काला लंड घुस गया मेरी गांड में

(Kala Lund Ghus Gaya Meri Gand Me)

यह तब की बात है जब मैं सिर्फ उन्नीस साल का था, कॉलेज में फर्स्ट इयर में पढ़ता था। मैं गोरा चिट्टा चिकना लड़का था उस समय… मैं कुछ कुछ लड़कियों जैसा दिखता था तो मैं जिम में जाया करता था कि मैं कुछ मर्दों जैसा दिखने लगूँ!

उस रात मुझे देर हो गई थी, जिम से सभी जा चुके थे, अब बस तीन लोग बचे थे- मैं, जिम का ट्रेनर जमाल और उसका दोस्त राएस।
मैं तैराकी की प्रैक्टिस कर रहा था कॉलेज के कॉम्पटीशन के लिए, जबकि वो दोनों पूल के बगल में बात कर रहे थे।

राएस और जमाल अफ्रीका से आए थे काम की तलाश में। जमाल को जिम में काम मिल गया और राएस को एक सिनेमा हॉल में।
जिम जॉइन करने के कुछ ही दिन मेरी उन दोनों से काफी अच्छी बन गयी थी।

बात करते करते वो दोनों उठ कर अंदर चले गए। मुझे लगा जिम बंद हो रहा है, तो मैं भी पूल से निकल कर नहाने चला गया।
जैसे ही मैं शॉवर रूम में घुसा, पीछे से किसी ने मेरी कमर पकड़ ली, मैंने पलट कर देखा तो राएस था।
मैं घबरा गया- राएस! कोई देख लेगा यार!
“कौन देखेगा मेरी जान? जमाल चाबी देकर घर चला गया। अब हम दोनों ही हैं अकेले।”
“मगर…”
“कोई अगर मगर नहीं, आज तो ये गांड मेरी!”

यह बोल कर एक झटके में उसने मेरा कच्छा उतार दिया। मैं पलटा तो देखा कि वो पहले से ही नंगा था। उसका मोटा लंड मुझे सात इंच की सलामी दे रहा था। मैं जान गया कि आज मेरे पिछवाड़े का उद्घाटन हो जाएगा।

राएस काफी दिन से मेरे पीछे पड़ा था, मेरे गोरे और चिकने शरीर से उसके अंदर का काला दानव बाहर आ गया था। वो बॉडी-बिल्डिंग करता था और उसका शरीर भी मस्त था इसलिए मैंने सोचा, क्यों न थोड़ा मज़ा लिया जाए।
पिछले हफ्ते जब हम अकेले थे, उसका लंड चूस चूस कर सुखा दिया था मैंने; तब से वो मेरा दीवाना ही गया था।
और आज धर लिया मुझे उसने।

खैर, जब ओखली में सर दिया तो मूसल से क्या डरना।

मैं तैरने से पहले शरीर पर तेल लगता था चिकनाई के लिए। आज वो एक दूसरे काम आ गया।
मैंने खूब सारा तेल हाथ में निकाल कर राएस के लंड पर मलना चालू कर दिया। वो मस्त हो गया, उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज़ें निकालने लगा।
उसका गरमा गरम लंड लोहे जितना कड़ा हो गया। मुझे लगा कि ये तो यहीं झड़ जाएगा।

तभी उसने मुझे चूम लिया।
साला क्या ठरकीपने से चूमता था, मज़ा आ जाता था। वो जब मेरे नितम्बों के साथ खेलने लगा तो मेरे लंड में भी हलचल हुई।

मुझे अच्छी तरह से चूमने के बाद राएस बोला- चल, बहुत मज़े कर लिए… अब तू कुतिया बन जा।
मैंने आव देखा न ताव, तुरंत फर्श पर आ गया और कुतिया की भान्ति हो गया. राएस ने मेरी गांड पर भी तेल लगाया और फिर अपने लंड का टोपा मेरे छेद पर टिका दिया।
“क्या टाइट गांड है तेरी। आज चोदने में मज़ा आएगा।”

एक ही झटके में उसने आधा लंड मेरी बेचारी सी गांड के अंदर कर दिया; मुझे थोड़ा दर्द हुआ तो मैं हल्का सा चिल्लाया- उम्म्ह… अहह… हय…
“चिल्ला ले मेरी रण्डी आराम से, यहाँ कोई नहीं है सुनने को। आज तो सारा मुठ तेरी गांड में ही जाएगा।” कहते हुए उसने मुझे पेलना शुरू कर दिया।

मुझे मज़ा आया तो मैं भी गांड हिलाने लगा और धीरे धीरे करके उसने पूरा सात इंच का लंड मेरे अंदर घुसा दिया।
मज़ा आ गया गांड चुदाई में… वो पहले पूरा लंड बाहर निकाल लेता, उसके बाद एक साथ अंदर कर देता था। ऐसा लग रहा था कि मैं जैसे स्वर्ग में पहुँच गया हूँ- और तेज़ चोदो राजा, ये गांड आज तुम्हारी ही है।
“वो तो है ही मेरी रण्डी… साली ऐसी कसी गांड तो किसी लड़की की भी नहीं चोदी। ऐसा लग रहा है जैसे मैं जन्नत में हूँ।”

