जिगोलो बनते ही मिली मजेदार कस्टमर-2

(Gigolo Bante Hi Mili Majedar Customer- Part 2)

मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग
जिगोलो बनते ही मिली मजेदार कस्टमर-1
में आपने पढ़ा कि कैसे ऑनलाइन एक भाभी से मेरा संपर्क हुआ और उसने मुझे अपने शहर में बुलाया जिगोलो सर्विस के लिए. वो मुझे होटल रूम में ले गयी थी. शुरू की चूमा चाटी चल रही थी.

उसके चूचे तनकर मेरे हाथों में भर गए. मैं उसके चूचों को दबाने लगा. मसलते हुए उसके बदन को भी किस करने लगा. उसके मुंह से कामुक आवाजें और ज्यादा तेज होना शुरू हो गईं. उसके बाद मैंने उसकी नाइटी को ऊपर उठाना चाहा तो मेरे हाथों को पकड़ कर रोक दिया. उसके चेहरे को देखकर तो लग रहा था कि ये पूरी गर्म हो चुकी है लेकिन अपने बदन तक मुझे पहुंचने से मुझे बार-बार रोक रही है.
शायद वह अपने दस हजार पूरे वसूल करना चाहती थी. इसलिए सब कुछ मजे लेकर करना चाह रही थी. फिर मैंने उसके पैरों को किस किया. उसके पैर काफी गोरे और मुलायम थे.

अभी वह अपनी नाइटी को हटाने नहीं दे रही थी इसलिए मैं उसको कपड़ों में ही नाइटी के ऊपर से ही चूमने लगा. मैं उसके बदन को किस करता रहा. मैंने फिर से उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया और उनको जोर से मसलने लगा. उसके बाद मैंने उसकी नाइटी के ऊपर से ही उसकी ब्रा में तने हुए उसके निप्पल्स को मसल दिया. वह उठकर मेरे होंठों को चूसने लगी. मैं समझ गया कि इसको चूचों को दबवाने में ज्यादा मजा आ रहा है.
मैंने धीरे-धीरे उसकी नाइटी को ऊपर उठाना शुरू कर दिया. अबकी बार उसने मुझे मना नहीं किया. मैंने उसकी नाइटी को पूरा पेट तक उठा दिया और उसके पेट पर किस कर लिया. उसके बाद उसने खुद ही उठकर अपनी नाइटी को पीछे से खोल दिया और निकालकर एक तरफ रख दिया. जब उसकी नाइटी के अंदर से उसका बदन बाहर निकल कर आया तो मैं उसको देखता रह गया.

एकदम मलाई जैसी गोरी और मुलायम माल थी प्रीति भाभी. मैं धीरे-धीरे उसके बदन पर किस करने लगा. मैं समझ गया था कि यह ज्यादा जल्दी में सेक्स नहीं करना चाहती है. हो सकता है कि इसके पति इसकी प्यास को शांत नहीं कर पाते हैं. इसलिए वह मेरे साथ सेक्स का पूरा मजा लेना चाह रही थी.

फिर मैंने उसकी ब्रा को पकड़कर अपने हाथों में ले लिया और उसके चूचों को दबाने और सहलाने लगा. वह तड़पने लगी. मैं पहले से ज्यादा जोर लगाकर उसके चूचों को दबाने लगा. उसके चूचे एकदम टाइट हो चुके थे. फिर मैंने उसकी पेंटी पर हाथ फिराना शुरू कर दिया तो उसने मेरा हाथ फिर से हटा दिया. मैं समझ गया कि अभी यह चूत को नहीं छेड़ने देगी. उसके बाद मैंने उसके होंठों को फिर से किस करना शुरू कर दिया. साथ ही साथ मैं उसके चूचों को दबाता भी जा रहा था. वह मुझे बांहों में लेकर किस किए जा रही थी.
उसके बाद मैंने उसको पलट दिया और उसकी ब्रा का हुक खोल दिया.

ब्रा को खोलने के बाद मैंने उसकी ब्रा को उसके शरीर से अलग कर दिया और उसके तने हुए चूचे मेरे सामने नंगे हो गए थे. मैंने उसके निप्पलों को अपने होंठों में भर लिया और उनको बच्चे की तरह पीने लगा. वह मेरे सिर को अपने सीने पर दबाने लगी और उसके मुंह से कामुक आवाजें उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकलने लगीं.

