लिफ्ट-ड्रॉप यानि उठा-पटक वाली चुदाई-4

(Lift Drop Yani Utha-Patak Wali Chudai- Part 4)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

मैंने शो की शानदार समाप्ति पर आखिर तालियाँ बजानी शुरू कर ही दीं और बोला- शाबाश आर्थर, गज़ब की परफॉरमेंस! और मेरी प्यारी पत्नी, तुम तो अनमोल हो! तुम्हारे लिए तो शब्द ही फीके पड़ जाएँगे! तुम आज की रात हमारी मलिका–ए–आलम हो! और मेरे लिए तो सारी जिन्दगी की!! ईश्वर से प्रार्थना करूंगा कि वो मुझे हर जन्म में तुम्हें ही दे!!!

“अरे बस बहुत हुआ…” आर्थर के वीर्य को अपने चेहरे से हथेलियों द्वारा मलते हुए मेरी पत्नी शर्मा कर बोली और फिर भाग कर बाथरूम में घुस गई.
“अरे कहाँ?” पीछे से मैं चिल्लाया- अभी तो एरिक संग हम भी बाकी हैं… हमारा क्या होगा?

“चिंता मत करो, अभी आती हूँ, जरा फ्रेश हो लूं!” नताशा ने बाथरूम के दरवाजे को जरा सा खोल कर हमारी तरफ आंख मारते हुए कहा और झट से दरवाजा बंद कर लिया.

हम तीनों हँसते हुए किचन में चल दिए, फिर हमने अपने लिए जाम बना कर पीने शुरू कर दिए.
नताशा के बाथरूम से आने पर हमने उसकी खूब खातिरदारी की और उसे केक संग कॉफ़ी बना कर पिलाई.

करीब आधे घंटे आराम करने के बाद हम दोबारा सेक्स की इच्छा करने लगे, बल्कि सच कहूं तो एरिक संग हम तो पहले से ही कर रहे थे, लेकिन अब तो आर्थर का लंड भी दोबारा खड़ा होने लगा था और वो उसे अपने हाथ से पकड़ कर मरोड़ने लग गया था. उसने किचन में आने के बाद भी अपने कपड़े नहीं पहने थे और नंगा ही बैठ कर दारू पी रहा था.

“तुम्हें आज का सेक्स पसंद आया नताशा?” मैंने पत्नी से पूछा.
“इतना घमासान सेक्स मैंने आज से पहले कभी नहीं किया था!” नताशा आँखों को तिरछा कर परेशान होने का नाटक करती, आर्थर की तरफ देखती हुई बोली.
“लेकिन यदि तुम कहोगी कि तुम्हें अच्छा नहीं लगा तो मैं तुम्हें और परेशान नहीं करूँगा!” आर्थर ने अपना जाम ख़त्म करते हुए कहा.
“मुझे बहुत पसंद आया!” नताशा ने तुरंत कहा- और अब तुम्हारी कामचोरी नहीं चलेगी, तुम्हें अपने दोस्त का साथ देना पड़ेगा!
उसकी इस बात पर सब हंस दिए, और नताशा शर्मा गई.

“हाँ तो लड़को, अब क्या पियेंगे?” मैंने पूछा- चलिए वोदका ही कंटिन्यू रखते हैं!
आर्थर और एरिक ने सहमति जताई तो मैंने तीन जाम बना दिए.

“क्या आप लोगों के लिए पहले ही बहुत ज्यादा नहीं हो चुकी?” मेरी पत्नी ने आँखें तरेरते हुए कहा.
“चिंता मत करो, मर्द और घोड़े अपनी खुराक जानते हैं!” मैंने हँसते हुए जवाब दिया.
“हाँ तुम्हें क्यों चिंता होने लगी… छेद तो मेरे घिसे जाने हैं… लगता है, आज तो आप लोग मेरे सारे छेद फाड़ कर ही दम लेंगे!!” नताशा भवें उठा कर गंभीर स्वर में बोली.

