होने वाली बीवी का गांडू भाई-1

(Hone Wali Biwi Ka Gandu Bhai- Part 1)

नमस्कार दोस्तो, समय के अभाव के कारण मैं अपनी पसंदीदा साइट अंतर्वासना सेक्स स्टोरीज़ से काफी समय तक दूर रहा।
इस साइट की एक ख़ास बात यह है कि यहां पर न केवल वासना से संबंधित लेख पढ़ने को मिलते हैं, इसके साथ ही इस साइट पर जन सामान्य की मानसिकता, रूढ़िवादी विचारधारा और व्यक्तिगत अनुभव भी काफी सरल भाषा में प्रकाशित होते रहते हैं इसलिए सेक्स साइट होते हुए भी यह पाठकों की पसंदीदा साइट है।

इस साइट की कहानियों और लेखों में बहुत ही गहरा अर्थ भी छिपा हुआ होता है। समाज का वो चेहरा भी दिखाई दे जाता है जिसे समाज अपने दिखावे के नक़ाब के पीछे छुपा कर रखता है। इसीलिए मनोरंजन के साथ साथ पाठकों का ज्ञानवर्धन भी होता रहता है।
इस साइट की लगभग हर श्रेणी की कहानियां उत्तम कोटि की होती हैं। इन्हीं श्रेणियों में से एक श्रेणी समलैंगिक यानि कि गे सेक्स स्टोरी की भी है। जो हमारे समाज का हिस्सा होते हुए भी हमेशा आज़ादी की सांस के लिए संघर्ष करती रहती है।

समलैंगिक समाज की ऐसी ही एक और सच्चाई के साथ मैं अंश बजाज अंतर्वासना सेक्स स्टोरीज़ में आपका स्वागत करता हूं।

मेरे गांडू जीवन की कहानी’ को मुझे ऐसे मोड़ पर लाकर छोड़ना पड़ा जहां से आगे बढ़ पाना मेरे लिए संभव नहीं था। लेकिन हमारे समाज में कितने ही ‘अंश’ ऐसे हैं जो इस तरह की जिंदगी जी रहे हैं।

आज जो गन्दी कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूं वह मेरी नहीं बल्कि एक पाठक की है। ये कहानी हैं संदीप (बदला हुआ नाम) की। अब कहानी को संदीप की जुबानी ही पेश करूंगा ताकि आप उसकी मन: स्थिति को समझ सकें।

मेरा नाम संदीप है, मेरी उम्र 25 साल है, मैं दिल्ली के एक गांव में रहता हूं। ज़मीन भले ही दिल्ली की है लेकिन रहन सहन और जीवन शैली हरियाणा की है। हरियाणा से सटे दिल्ली के बॉर्डर पर बसा मेरा गांव हरियाणवी बोल चाल और खान पान को ही अपनाता है।

मेरे घर में मां बाप के अलावा मेरा एक भाई भी है जो मुझसे उम्र में 2 साल छोटा है। दो बड़ी बहनों की शादी हो चुकी है, शादी के लिए अब मेरा नंबर आने वाला था। घर वालों ने लड़की की तलाश शुरु कर दी थी।
एक दो रिश्ते आ भी चुके थे लेकिन बात नहीं बन पाई थी। कभी लड़की वालों की उम्मीदें बीच में आ जाती तो कभी हमारी।

हर मां बाप अपने बच्चे के लिए एक बेहतर जीवन साथी ढूंढने की कोशिश करता है इसलिए लड़की वाले सरकारी नौकर ढूंढते हैं भले ही वो चपड़ासी क्यों न हो.
और लड़के वाले गुणवती कन्या चाहते हैं जो देखने में सुंदर तो हो ही, साथ ही घर का काम, चूल्हा चौका करना भी जानती हो। और इन सब के अलावा अगर नौकरी भी करती हो तो फिर सोने पर सुहागा हो जाता है। घर में दो दो सैलरी किसे अच्छी नहीं लगती।

