नव वर्ष पार्टी में मेरी पहली ग्रुप सेक्स की स्टोरी

(New Year Party Pahli Group Sex Story)

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के मेरे प्यारे पाठको, मेरा नाम भूमि है। मेरी उम्र 23 साल है और मेरे कामुक बदन का आकार 32 28 36 है। मुझे अन्तर्वासना से बहुत प्यार है, मैं काफी समय से इस साईट की कामुकता से भरपूर कहानियाँ पढ़ती आ रही हूँ. लेकिन यह मैं पहली बार अपनी प्यारी साईट अन्तर्वासना पर कहानी लिख रही हूँ।

मैं आपको पहले ही बता दूं कि मेरा एक बॉयफ्रेंड है, उस का नाम जय है, मैं उस से कई बार अपनी चूत चुदवा चुकी हूँ।
आज की चुदाई की कहानी पिछले 31 दिसम्बर की है। मैं अपने बॉयफ्रेंड को दोपहर चार बजे मिलने गई, तब वहां एक और कपल था। वो जय का फ्रेंड चिराग था, और उस की गर्लफ्रेंड का नाम पायल है। वो भी हमारे ही जैसे कपल हैं। पायल की उम्र करीब 24 साल होगी, रंग गोरा और उस का फिगर भी 30 28 34 के करीब होगा।
एक और फ्रेंड भी हमारे साथ आ गया था, उस का नाम रवि है।

हम लोग यूँ ही मॉल में घूमते रहे.

फिर रवि ने कहा कि क्यों ना आज शाम को पार्टी की जाए।
वो यहाँ एक फ्लैट में अकेला रहता था रेंट पर इसलिए कोई प्रॉब्लम नहीं थी। बस एक प्रॉब्लम थी, ड्रिंक्स का इन्तजाम करना, क्योंकि न्यू इयर कि वजह से सारी दुकानों पर बहुत भीड़ थी। लेकिन रवि ने कहा वो कुछ जुगाड़ कर लेगा तो हम सब तैयार हो गए न्यू ईयर सेलेब्रेशन के लिए।

फिर हमने होटल से खाना पैक कराया और रवि के फ्लैट पर चले गए। चिराग और पायल से मेरी पहले कभी मुलाकात नहीं हुई थी तो अब तक उनसे कुछ खास बात नहीं हो पाई थी लेकिन सब साथ बैठे तो उनसे भी पहचान हो गई और हम बातें करने लगे। थोड़ी देर बाद रवि बाहर से व्हिस्की ले कर आ गया। आम तौर पर मैं बियर ही पीती हूँ, व्हिस्की नहीं पीती हूँ लेकिन बियर मिल नहीं पाई, तो मैंने बोला- नो प्रोब्लम, मैं एकाध पेग विह्स्की का ही ले लूंगी।

उस के बाद हमारी पार्टी शुरू हुई। शुरू में ही हमने सोच लिया कि खाली बैठ कर पीने कि जगह कुछ गेम खेलेंगे। जय ने सलाह दी कि ट्रुथ एंड डेयर खेलते हैं और फिर ऐसा रूल बनाया कि बारी बारी से सब को चांस मिलेगा और वो जिसे चाहें उस को ट्रुथ या डेयर में से एक चुनने को बोल सकते हैं, उनमे तो वो जो भी चुने उसे वो करना पड़ेगा।

खेल की शुरुआत मुझ से ही हुई।
मैं- जय, ट्रुथ या डेयर?
जय- डेयर।
मैं- सब के सामने मुझे ‘आई लव यू; बोलो।
जय- आई लव यू भूमि!
मैंने वैसे आसान टास्क दे दिया था उसे।

उस के बाद बारी आई जय की। तब तक हमारे 2-2 पेग हो चुके थे और हम लोग एक दूसरे के साथ सहज अनुभव करने लगे थे। वैसे मैं आपको बता दूं कि पहले कई बार मैं अपने बॉयफ्रेंड के साथ किसी और का नाम लेकर सेक्स कर चुके हैं। वो मुझे अपने किसी दोस्त का नाम ले कर बोलते थे कि मान लो तुम मेरे उस दोस्त से चुद रही हो।
इसलिए अभी भी चिराग और रवि को देख के मेरी चूत पहले से ही पानी पानी हो गई थी। मैं कल्पना करने लगी थी कि ये दोनों मिल के चोद रहे हों मुझे।

खैर उस के बाद जब जय की बारी आई तो उस ने पायल को चुना।
जय- पायल, ट्रुथ या डेयर?
पायल- डेयर!
जय- सब के सामने चिराग को किस करो। जबरदस्ती नहीं है, मर्ज़ी हो तो ही करो।
पायल ने चिराग को अपने पास खींचा और एक लम्बी किस की। पायल और मैंने घुटनों तक का वन पीस ड्रेस पहना था। किस के बाद पायल थोड़े पैर फैला कर बैठ गई तो उस की गुलाबी पेंटी दिखने लगी। जय की तो हालत ख़राब हो गई थी।

उस के बाद पायल की बारी आई तो उस ने जय से पूछा और जय ने ट्रुथ चुना।
पायल- अभी अभी तुम्हारे दिमाग में तुम क्या सोच रहे थे फाटक से बोल दो।

