गुजराती सेक्स कपल के साथ मस्ती भरी चुदाई-3

(Gujarati Sex Couple Ke Sath Masti Bhari Chudai- Part 3)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

शाम को 7 बजे हमारी आँख खुली तो कोमल नँगी ही रसोई से पानी लाई।
मैंने कहा- अभी कपड़े पहन लो जानेमन!
मोहन बोला- राजेश भाई, चलो थोड़ा घूम के आते हैं, बेटे को भी लाना है।
मैंने कहा- चलो!
हम दोनों बाइक लेके निकल गए और 8.30 बजे तक आये।

कोमल ने तब तक डिनर बना लिया था। हमने डिनर किया और कोमल अपने बेटे को सुलाने चली गई।
मैंने मोहन को बताया- यार अभी 2 राउंड करेंगे चुदाई के और उसकी ब्रॉडकास्ट करेंगे, जिससे थोड़ी आपकी कमाई हो जायेगी। मेरा एक कपल दोस्त हमारी चुदाई देखना चाहते हैं.
मैंने फिर हिम्मत को कॉल किया और कहा- भाई, 10 बजे हमारी चुदाई शुरू होगी।
बिमलेश से भी बात की तो वो बोली- यहाँ से लौटते समय हमारे यहाँ रुकना, आपके योगिराज की बहुत याद आ रही है।

कोमल 9.30 तक बेटे को सुला कर आ गई और मैंने हिम्मत को व्हाट्स एप्प पर मैसेज दे दिया और साथ में हमारे कैम के ब्रॉडकास्टिंग का लिंक भी।
अब मैं और मोहन कपड़ों में और कोमल नाइटी में थी।

मैंने कैम ब्रॉडकास्ट पर पहले ही रेट लगा दी कि चूत चुसाई के 40 टोकन एक लंड चुसाई के 60 टोकन और 2 लंड चुसाई के 120 टोकन और 69 के 150 टोकन और डॉगी चुदाई के 200 टोकन। और एक साथ डबल चुदाई के 300 टोकन।

अब सबसे पहले हम तीनों ने एक रोल प्ले और चुदाई को मजेदार बनाने का प्लान जो मैं पहले ही बना चुका था उनको समझाया जिससे चुदाई के साथ देखने वाले को भी मजा आये और ज्यादा कमाई हो।
हमने इसमें स्ट्रिप पोकर गेम को शामिल किया।

हम कार्ड्स के साथ खेल रहे थे सबसे पहले रूल्स बताये जो ये थे:
1) जो कार्ड बंटेगा वो राजा होगा और जिसके पास सबसे पहले गुलाम आएगा वो राजा की हर बात मानेगा चाहे कुछ भी हो सकता है आदेश!
2) एक बार में एक ही आदेश माना जायेगा!
3) पहले 2 राउंड पेनल्टी भर कर बीच सकता है लेकिन उसके बाद कोई पेनल्टी नहीं होगी और पेनल्टी मात्र 10 रुपये होगी

पहले मैंने कार्ड बांटे और मोहन हारा तो मैंने उसको कोमल को किस करने को कहा।
फिर मोहन ने पत्ते बांटे अब कोमल हारी तो कोमल की उसने नाइटी उतरवा दी.
फिर कोमल ने पत्ते बांटे तो मोहन हारा, उसने मोहन से मेरा पैन्ट उतरवा दिया.

अब मैंने बांटे पत्ते तो कोमल हारी और मैंने उसको मेरी अंडरवियर मुँह से उतारने को कहा। जैसे ही कोमल ने मुँह ने मेरी जॉकी उतारी मेरा योगिराज ने उसके मुंह पर झटके से थप्पड़ मारा, वो बोली- साले, चुदाई के साथ साथ मारता भी है?
और हम हंसने लगे.

