प्यारी सी चुम्मी मुलायम कोमल चूत पर-1

(Pyari Si Chummi Mulayam Komal Choot par- Part 1)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

मेरा नाम अलीशा (बदला हुआ नाम) है। मैं लखनऊ की रहने वाली हूँ। मैं पिछले 3-4 सालों से अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज को पढ़ रही हूँ। मैं जो कहानी लिखने जा रही हूँ.. इसमें बहुत सी बातें हैं.. इसलिए मैं कुछ बातों को हटा कर बाकी की कहानी लिख रही हूँ.. जिससे आप लोग बोर न हो जाएं।

ये मेरी पहली हिन्दी सेक्स स्टोरी है और सच्ची है.. जिससे मेरी पूरी ज़िन्दगी बदल सी गई।

बात उस समय की है.. जब मैं 12 वीं क्लास में थी। मेरा फिगर 32-28-32 का है.. जो कि मेरे टाइप की लड़की पर बहुत फिट बैठता था। मैं एक सरकारी स्कूल में पढ़ती थी। मेरा स्कूल सरकारी होने की वजह से मेरी अच्छी पढ़ाई नहीं हो पाती थी.. ये आप सबको पता होगा।

मैंने अपने अब्बू से कहकर कोचिंग लगवा ली। लखनऊ के बाहरी इलाके में घर होने की वजह से मुझे कोचिंग के लिए थोड़ी दूर जाना पड़ता था।
कोचिंग का पहला दिन था.. मेरी 3 सहेलियों को छोड़कर बाकी सब नए थे।

पहले दिन जब मैं क्लास में पहुँची.. तो सभी से मेरा इंट्रोडक्शन हुआ। उसके बाद क्लास शुरू हुई और इसके बाद तो कई लोगों ने मुझसे बात की और फ्रेंडशिप भी की। उसमें से एक लड़का था.. जो बहुत ही अच्छा दिखने में था.. तथा उस पर मेरी नजर भी जाकर रुक गई थी।

पहले दिन तो ज्यादा किसी से कुछ बात नहीं हो पाई। कुछ हफ़्तों के बाद सब आपस में घुल-मिल गए थे और सब एक-दूसरे को जानने लगे थे।

सहेली चूत चुदाई की बातें बताती थी

सिर्फ मुझे ही छोड़कर मेरी तीनों सहेलियों के बॉयफ्रेंड थे। मैं तब सेक्स से कुछ ज्यादा ही शर्माती थी। बाद में मेरी एक बेस्ट फ्रेंड है शालिनी.. जिससे मैं सब कुछ बताती थी और वो भी मुझसे हर बात बताती थी।
यहाँ तक कि अति गोपनीय बातें जैसे उसने कब सेक्स किया और कहाँ किया.. ये सब बातें वो मुझे बताती थी। तब से मैं भी सेक्स की बातों में कुछ ज्यादा ही इंटरेस्ट लेने लगी थी।

खैर.. कुछ दिन ऐसे ही बीतते गए और एक दिन शालिनी के ब्वॉयफ़्रेंड ने उसे बताया कि उसका दोस्त मुझसे दोस्ती करना चाहता है।
मैंने भी कह दिया- ठीक है कर लेती हूँ दोस्ती.. लेकिन सिर्फ दोस्ती तक ही बात रहेगी.. उससे आगे कुछ नहीं।

सब तय हो गया.. कोचिंग के बाद पार्क में मिलने का प्लान हुआ। जैसे ही मेरी नजर उसके दोस्त पर पड़ी.. मेरे दिल की धड़कन तो बहुत तेज चलने लगी। मेरी जुबान से कोई लफ्ज़ ही नहीं निकल रहे थे.. ये वही लड़का था.. जिसे मैंने पहले दिन ही क्लास में देखा था और मन ही मन उससे दोस्ती करने का सोची थी।