एक दिन मेरी सबसे बड़ी बहन का फोन आया और उसने मां को बताया कि उसकी जेठानी के मायके से संदीप के लिए रिश्ता आया है। मां और बेटी की क्या बातें हुईं मुझे इसके बारे में कुछ नहीं पता था।
शाम को मां ने बताया कि कल लड़की वाले मुझे देखने के लिए आ रहे हैं।
मैं थोड़ा नर्वस हो गया।

मां ने कहा- संदीप, कल तुझे लड़की वाले देखने आ रहे हैं, जाकर बाल वाल कटवा ले।
मैंने कहा- मुझे पहले भी तो बता सकती थी मां, कल मुझे दोस्तों के साथ घूमने जाना है। सारी प्लानिंग हो चुकी है।
मां बोली- ज्यादा चोंच मत चला, जाकर बाल कटवा ले, दोस्तों के साथ घूमना ज्यादा ज़रूरी है या शादी?
मैंने कहा- दोस्तों के साथ घूमना!

इतने में मां ने अपने पैर से चप्पल निकाली और अपने हाथ में लेकर मुझे मारने के लिए मेरी तरफ दौड़ी। मैं भी भागकर सीढ़ियों पर चढ़ गया और ऊपर वाले कमरे में जाकर दरवाज़ा बंद कर लिया।
मां ने बाहर से ही धमकी दी- अगर तू कल कहीं घर से बाहर निकला, तो फिर मैं हमेशा के लिए तुझे तेरे दोस्तों के पास ही भेज दूंगी, फिर रोज़ उनके साथ ही घूमते रहना!
कह कर मां वापस चली गई।

माँ के साथ अक्सर मेरी इस तरह की नोंक झोंक होती रहती थी। मैंने सोचा, अच्छा फंसा यार, कल का सारा प्लान चौपट हो गया। मैंने फोन पर सबको मैसेज डाल दिया कि कल मैं नहीं आ पाऊंगा, फिर किसी दिन का प्लान करते हैं।

यह बात ग्रुप में फैलते ही सबने एक एक करके फोन पर ही अपनी भड़ास मुझ पर निकालनी शुरु कर दी!
“भोसड़ी के, लास्ट मोमेंट पर ही तेरी गांड फटती है।”
“चूतियों वाली बात मत कर, अब सब कुछ फिक्स हो गया है, अब अगर तूने कल्टी मारी तो गांड फाड़ देंगे तेरी!”
“साले, अगर तुझे कल ही गांड मरवानी थी तो पहले ही बता देता, प्लान की मां-बहन करने की क्या ज़रूरत थी।”

मैंने सबको बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन दोस्त तो दोस्त होते हैं, वो कहां मानने वाले थे। आखिर में मैंने हार कर फोन बंद कर दिया और घर से बाहर मार्केट की तरफ निकल गया। बाल वगैरह कटवाने के बाद मैंने खाना खाया और ऊपर वाले कमरे में जाकर लेट गया लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी; फोन में पॉर्न साइट खोली और लोअर के ऊपर से ही लंड पर हाथ फेरने लगा।

जल्दी ही लंड तन गया। मैंने लोअर जांघों तक नीचे सरकाई और क्सक्सक्स पोर्न वीडियो देखते हुए मुट्ठ मारने लगा। कुछ ही पल में मेरा चस्का बढ़ गया और मुंह से इस्स्स्स्… इस्स्स्स्स् की सिसकियां निकलने लगी। वीडियो में एक लड़की और दो लड़के थे। एक लड़का बेड के पास खड़ा हुआ था और दूसरा लेट कर उसके लंड को चूस रहा था। लेटे हुए लड़के का लंड भी खड़ा हुआ था जिसे लड़की अपने मुंह में लेकर चूस रही थी और एक हाथ से अपनी चूत में उंगली कर रही थी।

मेरा जोश भी बढ़ता जा रहा था और मैंने पूरी लोअर निकाल कर अलग कर दी और अंडरवियर के अंदर ही हाथ डालकर लंड को ज़ोर-ज़ोर से रगड़ने लगा। अब क्सक्सक्स वीडियो में खड़ा हुआ लड़का बेड पर आकर लेट गया। अपने लंड को अपने हाथ में हिलाते हुए उसने दूसरे लड़के को अपने लंड पर बैठने का इशारा किया। लड़का धीरे-धीरे लेटे हुए लड़के के लंड पर बैठते हुए उसके लंड को अपनी गांड में उतरवाने लगा, और लड़की ने सामने से बैठने वाले लड़के के लंड को चूसना जारी रखा।

