दोस्त की साली की चुत चुदाई

(Chodan Kahani: Dost Ki Sali Ki Chut Chudai)

दोस्तो, मेरा नाम सैम है, मेरी उम्र 26 साल है, मैं औसत डीलडौल का गोरा चिट्टा लड़का हूँ और पिछले कई सालों से मैं दिल्ली में रहता हूँ। मैं कई सालों से अन्तरवासना का पाठक हूँ।
मेरी पिछली कहानी
बीवी की चुदाई गैर मर्द से दोबारा
में आपने पढ़ा कि मेरे जीवन की पहली चुदाई अनामिका जी के साथ हुई थी जो उनके पति ने ही करवाई थी. एक बार उनके पति दो दिन के लिए बाहर जाने लगे तो उन्होंने मुझे बुला कर इन दो दिनों में उनकी बीवी की दोबारा से अच्छी तरह से चुदाई करके उनकी बीवी की कामुकता को शांत करने को कहा.
अब आगे आपको बताऊंगा कि मैंने कैसे अनामिका के कहने पर उनकी बहन की प्यास बुझाई और और मैं उन दोनों बहनों की सेक्स की भूख आज भी शांत कर रहा हूँ और वे दोनों आज मुझसे बहुत ही खुश हैं।

तो चलिए अब देर न करते हुए अब कहानी की शुरुआत करते हैं.

तो हुआ यों कि एक दिन हम लोग यानि मैं और अनामिका सेक्स कर रहे थे और चुत चुदाई के बाद ऐसे ही साथ में लेटे हुए थे और बातें कर रहे थे और हम एकदम नंगे थे।
और तब अनामिका ने ऐसा कुछ कहा जिससे मेरा दिल एकदम ख़ुशी से झूमने लगा था.

अनामिका- जानू, आज बहुत मजा आ गया।
मैं- वो तो हमेशा आता है डार्लिंग… तुम्हारी चुत में इतना मजा है कि जितना मिले उतना कम ही होता है. और मुझे तुमसे प्यार कर कर के मेरा मन कभी भी नहीं भरता है
वह- अगर यह मजा दुगना हो जाये तो कैसा रहेगा?
मैं- मैं कुछ समझा नहीं? तुम क्या कहना चाहती हो?

अब मेरे मन में भी लड्डू फूट रहे थे कि ये लोग अब मुझे कौन सा नया मजा देने वाले हैं जिसे पाकर में बहुत खुश हो जाऊँगा.

अनामिका- अगर हमारे साथ एक और इंसान जुड़ जाए तो हम तीनों को और भी मजा आ जाएगा.
मैं- अरे… यह तुम क्या बोल रही हो? पागल तो नहीं हो गयी हो ना? अगर किसी चौथे को यह बात पता चल गई तो बाहर के लोगों को भी यह बात पता चलने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा. और अगर बाहर के लोगों को पता चल गई तो हमारी क्या हालत हो सकती है यह तुम्हें कुछ पता भी है या नहीं?
अनामिका- उसकी टेंशन मत लो डार्लिंग, वह इंसान कोई और नहीं… उसे तुम भी अच्छी तरह से जानते हो, वह मेरी छोटी बहन है सोनल.

मैं तो यह सुन कर मन ही मन में बहुत ज्यादा खुश हो गया था क्योंकि मैं उनके बारे में पहले भी रमन के मुँह से कई बार सुन चुका था कि वो अनामिका से भी ज्यादा सुंदर है और वो उसे भी चोद चुके हैं।

चलिए आपको सोनल के बारे में थोड़ी बात बता दूं जिससे आप लोगों को कहानी में मजा आ जाये.
सोनल की उम्र यही कोई 32-33 के आस पास होगी. उसका रंग दूध से भी ज्यादा गोरा मतलब ‘हाथ लगाओ तो मैली हो जाए’ ऐसा था. और किसी भी 26-27 साल की लड़की की तरह सुंदरता उनके सामने एकदम बेकार हो जाये. उसका फिगर जो कोई एक बार देख ले, उसका लंड तुरंत खड़ा हो जाए, उसको देख कर तो बूढ़े का भी लंड खड़ा हो जाये… वह ऐसी सुंदर नारी है।
उसका फिगर 34-28-38 का था और उसकी गांड तो मुझे बहुत ही ज्यादा पसंद आती थी. मैं जब भी अनामिका और रमन से उसकी तारीफ सुनता था तब मेरी सोच सब से पहले उसकी गांड पर ही जाती थी और मैं हमेशा से उसकी गांड को चोदना चाहता था.

और आज मेरा इंतजार ख़त्म होता दिख रहा था और मेरे मन में भी अब उसको चोदने के सपने आने लगे थे.