बातचीत शुरु हुई और उसने अपना नाम बताते हुए अपना हाथ आगे बढ़ाया- हैलो मेरा नाम शुभम है।
मैंने भी हाथ मिलाया और अपना नाम बताया।
कुछ देर इधर-उधर की बातों के बाद हम सब अपने-अपने घर चले गए।

मैं रात भर उसी के बारे सोचती रही और न जाने कब नींद आ गई। कुछ दिनों तक ऐसे ही चलता रहा और हम दोनों काफी मिल-जुल कर रहने लगे थे। उस समय मेरे पास मोबाइल न होने की वजह से जो बातें होती थीं.. वो कोचिंग में या तो कभी-कभी बंक मार के पार्क में होती थीं।

फिर एक दिन मेरा बर्थ-डे आया और मैंने अपने दोस्तों को पार्टी पर बुलाया.. जो एक रेस्टोरेंट में थी।
मैंने सेक्सी ब्लैक ड्रेस पहन रखी थी, आखिरकार मैं भी एक सेक्सी गोरी लड़की जो हूँ, मैं अपने आप पर बहुत ध्यान देती थी.. ताकि मेरा फिगर ख़राब न दिखे।

मेरे केक काटने के बाद सब मुझे गिफ्ट देने लगे.. आखिरी में शुभम आया और उसने कहा- आज तुम इस ब्लैक ड्रेस में बहुत खूबसूरत लग रही हो।
मेरे हाथ में गिफ्ट देते हुए बोला- इसे अकेले में खोलना।

पार्टी ख़त्म होने के बाद घर में मैंने अपना रूम बंद कर लिया.. जिससे कोई आ न पाए। फिर मैंने अपने कपड़े बदले और नाईट ड्रेस में बिस्तर पर बैठ कर शुभम का गिफ्ट खोलने लगी।

तभी मेरे दरवाजे को किसी ने खटखटाया.. मैं तुरंत गिफ्ट को किनारे रख कर दरवाजे को खोलने चली गई। जैसे ही दरवाजा खोला सामने मेरा भाई था और साथ में अम्मी और अब्बू भी थे। भाई के हाथ में एक छोटा सा पैकेट था।

मेरे हाथ में देते हुए कहा- लो आरू, अपने भाई की तरफ से गिफ्ट!

मुझे घर में सब यही बुलाते हैं और मेरा उप नाम भी यही है।

मैंने जैसे ही उसे खोला.. मैं खुशी से उछल पड़ी और भाई के गले लग गई उसमें एक सेलफोन था। पीछे से अब्बू ने कहा- आरू तेरे भाई ने ये अपनी पॉकेट मनी से लाया है।

मैं खुशी से पागल हो उठी थी।

भाई ने उस मोबाइल में नई सिम वगैरह सब डाल रखा था। थोड़ी देर बाद सब अपने-अपने कमरों में चले गए और मैं भी शुभम से लिया हुआ गिफ्ट खोलने लगी।

सबसे पहले उसमें से एक कार्ड निकला और साथ में एक लेटर नोट भी था। कार्ड को देखने के बाद मैंने जब नोट खोला.. तो वो एक लव लेटर था.. जिसकी कुछ लाइन में आपको पढ़ कर सुनाती हूँ।

‘आरू, मैंने जब से तुम्हें अपना दोस्त बनाया है.. तब से तुम मेरे लिए एक खास लड़की बन गई हो और मैं इस खास लड़की को अपनी गर्लफ्रेंड बनाना चाहता हूँ.. आई लव यू आरू..’

बस फिर क्या था.. जैसे मेरे बर्थ-डे पर मेरी किस्मत जाग उठी थी.. एक तरफ से फ़ोन और दूसरी तरफ से लव प्रपोज़ल!

