पड़ोस की कमसिन कुंवारी लौंडिया

(Pados Ki Kamsin Kunvari Laundiya)

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार. दोस्तो, मैं अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज का एक नियमित पाठक हूँ. अन्तर्वासना पर यह मेरी रियल सेक्स स्टोरी है.

कहानी शुरू करने से मैं पहले अपने बारे में बता देता हूँ. मेरा नाम काव्य चौधरी है. मैं मुरादाबाद के पास एक गाँव में उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ. यह कहानी मेरे पड़ोस में रहने वाली लड़की की चुत चुदाई की कहानी है.

हुआ यूं कि मैंने अपनी गर्लफ्रेंड का नम्बर मोबाइल में सेव कर रखा था. एक दिन किसी बात को लेकर मेरी गर्लफ्रेंड से लड़ाई हो गई. लड़ाई इतनी ज्यादा हो गई कि मैंने गुस्से में उसका नम्बर डिलीट कर दिया. लड़ाई के काफी दिन हो जाने के बाद मेरे व्हाट्सैप नम्बर पर किसी अनजान नम्बर से मैसेज आया.

मैंने जब पूछा कि आप कौन हो?
तो उधर से मैसेज आया- खुद ही पहचान लो.
मैंने अपने सब दोस्तों के नाम लिख कर पूछा. पर वो मना करती रही.

फिर मैंने मन में सोचा कि कभी ये मेरी गर्लफ्रेंड सोनम तो नहीं है. जब मैंने सोनम लिखा.
तो उसने बहुत देर के बाद मैसेज किया- हां, मैं सोनम ही हूँ.
मैंने फिर उसे अपनी गलती के लिए सॉरी बोला, तो उसने कहा- छोड़ो उस बात को.
मैंने भी स्माइली भेज कर बात खत्म कर दी.

अब फिर उसने मुझसे कहा कि मेरे इस व्हाट्सैप नम्बर पर कभी भी कॉल मत करना.
मैंने कहा- क्यों?
तो उसने कहा- ये नम्बर मेरी मम्मी के पास रहता है.
मैंने कह दिया- चलो कॉल नहीं करूँगा, लेकिन चैट तो कर सकते हैं न?
तो उसने मुझसे कहा- वो भी जब करना जब मैं शुरुआत करूँ.

मैंने मान लिया. इसके बाद मेरी रोज बातें होने लगीं. व्हाट्सैप पर ही सेक्स चैटिंग भी खूब होती थी.

मेरी जिस वजह से सोनम से लड़ाई हुई थी, वो बात मैं उससे चैटिंग पर पूछने लगा कि तुमने मेरे संग इतना बड़ा धोखा क्यों किया?
उसने कहा- क्या धोखा दिया मैंने?

फिर मैंने अपनी सब बातें उससे कही कि तुम सेक्स करते बीच में ही घर क्यों चली गई थीं.
इस पर वो चुप हो गई.

फिर मैंने सोचा कि कहीं ये फिर से गुस्सा ना हो जाए, तो मैंने उससे कहा कि यार मुझे तुम्हारी रात में बहुत याद आती है. और जब तुम्हारी याद आती है तो उस दिन की तुम्हारी ओर अपनी होटल वाली फोटो देख लेता हूँ.
उसने कहा- कौन सी फोटो?
मैंने कहा- जो तुमने ओर मैंने बिना कपड़ों की फोटो खींची थी, उन्हीं फोटोज को देखता रहता हूँ.
उसने कहा कि उन फोटो को जरा मेरे पास भी सेंड करो.
मैंने वो सारी फोटो उसे सेंड कर दिये.
सोनम ने फोटो देखीं और कहा- अब सो जाओ, कल बात करती हूँ.

फिर जब मैं सुबह को उठा तो मैं नहा धोकर घर के पास ही घूम रहा था.
तभी मेरे पड़ोस में रहने वाली भाभी की बेटी ने मुझे बुलाया. उसका नाम भी सोनम था. वो मेरे से 2 साल छोटी थी.
मैंने कहा- हां, बता क्या बात है?
तो वो कहने लगी- क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- कुछ नहीं सोनम, ऐसे ही बाहर खड़ा हूँ.
फिर वो हंसने लगी.

