रिया की तड़प-2

प्रेषक : रोनी सलूजा

इतना बड़ा और खड़ा लंड देख मैं घबरा गई, लगभग छः इंच का होगा और फिर वह अपनी जीभ से मेरी चूत को सहलाने लगा।

मैं इतना उत्तेजित थी कि एक मिनट में ही झर गई।

होश आने पर अपना भविष्य दिखाई देने लगा, मैंने उसे रोका और कहा- बस संजय, इसके आगे नहीं, बाकी शादी के बाद करेंगे, अभी ये सब ठीक नहीं !

उसने करने की बहुत कोशिश की, बोला- मेरा लंड खड़ा है, सिर्फ एक बार ! फिर शादी के बाद ही करूँगा।

मैंने उसके लंड को पकड़कर अलग करने की कोशिश कर रही थी और वो अपनी इच्छा पूर्ति के प्रयास कर रहा था, मेरी टांगों को फैलाकर बार बार अन्दर डालने की कोशिश में था।

इसी छीना झपटी में वो…

स्खलित हो गया और उसका गर्म-गर्म वीर्य मेरी जांघ, चूत और पेट पर गिर गया।

अब वो शांत हो गया था और मुझसे अपने व्यवहार पर खेद प्रकट करने लगा, पछताने लगा।

थोड़ी देर बाद वो चला गया, मैंने सोचा- चलो दुर्घटना होते होते बच गई।

मैंने सोच लिया कि अब कभी ऐसा मौका नहीं आने दूँगी। यह कहानी आप अन्तर्वासना.कॉम पर पढ़ रहे हैं।

कुछ दिनों बाद फिर सामान्य मुलाकातें होने लगी। अब वह सेक्स के लिए चेष्टा नहीं करता था तो मेरा विश्वास फिर कायम हो गया उस पर ! खूब घूमने लगी उसके साथ, यहाँ तक कि पढ़ाई में भी मन नहीं लगता था।

रविवार की दोपहर एक दिन संजय बोला- घूमने चलते हैं।

मैं भी तैयार हो गई, रेस्टोरेंट में नाश्ता कॉफी पीने के बाद संजय संजय ने दवाई का बोल कर एक गोली खाई और मुझे लेकर सुनसान में जाने लगा।

मैंने पूछा- कहाँ जा रहे हो?

बोला- मेरे दोस्त के खेत पर !

थोड़ी देर में हम वहाँ पहुँच गए, सुनसान जगह पर खेत था, उसमें एक सुन्दर सा छोटा मकान भी बना था।

मैंने कहा- यहाँ क्यों आये हो?

बोला- थोड़ी देर घूमकर वापस चलते हैं।

वह चाबी लेकर आया था तो उसने मकान का ताला खोला, फिर मुझे लेकर अन्दर आ गया।

वहाँ एक पलंग, मेज व तीन कुर्सी रखी थी। मुझे बिठाकर दरवाजा बंद कर दिया। मेरे लाख मना करने पर भी मुझसे लिपट लिपट कर मुझे गर्म करने लगा, बोला- बस ऊपर ऊपर ही करेंगे !

वह मेरे संतरे जैसे चूचियों को मसलने लगा, निप्पल को चूसने लगा। अब मैं पिघलने लगी थी, धीरे धीरे उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए, अपने कपड़े भी उतार दिए।

संजय का तन्नाया लंड देखकर मैं सिहर गई लेकिन वासना की अंधी हो चुकी मैं विरोध करना ही भूल गई। उसने मेरी चूत पर अपने होंठ लगा कर चूमा किया, को छेद में रगड़ रहा था, जैसे ही मैं झरने को होने लगी, वो दूर हट गया।

अब मैं उसे अपनी ओर खींच रही थी।

तो बोला- तुम्हारी इच्छा हो तो कुछ करूँ मैं !

मैं तो होश में रही नहीं थी तो आँखें बंद कर ली, वह अपने लंड को पकड़कर मेरी गीली चूत पर फिराने लगा। मैं नीचे से अपने चूतड़ उठा रही थी, लंड को अन्दर लेने की लालसा पैदा हो गई थी। उसने मौका देख छेद पर लंड को सेट करके धीरे से धक्का लगाया, उसका सुपारा मेरी चूत के छेद में घुस गया, मेरा दर्द से बुरा हाल होने लगा।

संजय थोड़ा रूककर मेरी चूची पीने लगा, मैं जन्नत जैसा महसूस कर रही थी। फिर उसने मेरे को कसकर पकड़ लिया, फिर जोर का झटका लगाया और पूरा का पूरा लंड मेरी चूत में घुसा दिया।

मैं इतना जोर से चीखी कि संजय भी डर गया, मैं उसे धक्के दे रही थी पर इस बार वो पूरी तैयारी के साथ आया था, शायद उसने सेक्स बढ़ाने वाली गोली खाई थी रेस्टोरेंट में। वो बड़े ही इत्मीनान से अपना काम कर रहा था।

मेरे आँसू निकल आये पर सेक्स के आगे किसका बस चलता है। मैं थोड़ी सामान्य हुई तो उसने धक्के लगाना चालू कर दिए। शायद वह अनुभवी था, मुझे भी मजा आने लगा।