जब पूरा लंड उस लड़के की गांड में उतर गया तो लेटे हुए लड़के ने दूसरे लड़के को अपनी छाती की तरफ खींचा जिससे बैठा हुआ लड़का भी लेटने की पोजिशन में आ गया। अब लड़की ने अपनी गांड ऊपर वाले लड़के की तरफ घुमाई और अपने हाथ में उसके खड़े लंड को पकड़ कर अपनी चूत के मुंह पर लगाती हुई उसके लंड पर दबाव बनाती हुई बैठ गई।
ऊपर वाले लड़के का लंड लड़की चूत में चढ़ गया और तीनों एक-दूसरे के साथ रिदम बनाते हुए हल्के-हल्के उछलने लगे।

यह क्सक्सक्स सीन देख कर मेरे लंड ने भी अपना कंट्रोल खो दिया और मेरे अंडरवियर में ही वीर्य की पिचकारी मार दी।
4-5 पिचकारियों के बाद मैंने फोन को एक तरफ डाल दिया और आंख बंद करके लेट गया; मुझे कब नींद आ गई, कुछ पता नहीं चला।

सुबह 5 बजे आस पास के घरों से आ रहे हल्के शोर ने मेरी नींद खोल दी। मैंने फोन में टाइम देखा और पास में पड़ी लोअर को पहन कर फ्रेश होने चला गया। वापस आकर फोन में मैसेज चेक किए, रात के 12-1 बजे तक आए मैसेज में दोस्तों ने गालियों से मेरा चैट बॉक्स भर दिया था।

मैं नीचे गया तो पापा बाहर सैर के लिए गए हुए थे और छोटा भाई टिंकू जिम चला गया था।
मुझे देखकर मां ने कहा- संदीप, 10 बजे तक लड़की वाले पहुंच जाएंगे। तू फटा-फट नहा धो ले, फिर बाज़ार से कुछ चाय-पानी का सामान भी लेकर आना है।
“और टिंकू को भी फोन कर के बुला ले, जिम की सारी मशीनें आज ही तोड़नी हैं उसे भी।”

मैंने कहा- ठीक है मां!
कह कर मैं बाहर घूमने चला गया, दोस्तों के साथ कुछ देर तक गप्पे मारने के बाद मेरा मूड भी फ्रेश हो गया था।

वापस घर लौटा तो मां मुझ पर बरस पड़ी- तेरा अभी तक सैर सपाटा ही खत्म नहीं हुआ है। सुबह से कह रही हूं कि नहा-धोकर तैयार हो जा, लड़की वाले आते ही होंगे।
“मां, अभी तो 8 ही बजे हैं.”
“तो क्या उनके सामने ही नहाएगा? नालायक, क्यों मेरा खून फूंक रहा है। जा जल्दी से तैयार होकर बाज़ार जा और सामान लेकर आ!”

अब मां का गुस्सा देखकर मैं भी थोड़ा डर गया और जल्दी से नहाकर वापस नीचे आ गया।
मां ने कागज़ का एक टुकड़ा हाथ में देते हुए कहा- ये सामान लेकर फटा-फट आ, आधे घंटे में तो स्नान पूरा हुआ है साहबज़ादे का…
“ठीक है मां, जाता हूं!”

