गांव वाली साली की सहेली को चोदा-1

(Gaon Vali Sali Ki Saheli Ko Choda- Part 1)

दोस्तो, पिछली मस्तराम कहानी
गांव की रिश्ते की साली को चोदा
में मैंने आपको अपनी 100% सच्ची कहानी सुनाई कि किस तरह से मैंने अपनी गांव के रिश्ते की साली नीरू की पहली बार चुदाई की और अपनी पत्नी के सहयोग से किस तरह उसकी सील को तोड़ने में कामयाब रहा. उसमें कुछ भी झूठ नहीं था.
उसके बाद मैं नीरू और मेरी पत्नी तीनों के बीच यह दिनचर्या बन चुकी थी हम तीनों मिलकर मज़े लेने लगे थे.

कुछ समय बाद हम तीनों आपस में लगातार चुदाई करते हुए कुछ नयापन ढूंढने लगे तो एक दिन मेरी पत्नी ने नीरू से कहा- नीरु, अब पहला वाला मजा नहीं रहा अपने तीनों एक दूसरे से कई महीनों से मजे ले रहे हैं कुछ नया करो!
नीरू ने पूछा- जीजी नया क्या … खुल कर बताओ ना?
मेरी पत्नी ने बोला- तेरी कई सारी सहेलियां गांव में है उनमें कोई ऐसी लड़की हो जो अपनी मर्जी से चुदना चाह रही हो, उसे ले आ … तो बहुत मजा आएगा.
नीरू तुरंत बोली- जीजी … है ना मेरी सहेली पायल … वह मुझसे स्कूल जाते वक्त सेक्सी बातें करती रहती है.

दोस्तो, मैं आपको बता दूं कि पायल भी हमारे गांव की लड़की है और उसकी उम्र उस वक्त 18 साल की थी.

नीरू ने हमें बताया कि पायल को यह शक भी है कि मैं जीजू से चुदवा रही हूं. वह कभी-कभी बातों बातों में जीजू की तारीफ भी करती है.
तभी मेरी पत्नी ने कहा- अरे फिर देर किस बात की है? वह तो बहुत सुंदर मस्त लड़की है, उसको लेकर आना!
नीरू ने कहा- ठीक है जीजी, मैं उसको कल ही अपने साथ लेकर आती हूं.

ठीक अपने वादे के मुताबिक नीरू पायल को अगले दिन शाम को हमारे घर पर लेकर आ गई. उस वक्त हम खाना खाकर टीवी देख रहे थे और हमारा बेटा दूसरे कमरे में सो चुका था.

हमने बातें शुरू कर दी, हंसी मजाक शुरू हो चुकी थी, मेरी पत्नी मेरे पास बैठी थी बातों बातों में फिर खुलकर बातें होने लगी. मैं उठकर बाहर चला गया. अब कमरे में नीरू, पायल और मेरी पत्नी थी, तीनों की आपस में सेक्सी बातें शुरू हो गई,

कुछ समय बाद जब मैं कमरे में आया तो नीरू पायल से पूछ रही थी- पायल, सच बताना … अभी तक तूने किसी को दी है या नहीं?
मुझे देख कर वह हड़बड़ा गई और नीरू से बोली- तू किस तरह की गंदी बातें कर रही है?
तभी मेरी पत्नी ने मोर्चा संभालते हुए कहा- अरे पायल, इसमें गलत क्या है? यह पूछ रही है तो तू शर्मा क्यों रही है?
वह इस बात को सुनकर कुछ सामान्य हुई.

तभी नीरू ने उसको साफ साफ कह दिया- देख पायल, मैं तेरी सहेली हूं, तू मुझ पर विश्वास कर … अगर तू किसी से कुछ ना कहे तो मैं तुझे बहुत मजे दिलवा सकती हूं. देख ले … अब सोच ना तुझको है!
पायल ने पूछा- किस तरह के मजे?
नीलू बोली- मजे एक तरह के होते हैं लड़कियों के लिए इस उम्र में! तू समझ कर रही है कि मैं क्या कह रही हूं.
तभी पायल ने कहा- मुझे कुछ टाइम दो, मैं सोच कर बताती हूं!

और उसके बाद वे दोनों सहेलियां हमारे घर से चली गई.

उनके जाने के बाद अगले दिन नीरू का फोन मुझे पास आया, उसने कहा- जीजू, मेरी बात पायल से हो गई है, वह तैयार है लेकिन शर्मा बहुत रही है, बोल रही है कि मैं उनकी पत्नी के सामने कैसे करवा पाऊंगी. आप जीजी से बोल दो कि जीजी हमारे साथ कमरे में ना रहे. पहले अपन दोनों ही उसको तैयार करेंगे, जब वह तैयार हो जाएगी, तब हम जीजी को कमरे में बुला लेंगे. फिर वह चाहकर भी मना नहीं कर पाएगी.
मैंने कहा- ठीक है, मेरी पत्नी को क्या प्रॉब्लम!