उसके द्वारा लगाये हर झटके के साथ मेरी आह निकल रही थी, दर्द और ख़ुशी का अहसास मुझे पागल किये जा रहा था। फिर मैं चरम पर पहुँच गई, झड़ने लगी तो मेरी तड़प बढ़ गई, चुतड़ों को जोर से उछालने लगी। संजय भी चरम पर पहुँच गया। मेरे तुरंत बाद ही वह भी मेरी चूत में ही झड़ गया।

मेरे अन्दर जो गरम लावा महसूस हुआ तो बड़ा ही सुखद लगा। कुछ मिनट ऐसे ही एक दूसरे को सहलाते रहे, फिर हम अलग हुए तो मेरी चूत से उसके वीर्य के साथ मेरा खून मिक्स हुआ बाहर टपकने लगा, चादर पर भी खून और वीर्य के दाग लग गए थे जिन्हें धो कर साफ कर दिया पर अपनी गलती का दाग तो धो भी नहीं सकते।

हमें अपनी गलती का अहसास हुआ तो मुझे रुलाई आने लगी।

संजय बोला- जानू तुम चिंता मत करो, मैं तुमसे शादी करूँगा, फिर क्यों टेंशन ले रही हो?

समझा बुझाकर संजय ने मुझे शांत किया, फिर हम कई बार बार मिले, खूब चुदाई करते। मुझे चस्का लग ही गया था, एक बार चुदाई का मजा लेकर फार्म हॉउस से बाहर आ गए, बाइक पर बैठ कर जैसे ही चलने को हुए तभी मेरे पड़ोस के अंकल वहाँ से गुजरे, मुझे देख लिया, कुछ बोलते उसके पहले ही संजय ने गाड़ी बढ़ा दी।

मेरा दिल घबरा रहा था कि अब जरुर कुछ गड़बड़ होने वाली है।

संजय ने मुझे घर के पास ही छोड़ दिया, घर जाकर मैं नहाई, फिर पढ़ने बैठ गई पर मेरा मन नहीं लग रहा था।

शाम सात बजे पड़ोस के अंकल की आवाज़ सुनाई दी। शायद उन्होंने हमारे मकान मालिक से सब कुछ कह दिया था। उन्होंने हमें बताये बगैर मेरे पिता जी को फोन पर सारी बात बता दी और संजय के घर में भी बता दिया।

सुबह पिताजी आ गए, उन्होंने संजय के पिता को इस बात की हिदायत दी कि तुम अपने बेटे को समझा देना कि कभी मेरी लड़की से मिलने की चेष्टा न करे !

और मुझे लेकर गांव चले गए, घर जाकर मेरी बहुत पिटाई की ! पिता जी का दिल टूट गया था, उन्होंने आनन-फानन मेरी शादी तय कर दी, कुछ दिनों बाद शादी करके मुझे विदा कर दिया।

मेरा पति फौज में नौकरी करता था, शादी से खुश था, सुहागरात को मुझे सारी रात सोने नहीं दिया, मेरा पति बांका जवान था, लंड भी काफी बड़ा था, मैं तो निहाल हो गई।

15 दिन बाद मेरे पति की छुट्टी समाप्त होने वाली थी, जब 4 दिन बाकी रह गए थे तब दोपहर में संजय का फोन आया।

मैं घबरा गई।

वो मुझसे मिलना चाहता था मगर मैंने फटकार लगा कर दोबारा फोन लगाने को मना कर दिया।

अगले दिन फिर फिर से संजय ने फोन किया, मैंने जोर से डपट दिया, उसने गुस्से से फोन बंद कर दिया।

शाम को पति घर आये तो मूड उखड़ा हुआ था, मुझसे कोई बात नहीं की, अपना सामान पैक करने लगे, घर पर पर बताया कि जरूरी काम है, और रात की गाड़ी से मुझ बिरहन को सेज पर तड़पता छोड़ चले गए।

मुझे शक हुआ कि शायद संजय ने कुछ बता तो नहीं दिया।

अगले दिन से घर के काम करते हुए समय काटने लगी, उस पर सास ननद की जली कटी बातें मेरा जीना हराम कर देती थी।

कुछ दिन बाद पिताजी आये तो मैं अपने मायके आ गई !

लंड की आदी हो चुकी मैं चैन से नहीं रह पाती, मेरे पति ने कभी फोन भी नहीं लगाया।

एक दिन संजय का फोन आया वो मिलना चाहता था तो मैं भी मिलने को तड़प उठी। फिर मौका देख मैं अपनी प्यास बुझाने लगी। ऐसे ही एक साल निकल गया। फिर जब मुझे पता चला कि संजय ने ही मेरे पति को हमारे बारे में बता दिया था तो हमारी दोस्ती फिर टूट गई। अब मैं कहीं की नहीं रही, न पति की, न ही प्रेमी की !

मैं क्या करूँ, समझ नहीं आता। आपके पास कोई सुझाव हो तो इस इमेल पर पोस्ट करें, मुझे प्राप्त हो जायेगा।

अपने विचार इस आईडी पर जरूर भेजें, सभी पाठकों का स्वागत है।

Download a PDF Copy of this Story रिया की तड़प-2

Leave a Reply