मैंने गाड़ी निकाली और आधे घंटे में बाज़़ार से सामान लेकर आ गया। वापस आने तक सुबह के 9.30 बज चुके थे। मां को सामान देकर मैं ऊपर कपड़े बदलने के लिए चला गया। नीचे रसोई में नाश्ते की तैयारी होने लगी और लगभग 10.30 बजे के करीब टिंकू मुझे बुलाने ऊपर वाले कमरे में आया।

“संदीप, तुझे मां नीचे बुला रही है, लड़के वाले पहुंचने ही वाले हैं, जल्दी आ जा।”
“ठीक है आता हूं, तू चल।”

नीचे जाकर मैंने नाश्ते की तैयारी करवाई ही थी कि लड़की वाले आ पहुंचे। पापा ने जाकर उनको अपने कमरे में बैठा लिया। टिंकू ने फटाफट पानी के ग्लास वाली ट्रे बैठक वाले कमरे में पहुंचा दी और चाय की तैयारी होने लगी।
मैं भी थोड़ा नर्वस हो रहा था… बड़ा ही अजीब झमेला होता है ये शादी का।

माँ चाय लेकर बैठक वाले कमरे में चली गई और टिंकू पीछे पीछे नमकीन और मिठाई की प्लेट लेकर चल पड़ा।
10-15 मिनट बाद माँ वापस आई और मुझे बैठक वाले कमरे में जाने के लिए कहा।

मैं घबराता हुआ सा कमरे की तरफ बढ़ा लेकिन कॉन्फीडेंट होने की पूरी कोशिश कर रहा था। अंदर जाकर मैंने सबको नमस्ते की, वो चार लोग थे जिनमें से एक मेरी उम्र का लग रहा था। उसने मुझसे हाथ मिलाया और मैं जाकर सोफे पर बैठ गया।

धीरे धीरे बातें होने लगीं… मेरी उम्र, एजुकेशन और फ्यूचर प्लान्स का इंटरव्यू होने के बाद पापा ने मुझे कहा कि मैं लड़की के भाई को अपना पूरा घर दिखा दूं।
इस बहाने हम दोनों के बीच में कुछ और खुलकर बात भी हो जाएगी।

मैंने लड़की के भाई को घर देखने के लिए इन्वाइट किया और हम कमरे से बाहर आ गए।
एक एक करके मैंने अपने नीचे वाले फ्लोर को रुम्स दिखाए और फिर हम सीढ़ियों में ऊपर चढ़ते हुए ऊपर वाले फ्लोर की तरफ बढ़ने लगे। उसने अपना नाम प्रियांशु बताया।

बातें करते हुए वो बार बार मेरे हाथ को पकड़ने की कोशिश कर रहा था। मैंने इस बात पर अभी तक कुछ ख़ास ध्यान नहीं दिया था। ऊपर वाले फ्लोर पर पहुंच कर मैंने टिंकू का कमरा दिखाया और फिर हम मेरे वाले कमरे में आ गए।
उसने कहा- कुछ देर यहीं बैठ कर बात करते हैं।

हम दोनों बेड पर बैठ गए। वो मुझसे मेरी च्वॉइस के बारे में पूछने लगा कि मुझे किस तरह की लड़की पसंद है। मैं भी उसके सवालों का गोल मोल जवाब देता रहा। बीच बीच में वो मेरी बातों पर हंसते हुए मेरी जांघ पर हाथ फेरने की कई बार कोशिश कर चुका था।

अब मुझे भी उसकी हरकतों का कुछ कुछ अंदाज़ा होने लगा था लेकिन अभी मैं किसी नतीज़े पर नहीं पहुंचा था।

फिर उसने अपना फोन निकाला और खुद ही अपनी बहन की फोटो निकाल कर मेरी आंखों के सामने कर दी।
मैंने ना चाहते हुए भी उसकी बहन की फोटो को देखा जो काफी सुंदर थी। जब उसने देखा कि मैं उसकी बहन की फोटो को ध्यान से देख रहा हूं तो उसने अचानक से फोन नीचे रखा और कहा-
“मुझे वॉशरूम जाना है!”