उसके 3 दिन बाद नीरू पायल को लेकर दोपहर के समय हमारे घर पर आ गई. उस समय बेटा भी घर पर नहीं था. वह दोनों सीधे मेरे बेडरूम में पहुंच गई और नीरू ने मुझको अंदर बुलवा लिया. मेरी पत्नी उस टाइम बाहर हॉल में बैठी हुई थी, मैंने उसको वहीं बैठे रहने का इशारा किया और मैं अंदर चला गया.

नीरू ने मुझसे कहा- देखो जीजू, यह अभी बहुत घबरा रही है लेकिन यह मजे लेना चाहती है. आप उसको बहुत प्यार से करोगे. यह मेरी सहेली जो है.
मैंने कहा- ठीक है यार, मुझको बतलाओ क्या करना है?
तभी नीरू ने कहा- आप तो बहुत सीधे बन रहे हैं. इधर आओ!

मैं उसके पास गया तो नीरू ने झट से मेरा लोवर नीचे खींच दिया. मेरा लंड पहले से ही पायल के बारे में सोच कर खड़ा हो चुका था. मेरा लंड 7 इंच का है.
पायल नीरू की इस हरकत को तिरछी निगाह से देख रही थी. नीरू ने अंडरवियर के ऊपर से ही मेरे लंड को सहलाया और पायल को दिखाते हुए बोली- देख पायल, मस्त है ना! अभी तुझे इसके दर्शन करवाती हूं.

मैंने नीरू को बोला- अरे नीरू, यह क्या कर रही है?
नीरू बोली- जीजू आप घबराओ मत, कल रात मैंने इसको ब्लू फिल्म दिखाई थी मोबाइल पर! उसको देखकर यह सब कुछ सीख गई है.
और यह कहते ही उसने मेरा अंडरवीयर निकाल दिया.

अब मैं नंगा हो चुका था और मेरा 7 इंच का लंड पूरा तन तना कर खड़ा हुआ था. पायल मेरे लंबे लंड देखे जा रही थी.

तभी नीरू ने मेरा टी शर्ट और बनियान भी उतार कर मुझको बिल्कुल नंगा कर दिया और मेरा लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी और एक मिनट बाद ही मेरा लंड अपने मुंह से निकाल कर पायल से बोली- इसको चूसने में कितना मजा है! इतना मजा किसी चीज में नहीं!

और फिर नीरू ने 4-5 मिनट मेरे लंड को चूसा, फिर लंड मुंह से निकाला कुछ दूरी पर बैठी पायल को मेरे पास बुला लिया. और नीरू अपने सारे कपड़े उतार कर नंगी हो गई, पायल भी मेरे पास बैठी हुई थी लेकिन वह बहुत शर्मा रही थी.

तभी नीरू बेड पर लेट गई और लेट कर अपनी टांगें चौड़ी कर अपनी चूत को उंगली से फैलाकर पायल को दिखाती हुई बोली- देख यार, मेरी चूत 3 महीने पहले तक बिल्कुल बंद थी. देख अब कितनी बड़ी हो चुकी है जीजू का लंड खा खाकर! जब तेरी चूत जीजू का लंड खाएगी तो वह भी इतनी ही सुंदर मोटी उभारदार हो जाएगी. देख ना मेरी चूत को!
इस तरह से नीरू ने पायल से कहना शुरू किया. पायल नीरू की चूत को बड़े गौर से देख रही थी.

नीरू बोली- देख अभी तुझे दिखाती हूं पायल … कि चूत में लंड किस तरह घुसता है.
और यह कहकर उसने मुझसे कहा- जीजू आओ ना … पायल को दिखाओ कि चूत में लंड किस तरह घुसता है. यह अभी देखेगी तो इसको मजा आएगा. इसने मुझसे वादा किया है किसी को नहीं बताएगी. आओ ना जीजू!

मैंने देर ना करते हुए नीरू की जंघाओं को चौड़ा कर उसकी चूत के छेद पर अपने लंड को सेट किया तो नीरू बोली- अभी लंड नहीं डालना है.
उसने पायल को अपने पास बुलाया और उससे कहा- देख पायल मेरी चूत में जीजू का लंड कैसे जाएगा!
पायल का पूरा ध्यान नीरू की चूत और मेरे लंड पर ही था.

