम को बाहर का प्लान है. शाम को पब या क्लब चलेंगे और वहीं एन्जॉय करेंगे. सात बजे चलना है.
सबने ओके कहा और फिर अन्नू और डॉली फ्रेश होने चली गईं.

डॉली ने मुझे आवाज़ दी तो मैं उनके साथ चल दिया.
डॉली ने कहा- हम अभी आधे घंटे में नहाएंगे तो साथ में आ जाना.
मैंने ओके कहा.

जब नहाने का दोनों का मूड हुआ तो मुझे आवाज़ दी.. मैं उनके साथ बाथरूम में दोनों के साथ घुस गया. हम तीनों ने पहले शावर लिया, फिर मुझे इशारा किया तो मैं बारी बारी से दोनों के शरीर पर बॉडीवाश लगा कर उनकी बॉडी को साफ करने लगा. हम तीनों बिना कपड़ों के थे, दोनों के बूब्स हिप्स और शोल्डर सभी जगह को साफ करने के बाद हम तीनों ने फिर से शावर लिया और शावर में खड़े होकर तीनों ने आपस में करीब 15 मिनट तक काफी लम्बे स्मूच किए. लगभग तीस मिनट से ज्यादा के नहाने के बाद हम तौलिया लपेट कर बाहर आये और अपने अपने कपड़े पहनने लगे. इतने में छह बज चुके थे. बाई ने सबको मिल्क शेक पिलाया और फिर हम चारों कार लेकर क्लब की ओर चल दिए.

क्लब विजय नगर के एरिया में था, लेकिन पहले हम राजवाड़ा, सर्राफा होते हुए फिर क्लब पहुँचे. इतने में रात के दस बज चुके थे. क्लब में लगभग सभी मेंबर आ चुके थे. सभी मेम्बर लेडीज ही थीं, जो अपने ब्वॉय फ्रेंड साथ में लाई थीं या अकेले ही आई थीं. सभी अच्छे रिच परिवार से थीं और सभी का पहनावे एकदम फूहड़ थे. मैं पहले भी कई बार आ चुका था तो मेरे लिए ये कोई नई बात नहीं थी. किसी ने लो-वेस्ट साड़ी और बैकलैस ब्लाउज पहना हुआ था.. तो किसी ने शॉर्ट्स डाला हुआ था. सभी अपने अपने शरीर की नुमाइश के लिए आई हुई थीं. हमारी एंट्री होते ही लगभग सबने हम से हाय हैलो किया.

क्लब मेम्बर में से एक मिसेज रॉय, जो मुझ पर शुरू से फ़िदा हैं, उन्होंने मुझे पकड़ कर किस किया और अन्नू और डॉली को बोला- अरे यार, इसे तो मुझे दे दे, इसका तो एक एक बूंद रस निचोड़ लूँगी.
डॉली ने कहा- अभी तो हम इस घोड़े की सवारी कर रहे हैं और फिर एकता भी आ गई है, तो अभी तो इस को छोड़ नहीं सकते.. और आजकल ऐसा लम्बी रेस का घोड़ा कहां मिलता है क्यों मिसेज रॉय?

मिसेज रॉय ने कहा- हां यार, हमारे इतने अच्छे नसीब कहां, हमारा आइटम तो जल्दी थक जाता है.
यह कह कर मिसेज रॉय ने मेरे गाल पर एक किस करके एक लम्बी साँस ली. सभी अपने अपने काम में बिजी हो गए.

कोई लेडी अपने ब्वॉयफ्रेंड की बांहों में बाँहें डाल कर डांस कर रही थी, तो कोई बार में बैठ कर ड्रिंक ले रही थी. हम चारों ने पहले ड्रिंक्स ली, फिर कुछ हल्का खाना खाकर डांस करने लगे. तीनों ने मुझे आस पास से घेर रखा था.

क्लब में करीब 140 से 150 मेंबर थे और 80 से 90 लड़के थे, तो क्लब लगभग फुल था. इसके बीच दो पुलिस वाली ही अन्दर थीं, तो किसी को क्या टेंशन था. सब इंजॉय कर रहे थे. डांस के बीच बीच में मैं तीनों में से किसी से भी किस हग और हिप्स पे हाथ फेरना.. सब कर रहा था.

हम सुबह जल्दी जिम के लिए उठते हैं तो हम सब ने कम ड्रिंक्स पी थी. कोई कोई तो टुन्न हो चुके थे. लगभग 12.30 बज गए, जब मैंने समय देखा तो सबको चलने का इशारा किया और फिर हम चारों घर की ओर चल दिए.