मैंने कहा- क्यों हंस रही है? क्या मिल गया तुझे?
उसने कहा- मिला तो कुछ नहीं.. बस ऐसे ही हंस रही हूँ.
मैंने कुछ नहीं कहा, बस उसके पागलपन को देखता रहा.

सोनम ने कहा- तुम्हारी गर्लफ्रेंड कैसी है?
मैंने कहा- मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.
तो सोनम बोली- झूठ मत बोलो.
मैंने कहा- सच्ची में मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.
तो उसने जोर देकर कहा- तुम्हारी गर्लफ्रेंड है.
मैंने कहा- नहीं है मेरी गर्लफ्रेंड..
तो फिर सोनम बोली- रुको.. मैं अभी आती हूँ.

सोनम अपने घर के अन्दर गई और अपना मोबाइल निकाल कर लाई और दूर से मुझे मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड की फोटो दिखाई, जो रात में मैंने सेंड की थी.
मैं एकदम से सोच में पड़ गया. फिर समझ आया. मैंने तुरंत उसी व्हाट्सैप नम्बर को कॉल किया, जिस पर मेरी बात होती थी.

तो वो तो इस सोनम का निकला.
मैं भाग कर उसका मोबाइल को लेने के लिए झपटा, तो उसने इतने मोबाइल का लॉक लगा दिया. मैंने उससे बहुत देर तक मिन्नत की, पर सोनम नहीं मानी.

मैंने उससे कहा- इतने दिन तक मैंने तुझसे अनजाने में बात की थी.. मुझे नहीं मालूम था कि वो तू है.
सोनम बोली- हां वो मैं ही थी.
मैंने कहा- तुझे जो भी कुछ चाहिए बता दे.. पर मेरे ये फोटो और मैसेज डिलीट कर दे.
उसने कहा- अभी मुझे कुछ नहीं चाहिए, पर हां जल्दी ही मैं तुमसे जो कुछ मांगूगी.. वो देना पड़ेगा और तभी मैं ये फोटो डिलीट करूँगी.
मैंने कहा- तुझे जो भी चाहिए, अभी ले ले.. पर ये फोटो अभी की अभी डिलीट कर दे.
उसने कहा कि कल जब मैं अपने कॉलेज जाऊंगी, तो तुम मेरे साथ बाइक लेकर चलोगे.

मुझे मज़बूरी में हां करनी पड़ी.

फिर मैं दिन भर यही सोचता रहा कि कैसे उसके मोबाइल से अपने फोटो डिलीट करूँ.
मैंने उसके छोटे भाई से सोनम का मोबाइल छिपा कर लाने के लिए बोला और उसको 10 रूपये भी दिए. मैंने उसके भाई से कहा कि अगर तू अगर मोबाइल छुपा कर लेके आएगा, तो तुझे 50 रूपए और दूंगा.

तो उसके चूतिया भाई ने जाकर सोनम को ही बता दिया कि मैंने मोबाइल लाने की लिए बोला है.

फिर सोनम का फ़ोन मेरे पास आया. उसने कहा- मेरे भाई से मेरे मोबाइल के लिए बोल रहे हो. उसने भी अपने भाई को 20 रूपये दिए और अपने भाई को मेरे 10 रूपये वापस करने के लिए भेजा है.

जैसे ही उसका भाई आया, मैंने गुस्से में उसके भाई से 10 रूपये लिए और अपने घर आ गया. मैं इसी टेंशन में रात भर सो भी नहीं पाया.
सुबह मेरे पास उसकी कॉल आई. उसने कहा- नहा धोकर जल्दी तैयार हो जाओ.. और बाइक लेकर मुझे गांव के बाहर चौराहे पर मिलना.

मैंने जल्दी से नहाया और नाश्ता किया, बाइक लेकर मम्मी से बोला कि मैं कुछ काम से मुरादाबाद जा रहा हूँ.
इतना सब कह कर मैं घर से निकल गया.

जब चौराहे पर पहुँचा तो सोनम खड़ी थी. मैं सोनम को लेकर उसके कॉलेज को चल दिया. आधे रास्ते निकल जाने के बाद सोनम ने बोला- पहले मेरी फ्रेंड के रूम पर चलो.
मैं उसकी बताई जगह पर पहुंच गया.
इसके बाद सोनम ने अपना बैग अपनी फ्रेंड के रूम पर रखा और फिर उसने अपने फ्रेंड के रूम की एक चाबी मुझे रखने को दी.
उसने कहा- चलो अब मार्किट चलते हैं.

