मेरे यौन जीवन की शुरुआत-2

Mere Yaun Jiwan-ki-Shuruat-2
रेखा जैन

मम्मी ने कहा- तुम्हें पता है, चार दिन में मेरी हालत कैसी हो गई है? मैं तो किसी और से सेक्स नहीं कर सकती हूँ तुम्हारे सिवाय ! पापा हंसे और मम्मी का हाथ पकड़ कर उन्हें अपनी गोद में खींच लिया, फिर मम्मी को चूमने लगे, मम्मी से कहा- आज पूरी रात मैं तुम्हारे साथ हूँ, बोलो क्या करोगी?

मम्मी ने हँसते हुए कहा- आज पूरी रात तुम्हारा लौड़ा अपनी फ़ुद्दी से नहीं निकलने दूँगी।

यह सुन कर मेरी हालत ख़राब हो गई, मेरे मम्मी पापा को मैं इस तरह बात करते हुए देख रही थी।

यह सुनकर पापा ने कहा- तुम दिनोंदिन बहुत सेक्सी होती जा रही हो।

पापा ने मम्मी को अपनी गोद में बिठा रखा था। वो मम्मी को किस करने लगे और मम्मी के चूचे दबाने लगे।

कुछ देर बाद उन्होंने मम्मी की साड़ी और ब्लाऊज उतार दिए। मम्मी एक काली ब्रा पहने हुए थी, पापा ने वो भी उतार दी।

मम्मी के बड़े बड़े दूध देख कर मैं समझ गई कि मेरे स्तन इस उम्र में ही किसी औरत के स्तनों की तरह क्यों हैं? ये मुझे विरासत में मिले हैं।

पापा बेकाबू होकर मम्मी के निप्पल चूस रहे थे और जोर जोर से दबा रहे थे, मम्मी सिसकारी ले रही थी। फिर मम्मी ने पापा की टीशर्ट खींच कर निकाल दी। पापा बनियान नहीं पहनते हैं, दोनों एक दूसरे के जिस्म को बाहों में भर कर रगड़ने लगे।

मेरी कच्छी गीली हो गई, मैंने अपनी नाइटी उतार दी और कच्छी में हाथ डाला तो मेरी चूत बहुत गर्म हो रही थी, मैं अपनी चूत पर उंगली घुमाने लगी।

पापा भी मम्मी के पेटीकोट को उतार चुके थे। फिर पापा ने अपनी पैंट उतारी तो मैंने देखा कि उनकी अंडरवीयर आगे से उठी हुई थी। पापा ने मम्मी की पैंटी उतारी तो मैंने देखा कि मम्मी की चूत मेरी चूत से कुछ अलग दिख रही थी, मेरी चूत पर कुछ बाल भी थे पर मम्मी की चूत बिल्कुल साफ़ थी।

पापा ने मम्मी की चूत में झटके से एक उंगली घुसा दी तो मम्मी ने सिसकारी ली- आह्ह… ह्ह… जनेन्द्र धीरे।

मम्मी ने पापा की अंडरवीयर उतार दी। मैं दंग रह गई, पापा का लंड लगभग सात इंच लम्बा और ढाई इंच मोटा था। मैंने किताब में पढ़ा था कि सामान्य लंड 4-5 इंच लम्बा होता है, मुझे यकीन नहीं हुआ कि मेरी मम्मी की चूत इसे झेल पाती होगी।

मम्मी पापा के लंड को अपने हाथों से हिलाने लगी, पापा सिसकारी लेने लगे। फिर पापा ने मम्मी सो जमीन पर घुटनों के बल बैठाया और अपना लंड उनके मुख के पास कर दिया। मम्मी पापा का लंड चूसने लगी। वो उसे जोर से चूस रही थी, पापा धीरे धीरे अपना लंड आगे पीछे कर रहे थे।

पापा ने फिर मम्मी का सर पकड़ लिया और जोर से धक्का मारा तो पूरा लंड मम्मी के मुँह में घुस गया, वो मम्मी एक गले में जाकर अड़ गया, मम्मी घबरा गई, उन्होंने एकदम सर खींच लिया, वो हांफ रही थी, बोली- क्या जनेन्द्र, मेरी जान लेने का विचार है?

पापा बोले- नहीं यार, तुम धीरे धीरे सर हिला रही थी इस लिए मैंने जोर से हिला दिया।

पापा ने फिर से लंड मम्मी के मुँह में दे दिया कुछ देर बाद पापा अकड़ से गए, मैं समझ गई कि पापा झड़ने वाले हैं। मैं यह बात किताब में पढ़ चुकी थी। पापा ने एकदम मम्मी का सर पकड़ लिया और पूरा वीर्य मम्मी के मुँह में निकाल दिया। मम्मी उसे पीने लगी।

फिर पापा ने मम्मी को सोफे पर लिटा दिया और उनकी चूत चाटने लगे।

‘आह्ह… ह्ह्ह…’ मम्मी ने जोर से आवाज निकाली क्योंकि पापा ने अपनी जीभ उनकी चूत में घुसा दी थी। पापा मम्मी की चूत जोर जोर से चाटने लगे जैसे कोई बिल्ली दूध पीने के बाद कटोरे पर लगी मलाई चाटती है। मम्मी और मेरी दोनों की हालत ख़राब थी। मेरा देखने में ऐसा हाल था तो मम्मी का क्या हाल होगा, मैं यह सोचने लगी।

थोड़ी देर बाद मम्मी जोर जोर से सिसकारी लेने लगी और उनकी चूत से पानी निकलने लगा। पापा गटागट पूरा पानी चाट गए।