उस लेटर में शुभम का नम्बर लिखा हुआ था। मुझे कॉल करते हुए बहुत घबराहट भी हो रही थी और उससे क्या बोलूंगी.. ये सब सोचकर मैंने उसे मैसेज से रिप्लाई करने का सोचा और लिख दिया।

‘आई लव यू टू..’ और नीचे लिख दिया- आरू

कुछ देर बाद उसने फ़ोन किया और हमारी बातें फ़ोन पर शुरू हो गईं। रोज रात हम दोनों 4-5 घंटे व्हाट्सअप पर बात किया करते थे और खूब रोमांस करते थे। मैं काफी खुली हुई लड़की नहीं थी.. तो शुरूआत वही करता था। अब हम काफी खुल गए थे.. तो किसिंग वगैरह सब आम बात हो गई थी।

पूरे नंगे बदन पर चुम्मियाँ

एक रात हम बात कर रहे थे.. तो उसने कहा- आरू मैं तुम्हें हर जगह किस करना चाहता हूँ।
मैंने कहा- रोका किसने है.. मैं तुम्हारी ही तो हूँ.. जहाँ करना है कर लो।
शुभम- एक प्यारी सी किस तुम्हारे प्यारे से गाल पे..
आरू- ह्म्म्म और..
शुभम- एक तुम्हारे प्यारे-प्यारे होंठों पर.. गुलाबी रसीले होंठों पर..
आरू- और..
शुभम- एक तुम्हारी प्यारी सी चिकनी सी गर्दन पर..

अब मैं थोड़ी-थोड़ी गर्म होने लगी थी। वो सब जैसे लग रहा था.. चैट पर नहीं.. वो मुझे रियल में कर रहा हो।
शुभम- एक प्यारी सी किस तुम्हारे प्यारे प्यारे बूब्स पर.. एक प्यारी सी किस तुम्हारी कमर पे.. एक प्यारी सी किस तुम्हारी मुलायम सी कोमल सी चूत पर..

‘चूत’ शब्द सुनते ही मेरी आग और ज्यादा बढ़ गई.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… जैसे उसने मेरी चूत पर अपने होंठ लगा दिए हों। मेरा हाथ अपने आप मेरी चूत पर चला गया और मैंने पाया कि मेरी चूत बहुत गर्म हो चुकी थी और उसमें से कुछ पानी सा निकल रहा था। मैंने पहले भी अपनी चूत छुई थी.. पर आज का ये एहसास कुछ अलग सा था।

मेरी चूत में उंगली

आज मैं जैसे सातवें आसमान पर थी। मुझे मेरी चूत सहलाने में बहुत अच्छा लग रहा था और एक हाथ से मैंने भी रिप्लाई करना शुरू कर दिया।
‘एक किस तुम्हारे प्यारे से होंठों पर.. एक किस तुम्हारी कमर पर.. एक किस तुम्हारे प्यारे से लॉलीपॉप पर’
(लंड मुझे कहना पहले अच्छा नहीं लगता था.. इसलिए मैं उसे लॉलीपॉप कहती थी..)

उसके भी मैसेज आते रहे और मैं भी खो सी गई थी। मैं कह रही थी- जानू मुझे तुम्हारे लॉलीपॉप को बहुत प्यार करना है.. उसे अपने होंठों से सहलाना है।
मैं पूरी खो सी गई थी।

अचानक चूत को सहलाते-सहलाते मेरा पूरा बदन जलने लगा और मेरे दोनों दूध एकदम से तन चुके थे। मेरी चूत में से पानी का सैलाब सा निकला और मेरी पूरी सलवार को भिगाते हुए मेरे बिस्तर को भी गीला कर दिया था। कुछ देर तक मैं होश में नहीं थी।

थोड़ी देर बाद जब मुझे होश आया। मैंने देखा कि सब गीला हो चुका है और मैं बहुत रिलैक्स फील कर रही थी। ये मेरा पहली बार था कि मेरी चूत ने पानी छोड़ा था।

उधर शुभम के कई मैसेज आ चुके थे मैंने फिर रिप्लाई किया और उसे बिना कुछ बताए ‘गुड नाईट’ बोल दिया।