आर्थर फिर हंस दिया और मैंने जवाब दिया- चिंता मत करो जानेमन, छेदों को कुछ नहीं होगा, तुम इसके बाद पूरे तीन दिन बिस्तर से नहीं उठोगी, तुम्हें चाय-कॉफ़ी, ड्रिंक्स, नाश्ता… सब कुछ मैं बिस्तर पर ही सर्व करूंगा!
मेरी इस बात पर नताशा भी हंस दी.

फिर हमने सबके लिए एक-एक जाम और बना कर सर्व किया और रंगीन शाम के नाम उसे ऊपर उठाते हुए चियर्स बोला, और एक ही घूँट में पी लिया.
नताशा ने भी अपना लिक़र गले में उड़ेल लिया और फिर मैंने नताशा की जांघों को अपने हाथ से सहलाना शुरू कर दिया- चलो इस बार हम अपने बेडरूम में चलते हैं… वर्ना चार-चार लोग ड्राइंग रूम के सोफे पर ठीक से एडजस्ट नहीं हो पाएँगे.
मैंने राय देते हुए आर्थर की तरफ देख कर कहा- हमारा डबल बेड दूब की लकड़ी से बना हुआ बेहद मजबूत बेड है और नताशा के अलावा सिर्फ वही हमारी आज की फाइट को सह सकता है!
आर्थर हंस दिया और सहमत हो गया.

“आईईई… मुझे डर लगने लगा है! कोई मुझे बचाओ…” नताशा अपने हाथों से अपनी आँखें छुपाती हुई नाटकीय अंदाज़ में चिल्लाई.
आर्थर और एरिक हंसने लगे और फिर खड़े हो गए.

मैंने नताशा को अपने हाथों में उठा लिया और बेडरूम की तरफ ले जाने लगा. दोनों विदेशी मेहमान हमारे पीछे-2 चल दिए.

मैंने नताशा को नर्म गद्दे पर बिठा दिया और स्वयं खिड़की के सामने की सोफा चेयर पर बैठ गया, बोला- जाइए दोस्तो, हमारी रानी को खुश कीजिए!

आर्थर और एरिक नताशा के नजदीक आ गए और नताशा बेड पर बैठ कर अपनी लाल कच्छी को एक साइड खिसकाती हुई उन्हें अपनी सुन्दर गुलाबी, बालरहित, क्लीन शेव्ड चूत के दर्शन कराने लगी.
एरिक उसके नजदीक आ गया तो उसने एरिक की पैन्ट के बटन खोलने शुरू कर दिए. आर्थर अपने लटकते हुए लंड को हाथ से सहलाने लगा.

एरिक ने नताशा की सहायता करने के लिए स्वयं ही अपनी पैंट उतारनी शुरू कर दी, और नताशा ने बगल में खड़े आर्थर के लटकते हुए लंड को अपने बाएँ हाथ से सहलाते हुए नीचे को झुक कर अपने मुंह में भर लिया.

तब तक एरिक अपने कपड़े उतारकर बेड पर चढ़ चुका था और आर्थर नीचे कारपेट पर खड़ा हुआ ही अपने कूल्हे हिलाता हुआ अपना अभी तक ढीला लंड मेरी पत्नी के मुंह में घुसेड़ना शुरू कर दिया था.
नताशा की बगल में बैठे हुए एरिक ने उसकी चिकनी, महकती हुई चूत को अपने हाथों से सहलाना शुरू कर दिया. जल्दी ही आर्थर का लंड टनटनाने लगा और आकार में दुगना तीन गुना हो गया! अब वो मेरी परी के नन्हे से मुख में नहीं समा रहा था और ब्लॉन्ड रसियन बार्बी डॉल उसे अपने दाहिने हाथ में पकड़े हुए उसके छतरी जैसे चौड़े-मांसल टोपे को अपनी सुन्दर, गुलाबी जीभ को बाहर निकाल कर चाटने लगी थी.

उधर एरिक मेरी नाजुक पत्नी की महकती हुई चूत की खुशबू से पागल हुआ जा रहा था, उसने जल्द ही अपने बाएँ हाथ से लाल पैन्टी को एक तरफ खिसका कर अपनी जीभ से स्वादिष्ट चूत को चाटना शुरू कर दिया और दाएं हाथ से अपने लंड को सहलाना.
एरिक की जीभ के स्पर्श से नताशा उत्तेजना से कांपने लगी और उसने बाएँ हाथ से अपनी चूत के क्लिट को सहलाना शुरू कर दिया. दाएं हाथ में स्थित आर्थर के लंड को अब वो अपने मुंह में घुसेड़ कर तेजी के साथ अपनी मुंह चुदाई करवाने लगी.