मैंने उसकी चूत को थूक से गीला करके लंड छेद पर टिका एक धक्का लगाया, मेरा आधा लंड नीरू की चूत में घुस गया. फिर थोड़ा लंड बाहर खींच मैंने दोबारा धक्का लगाया तो मेरा पूरा लंड नीरू की चूत में समा चुका था.
मेरा पूरा लंड नीरू की चूत में जाता हुआ देख पायल मस्त हो गई थी, उसकी आँखें नीरू की चूत पर टिकी हुई थी. मैंने 10-15 धक्के ही नीरू की चूत में लगाए होंगे कि नीरू ने मेरा लंड चूत से बाहर निकाल दिया और लंड मुंह में लेकर चूसने लगी.

नीरू पायल की गतिविधियां देख रही थी, उसने पायल से पूछा- यह जो कुछ हो रहा है, किसी से कहेगी तो नहीं?
पायल ने कहा- नहीं, तू मेरी सहेली है, मैं ऐसी बातें कैसे कह सकती हूं.
मैंने पायल से कहा- पायल, तुझे कैसा लग रहा है?

पायल ने गर्दन हिला कर अपनी हामी भरते हुए कहा- हां जीजू, मुझे ये देख कर मजा आ रहा है.
तभी नीरू ने पायल की सलवार में हाथ डाल दिया और उसकी चूत में उंगली डाल कर बाहर निकाल कर मुझे दिखाते हुए बोली- अरे जीजू, देखो इसकी बुर पूरा पानी छोड़ चुकी है, यह तो पूरे मजे ले रही है.

नीरू ने पायल से कहा- पायल, अगर कोई परेशानी ना हो तो मैं जीजू से तेरे कपड़े उतरवाकर तुझे नंगी कर दूं?
पायल मना ना कर सकी, उसने हामी भर दी.

तभी मैंने नीरू के कपड़े उतारने शुरू कर दिए, पहले उसका कमीज उतारा, वह कमीज के नीचे नई ब्रा पहन कर आई थी.
नीरू ने कहा- जीजू, अभी इसकी ब्रा नहीं उतारो, पहले इसकी सलवार निकालो!
मैंने उसकी सलवार को भी निकाल दिया. नीचे नई पैंटी पहनी हुई थी.
नीरू ने मुझको बताया- मैं कल बाजार से इसके लिए नई ब्रा और पेंटी लाई थी, बतलाओ कैसी लग रही है?
मैंने कहा- अरे बहुत मस्त लग रही है!

दोस्तो, सही बतलाऊं तो पायल बला की खूबसूरत लग रही थी … वह इस समय केवल ब्रा और पेंटी में ही थी. गोरा चिट्टा बदन 18 साल की उम्र बूब्स आधे भरे हुए गोल गोल … मैं बयां नहीं कर सकता कि देखकर कितना मजा आ रहा था. सफेद चिट्टी गोरी टांगें देख कर मजा आ रहा था.

मुझसे सब्र नहीं हो रहा था, मैंने नीरू से कहा- यार इसकी ब्रा पेंटी भी निकालो ना ताकि मैं इसकी छोटी सी बंद बुर का दीदार कर सकूं और उसको जीभ से चाट सकूं!
नीरू ने कहा- जीजू सब्र रखो, सब्र का फल मीठा होता है. पहले इसको तैयार हो जाने दो. जब तक पायल अपने मुंह से नहीं बोलेगी कि मेरी चूत में लंड ठोक दो, तब तक मैं आपका लंड इसकी चूत में जाने नहीं दूंगी, इसने आपको तड़पाया है अब इसको भी तो तड़प होनी चाहिए आपके लंड लेने से पहले!

नीरू ने मुझे इशारा किया कि इसको प्यार तो करो!
तो मैंने उसके चेहरे को हाथ में लेकर होठों पर चुम्बन किया और उसके गालों पर किस करना शुरू कर दिया. फिर उसके कंधों को चूमता हुआ उसके पेट तक आया मेरे हर किस पर पायल तड़प रही थी. अब नीरू ने पायल के पीछे आकर उसकी ब्रा के हुक को खोल दिया, उसके बूब्स बिल्कुल नंगे थे.

पायल के छोटे बूब्स देखकर मेरी हालत खराब हो रही थी, गोल सुडौल तने हुए उरोज मेरी मुट्ठी में समा रहे थे, मैंने तुरंत उनको हाथ में लिया और निप्पल को मुंह में लिया. पायल की निप्पल पर होंठ लगाते ही पायल लंबी सिसकारी लेकर तड़प उठी.

कुंवारी बुर चोदन की मस्तराम कहानी जारी रहेगी.
[email protected]

कहानी का अगला भाग: गांव वाली साली की सहेली को चोदा-2

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top