कुछ मिनट तक उसके निप्पलों को चूसने के बाद मैंने फिर से उसकी पैंटी पर हाथ फेरा तो उसने मना नहीं किया. फिर मैंने उसके बदन को किस करना शुरू किया और धीरे-धीरे किस करते हुए उसकी चूत की तरफ आने लगा. मैंने उसकी पैंटी को निकालना शुरू कर दिया. जैसे ही मैंने उसकी पेंटी निकाली, उसकी मस्त सी चूत मुझे दिखाई दी जो हल्की-हल्की गीली हो चुकी थी. उसके बाद फिर मैंने उसकी चूत के अगल-बगल में किस करना शुरू किया. वह तड़पने लगी और बेड की चादर को पकड़ने लगी. उसको चूत के पास किस करने से मुझे पता चला कि उसको इस जगह पर भी काफी मजा आ रहा है.
फिर मैंने उसकी पेंटी को उसकी टांगों से बिल्कुल ही अलग कर दिया और उसकी नंगी चूत पर अपने होंठ रख दिये.

अब वह पूरी गर्म हो चुकी थी और मेरी किसी भी हरकत का विरोध नहीं कर रही थी. उसके बाद मैंने उसकी चूत को अपने होंठों से चूसना शुरू किया तो उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया. मैंने उसकी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया और वह मेरी उंगलियों से चुदने लगी. उसकी टांगें अब चौड़ी होकर फैलने लगी थी. मैं समझ गया था कि यह चुदाई के लिए तैयार हो चुकी है. फिर मैंने उसकी चूत में दोबारा से जीभ डाल दी और अपनी जीभ को उसकी चूत के अंदर तो कभी बाहर करता हुआ अपनी जीभ से उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया.

वह तड़पने लगी; उसने मेरे मुंह को अपनी चूत पर दबा लिया और अपनी चूत को मेरे होंठों की ओर धकेलने लगी. कुछ ही देर में उसकी चूत से पानी की धार बह निकली. मैं समझ गया कि प्रीति झड़ चुकी है. उसके बाद मैंने फिर से उसके होंठों को किस करना शुरू कर दिया. साथ ही साथ उसके चूचों को अपने हाथों से भी मसलना शुरू कर दिया. उसके बाद मैंने एक हाथ को उसकी चूत पर लगाया और उसकी चूत को रगड़ना शुरू कर दिया.

उसकी चूत फिर से गीला सा पदार्थ छोड़ने लगी थी. फिर उसकी चूत में मैंने उंगली डाल दी. मैं उसके होंठों को चूस रहा था और साथ ही उसकी चूत में उंगली भी कर रहा था.

वह उठकर मेरे कपड़े खोलने लगी. अब उसको लंड देखने की इच्छा होने लगी थी. उसने मेरी शर्ट उतार दी और फिर मैंने अपनी पैंट खोल दी. फिर मैंने अपनी पैंट को बिल्कुल ही अपनी टांगों से अलग कर दिया और मैं अब सिर्फ अंडरवियर में था. मेरा लंड मेरे अंडरवियर में तना हुआ था और इतनी देर की चुम्मा-चाटी के कारण उसने मेरे अंडवियर को भिगो दिया था.

फिर वह अपने हाथों से मेरे अंडरवियर के ऊपर से ही मेरे लंड को सहलाने लगी. मेरा लंड बिल्कुल टाइट होकर झटके देने लगा था. उसके बाद उसने अपने हाथों से मेरे अंडरवियर को निकाल दिया और मैं नंगा हो गया. मेरा लंड उसके सामने तना हुआ था. उसने मुझे बेड पर पटक लिया और मेरे लंड को चूसने लगी. वह जोर-जोर से मेरे लंड को रंडियों की तरह चूसने लगी. उसके मुंह में जब मेरा लंड जा रहा था तो मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था.
मैंने उसे बहुत ज्यादा गर्म कर दिया था. मुझे उसके मुंह में लंड देकर बहुत मजा आ रहा था. उसके बाद फिर मैंने प्रीति को नीचे लिटा दिया और उसकी चूत को चाटने लगा.

वह कहने लगी- बस अब और देर मत करो. अब मैं लंड को चूत में डलवाना चाहती हूँ.

मैंने अपनी पैंट की जेब से कॉन्डम का एक पैकेट निकाला और उसमें से एक कॉन्डम निकाल कर अपने तने हुए लौड़े को पहनाना शुरू कर दिया.
उसने कॉन्डम को मेरे हाथ से ले लिया और बोली कि मैं अपने हाथों से इसको पहनाऊंगी.
उसने अपने कोमल हाथों से मेरे लंड को पकड़ लिया और उस पर कॉन्डम पहना दिया. फिर मैंने उसके ऊपर लेटकर उसको होंठों पर किस करना शुरू किया और उसके चूचों को भी दबाता रहा.