आर्थर का लंड अब तक फिर लोहालाट हो गया था और अब नताशा को उसे अपने हाथ से सहारा देने की जरूरत नहीं रह गई थी, आर्थर अब अपने चूतड़ चलाता हुआ मेरी प्राणप्यारी पत्नी के मुंह में पचर-पचर की आवाज के साथ अपना गधे जैसा लंड घुसेड़ रहा था और इसलिए नताशा ने अपने हाथ से एरिक के सिर को अपनी चूत से सटा दिया और उससे अपनी चूत को और गहरे तक चाटने की अपेक्षा करने लगी.

अपनी चूत पर एरिक के मीठे चुम्बनों, उसकी जीभ द्वारा खूब गहरे तक अन्दर घुसने से प्राप्त संतुष्टि को प्राप्त करती हुई मेरी पतिव्रता पत्नी अब उड़नखटोले पर उड़ी जा रही थी, जिसकी पुष्टि बीच-बीच में आर्थर के लंड को मुंह से बाहर निकलने के दौरान, उसके मुंह से निकलने वाली आहें कराहें बखूबी कर रही थीं!

मेरी गोरी गुड़िया की चूत को अपनी जीभ से खूब अच्छी तरह तर करने के बाद एरिक अपना खूब लम्बा, अत्यधिक सफ़ेद और अच्छा खासा मोटा लंड हाथ से सहलाता हुआ आर्थर का खूब जाना पहचाना लंड चूसती मेरी पत्नी के चूतड़ों के पीछे रगड़ता हुआ अपने घुटनों पर बैठ गया और अपने गोरे लंड को नताशा की गुलाबी चूत में घुसेड़ कर धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा.

मेरी भोली नताशा ने प्रत्युत्तर में अपने चूतड़ों को पीछे की और चलाते हुए उसके लंड का स्वागत किया! वो एकसमान रफ़्तार में आर्थर का लंड चूसते हुए अपने कूल्हों को एरिक के लंड की ओर चलाते हुए उसका लंड अपनी प्यासी चूत में घुसवाने लगी.

एरिक ने अपनी पार्टनर की इच्छा समझ कर धक्कों की गति बढ़ा दी, इसे देख आर्थर भी मेरी पत्नी के बाल पकड़ कर अपने लंड को और गहरे उसके गले में घुसेड़ने लगा. अब नताशा दो सांडों के बीच फंसी किसी बछिया की तरह कराहने लगी- ऊऊऊऊऊ… आआआआ… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आख… ओए! आआआ… आउच!

अब तक आर्थर का बेलेस्टिक राकेट डराने वाले साइज़ में परिवर्तित होकर टनटनाने लगा था. उसने तेजी से स्वयं तकिए पर सिर रखकर लेटते हुए, एक दिन की पार्टनर को अपने पेट पर बिठाते हुए अपने फनफनाते लंड को उसकी चूत में घुसेड़ दिया और अपने कूल्हे उठा उठा कर गहरे धक्कों के साथ मेरी जीवनसंगिनी की चूत मारने लगा.
एरिक आर्थर के सिर के ऊपर बेड के सिरहाने खड़ा होकर अपना लंड प्यार की देवी के मुंह में चलाने लगा.

आर्थर के धक्कों की गति समय के साथ बढ़ती जा रही थी और वो समय समय पर अपने दोनों हाथों से मेरी प्यारी पत्नी के चूतड़ों को खोलता हुआ उसकी गांड को उंगलियों से सहलाता मुझे दिखाता बडबड़ा रहा था- ले ले! और अन्दर! मजा आया?
“हाँ… और, और, और… और अन्दर तक… कस के धक्के मारो! फाड़ दो मेरी चुदक्कड़ चूत को!” नताशा भी उसके धक्कों का दिल खोल कर स्वागत कर रही थी.
“तो ले… ले ले ले ले… और ले… काफी है तुम्हारी नन्ही सी चूत के लिए या और लगाऊं?” आर्थर ने नताशा से इस आशा में पूछा कि वो अब संतुष्ट हो चुकी होगी.
“तुम चाहो तो ऐसे ही और 100-200 धक्के लगा सकते हो… और मुझे वो भी कम पड़ेंगे! खैर जैसी तुम्हारी इच्छा… अब मुझे एरिक का लंड चूसने में डिस्टर्ब मत करो.”