घर पहुँचे तो बाई को आवाज़ दी, बाई ने खाना लगाया, थोड़ा थोड़ा खाना सबने खाया. चूँकि हम सब थके हुए थे तो सोने चल दिए. सब लोग एक ही रूम में सोये. सुबह छह बजे सबसे पहले अन्नू उठी.. उसने मुझे एक मॉर्निंग किस की और जगाया. फिर उसने डॉली को भी किस करके जगाया, मैंने एकता को किस करके जगाया.

जिम जो कि घर के ऊपर ही था तो साढ़े छह तक सब रेडी होकर कसरत करने लगे. जिम बिल्कुल पैक और लॉक करके रखा था क्योंकि मूड हुआ तो यहीं चालू हो गए, हल्का हल्का म्यूजिक चल रहा था.

करीब 45 मिनट के वर्क आउट के बाद डॉली मेरे पास आई और मेरे सामने आकर मेरे सीने पर हाथ फेरने लगी. अन्नू और एकता मेरी पीठ के पीछे कसरत कर रही थीं. मेरी बॉडी फूली हुई थी और मैं सिर्फ शॉर्ट्स में था.

मैं एकदम से डॉली का मूड समझ गया. मैं रुका, पसीना पोंछा और डॉली को पास खींच कर उसे किस करने लगा. डॉली भी साथ देने लगी. फिर वो मेरी छातियों के निप्पल चूसने लगी, इससे मैं भी फुल मूड में आ चुका था. नीचे छोटी सी चड्डी में मेरा आठ इंच का लंड खड़ा हो चुका था. डॉली ने मेरे खड़े होते हुए लंड को देख लिया था.

मैंने भी थोड़ा सा उठ कर चड्डी को निकाल दिया. लंड उछल कर पेश हुआ तो डॉली ने आगे बढ़ कर अपना मुँह खोल कर लंड अन्दर ले लिया. मैं ऊपर आँखें बंद करके उसके मुँह के झटकों को बर्दाश्त कर रहा था.

मैं डॉली के बाल पकड़ कर मेरा लंड उसके मुँह में पूरा डालने की कोशिश कर रहा था. डॉली ने धीरे धीरे पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया. लंड पूरा मुँह में रख के जुबान से लंड की जड़ तक के हिस्से को चाटने लगी थी.

मेरा लंड डॉली के गले तक पहुँच गया था. तभी मैंने पास देखा तो अन्नू और एकता खड़े थे और हमें इस तरह की चुसाई करते हुए देख रही थीं.
एकता ने अपनी चुत सहलाते हुए कहा- अकेले अकेले चालू हो गए?
डॉली ने कहा- कम ऑन जॉइन अस..

ये सुन कर एकता ने मुझे झुक के किस किया और डॉली फिर से लंड चुसाई में चालू हो गई. मैंने एकता के चूचे दबाना चालू कर दिए और उसके जिम के कपड़ों को निकालने की कोशिश करने लगा. एकता ने भी कपड़े निकलवाने में जल्दी दिखाई और जल्द ही एकता ऊपर से पूरी नंगी हो गई.

एकता के 36 साइज़ के चूचे आज़ाद हो गए. मैं भी उन पर टूट पड़ा. एक दूध को मुँह में और एक को हाथों से दबाने लगा. डॉली नीचे अपने काम पर लगी हुई थी, वो पूरा लंड अपने मुँह में अन्दर बाहर कर रही थी और जब लंड बाहर तक आता तो सुपारे पर अपनी जुबान भी मार रही थी.

थोड़ी देर के बाद डॉली ने एकता का हाथ पकड़ कर नीचे घुटनों पर बैठाया और लंड को एकता की तरफ बढ़ा दिया. एकता भी पक्की खिलाड़ी थी, तो झट से पूरा लंड मुँह में ले कर चूसने लगी. अब डॉली मेरी गोटियों को मुँह में लेने लगी. बारी बारी से दोनों मेरे लंड को चूस रही थीं और एक दूसरे को किस भी कर रही थीं.

मैं ऊपर मुँह करके इस पल का मजा ले रहा था. फिर मैं खड़ा हुआ और लंड को उनके मुँह में अन्दर बाहर करने लगा. अब मेरी कमर भी चलने लगी. डॉली ने लंड को जड़ से पकड़ रखा था और वो मेरी बॉडी को भी चूमे जा रही थी. अन्नू को अभी कुछ प्रॉब्लम में थी, इसलिए वो सिर्फ देख सकती थी. वो पास में बैठ कर हमें देख रही थी.

दोस्तो, मेरी सेक्स स्टोरी पर आपके कमेंट्स का इन्तजार रहेगा.
कहानी जारी है.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top