मैं- वह तो ठीक है, पर वह मानेगी कैसे? मुझे नहीं लगता कि वह मेरे साथ कभी सेक्स के लिए राजी होगी.
अनामिका- अरे मैंने उसको हमारे बारे में सब बता दिया है और वह अब हमारे साथ सेक्स करने के लिए एकदम पूरी तरह से तैयार है क्योंकि उसका पति उसकी हवस नहीं मिटा पाता है और उसने रोते हुए मुझे सब बताया तो मैंने उसको सब बता दिया कि मैं कैसे अपने पति के साथ और तुमसे चुदाई करवाती हूँ, पिछले 2 साल से तुम्हारे पास आकर मेरी भूख को मिटा रही हूँ. और मैंने उसे यह भी बताया कि मुझे तुम पर पूरा भरोसा है. मैंने उसे यह भी समझाया है कि तुम्हारे साथ सेक्स कर के उसकी हवस तो शांत हो ही जाएगी और यह बात कभी किसी को बाहर पता नहीं चल पायेगी क्योंकि मैं तुम्हारे साथ इतने समय से सेक्स कर रही हूँ. और यह बात कभी बाहर नहीं गई है. और अब वह जल्द से जल्द हमारे साथ जुड़ना चाहती है.

मैं- चलो फिर तो कोई दिक्कत नहीं है. जब आप तैयार हो तो मैं भला आपकी बहन को खुश करने के लिए मना कैसे कर सकता हूं?
इसके बाद हमने फिर से सेक्स करना शुरु कर दिया. उस दिन हमने डेढ़ दो घंटे सेक्स लिया जिसमें अनामिका ने तीन बार पानी छोड़ा था और मैं दो बार झड़ चुका था, एक बार मैंने अपना माल उनकी चूत में छोड़ दिया था और दूसरी बार उनकी गांड में।

और फिर थोड़ी देर बाद हम किस करने लगे और मैं अपने बदन को साफ कर के मेरे कपड़े पहन कर मेरे घर वापस आ गया.

कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा और मुझे अब बेसब्री से सोनल के आने का इंतजार था और मैं अब हर रोज रात को सपने देखने लगा था कि मैं कैसे उसको भोगूँगा और उसकी सारी इच्छा को पूरी कर दूंगा.

तभी मुझे रमन का एक दिन व्हाट्सआप पर मैसेज आया.
रमन- गुड न्यूज़ है.
मैं- क्या हुआ?
फिर जो उन्होंने बताया वह सुन के तो मुझे बस मजा आ गया- सोनल के हस्बैंड को 2 महीनों के लिए दूसरे शहर के आफिस ट्रांसफर कर दिया गया है अब वह भी आ जा सकती है हमारे पास आराम से।

अब कोई दिक्कत भी नहीं थी, बस मैं तो अब उनके आने का इंतजार कर रहा था.
और 10 दिनों के बाद उसके पति चले गए, बस हमें मौके की तलाश थी और चार दिन बाद हमें मौका मिल गया।
रमन जी का फोन आया मेरे पास रात को 9:00 बजे: कल शाम ठीक 7:00 बजे आ जाना हमारे घर… मौज करेंगे चारों मिल के!
मैं- हाँ जी, नेकी और पूछ पूछ… बस आप तीनों तैयार रहना… मैं सही वक्त पर आ जाऊँगा दोनों बहनों का कल मजा लेने के लिए! दोनों पर कोई रहम नहीं किया जाएगा।
रमन- वह तो मैं जानता हूं तुम भी मरे जा रहे हो मेरी साली को चोदने के लिए! और सच बताऊं तो मैं भी सोनल को चोदने के लिए बेचैन हूँ! एक लंबा अरसा हो गया साली की चूत मारे हुए!

और यह बात कर के हम दोनों गुड नाइट बोलकर सो गए. पर मुझे तो अब ख़ुशी के मारे नींद भी नहीं आ रही थी और मैं उसके सपने देखने लगा कि मैं उसे किस किस तरह से चोदूँगा. और फिर मुझे धीरे धीरे नींद आने लगी और मैं सो गया.

अगले दिन मैं पहुंचा तो देखा तो सोनल आ चुकी थी, दोनों बहनों ने साड़ी पहन रखी थी जिसमें वे सेक्सी लग रही थी. पर सोनल कुछ शरमा रही थी.
रमन जी की खुशी साफ झलक रही थी जैसे कि सब शादीशुदा मर्दों को पता है कि साली साहिबा को देखकर अपने आपको रोक नहीं पाते हैं।

रमन- आओ सैम, बैठो। बताओ क्या करना है?
मैं- करना क्या है? बस आप मौका दो, बाकी तो आप को सब पता है।
अनामिका ने सब के लिए पेग बनाए, उन दोनों बहनों ने एक एक पेग लिया, हम दोनों ने दो दो पेग गटके और चरों बैठ कर हँसी मजाक कर रहे थे.