अब मोहन ने पत्ते बांटे और मैं हारा तो कोमल की पैंटी उसने मुझ से दांतों से उतरवाई।
मैंने पहले जीभ से पैंटी के ऊपर से कोमल की रसीली चूत चाटी और फिर पैन्टी मुँह से उतारी।

अब कोमल की बारी थी तो अब भी मैं हारा तो कोमल ने मुझे अपनी चूत और चुची चुसवाई ऐसे धीरे धीरे चुसाई शुरू हो गई। जैसे जैसे चुसाई बढ़ रही थी, कमाई भी बढ़ती जा रही थी.
एक डिमांड काफी आ रही थी कि वाइफ और हस्बैंड से एक साथ योगिराज चूसवाओ तो मोहन का भी दिल हो रहा था चूसने का… पर उसने कमैंट्स का सहारा लेके बोला- यार, एक रेट स्टेटस डालो की पति पत्नी से एक साथ लंड चुसाई के 500 टोकन।
तो टोकन लगातार बढ़ने लगे तो मैं बोला- भाई, देखने वालों की डिमांड पूरी करो!

कोमल बोली- यार आ जाओ कभी योगिराज का स्वाद तुम भी चख लो!
और उसने मोहन को भी लंड चूसने को कहा कि दोनों मिलकर चूसेंगे तो ज्यादा कमाई होगी।
वैसे मोहन मुझे मेरे योगिराज को चूसने की पहले ही इच्छा बता चुका था और अब तो मौका भी था तो कोमल और मोहन दोनों एक साथ योगिराज को चूसने लगे, कभी कभी दोनों योगिराज को मुँह के बीच में लेकर एक दूसरे को किस भी करते।

उधर रफीक और जमीला भी हमारा शो देख रहे थे और हिम्मत और बिमलेश भी देख रही थी, उस रात हम उस साइट के टॉप कैम ब्रॉडकास्टर थे।

जमीला ने मेरे नम्बर पर फ़ोन करके कहा- खूब चूसवाओ दोनों से योगिराज! मैं एक बात बता दूं कि मैं और रफीक भी ऐसे ही योगिराज को चूसेंगे और एक बात और.. रफीक मेरे सामने ही तुमसे गान्ड भी मरवाएगा. ठीक है? पर ये बात मोहन और कोमल को पता नहीं है, उनको मत बताना, यहाँ आओगे तो तुम्हारी अच्छी खातिर करेंगे. अब लो मजे कोमल और मोहन से… हम भी देख रहे हैं. कोमल ने लिंक भेजा था शाम को तुम्हारे इस शो का!
और फोन रख दिया।

ऐसे ही हम चूसते चुसाते 20 मिनट हो गए और कमाई भी 7000 टोकन को पर कर गई। अब कोमल को मैंने डॉगी बना के चोदने लगा और कोमल मोहन का लंड चूसने लगी।
5-7 मिनट बाद हमने अपनी पोजीशन बदल ली, अब मोहन कोमल को चोद रहा था और कोमल ने कंडोम उतार कर मेरा योगिराज चूसने लगी।

अब कोमल घोड़ी बने बने थक गई तो बोली- ओ मादरचोद मोहन और साले राजेश, कब तक ऐसे चोदोगे? मेरी टांग दर्द कर रही है, मुझे भी चोदने का मौका दो!
तो मैंने मोहन को हटने को कहा और लेटते हुए कोमल को बोला- ले अब योगिराज की सवारी करते हुए मोहन का चूस आराम से!
फिर मैं लेट गया तो कोमल ने कहा- आज मैं पैरों की तरफ मुँह करके चुदवाऊंगी, तुम पीछे से चुचियों को मसल मसल के लाल कर दो!
और वो मोहन को गाली देते हुए बोली- तू वहाँ क्या अपनी बहन चुदवा रहा है रंडी की औलाद… यहाँ आकर मुझे अपना लंड चुसवा!