मैं उसके साथ बाजार चला गया. उसने अपने लिए कुछ कपड़े लिए और 2 जोड़ी ब्रा पेंटी भी ले लिए.
फिर उसने मुझसे कहा- बिल देना है, पैसे निकालो जल्दी.
मैंने सोनम को 1500 रूपये दे दिए. इसके बाद उसने पता नहीं खाने के लिए भी क्या क्या खरीद लिया, सबका बिल मुझे ही भरना पड़ा.

फिर मैंने कहा- अब तो फोटो डिलीट कर दो.
उसने कहा- अभी नहीं.
मैंने कहा- कब करोगी? और भी कुछ चाहिए क्या?
उसने कहा- अभी तो तुम बस मेरी फ्रेंड के रूम पर चलो, फिर बात करती हूँ.

मैं फिर से उसकी फ्रेंड के रूम पर आया तो देखा कि उसकी फ्रेंड के रूम का ताला लगा हुआ था.

फिर सोनम ने मुझसे चाबी मांगी.. और रूम खोला. हम दोनों आ अन्दर गए. कमरे में अन्दर जाने के बाद सोनम ने अन्दर से लॉक लगा दिया.
मैंने कहा- लॉक क्यों कर रही है?
सोनम ने कहा- लॉक ही लगा रहने दो.

मैं चूतिया बना आँखें झपका रहा था.

सोनम ने कहा- मुझे तुम्हारे संग सेक्स करना है.
मैंने अचम्भित होते हुए कहा- क्या पागल हो गई है क्या तू?
सोनम ने कहा- करोगे या नहीं?
मैंने कहा- मैं नहीं करूँगा.
तो सोनम बोली कि तो ठीक है, चलो तुम अपने घर जाओ, आज मैं सबको बताऊंगी. तुम्हें भी आज सब समझ आ जाएगा.

मैंने कहा- तू आज ऐसा क्या करेगी?
उसने कहा कि तुम्हारे फोटो आज मैं दादा जी को दिखाऊँगी.
मैंने कहा- तू ऐसा कुछ भी नहीं करेगी.
उसने कहा- अगर तुम राजी हो मेरे संग सेक्स करने को तो नहीं दिखाऊंगी. फिर मैं सच्ची में तुम्हारी फोटो डिलीट कर दूंगी.
मैंने कहा- यहाँ अगर किसी ने देख लिया तो?
सोनम ने कहा- यहाँ की टेंशन तुम मत लो.

मैं उसे घूरने लगा.

तो सोनम ने मुझे बिस्तर पर खींच लिया और मेरे होंठों को चूमने लगी.
मैंने भी उसका साथ देना शुरू कर दिया. सोनम की चूचियों को धीरे धीरे दबाने लगा. हम दोनों लेट गए. सोनम ने लेटे लेटे ही मेरी पैंट का हुक खोला. फिर मेरे निक्कर में हाथ डालकर लंड को सहलाने लगी.

जब मेरा लंड लोहे की रॉड की तरह खड़ा हो गया, तो सोनम ने मेरी पेंट और निक्क़र निकाल दी और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. साली पूरी मंजी हुई खिलाड़िन थी. पूरे दस मिनट तक लंड चूसने के बाद उसने मेरे लंड से माल निकलवा दिया और उसने सारा लंड चाट कर साफ कर दिया.

फिर सोनम अपने कपड़े उतारने लगी. मैं भी नंगा लेटा हुआ उसे देख रहा था. सोनम बिल्कुल नंगी हो गई. फिर उसने मुझसे अपने चुत चाटने के लिए बोला. मैंने उसे चित लिटाया और मैं सोनम की चुत चाटने लगा.

सोनम अपने दोनों हाथों से मेरे सिर को अपनी चुत पर दबाने लगी. पांच मिनट चुत चाटने के बाद सोनम ‘आआ हाहा आहाहाहा..’ करने लगी. वो मेरे मुँह में ही झड़ने लगी. उसकी चुत से काफी चिपचिपा पानी निकला.