जय तुरंत बोला- तुम आज मस्त हॉट आइटम लग रही हो। ऐसी कि आज तो तुम किसी भी लड़के की हालत ख़राब कर दो।
इस बात पर मैं और पायल हंसने लगे।

फिर जय की जब बारी आई तो उस ने फिर पायल को ही अपना निशाना बनाया तो पायल ने डेयर चुना।
जय- पायल, तुमने मेरी फिरकी ली, अब बताता हूँ, तुम ये तुम्हारी जो पिंक पेंटी दिख रही है इसको उतार दो।
हम सब दंग रह गए ये सुन के।

मुझे लगा अब चिराग गुस्सा होगा… लेकिन वो गुस्सा होने की बजाए हंसने लगा। पायल ने भी बुरा नहीं माना और अन्दर हाथ डाल कर कुछ दिखे नहीं इस तरह से अपनी पेंटी उतार दी।
हम देखते ही रह गए और उस ने अपनी पेंटी उछाल कर जय के ऊपर फेंक दी।

मैं- अरे भाई लोगो, मैं और रवि तो खाली ही बैठे हैं। हम को भी तो कोई टास्क दो।
रवि- ठीक है भूमि, तो तुम भी पायल के जैसे अपनी पेंटी उतार कर मुझे दो।
मैं इस अचानक वाले हमले से दंग रह गई। मैंने जय की ओर देखा तो उस ने पलकें झपका के मुझ को रजामंदी दे दी और मैं भी बड़े प्यार से अपनी पेंटी उतारने लगी, सभी की निगाहें मेरी जांघों के बीच में थी कि कहीं से इसकी चूत दिख जाए. लेकिन मैं भी चतुर निकली, मैंने अपनी चूत की झलक भी नहीं दिखाई और पेंटी उतार कर रवि के चेहरे पर पर फेंक दी।

अब हम लोगों के बीच शर्म ख़त्म हो गई थी और सब नशे में थे।

चिराग- क्यों ना थोड़ा और मजेदार खेल खेलें। पहले सब अपने मोबाइल वहां कमरे के कोने में उस अलमारी में रख दो। उस के बाद कोई किसी को कुछ भी टास्क दे सकता है।
सबने अपने फ़ोन अन्दर रख दिए ताकि कोई फोटो या वीडियो ना बना सके।

रवि शुरू से ही हमको देख कर लार टपका रहा था तो शुरुआत उसी ने की- पायल, आई डेयर यू तू किस जय (मैं तुमको जय को किस करने का डेयर देता हूँ)
वैसे तो ये थोड़ा अजीब था लेकिन सब पर नशा चढ़ा हुआ था, तो उस ने उठ कर जय के होंठों से होंठ लगा दिए। मुझे जलाने के लिए वो उस के होंठ चूसने भी लगी। फिर ये देख कर चिराग से भी रहा नहीं गया।
चिराग- भूमि, तुम्हारा डेयर है कि तुम रवि को किस करो।

मैं उठी और बड़ी नखरीली अदा से झुक के रवि को किस करने लगी। मैं अपना बदला पूरा कर रही थी लेकिन तभी झुकने के कारण मेरा वन पीस ड्रेस पीछे से ऊपर उठ गया। पेंटी तो पहले ही निकल चुकी थी तो पीछे से मेरी चूत दिखने लगी।

ये देख कर चिराग ने मेरी नंगी रसीली चूत की दरार में अपनी उंगली फिराई और कहा- देखो कितनी गीली हो रही है ये!
और उस ने वो मेरी चूत के रस से भीगी उंगली अपने मुख में डाल ली, फिर बोला- टेस्टी!

जय- यार ऐसा कैसे चलेगा, तुम मेरी गर्लफ्रेंड की चूत का रस चखो और मैं ऐसे ही रह जाऊं।
चिराग- फिर तू भी चख ले मेरी गर्लफ्रेंड की चूत का रस, तुझे किसने रोका है।
रवि- ये तो नाइंसाफी है, आप लोग मज़े करो और मैं देखूं?
जय- तुम भी ज्वाइन कर सकते हो…
चिराग- बस बात बाहर नहीं जानी चाहिए।

सब फटाफट मान गए।

जय उठा और फाटक से पायल के पर चौड़े किये और उस की चूत को मुँह में भर लिया और ऊपर से लेकर नीचे तक जीभ फिरा कर चाटने लगा। पेंटी तो उतर ही चुकी थी और ड्रेस ऊपर होने
से चूत भी सबको नंगी सबको दिख रही थी।
चिराग ने पायल की चूत पर थोड़ी ड्रिंक डाली और कहा- लो पियो इसे।
पायल की चूत में अल्कोहल के कारण चिरमिराहट लग गई, वो तड़प गई- उई मां… आह… उम्म्म… जल्दी साफ़ करो इसे… बहुत मिर्ची लग रही है… लेकिन जय ने पायल की चूत के ऊपर सारी अल्कोहल चाट कर पी गया तो पायल की चूत की जलन भी शांत हो गई.