तो मोहन आकर उसके मुँह में लंड ठूंसते हुए बोला- ले रंडी चूस जा, पूरा रस निकाल के पी जा कुतिया साली! तुझे भी एक लंड से तसल्ली नहीं हो रही थी, तभी तो राजेश भाई को बुलवाया है तू कहे तो रफीक को भी बुला लूँ साली तेरे तीनो छेद बन्द हो जायेंगे फिर!
तो कोमल मुँह से लंड निकाल के बोली- साले कुत्ते, मैं तो चाहती हूँ कि एक दिन मेरे तीनों छेदों में लंड हों! तू क्या बुलायेगा रफीक को, मैं खुद बुलाने वाली हूँ उसको तो, पर मुझे पता है कमीने तुझे जमीला को चोदने की बहुत जल्दी है ना… पर तुझ से पहले वो राजेश से चुदेगी. मुझसे कह रही थी आज दिन में कि राजेश को बुलाया है जब यहाँ से वापस जायेगा. क्यों राजेश, सही कह रही हूँ ना?

मैं बोला- जब उसने बता ही दिया है तुमको तो सही कहा है, मुझे जमीला ने बुलाया है, कह रही थी बहुत मन हो रहा है योगिराज से चुदवाने का!

अब मैंने मोहन को कोल्ड क्रीम लाने को कहा और कोमल को थोड़ा ऊपर उठने को कहा और योगिराज निकाल लिया. मोहन से योगिराज पर चढ़े कंडोम पर ही कोल्ड क्रीम लगवा के काफी सारी क्रीम कोमल की गांड के छेद में लगवाई और अब कोमल को वापस योगिराज पर बैठने को कहा.
उसकी गान्ड मैंने दोनों हाथों से चौड़ी करके योगिराज उसकी गान्ड के छेद पर टिका दिया और मोहन को इशारा किया तो मोहन ने पीछे से कोमल के कंधों से दबाव दे दिया.

योगिराज एक ही झटके में कोमल की गान्ड में घुस गया और कोमल की चीख निकल गई, कोमल चीखते हुए बोली- मादरचोद, मैंने तेरा क्या बिगाड़ा था जो मेरी गान्ड फड़वा दी?
अब मैंने कोमल की चुचियों को सहलाया और उसको हिम्मत दिलाई- कोई नहीं, दर्द में ही तो मजा है चुदाई का!

मैंने कोमल को बाँहों में भर लिया और मोहन को इशारा किया तो मोहन ने कोमल की चूत में लंड पेल दिया. अब कोमल फिर से हमारे बीच सैंडविच बन के चुदने लगी और भद्दी गालियां देने लगी.
5 मिनट बाद जब मजा आने लगा तो बोली- जोर जोर से चोद साले, क्या तुम लोगों के लंड में दम नहीं है? मेरी चूत और गान्ड का भुर्ता बना दो आज!

मैं भी नीचे से गान्ड में झटके मारते हुए बोला- साली, दम तो इतना है कि तेरी चूत और गान्ड दोनों चोद चोद कर सूजा दूँ।
ऐसे ही मस्ती की बातें करते हुए कोमल को चोदने लगे.

10 मिनट बाद कोमल बोलने लगी- जोर से… अःहः उम्म्ह… अहह… हय… याह… मजा आ रहा है मैं झड़ने वाली हूँ!
और आहह… ओह करते हुए झड़ने लगी।

अब मैंने कोमल को साइड किया और मैंने अपना कंडोम उतारा और मोहन ने भी… दोनों ने अपना लंड को कोमल के सामने किया, कोमल हम दोनों का लौड़ा चूसने लगी।
5 मिनट के चुसाई में पहले मोहन के लंड ने पिचकारी कोमल के मुंह में छोड़ी और उसके 5 मिनट बाद मेरा योगिराज भी कोमल के मुँह में ढेर हो गया।

उस रात हमारी चुदाई के शो से 9000 टोकन मिले, मतलब 900 डॉलर जिनकी उस समय कीमत थी 40500 रुपये और उनकी दिनभर की कमाई 76000 रुपये हो गई थी तो वो दोनों बहुत खुश भी थे चुदाई से भी और कमाई से भी!

उनके घर मैं दो दिन रहा क्योंकि उन्होंने कहा कि लोग थ्री सम चुदाई देखने के ज्यादा पैसे दे रहे हैं।

गुजराती भाभी ग्रुप सेक्स की यह कहानी जारी रहेगी.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! गुजराती सेक्स कपल के साथ मस्ती भरी चुदाई-3