लिफ्ट-ड्रॉप यानि उठा-पटक वाली चुदाई-5

(Lift Drop Yani Utha-Patak Wali Chudai- Part 5)

This story is part of a series:

मैं अपनी आँखों के सामने अपनी जीवनसंगिनी के डबल पेनीट्रेशन होता देख अपने आप को भाग्यशाली मान रहा था… दोनों लड़के खूब लहरा लहरा कर अपने लंड नताशा की चूत और गांड में घुसेड़ रहे थे.

नताशा एक साथ अपने दोनों छेदों में दो दो लंड प्राप्त करती हुई किसी बिल्ली की तरह म्याऊँ म्याऊँ कर रही थी. लगभग 5 मिनट तक इस पोज़ में चुदाई करने के पश्चात् गांड के रसिया आर्थर ने नताशा को बिना अपने ऊपर से उठाए, हाथों से घुमा कर उसकी कमर अपने चेहरे के सामने कर दी और फिर आराम से अपने एक हाथ नताशा की जांघों के नीचे डाल ऊपर की तरफ उचकाते, दूसरे हाथ से लंड को उसकी गांड पर निशाना साध अन्दर घुसेड़ दिया.

इस प्रक्रिया में नताशा के दोनों पैर बिल्कुल खुल चुके थे और आर्थर का हब्शी लंड उसकी नन्ही सी गांड में घुसा होने के कारण चौड़े होकर बेड से नीचे कारपेट पर लटक रहे थे, जिनके बीच में खड़े होकर एरिक ने चिड़िया की चोंच की तरह खुल चुकी उसकी चूत में अपना लंड ठेल दिया और लहरा-लहरा कर धक्के मारता हुआ चुदाई करने में व्यस्त हो गया.

इतनी मस्त चुदाई देख कर मेरा लंड मेरी शॉर्ट्स फाड़ बाहर निकलने को तैयार था और मैंने उसे अपनी पैन्ट से बाहर निकाल कर हाथ से मसलना शुरू कर दिया था. मैं अपने लंड को मुठ मारता हुआ यही सोच रहा था कि मैं कितना किस्मत वाला हूँ कि मेरे पास दुनिया की सबसे सुन्दर और सेक्सी पत्नी है!

लगभग 5 मिनट इस पोज़ में चुदाई करने के पश्चात् सभी बेड से नीचे उतर आए और कारपेट के ऊपर खड़े हो गए.
आर्थर ने मेरी धर्मपत्नी को उसके सामने खड़े होकर अपने हाथों की कलाइयों पर ऊपर उठा लिया. मेरी पत्नी ने उसकी इस क्रिया को समझते हुए आर्थर के फनफनाते हुए लंड को अपनी योनि में घुसवाते हुए अपने फैले हुए पैरों को आर्थर के शरीर से लिपटाते हुए उसे अपने पैरों द्वारा जकड़ लिया. आर्थर खुश होकर नताशा को अपनी कलाइयों पर ऊपर की और उछलने लगा जिससे नीचे की ओर गिरती हुई नताशा की चूत में आर्थर का मोटा लंड सटासट अन्दर बाहर होने लगा.

इस शानदार पोज़ को दोबारा देखते हुए मैं अत्यधिक उत्तेजित हो रहा था और मैंने एरिक से बोला- तुम मेरी पत्नी के पीछे जाकर अपने लिए रोजगार तलाश सकते हो!

एरिक खुश होता हुआ नताशा के पीछे जाकर उससे सट गया और नीचे से सहारा देते हुए अपने लंड को उसकी गांड में घुसाने लगा. दो चार कोशिशों में उसने अपना फनफनाता हुआ लंड रूसी बाला की गांड में घुसेड़ दिया.
नताशा के मुंह से मीठी सिसकारियां निकलने लगी और वो अपने हाथों को आर्थर के गले के चारों ओर लपेट कर दो कड़क धुआं उगलते लंडों को अपने दोनों छेदों में तेजी के साथ फचाफच घुसवाने लग गई.