मौका देख कर चिराग ने मुझे सोफे पर झुकाया और मेरे पीछे आ गया और उस ने भी मेरी चूत पर जीभ लगा दी और चाट चाट कर मेरी चूत का मजा लेने लगा.
चिराग- अबे साले, तेरी माशूका की चूत का पानी बहुत मस्त है।
जय- तेरी माशूका भी कोई कम नहीं है, देख कितना पानी निकालती है।

ये सब देख सुन कर रवि की हालत ख़राब हो गई। उस ने अपने सारे कपड़े खुद ही निकाल दिए और वो सबसे पहले पूरा नंगा हो गया। रवि अपना लंड ले कर मेरे पास आ गया। उस का लंड मेरे बॉयफ्रेंड से मोटा था और करीब पांच इंच लम्बा होगा। मैंने उस के सिरे पर जीभ फिराई और चूसने लगी। रवि के मुख से आहें निकलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…
पीछे से चिराग मेरी चूत चाट रहा था और मेरे मुँह में रवि का लंड था।
मैंने मुड़ कर देखा तो मेरा बॉयफ्रेंड जय और पायल दोनों नंगे थे और 69 की पोजीशन में थे।

यह देख कर मैं भी ज़ोरों से रवि के लंड को मुँह में अन्दर बाहर करने लगी। मेरे मुख की इस गर्मी से रवि कितना टिकता तो उस ने मेरे मुँह में पिचकारी छोड़ दी। मुझे वैसे वीर्य का स्वाद अच्छा नहीं लगता लेकिन पता नहीं शायद नशे में मैं सारा माल पी गई।

उस के बाद चिराग और रवि ने जगह बदल ली। अब चिराग का लंड मेरे मुँह में था और रवि मेरी चूत चाट रहा था। रवि का लंड फिर से खड़ा हो गया।

अब तक हम सब पूरे नंगे हो चुके थे। उधर देखा तो मेरे बॉयफ्रेंड जय ने अपने लंड का प्रवेश पायल की चूत में कर दिया था। वो उसे चोद रहे थे, और इधर रवि का लंड पायल ने अपने मुँह में ले लिया था।
जब रवि का लंड पूरा तन गया तो उस ने डॉगी स्टाइल में ही मेरी चूत में लंड घुसेड़ दिया। मेरी चूत में रवि का लंड था और वो मुझे गालियां बकते हुए चोद रहा था।
रवि- ले भोसड़ी की… तेरी चूत को आज भोसड़ा बना दूंगा। साली रंडी, जब से तुमको देखा है तेरी गांड मारने को जी करता है।

उधर चिराग पायल के पास चला गया और उस के मुँह में लंड डे दिया। जय पायल की चूत मार रहा था और पायल चिराग का लंड चूस रही थी। उस के बाद पार्टनर अदल बदल हो गए। रवि पायल के पास चला गया और उस की चूत में लंड घुसेड़ दिया और चिराग ने मेरी चूत में लंड दिया। मैं अभी तक कुतिया ही बनी हुई थी तो जय ने मेरे मुँह में लंड दे दिया।

इस सब में पता नहीं कितनी बार मैं झड़ी लेकिन जय और चिराग झड़ने का नाम ही नहीं ले रहे थे।

जब ऐसे ही चोदते चोदते जब चिराग का छूटने वाला था तो उस ने मेरे मुँह में लंड दे दिया क्योंकि रवि ने कहा था कि इधर उधर पानी गिरा के मेरा रूम मत ख़राब करना।
तो चिराग ने मेरे मुँह में अपना पानी छोड़ दिया और मुझे पीना पड़ा। उधर जय भी पायल के पास चला गया और उस के मुँह में अपना लंड दे दिया। पायल अपने बॉयफ्रेंड के सामने उस के दोस्तों से चुद रही थी।

जय का भी आखिर छूट ही गया जो पायल पूरा पी गई। उधर रवि का अभी नहीं छूटा था, वो अब भी पायल को चोद रहा था। मैं अपने आप को साफ़ करने के लिए बाथरूम में चली गई। उधर पायल झड़ गई तो रवि मेरे पीछे आ गया।

रवि ने बाथरूम का दरवाज़ा बंद कर दिया और शावर के नीचे मेरे से चिपक के मेरे बूब्स को मुँह में लेने लगा। वो मेरे निप्पलों को काट रहा था। मैं भी उत्तेजित हो गई तो उस ने खड़े खड़े ही थोड़ा झुका के लंड घुसेड़ दिया मेरी चूत में। थोड़ी देर चोदने के बाद ऐसे ही फिर गोद में उठा कर वो मुझे बाहर ले आया।

फिर हमने खाना खाने के बाद एक राउंड और किया ऐसी ही चुदाई का।
दोस्तों ये थी मेरी कुछ ही दिन पहले शुरू हुए नए साल की पार्टी की सच्ची कहानी। केवल नाम बदल दिए हैं बाकी सब बिल्कुल सच है।

आप मुझे ज़रूर बातें आपको मेरा पहले ग्रुप सेक्स की स्टोरी पढ़ कर कैसा लगा।
आपकी प्यारी चुदासी भूमि
[email protected]