वेलेंटाईन डे का तोहफा-1

प्रेषक : शशिकान्त वघेला

मेरा नाम रोहित है और मैं अन्तर्वासना का नियमित वाचक हूँ। मैं भी अपनी जिन्दगी की सबसे पहले सेक्स की कहानी सुनाना चाहता हूँ।

मैं अपने घर में सबसे छोटा हूँ, मेरी दो बहनें हैं जो मुझसे बड़ी हैं। मम्मी-पापा तीनों भाई-बहन की शादी करना चाहते हैं पर उनमें से मेरी ही सगाई हो पाई है। जब मेरी सगाई तय हुई तो मुझे बहुत ख़ुशी हुई क्यूंकि मैं तब 24 साल का था तो मुझे भी किसी के प्यार की जरूरत थी। पहले तो ब्लू फिल्म देखकर फिर मुठ मार कर अपनी जवानी की प्यास बुझा लेता था पर जब सगाई तय हुई तो लगा कि अब हाथ से मुठ मार कर अपनी जवानी की ज्वाला शांत करने की जरुरत नहीं क्योंकि थोड़े दिनों में शादी हो जाएगी तो रोज बीवी की चुदाई करके अपने लण्ड की प्यास बुझाऊँगा पर मेरी तक़दीर ने मेरा साथ नहीं दिया क्योंकि शादी की तारीख एक साल बाद की तय हुई।

मैंने अपने मन को समझाया और उस पल की राह देखने लगा कि कब शादी हो और कब में किसी को चोद सकूँ। नई-नई सगाई होने के कारण मेरा ससुराल में आना-जाना था, हम रोज फ़ोन पर भी बातें करते घण्टों तक !

एक दिन मेरी मंगेतर ने मुझसे बातें करते-करते पूछा- कोई है तो नहीं पास में?

शायद वो मुझसे कुछ निजी बात करना चाहती थी।

बातों ही बातों में उसने मुझे प्यार और रोमांस की बातें करने को बोला क्योंकि मैं जब उसको फ़ोन करता तो उससे पूछता कि क्या बात करूँ?

तो उसने मुझे उस दिन प्यार की बात करने को बोला।

मैं भी ऐसे मौके की तलाश में था, पर डरता था। मैं तो सामान्य बात कर रहा था पर वो मुझसे बोली- रात को जो प्यार होता है उसकी बात करो।

मैं समझ गया कि वो क्या कहना चाहती है पर मैं भी थोड़ा अनजान बनने की कोशिश कर रहा था क्योंकि मैं जानना चाहता था कि उसे सेक्स के बारे में जानकारी है या नहीं।

उसने पूछा- जब मैं अपने घर यानि ससुराल आऊँगी तब रोज रात को तुम मेरे साथ क्या करोगे?

तो मैंने बताया- हम एक कमरे में अकेले बातें करेंगे और साथ में सो जायेंगे।

तो वह बोली- बस इतना ही करोगे?

तो मैंने कहा- हाँ !

फिर मैंने शुभ रात्रि कह कर फ़ोन काट दिया। मैं मन ही मन बहुत खुश हो रहा था कि अब मेरे लण्ड को चूत का स्वाद चखने को मिलने वाला था।

मैंने उसे दोबारा फ़ोन लगाया और उससे पूछा- इसके अलावा रात को प्यार कैसे करते हैं?

तो वो कहने लगी- तुम्हें तो मालूम ही नहीं !

वो थोड़ा रूठ गई !

फिर मौका भी अच्छा था, मैंने अपनी बातें उसे कहनी शुरु की, सबसे पहले मैंने उसे यौन पूर्व क्रीड़ा के बारे में बताया कि शुरु कैसे होता है। मैंने उसे बताया- सबसे पहले मैं तुम्हारे सारे बदन पर चुम्बन करूँगा, तुम्हारे स्तन दबाऊँगा, तुम्हारी चूत में ऊँगली डाल कर तुम्हारी चूत का रस पियूँगा। फिर तुम्हारे मुँह में अपना सात इंच लम्बा लण्ड डालूँगा और तुम्हें चूसने को कहूँगा।

फिर वो बोली- और क्या करोगे?

फिर मैंने उसे सम्भोग के बारे में बताया- जब तुम्हारी चूत चुदने के लिए तैयार हो जाएगी तो मैं अपना पूरा लण्ड तुम्हारी चूत में डालकर तुम्हे चोदूँगा, इतना चोदूँगा तुम्हारी चूत को कि तुम्हारा पूरा रस मेरे लण्ड में समा जाये।

फिर हम अक्सर फ़ोन पर ही सेक्स की बातें करके अपनी इच्छा पूरी कर लेते। मगर मैं तो लड़का था, कब तक बातें करके काम चलाता, क्यूंकि जो फसल उगाई थी, वो तैयार थी, बस खाने की देरी थी। जनवरी का महीना था और ठण्ड भी पड़ रही थी। मैं उसकी चूत चोद कर अपने लण्ड को गर्मी देना चाहता था।

एक रात जब हम बात कर रहे थे तो मैंने उससे कहा- मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ !

तो वो बोली- शादी के बाद !

पर मैंने उसे समझाया- मैं जब तुम्हें पहली बार चोदूँगा तो तुम्हें बहुत दर्द होगा और तुम्हारी योनि में से खून भी बहुत निकलेगा और छोटे घर में जब तुम चिल्लाओगी और तुम्हें खून निकलेगा तो सब जाग जायेंगे और मैं नहीं चाहता कि यह सब हो !

फिर वो बोली- मैं सोच कर बताऊँगी।

जब मैंने अगले दिन फ़ोन किया तो वो कहने लगी- जान, मेरी भी इच्छा तो है पर मुझे जब तुम चोदोगे तो बहुत दर्द होगा, खून निकलेगा, मैं कैसे सहूँगी? घर में पता चल गता तो?

पर मैंने उसे समझाया कि कभी न कभी तो मैं तुम्हें चोदूँगा ही ! तो अभी क्यूँ नहीं? और हमारा घर छोटा है इसलिए में तुम्हें अभी बाहर लेजा कर चोदूँगा तो जब तुम चिल्लाओगी तो कोई समस्या न हो और खून निकलेगा तो भी कोई परेशानी न हो।

तो वो मान गई।

फिर फरवरी का महीना आया तो वैलेनटाईन डे भी आने वाला था, मैंने उसे कहा- मैं तुमसे तोहफ़े के तौर पर तुम्हें चोदना चाहता हूँ !

तो वो मान गई और मैं उस दिन की राह देखने लगा।

मैंने उसके लिए एक साड़ी और एक अच्छा सा उपहार ले लिया।

जब 14 फरवरी की सुबह हुई तो मैं बहुत खुश था क्योंकि उस दिन मेरे लण्ड को चूत चोदने को मिलने वाली थी। लण्ड भी अपने पूरे जोश में था।

जब मैं घर से निकला तो उसके लिए एक गुलाब का फूल और डेयरी मिल्क चॉकलेट ले गया।

जब मैं उसके घर पहुँचा तो वह तैयार ही थी। पर साड़ी जो मैंने ली थी वही उसे पहननी थी क्योंकि मैं उसे सुहागन के रूप में चोदना चाहता था।

उसने फटाफट साड़ी पहनी और हम वहाँ से निकल गए। वो साड़ी में बहुत खूबसूरत और सेक्सी लग रही थी। जी कर रहा था कि वहाँ ही उसे नंगी कर के चोद दूँ !

शेष कहानी अगले भाग में !

Leave a Reply