“मेरी कुँवारी गांड है, कसी तो होगी ही। उन्हहह… आहहह हहह…”
“और आवाज़ तेज निकल साले, और तेज़… अब तू दो दिन तक खड़ा नहीं हो पायेगा आज के बाद… हाहाहा… उँह… उँह… उँह…”

हवस में पागल हो कर वो दस मिनट तक मुझे ठोकता रहा; मेरी गांड का फालूदा बना दिया उसने। एक हाथ से वो मेरा लंड भी हिलाता रहा।

अचानक उसने अपनी चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दी और एक ही झटके में अपना पूरा लम्बा लंड मेरी गोरी गांड में घुसेड़ दिया, फिर एक ‘आआआहहह हहहह…’ की आवाज़ के साथ उसने मेरी गांड में ही अपना मुट्ठ छोड़ दिया।
ऐसा लगा जैसे गांड से किसी ने गुनगुना तेल डाल दिया हो। इतना अच्छा लगा कि मेरा मुट्ठ भी निकल गया।

मैं औंधे मुँह फर्श पर लेट गया और राएस मेरे ऊपर आ गिरा। दो मिनट हम पड़े रहे। फिर उसने अपना लोड़ा मेरी गांड से निकाला और बोला- चल, अब अच्छी रण्डी की तरह मेरा लोड़ा चाट कर साफ़ कर दे।

जब उसका लोड़ा चमक गया तो वो गुनगुनाते हुए चला गया।
मैं मुश्किल से खड़ा हुआ… सच में मेरी गांड सुजा दी थी उस दरिंदे ने।

खैर मैं जब नहा के और अपने कपड़े पहन के ऑफिस तक आया तो कुछ देख कर सकपका गया।

वहाँ जमाल भी था राएस के साथ। वो दोनों सीसीटीवी पर कुछ देख कर हँस रहे थे।
मुझे देखकर जमाल बोला- बड़ी प्यासी रण्डी है तू? कैमरे में चुदते हुए शर्म नहीं आती?

फिर मैंने सीसीटीवी का वीडियो देखा तो समझा’ टीवी पर एच-डी क्वालिटी में राएस मुझे चोद रहा था। पहले उसने मेरी चड्डी उतारी, फिर मुझे चूमा, फिर लिटा-लिटा के चोदा, और फिर अपना लंड साफ़ करवाया। मैं गर्मायी हुई कुतिया की तरह चुद रहा था, और अंत में प्यासी वेश्या की तरह उसका लंड लपलपाते हुए साफ़ किया।

जमाल मुस्कुराया- मेरा आईडिया था शॉवर में आज कैमरा लगाने का। मुझे लगा कि इसकी चुदाई का अच्छा ब्लू फिल्म बनेगी।
राएस हँस के बोला- सही सोचा, अब से ये हमारी रण्डी, जब और जहाँ हम चाहेंगे, तब ये हमारा लंड चूसेगा और हमसे चुदेगा। वरना ये ब्लू फिल्म कोई देख लेगा और…
“नहीं! जो तुम बोलोगे मैं करूँगा। प्लीज ये वीडियो किसीको मत दिखाना।” मैं गिड़गिड़ाया।

दोनों हँसने लगे।
जमाल बोला- वो तो अब तुम्हारे हाथ में है। खैर इतनी कसरत की है तूने। थक गया होगा। जिम के बाद हमेशा प्रोटीन शेक पीना चाहिए ना?
यह कह कर उसने अपने शॉर्ट्स उतार दिए। एक आठ इंच का मोटा सा भुजंग सामने निकल कर आया; जमाल बोला- ले रण्डी… अब मेरा लोड़ा चाट!
मैंने जमाल की बात मान ली, मुझे भी अच्छा लग रहा था ये सब करते हुए.

आखिर जमाल ने भी मेरी गांड को अपने विशाल लोड़े से चोद दिया. इस बार मुझे पहले से भी ज्यादा दर्द हुआ और दर्द के साथ ज्यादा मजा भी आया. गांड मरवाने में दर्द में ही तो मजा है.

घर आकर मुझे लगा कि अगर मैं इन दोनों का कहा करता रहूँ, तो हो सकता है कि वो मेरी विडियो किसी को न दिखाएँ और ये बात छुपी ही रहे।
मुझे क्या पता था कि अगले ही हफ्ते मैं कुछ और मर्दों की हवस मिटाऊंगा! पर वो कहानी अगली बार।

मेरी गांड की कहानी कैसी लगी?
मुझसे बात करने के लिए [email protected] पर मेल भेजें.

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top