फिर मैं कपड़े बदलने गई और सो गई। आज मुझे बहुत अच्छी नींद आई थी। सुबह एकदम अलग-अलग सा फील हो रहा था। ये सब मैंने शालिनी को बताया तो उसने कहा- होता है ये.. पहली बार ऐसा ही बहुत मजा आता है।

उसने ये भी बताया कि अगर तू ये सब चैट पर न करके उसके साथ करती.. तो तुझे और भी ज्यादा मजा आता।

मैं भी खो सी गई थी.. ये सब सोचने में कि काश ये सब जल्दी ही हो.. पर कहीं-कहीं डर भी लगता रहता था कि घर में पता चल गया तो क्या होगा।

मुझे शालिनी ने हिलाया और कहा- ओ मैडम.. कहाँ खो गई हो तुम.. चलो छुट्टी हो गई है स्कूल की.. कोचिंग में मिलते हैं।

मैं घर आई और कुछ देर बात यही सब सोचते-सोचते कोचिंग पहुँच गई। क्लास ख़त्म होने के बाद मैं और शुभम हाथ पकड़ कर चल रहे थे.. तो शुभम ने मुझे छेड़ते हुए कहा- आरू कल रात में तुम कहाँ खो गई थीं?

उसने मेरा हाथ दबाया.. मुझे भी एक करंट सा लगा और एक हँसी सी चेहरे पर आ गई। शायद वो समझ गया था कि मेरे साथ क्या हुआ था।
फिर उसने एक शरारत भरी आवाज में पूछा- आरू को लॉलीपॉप लेना है क्या?

मैंने भी उसका हाथ तेजी से पकड़ लिया था और मेरी साँसें बहुत तेज चलने लगी थीं।
उसने तुरंत कहा- यार तुम बड़ी हॉट हो तुमसे बातें करते-करते मेरा भी पानी निकल गया था।

मैंने भी एक स्माइल पास कर दी और अपना सर नीचे कर लिया था। बाइक स्टैंड से निकाली और हम दोनों शालिनी को ‘बाय’ कहते हुए चल दिए।

आज मैं कुछ ज्यादा ही शुभम से चिपक कर बैठी थी और मेरे दूध भी उसकी पीठ से सटे हुए थे।

उसने कहा- आरू मुझे तुम्हें बहुत करीब से प्यार करना है.. क्या तुम मेरा साथ दोगी?
आग तो मेरे अन्दर भी लगी हुई थी.. तो मैंने भी उसको कसके पकड़ते हुए उसे कहा- हाँ।
फिर उसने कल का प्लान बताया.. तो मैंने कहा- ठीक है.. स्कूल से बंक मार के मिलते हैं।

अगले दिन मैंने घर पर बोल दिया था कि मैं स्कूल से ही कोचिंग चली जाऊँगी। इससे किसी को शक भी नहीं हुआ और दूसरे दिन मैंने स्कूल के लिए तो निकली लेकिन शुभम के साथ हो ली।

साथ होने के बाद हम दोनों राहुल के घर पर गए जहाँ वो अकेला रहता था। राहुल शालिनी का बॉयफ्रेंड था। फिर राहुल ने शुभम की बाइक ली और घर की चाभी देकर चला गया।

हम दोनों अन्दर गए और शुभम ने दरवाजा अन्दर से बंद कर दिया। हम दोनों सोफे पर बैठे एक-दूसरे को देख रहे थे और स्माइल कर रहे थे।

बस यहाँ मेरी जवानी की प्यास बुझने का काम शुरू होने वाला था।

पूरा किस्सा आपको अगले पार्ट में लिखूंगी। अभी तो आप मुझे लिखिएगा कि मेरी कहानी कैसी लग रही है।
मुझे आपकी ईमेल का इन्तजार रहेगा।
[email protected]
कहानी जारी है।

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! प्यारी सी चुम्मी मुलायम कोमल चूत पर-1