मुझे मज़ा आया-1

(Mujhe Maza Aaya-1)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

हाय! मेरा नाम कोमल है, मैं गंगानगर से हूँ पर अभी जयपुर में स्टडी करती हूँ

मैं 20 साल की हूँ मेरा फिगर 38:26:36 है

मैं काफी मॉर्डन टाइप की लड़की हूँ मॉम डैड ने आज तक किसी चीज के लिए मना नहीं किया है क्योंकि मैं एक ही औलाद हूँ उनकी।

मैंने आज तक सिर्फ दो बॉयफ़्रेन्ड ही बनाये हैं।

मैंने कैसे फर्स्ट टाइम सेक्स यानि अपनी पहली चूत चुदाई की, वो मैं आपको बताती हूँ।

मैं इस साईट की सारी कहानियाँ पढ़ी हैं, इनमें काफी लोग झूठी कहानियाँ भेजते हैं जो मुझे अच्छी नहीं लगती।

चलो अब मैं अपनी कहानी पर आती हूँ।

मैं अपनी कहानी सामान्य शब्दों में लिख रही हूँ, वही लिख रही हूँ जो मेरे साथ हुआ और मैंने किया।

मैं जयपुर में एक साल से रह रही हूँ। बात तीन महीने पहले की है जब मैंने अपनी जिन्दगी में पहली बार सेक्स किया था।

मैं अपने बॉयफ्रेंड से फेसबुक पर मिली थी, हम दोनों एक ही सिटी से थे और वो मुझे जानता था।

हम दोनों एक दूसरे के काफी अच्छे दोस्त बन गये थे और मैं उससे अपनी हर बात शेयर करती थी, हम सेक्स के बारे में खुल कर बात करते थे और फ़ोन पर बात करते हुए फिंगरिंग यानि अपनी बुर में उंगली भी काफी बार की थी मैंने।

और सेक्स वीडियो, पोर्न मूवीज़, नंगी फ़िल्में भी खूब देखी तो मेरा मन भी अब सेक्स करने को करता था।

एक दिन मैंने उसे इसके बारे में पूछा तो उसने हाँ कर दी।
मैंने उसे यहीं जयपुर ही बुलाया अपने रूम में।
वो सोमवार को यहाँ जयपुर मेरे पास आया था, मैं काफी खुश थी क्योंकि मेरे मन की मुराद पूरी होने वाली थी।

वो यहाँ सुबह 6 बजे आया और मैं उसे लेने गई, हम दोनों मेरे रूम में आये। वो मेरे लिए गिफ्ट्स भी ले कर आया था।

आते ही उसने मुझे जोर से अपनी बाहों में जकड़ कर हग किया और फिर अपने होंटों को मेरे होटों के साथ मिला दिया।

यह मेरे जीवन का पहला चुम्बन था।

पूरे दस मिनट तक उसने मुझे चूमा, मेरे होंठों को चूसा, मुझे प्यार किया।

और फिर मैं अलग होकर बोली- जानू, इतनी क्या जल्दी है… पूरा दिन पड़ा है।

हम बेड पर बैठ कर बातें करने लगे।

हमने जयपुर में घूमने का प्रोग्राम बनाया, मैं उसे घुमाने ले गई, हम मॉल गये आमेर के किले में गये, दोनों ने काफ़ी मौज़ मस्ती की, शाम को छः बजे हम वापिस रूम में आये।
आकर फ्रेश हुए और दोनों टीवी देखेने लगे।

फिर मैंने अपना हाथ उसकी जांघ के ऊपर रखा और सहलाया।

उसने मुझे देखा और हम दोनों हंसने लगे।

फिर उसने मुझे कंधों से पकड़ा, मेरे बाल पीछे किये और मेरे माथे पर चूमा, फिर मेरे गर्दन पर चुम्बन किया।

मैंने अपने होंठ उसके होंटों के साथ लगा दिए और उसको जोर जोर से किस करने लगी।

मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ कर बैठ गयी और उसके होटों पर किस करने लगी।

उसने पीछे से मेरा टॉप उठा कर मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरा टॉप और ब्रा उतार दिया।

मैंने शर्म से अपनी आँखें बंद कर ली और वो धीरे धीरे मेरे उरोजों को मसलने लगा।

अब उसने मुझे नीचे लिटा दिया और मेरी छाती पर झुक कर मेरे चूचों को चूसने लगा।
तब उसने अपनी टीशर्ट उतार दी।

मैंने काफी पोर्न फ़िल्में देखी हैं तो मैं भी उन विदेशी लड़कियों की तरह सेक्स करना चाहती थी और किया भी मैंने!

अब मैंने उसकी चेस्ट पर किस करनी शुरु की और उसे हग किया जोर से।

उसके बाद मैं उठी और खड़ी हो कर अपनी कैप्री उतारी और फ़िर उसकी जांघों पर बैठ कर उसे लिप-किस करना शुरु किया।
15 मिनट तक मैंने उसे चूमा चाटा, उसके गाल चूसे, इस दौरान वो मेरे नंगे बदन को मसल रहा था।

फिर उसने मुझे कुर्सी पर बिठा दिया और मेरी पेंटी को थोड़ा साइड में करके मेरी बुर यानि चूत पर चुम्बन किया।

जिन्दगी में पहली बार कोई मेरी योनि को देख रहा था, उसे चूम रहा था, मुझे बहुत मजा आ रहा था।

और जब वो अपनी जीभ मेरे भगनासा पर लगाता तो मेरी जान ही निकल जाती थी।

अब मेरे मुख से सेक्सी किलकारियाँ निकल रही थी और वो मेरी क्यूट पुसी को अच्छी तरह से चूस रहा था।

फिर उसने अपनी उंगली मेरी बिनचुदी फ़ुद्दी में डाली, जिससे मेरे मुख से चीख निकल गई और मुझे थोड़ा दर्द हुआ।

थोड़ी देर बाद मुझे मजा आने लगा और मैं जोर जोर से सीत्कारें भरने लगी और उसका सर अपनी चूत पे दबाने लगी।

वो काफी तेज उगंली करने लगा और मेरा पानी निकल गया।

मैं बहुत खुश थी।
मुझे मज़ा आया।
कहानी जारी रहेगी।
प्लीज़ मुझे लड़के गंदे मेल ना करें और ना सेक्स के बारे में पूछें।

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! मुझे मज़ा आया-1

प्रातिक्रिया दे