मैंने कहा- बाहर कमरे के साथ में ही वॉशरूम है!
वो उठ कर चला गया और फोन को वहीं बेड पर छोड़ गया।

मैं एक-दो मिनट तक उसका इंतज़ार किया लेकिन जब वो नहीं आया तो मैंने धीरे से उसके फोन को उठाया और उसकी बहन की फोटो को ध्यान से देखने लगा। उसकी बहन की टी-शर्ट वाली फोटो में उसके चूचे काफी मोटे लग रहे थे जिन्हें देख कर मेरे मन में ख़य़ाली पुलाव पकने लगे और लंड ने गर्म होना शरु कर दिया।

मैं फोटो पर फोटो पलट कर देखने लगा और मेरा लंड पैंट में तन गया, मैंने दरवाज़े की तरफ देखा और लंड को अपनी फॉर्मल ग्रे पैंट के ऊपर से ही सहलाने लगा। उसकी बहन की फोटो देखते देखते मेरी उत्तेजना बढ़ने लगी और लंड पूरा तन कर पैंट में झटके मारने लगा; मन कर रहा था कि अभी मुट्ठ मार लूं लेकिन साथ ही डर भी था कि कहीं उसका भाई एकदम से ना आ जाए। इसलिए मैं पैंट के ऊपर से ही लंड को सहला रहा था।

अब मेरा ध्यान दरवाज़े की तरफ न जाकर उसकी बहन की फोटो में ही गड़ गया था। मैं नीचे पैर लटकाए हुए ही बे़ड पर पीछे की तरफ लेट कर फोन में फोटो देखते हुए अपने लंड को सहलाने लगा।
लेकिन पता नहीं कब मेरे हाथ पर एक और हाथ आकर टिक गया, मैं एकदम से उठा और इससे पहले की कुछ बोलता या करता, लड़की के भाई ने मेरा हाथ मेरे लंड से हटाया और अपने हाथ से मेरे तने हुए लंड को सहलाने लगा।

मैं अभी हैरान ही था कि उसने मुझे वापस बेड पर पीछे की तरफ धकेला और पैंट के ऊपर से मेरे लंड को चूमने चाटने लगा। अब मैं शुरु से लेकर आखिर तक उसकी हर हरकत का मतलब समझ गया था।
अगले ही पल उसने मेरी पैंट का हुक खोल लिया और चेन को खोल कर फ्रेंची में तने मेरे लौड़े को मसलने लगा। मुझे भी मज़ा आने लगा और उसने मेरी पैंट को नीचे सरकाने का इशारा करते हुए अंडरवियर समेत उसे मेरी जांघों तक मुझे नीचे से नंगा करवा लिया।

मेरा खड़ा लंड उसने हाथ में लिया और उसकी टोपी को खोलकर अपने होंठ मेरे लंड पर रख दिए। मुझे असीम आनंद की अनुभूति हो रही थी। बड़े ही चाव से वो मेरे लौड़े को चूस रहा था। बहुत दिनों बाद किसी लौंडे के मुंह में लंड देकर चुसवाने का आनंद लेने में मैं भी डूब गया।

उसकी चुसाई इतनी मस्त थी कि 3-4 मिनट में ही मैं अपने काबू से बाहर हो गया और कड़क हो चुके अपने लंड को उसके मुंह में गांड उठा उठा कर पेलने लगा। मैंने उसके बालों को पकड़ा और अगले 1 मिनट के अंदर ही मेरे लंड ने प्रियांशु के मुंह को वीर्य से भर दिया जिसे वो अंदर ही निगल गया।

मेरे लंड को चाटने के बाद हम दोनों एक दूसरे को देखकर मुस्कुराए और मैंने उठकर पैंट पहन ली। इतने में ही माँ ने ऩीचे से आवाज़ लगाई और हम उठ कर सीढ़ियों से नीचे उतरते हुए बैठक वाले कमरे में चले गए।
जाकर हम कमरे में बैठ गए।

लड़की के पिता ने मेरे पापा से चलने की इज़ाजत मांगी और सारे लोग उठकर बाहर मेन गेट की तरफ बढ़ चले। बाहर निकलते हुए प्रियांशु ने मुझे अपना फोन नम्बर दिया और मु्स्कुराता हुआ बाकी लोगों के पीछे चल दिया।
चलते हुए वो अपनी गांड को मटका रहा था। मैं समझ गया था कि यह गांडू है।

मेरी गंदी कहानी अगले भाग में जारी रहेगी।
[email protected]

कहानी का अगला भाग: होने वाली बीवी का गांडू भाई-1