और फिर मैं उठा और जाकर अनामिका के पास बैठ कर उसको अपने पास खींच लिया और शुरू हो गया हमारा प्रेम मिलन!
हम दोनों किस कर रहे थे सोनल के सामने… वह दो एक मिनट तो देखती रह गई फिर ‘दीदी, थोड़ी तो शर्म करो!’ बोल कर दूसरे रूम में चली गई।
और रमन जी मुझे और अनामिका को भुला कर अपनी साली साहिबा के पीछे पीछे चल दिए।

हम दोनों नहीं रुके और कुछ देर तक हमारी प्रेमलीला चलती रही जिसमें मैंने अनामिका को पूरी नंगी कर दिया और उसने मुझे।
थोड़ी देर बाद अनामिका उठी और बिना कपड़ों के अंदर गई, मैं उनके पीछे पीछे।

अंदर का नजारा देख कर हम दोनों एक दूसरे को देखकर अपने आपको रोक नहीं पाए और हम दोनों भी शुरू हो गए। अंदर रमन अपनी साली को नंगी कर चुका था, वो सोनल की चुत चाट रहा था और सोनल आनन्द भरी आहें भर रही थी.
मैंने उसके पास जाकर उसकी चुची को भींच दिया… उसकी आँखों में चमक थी और कामुकता से भरी हुई थी। मैंने अपने लंड को सोनल के मुँह में दे दिया और अनामिका भी उसके चुचों को मसलने लगी।

रमन जी ने जितनी तारीफ की थी सोनल की, सब सच लगी, उसके होंठों और जीभ में जादू था, पूरे लंड पर जीभ चलाते हुए टोपे को गपागप चूस रही थी।
मैं ज्यादा देर टिक नहीं पाया और मैंने अपनी पिचकारी सोनल के मुँह से निकाल कर अनामिका के चुचों पर डाल दी।

अनामिका और मैं अपने को साफ़ करने बाथरूम चले गए, वहां से आने के बाद हमने देखा रमन अपनी साली सोनल की चूत में दनादन शॉट लगा रहा रहा था और सोनल भी गांड उठा उठा कर मजे ले रही थी।
अनामिका और मैंने 69 में होकर ओरल सेक्स करके एक दूसरे को गर्म किया, चुदाई के लिए तैयार किया और अनामिका को घोड़ी बनाकर उसकी चूत में लंड डाल कर चुदाई करने लगा.

हमारे बगल में ही सोनल और रमन चरमोत्कर्ष पर पहुंच रहे थे सोनल अपनी बहन अनामिका के होंठों को चूमते हुए झड़ने लगी।

रमन और सोनल चुदाई खत्म करके हमारी चुदाई देख रहे थे। हमने पोज बदल लिया और अनामिका अब मेरे ऊपर बैठ कर मेरे लंड की सवारी करने लगी। उसके ऊपर नीचे होने के कारण चुचों का भी पेन्डूलम बना हुआ था वो नजारा देखते ही बन रहा था।
कुछ देर में वो निढाल होकर मेरी छाती पर पसर गयी मैंने भी नीचे से अपने चूतड़ उछालते हुए उसकी चूत में झटके लगा कर रस वहीं छोड़ दिया.

थोड़ा आराम करने के बाद सबने एक एक पेग लगाया और फिर से चुदाई के लिए तैयार हो गए.

इस बार मैंने सोनल को अपनी गोद में बैठा लिया और हम दोनों एक दूसरे के बदन से खेलने लगे। उधर रमन अपनी पत्नी को चूम रहा था और अनामिका उसके लंड को सहला रही थी।

सोनल धीरे धीरे रंग में आने लगी और सेक्सी सिसकारी भर रही थी, मैं उसके चुचों का रसपान करते हुए उसकी चूत में उंगली कर रहा था।
वो बोली- सैम… उम्म्ह… अहह… हय… याह… अब मेरी चुत में लंड डाल कर चुदाई करो, मैं और बर्दाश्त नहीं कर सकती।

मैं बिस्तर पर लेट गया और मैंने उसे ऊपर आने को बोला, वो मेरे लंड पर अपनी चुत का निशाना लगा कर बैठ गई… उसकी चूत बहुत गर्म और कसी हुई थी, मेरा लंड रगर रगड़ कर उसकी चुत में गया. अब वो उछल उछल कर मेरे लंड की सवारी कर रही थी और मैं उसके चूचों को मसलने लगा।

फिर मैंने उसे घोड़ी बनाकर उसकी चूत में लंड घुसेड़ कर खूब जोरदार झटके लगाए और आखिर में उसकी टांगों को अपने कंधों पर रख कर चुत का मर्दन किया और दोनों ऐसे ही ठंडे हो गए।

उधर रमन अपनी पत्नी की चूत चुदाई करने के बाद उसके ऊपर लिपटा हुआ था।

फिर हम चारों ऐसे ही नंगे आपस में लिपट कर सो गए।

सुबह अनामिका ने हमें जगाया तो मैंने देखा कि सोनल नंगी ही मेरे और रमन के बीच में सोई हुई थी।

सब लोग उठ कर फ्रेश हुए और चाय पीकर फिर एक बार हमने चूत चोदन का खेल खेल कर मजे किए।

मैंने इसके बाद कई बार सोनल के साथ अकेले में भी मजे किए।

मेरी पिछली कहानी के लिए आप लोगों से काफी प्रशंसा और सम्मान मिला। आप सभी के मेल्स पढ़कर अच्छा लगता है
आपको मेरी यह आपबीती कैसी लगी, मुझे मेरी मेल आई डी पर सम्पर्क करके बता सकते हैं!
[email protected]