वह मेरे चूतड़ों को पकड़कर अपनी चूत की तरफ धकेलने लगी. मैं समझ गया कि अब यह और ज्यादा इंतजार नहीं कर सकती है. मैंने अपने लंड को उसकी चूत के छेद पर रख दिया और एक जोर का धक्का दे दिया. लंड उसकी चूत में आधा घुस गया. मैंने फिर से एक धक्का दिया और दूसरे धक्के में पूरा लंड उसकी चूत में उतर गया. वह थोड़ी कसमसाई लेकिन मैंने उसके होंठों को चूसना चालू रखा. फिर मैंने उसकी चूत की चुदाई धीरे से शुरू की और कुछ ही देर में वो मस्ती के साथ मेरी चुदाई में खोने लगी.

बिजनेसमैन की बीवी को लंड की बहुत प्यास थी शायद. मुझे लग रहा था कि उसका पति उस पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पाता है इसलिए वह मेरे लंड से चुदकर अपनी प्यास बुझा रही थी. फिर मैंने उसकी चूत की चुदाई तेज कर दी और वह उछल-उछल कर मेरा साथ देने लगी.

मैंने उसके दोनों पैरों को कंधे पर रख दिया और जोर से शॉट मारा तो उसकी चीख निकल गई- आह्ह …
फिर मैंने उसके मुंह पर हाथ रख दिया और जोर से उसकी चूत को पेलने लगा. वह मेरे लंड से चुदकर खुश होती हुई दिखाई दे रही थी. फिर मैंने उसके चूचों को पकड़ा और तेज-तेज उसकी चूत में लंड को अंदर बाहर करने लगा.

मेरे लंड के धक्कों के साथ उसकी आवाज़ें और ज्यादा तेज होती जा रही थीं. मगर हम दोनों होटल में थे तो हमें किसी बात का डर नहीं था. इसलिए मैं पूरी स्पीड के साथ उसकी चूत को चोदने में लगा हुआ था. वह भी मेरे लंड को पूरा अंदर तक ले जा रही थी. मेरे लंड की गोलियां उसके चूतड़ों से टकराने लगी थी. टकराने के साथ ही फट्ट-फट्ट की आवाज़ भी आ रही थी.
उसके बाद मैंने उसके मुंह से हाथ हटा लिया तो देखा कि वह मुस्कराते हुए अपनी चुदाई करवा रही थी.

मुझे भी उसकी चूत मारने में बहुत मजा आ रहा था. उसके बाद मैंने उसकी चूत को और तेज चोदना शुरू कर दिया. हमारी चुदाई इतनी गर्म थी कि ऐ.सी. वाले रूम में भी दोनों को पसीना आना शुरू हो गया था. चुदाई के दौरान हम दोनों के बदन पसीने से भीग चुके थे.

उसके बाद मैंने प्रीति को लगभग 20 मिनट तक और चोदा और फिर मेरे लंड ने कॉन्डम के अंदर ही वीर्य निकाल दिया. उसके बाद मैं प्रीति के ऊपर ही गिरकर हाँफने लगा. जब मैंने प्रीति की चूत से अपना लंड बाहर निकाला तो उसकी चूत से पानी निकल रहा था. वह भी मेरे साथ ही झड़ गई थी.

जब चुदाई खत्म हुई तो दोनों बहुत बुरी तरीके से पसीने से भीग चुके थे. मैंने कुछ देर प्रीति की चूत में ही लंड को डालकर रखा और उसके साथ लेटा रहा. उसके होंठों पर एक मुस्कान दिखाई दे रही थी मुझे. उसके बाद मैंने उसको किस किया और साइड में लेटकर उसको भी अपनी तरफ घुमा लिया.

उस रात मैंने 4 बार प्रीति की चुदाई की. प्रीति को मैंने हर बार एक अलग पोज में चोदा. कभी सोफे पर लेटाकर चोदा तो कभी बेड पर गिराकर चोदा. कभी फर्श के कालीन पर चोदा तो कभी बाथरूम में खड़ी करके चोदा. मैंने प्रीति की चूत को अपने लंड से बुरी तरह रगड़ दिया.
चुदाई के कारण उसकी चूत बिल्कुल सूज गई थी. मगर वह मेरी सर्विस से खुश हो गई थी.

जिगोलो बनने के बाद की वह मेरी पहली चुदाई थी. मैंने पहली ही बार में अपनी कस्टमर को खुश कर दिया था.
उसके बाद उसने मुझे दूसरे क्लाइंट भी दिलवाए. उनकी स्टोरी मैं आपको अपनी अगली कहानियों में बताऊंगा.

यह कहानी आपको पसंद आई या नहीं, आप मुझे मेरी मेल आई-डी पर मेल करें.
अगर आप कहानी के बारे में कुछ और कहना चाहते हैं तो कमेंट भी कर सकते हैं. मुझे आप सब लोगों के मेल का इंतजार रहेगा.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top