अब मेरी प्रियतमा दो अग्नियों के बीच फंसी हुई नजर आ रही थी, वहां से बाहर निकल पाने का उसके पास कोई रास्ता नहीं था, और उसे वहां से बाहर निकलने की कोई इच्छा हो, ऐसा कुछ नजर भी नहीं आ रहा था!

एक ही झटके में दो ताकतवर लंड उसके आगे और पीछे के रास्तों से इकट्ठे उसके अन्दर घुस रहे थे, जिनको पाती हुई वो निहाल हुई जा रही थी… इससे अधिक और क्या चाहिए किसी शानदार सेक्सी लड़की को!

और वो ख़ुशी के मारे चिल्लाने लग गई- ओओओ ओओओ… कितनी शानदार तरकीब निकाली है आप लोगों ने! आसमान से गिरी तो सीधे दो-दो लंडों पर! सुपर!! आआआ… सिर्फ अब लड़कों तुम लोग कोई कसर बाकी मत छोड़ना, मेरी दोनों सहेलियों को खूब रगड़-रगड़ कर चोद डालो! और जोर से आर्थर! और जोर से ऊपर उठाओ मुझे, और तेजी से अपने लंड पर पटको मेरे प्यारे पति!! आआह… और तेज़! ऊपर-नीचे… ऊपर-नीचे… ऊपर-नीचे…
मेरी ब्लॉन्ड गुडिया उत्तेजना से पागल हुई जा रही थी.

मैं साफ देख रहा था कि आर्थर मेरी पत्नी को अपने हाथों पर ऊपर नीचे करने में बहुत अधिक ऊर्जा व्यय कर रहा था, और ये इतना आसान काम नहीं था! मैं उसका दबाव थोड़ा कम करने के प्रयास में बोला- अप-डाउन, अप-डाउन, अप-डाउन, लिफ्ट-ड्रॉप, लिफ्ट-ड्रॉप, लिफ्ट-ड्रॉप…

सभी मेरी तरफ देखने लग गए… आर्थर मुस्कुराने लगा और मेरी प्रियतमा प्रश्नसूचक निगाहों से मुझे देखने लगी तो मैं उसकी आँखों में झांकता हुआ रूसी भाषा में कहने लगा- वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना… अब मेरी पत्नी सब कुछ समझ गई, और वो भी बाकियों की तरह हंसने लग गई.

“हाँ, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना…” आर्थर दुगने जोश के साथ सफ़ेद परी को अपनी कलाइयों पर उछालता हुआ अपने लंड पर पटकने लगा.
“ओए… मैं तो चिड़िया की तरह उड़ी जा रही हूँ मेरे पतियों! कितना मजेदार है ये!! बस रुकिए मत, ऐसे ही चोदते रहिए अपनी इस राजकुमारी को!! और जोर-जोर से ऊपर उठाओ मुझे आर्थर! और, और…”

आर्थर बिजली की तेजी से, किसी इंजन में लगे पिस्टन की तरह मेरी वाइफ को ऊपर उठा-उठा कर सिर चकरा देने वाली गति के साथ, मानो उसके ब्रेक्स फेल हो गए हों, एरिक संग अपने लंडों पर पटकने लग गया.
“आआआआआ… मर गई! चलो मेरे प्रेमियों, सत्यानाश कर दो मेरे छेदों का! रगड़-रगड़ कर चोद डालो इन्हें! ओए… ब्लिस! कुदरत का आशीर्वाद! मैंने तो कभी भी नहीं सोचा था कि इतनी मस्ती भी मिल सकती है कभी जीवन में!! ऐसी अकल्पनीय अनुभूति… प्यार की दावत! ओओओओए… उम्म्ह… अहह… हय… याह… और जोर से चोदिये मुझे… आआआह… हे ईश्वर काश ये पल अनंतकाल तक बढ़ जाए… बढ़ा दो इस हनीमून को हमेशा के लिए!! हमारे इस हनीमून को!!! हमारे इस हनीमून को!!! हमारे इस हनीमून को!!! हमारे इस हनीमून को!!!” नताशा आनंद के सागर में गोते लगाते हुए अपनी सुध-बुध खोकर बीच-बीच में कराहते हुए इरीना आलेग्रवा का विख्यात गीत “हनीमून के फूल” गाने लग गई थी!