अब मुझे समझ आया कि कुछ दिन पहले सुबह जब में मम्मी को आवाज देती हुई रसोई में गई तो मम्मी घबराई हुई थी और पैर फ़ैला कर खड़ी थी, उन्होंने पूछा था कि ‘अह क्या हुआ हहा?’ मैंने कहा था कि कुछ नहीं, कॉफ़ी पीनी है।

उसे समय उनका चेहरा बिल्कुल लाल था, वो बोली थी कि ‘ठीक है, मैं रूम में लाती हूँ बना कर आह्ह्ह !’ मैंने पूछा था ‘मम्मी, क्या हुआ?’ तो वो कुछ नहीं बोली उनकी आँख बंद हो गई थी, वो अकड़ गई थी, वो काँप रही थी। फिर वो जोर जोर से सांस लेने लगी और कहा था कि तबियत कुछ ठीक नहीं है। मैंने पूछा कि ‘क्या हुआ?’ तो वो गुस्से में बोली थी ‘कुछ नहीं, अभी जाओ, परेशान मत करो, बहुत काम है। मैं चुपचाप बाहर आ गई और हाल में बैठ कर पेपर पढ़ने लगी, मम्मी किसी पर गुस्सा कर रही थी। फिर कुछ देर बाद पापा रसोई से बाहर आये थे, मैं कुछ समझ नहीं पाई थी पर नाश्ते के समय पापा ने मम्मी से कहा था कि ‘रोज सुबह ऐसे ही मलाई खाऊँगा आज की तरह !’ और मम्मी शर्मा गई थी।

अब मैं पूरी तरह समझ चुकी थी कि उस दिन मम्मी की साड़ी के अन्दर पापा बैठ कर मम्मी की चूत चाट रहे थे।

कुछ देर लेटने के बाद पापा रसोई में गए और फ़्रिज़ से चोकलेट मलाई और क्रीम लेकर आये, पापा ने कहा- जानेमन, आज हम एक नई चीज करेंगे।

मम्मी ने कहा- आज फिर से मेरी गांड फाड़ने की सोच रहे हो क्या?

मैं सोच रही थी कि क्या पापा ने मम्मी की गांड मारी है?

इतने में पापा ने कहा- पूरी रात पड़ी है, आज तुम खुद अपनी गांड मारने को कहोगी।

मम्मी ने कहा- इम्पोसिबल !

पापा ने कहा- शर्त है ! तुमने रात भर चुदने के बारे में कहा है, मैं तुम्हें इतना चोदूँगा कि तुम खुद कहोगी की प्लीज, अब मत चोदो, बहुत दर्द हो रहा है। फिर मैं तुम्हारी गाण्ड मारने का कहूँगा और तुम मना नहीं करोगी।

फिर पापा ने कहा- तुम्हें क्रीम बहुत पसंद है तो खाओ।

और अपने लंड पर क्रीम लगा दी, मम्मी ने मना किया तो पापा ने कहा- जानेमन वीर्य पी सकती हो, क्रीम नहीं खा सकती?

मम्मी पापा के लिंग को चूसने लगी और क्रीम खाने लगी। फिर पापा ने मम्मी की चूत में चोकलेट भर दी और उसे चाटने लगे। यह देख कर मेरी उंगली अपनी योनि पर जोर जोर से चलने लगी और मेरा शरीर अकड़ गया, मैं हांफने लगी और झड़ गई।

मैंने देखा कि मम्मी बहुत बेचैन हो रही थी, पापा का लंड पूरी तरह तना हुआ था, मम्मी उनका लंड पकड़ कर खींचने लगी।

पापा ने मम्मी की एक टांग उठा ली, मम्मी करवट लेकर सोफे पर लेटी थी, पापा ने उनकी चूत के मुँह पर लंड टिकाया और कहा- डार्लिंग, आज का कार्यक्रम शुरू करें?

मम्मी ने कहा- हाँ।

और मम्मी ने कहा- जय बोलो म**र भगवान की !

पापा और मम्मी एक साथ बोले- जय !

और ठीक जय के साथ ही पापा ने इतनी तेज झटका मारा कि पूरा लंड मम्मी की चूत में बैठ गया। मम्मी जोर से चिल्लाई- आ आआह !

पापा बिना रुके जोर जोर से धक्के लगाने लगे जैसे सड़क पर कोई कुत्ता किसी कुतिया को चोदते हुए लगाता है। मुझे विश्वास नहीं हुआ कि ये मेरे वही माँ बाप हैं, जो धर्म में बहुत आस्था रखते हैं।

पापा बहुत जोर जोर से धक्के लगा रहे थे, फिर उन्होंने मम्मी की चूत से लंड निकाला उनका लंड पूरी तरह चिकने पदार्थ से गीला हो रहा था। उन्होंने मम्मी को जमीं पर घुटनों के बल बैठा दिया। मम्मी अब सही में किसी कुतिया की तरह बैठी थी, पापा उनके पीछे आये और उनकी चूत में लंड डालकर जोर जोर से धक्के मारने लगे।

पापा ने पूछा- प्रभा, याद है यह डॉगी स्टाइल।

मम्मी ने कहा- हाँ ! यह मिस्टर बन्सल का पसन्दीदा स्टाइल था।

कहानी जारी रहेगी !

आप अपनी राय साईट पर ही कहानी के नीचे डिस्कस पर लिखें ! अपनी इमेल मैं अपनी पहचान गुप्त रखने के लिए नहीं दे रही हूँ !

सभी व्यक्तियों व स्थानों के नाम भी कुछ परिवर्तित हैं पर मिलते जुलते हैं !

Leave a Reply