नताशा के इन शब्दों ने आर्थर को गुस्सा दिला दिया. उसने झटके के साथ रूसी बछिया को अपने लंड के ऊपर से उठाया और पलंग के ऊपर उसके चौपायों पर कुतिया बना कर खड़ा कर दिया. फिर वो खुद उसके पीछे कारपेट पर खड़ा होकर अपने लंड को थोड़ा तिरछा कर उसकी गांड में घुसाने लगा, जिससे कि नताशा को थोड़ा दर्द हो!

“आआआ… फट गई!… ओओओओओ… कितना दर्द हो रहा है… निकाल लो अपना हाथी जैसा लंड! नहीं मरवानी मुझे तुमसे अपनी गांड!” नताशा जोर जोर से चीखने लगी लेकिन मुझे विश्वास था कि ये एक टेम्पररी फेनोमेना था जो जल्द ही समाप्त हो जाना था. पिछली कुछ मुलाकातों जहाँ बड़े-बड़े लंड वाले लड़कों ने नताशा की गांड की ठुकाई की थी, को याद कर मेरा रोम-रोम ख़ुशी से सिहर उठा और मुझे लगने लगा कि आज की चुदाई भी उसी दिशा में जा रही थी!

“हाँआआआ… तुझे इसी की जरूरत है! और ऐसे ही चोदूंगा मैं तुझे! लेकिन चिंता मत कर मेरी जान, तेरी गांड इतनी आसानी से नहीं फटने वाली…” आर्थर कुटिल मुस्कान के साथ बोला.

इस बार नताशा कुछ नहीं बोली और उसने तकियों के ऊपर अपने घुटनों के बल बैठे एरिक का खूब रवां हो चुका लंड चूसना शुरू कर दिया.

अब आर्थर ने अपने लंड को गांड में सीधा घुसाना आरंभ कर दिया और हथौड़े से किसी कील को ठोकने के अंदाज में मेरी बीवी की गांड मारनी शुरू कर दी. उधर मेरी पतिव्रता पत्नी ने एरिक के लंड को अपनी नर्म गुलाबी जीभ से चाटना जारी रखा.

तभी आर्थर ने अपने दाहिने हाथ से लंड को मेरी बार्बी डॉल की गांड से बाहर निकाल कर उसकी चूत में ट्रान्सफर कर दिया और चुदाई जारी रखते हुए अपने दोस्त से पीछे जाकर फ्री की वेश्या की गांड मारने को कहा.
एरिक लंड को विश्वसुन्दरी के मुख से निकाल कर उसके चूतड़ों के पीछे जा पहुंचा और लंड को सही पोजीशन में लाकर गांड में घुसेड़ दिया.

“आआआआ… आआआ… माय गॉड! हाउ नाइस!… लाइक इन हेवन!! हाँ लड़को, अब मुझे खूब जोर-जोर से धक्के लगा कर चोदो! आइ रिक्वेस्ट यू… हार्ड! तेज धक्के चाहती हूँ मैं!! आआआआआ… आआआ…”
और दोनों विदेशी लड़के पूरी ताकत लगा कर मेरी जान के छेदों को अपने पत्थर हो चुके लंडों से चोदने में लग गए.

मैं अपनी आँखों के सामने अपनी जीवनसंगिनी के डबल पेनीट्रेशन होता देख अपने आप को भाग्यशाली मान रहा था… दोनों लड़के खूब लहरा लहरा कर अपने लंड नताशा की चूत और गांड में घुसेड़ रहे थे.

ग्रुप सेक्स की कहानी जारी रहेगी.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! लिफ्ट-ड्रॉप यानि उठा-पटक वाली चुदाई-4