आखिरकार आर्थर ने गाने वाली मैना को अपनी कलाइयों से नीचे उतारा और गद्दे पर लिटा दिया.
मेरी महान पत्नी ने फ़ौरन आर्थर का ‘बदमाश’ लंड अपने मुंह में भर कर चूसना शुरू कर दिया. एरिक पीछे से लग गया और उसके छोटे, परन्तु अब तक भोसड़ा बन चुके छेद को चोदने लगा. और सबसे बड़े छेद को निशाना बना लिया आर्थर ने, और बिना किसी दया के उसमें अपना भसंड लंड घुसा कर मेरी बेचारी पत्नी के होंठ, दांत, जीभ, हलक ठोकने लगा.
उसकी गति से लग रहा था कि वो फिर से झड़ने को बेक़रार था!

और सचमुच… उसके लंड ने कुछ देर में ही भल भल करके गर्म गाढ़ा वीर्य मेरी भार्या के मुंह, चेहरे पर उगलना शुरू कर दिया जिसे मेरी कर्तव्यनिष्ठ पत्नी ने सधन्यवाद पी लिया. चेहरे पर लगे वीर्य को उसने हमेशा की तरह अपने पूरे चेहरे पर रगड़-रगड़ कर मल लिया जिससे कि उसका चेहरा हमेशा जवान और कांतिवान बना रहे!

दूसरी तरफ एरिक भी अब झड़ने को तैयार था और उसने अपना लंड मेरी पत्नी की गांड से बाहर निकाल कर उसके मुंह की तरफ कर दिया, जिसे मेरी लाल रूसी टोपी ने तेजी से अपने गर्म मुंह में ले लिया और एक हाथ से एरिक के अण्डों को सहलाते हुए चूसना शुरू कर दिया, जबकि दूसरे हाथ से वो अभी तक झड़ चुके आर्थर के लंड को सहला रही थी.

तभी झटकों के साथ एरिक के लंड ने नताशा के होंठों और चेहरे पर सफ़ेद बूंदें उगलनी शुरू कर दीं, जिन्हें प्यार की देवी ने चाटते हुए पीना शुरू कर दिया जबकि हाथों में उसने अभी तक अपने दोनों प्रेमियों के ढीले हो चुके लंड पकड़ रखे थे.

दोनों बॉय फ्रेंड्स अपने हाथों से मेरी पत्नी का सिर सहलाते हुए मानो उसका आभार प्रदर्शन कर रहे थे.

किसी तरह पूरी तरह ढीला पड़ा आर्थर पलंग पर निढाल होकर लेट गया, और नताशा अपने चेहरे को तौलिये से पोंछती हुई मेरी बगल में सोफा चेयर पर बैठ गई.

“ओओओओ… चलो आखिर तुम झड़ ही गए प्यारे आर्थर… कितनी मेहनत करनी पड़ी तुम्हें इसके लिए! और एरिक तो लाजवाब रहा!’ मैंने लड़कों की प्रशंसा की.

फिर एरिक ने अपनी अंडरवियर पहन ली, और इस बार आर्थर ने भी, और फिर हम चारों किचन में जा जमे. नताशा को हमने लिकर और खुद वोदका पीने लगे. इस बार हमने आज की शाम की मलिका नताशा के नाम का जाम पिया.

मेरी बीवी की सेक्स कहानी अभी बाक़ी है दोस्तो, मजा लेते रहिएगा.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top