मेरा लंड भी अब तक खड़ा हो चुका था. मैंने भी ज्यादा देर ना करते हुए अपना लंड सोनम की चुत पर ले जाकर रगड़ने लगा.
सोनम तड़फने लगी और बोलने लगी- प्लीज मुझे और ना तड़फाओ.. आज तुम मुझे अपना बना लो.
मैंने अपना लंड पकड़कर सोनम की चुत की दरार पर रखकर जोर से धक्का मार दिया. जैसे ही मेरा लंड का टोपा सोनम की चुत के अन्दर दाखिल हुआ, सोनम जोर से चीखने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’

फिर मैंने जल्दी से सोनम के मुँह पर हाथ रखा और फिर से मैंने एक बार और तेज धक्का दे मारा. इस बार मेरा पूरा लंड सोनम की चुत में दाखिल हो चुका था. मेरे मोटे लंड के इस धक्के से सोनम बेहोश सी हो गई थी.

जब सोनम को होश आया तो सोनम की आँखों से दर्द से आँसू बहने लगे. मैं अपने हाथ सोनम के मुँह से हटाकर उसके होंठों को चूसने लगा.
सोनम कहने लगी- बहुत तेज दर्द हो रहा है.
मैंने सोनम से कहा- थोड़ी देर रुको.. दर्द कम हो जाएगा.

जब दर्द काम हुआ तो सोनम ने आगे करने के लिए बोला. मैंने जैसे ही अपने लंड को ऊपर खींचा, तो मेरा लंड खून से लाल हुआ पड़ा था. सोनम की चुत से खून नीचे बह रहा था. नीचे की चादर खून से लाल हुई पड़ी थी. मुझे पहले नहीं पता था कि सोनम आज तक वर्जिन थी. फिर मैं उसको बिना बताए उसकी चुत में लंड डालकर तेज तेज झटके देते हुए चोदने लगा. सोनम को भी मजा आने लगा.

अब सोनम भी मेरे होंठों को किस करके साथ देने लगी. फिर काफी देर चोदने के बाद सोनम ‘आआह्ह्ह ऊऊह्ह्ह हाहाहा..’ करके झड़ गई.

इसके बाद मैंने सोनम को कुतिया बनाकर पीछे से अपना लंड चुत में डालकर चोदा. इस बार 15 मिनट चोदने के बाद मैं सोनम के कूल्हों पर झड़ गया.

इसके बाद मैं सोनम को सीधा करके सोनम की ऊपर ही लेट गया.

कई मिनट सोनम के ऊपर ही लेटे रहने के बाद सोनम ने मुझे उठाया. फिर हम दोनों बाथरूम में गए, एक दूसरे को साफ करके सोनम को एक बार गोदी में उठा कर दीवार के सहारे लगा दिया.
हम दोनों ने एक बार और चुदाई की. फिर हम दोनों एक साथ नहाये.

सोनम ने चादर धोई और कपड़े पहने ही थे कि दरवाजा खटकने की आवाज आई.
सोनम ने जाकर दरवाजा खोला तो उसकी फ्रेंड गेट पर खड़ी थी. फिर दोनों में बाहर ही कोई बात हुई, इसके बाद दोनों अन्दर आ गईं.

मैंने सोनम से घर चलने के लिए बोला तो सोनम ने बोला- रुको, मैं भी चल रही हूँ.

तभी सोनम की फ्रेंड ने सोनम को कोई दवाई दी, तो सोनम ने उस दवाई को पानी से ले ली. अब उसने चलने के बोला, तो हम दोनों घर आ गये.

दोस्तो, मैं अपनी अगली कहानी जल्दी ही लिखूंगा कि कैसे मैंने सोनम को उसके घर कैसे चोदा और सोनम की फ्रेंड को सोनम के साथ कैसे चोदा.

दोस्तों मेरी लाइफ ये सच्ची कहानी है. अगर कहानी लिखने में मुझसे कोई गलती हुई हो, तो माफ़ी चाहूँगा. आपको मेरी रियल सेक्स कहानी कैसी लगी, आप मुझे ईमेल करके या फेसबुक पर मैसेज करके प्लीज जरूर बताना.
मेरी ईमेल आईडी है.
[email protected]
फेसबुक- kavy.choudhary.77