मेरा गांडू भाई और मेरे चोदू यार-3

(Mera Gandu Bhai Aur mere Yar- Part 3)

This story is part of a series:

अब तक की सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि मेरे भाई ने मुझे मेरे ब्वॉयफ्रेंड के साथ चुदाई करते हुए देखा था, जिस वजह से मैंने अपने भाई को टटोलने की कोशिश की, तो मालूम हुआ कि वो गांडू किस्म का लड़का है और उसको गांड मरना पसंद है. मेरे पूछने पर उसने मुझे बताया कि उसको मेरे मम्मे देखना पसंद आता है.
अब आगे:

हम दोनों ऐसे ही बैठे थे, तब आदी बोला- दीदी, वो भैया कौन थे?

अब मेरे होश उड़ने की बारी थी.
मैं- कौन?
आदी- जो मॉल में मिले थे.
मैं- वो मेरा ट्यूशन फ्रेंड है, बताया तो था.

मैंने बात को बदलते हुए उससे पूछा- तुम लैपटॉप में वो सब क्या करते हो?
वो चुप हो गया.
मैंने उससे कहा- बताओ … मैं सब जानती हूं, जो तुम करते हो … अब बताओ ये सब क्या है? तुमको इतना ही शौक है, तो गर्लफ्रैंड बना लो … मेरे बाबू को तो कोई भी मिल जाएगी.
तब वो हिचकिचाते हुए बोला- मुझे लड़कियां पसंद नहीं हैं.

मैं तो समझ ही गई थी, फिर भी मैं उससे जानना चाहती थी. मैं बोली- तो फिर कौन पसन्द है?
अब वो चुप हो गया.
मैं- अरे बोलो न कि तुम्हें लड़के पसन्द हैं.
तब उसने हां में सर हिलाया, अब वो धीरे धीरे खुलने लगा और मैं भी खुश थी कि अब मेरी प्रॉब्लम खत्म हो गई.

मैं- तो बताओ … तुम्हें क्या क्या पसन्द है?
आदी- मैं क्या बताऊं दीदी, मुझे शर्म आ रही है.
मैं- अरे अब मुझसे क्या शर्मा रहे हो … बताओ न. अच्छा बताओ तुम मुझे नहाते हुए देखते थे न!

आदी ने सर हिला कर हां कहा.

मैं- तो कैसी लगती हूँ मैं तुम्हें? और जब तुम्हें ब्वॉय पसन्द हैं, तो मुझे क्यों देखते थे?
आदी- हां मुझे आपके बूब्स बहुत पसन्द हैं … इसलिए देखता था.

मैं उसकी बात सुनकर मन ही मन में हंसने लगी. मुझे समझ में तो आ गया था कि ये मेरे मम्मों को एक लड़की के मम्मे कैसे होते हैं, ये समझने की कोशिश करके देखता है. इसके मन में मुझे चोदने जैसा कोई विचार नहीं है. क्योंकि मेरे भाई का लंड किसी लड़की को चोदने के काम का नहीं था.
मैं- अच्छा तुमको मेरे बूब्स ही अच्छे लगते हैं, मैं नहीं?
आदी- आप भी बहुत अच्छी हो … वर्ल्डस बेस्ट सिस्टर.
उसने मेरे गाल पर किस कर दिया.
ये हमारे बीच में नार्मल ही था. हम पहले भी ऐसे किस करते रहे थे.

तभी मुझे डैडी का कॉल आया. उन्होंने बताया कि मम्मी यहां सीढ़ी से गिर गई हैं और उन्हें चोट लग गई है. इसलिए हम लोग अभी कुछ दिन नहीं आएंगे. तुम आदी का अच्छे से ख्याल रखना.
मैं बोली- ठीक है.
कॉल रख कर मैंने ये बात आदी को बताई कि मम्मी डैडी अभी कुछ दिन बाद आएंगे.

कुछ देर हम दोनों यूँ ही बात करते रहे. फिर मैं अपने रूम में आ गई और नहाने चली गई.

आज मैं बहुत खुश थी, तो मैं खुल कर एन्जॉय करके नहा रही थी. अब मैं चाहती थी कि आदी मेरे सामने अपनी सारी बातें करे, मुझे मेरे ब्वॉयफ्रेंड से चुदाई में मदद करे … और किसी से न बताए.

मैं नहा कर आज टॉवल में ही बाहर आ गई और अपने बाल सुखाने लगी.

तभी आदी अन्दर आ गया. वो ‘दीदी..’ बोल कर मुझे ऐसे देख कर चुप हो गया.
मैं बोली- हां क्या हुआ?
तो उसने कहा- आपके मोबाइल पर किसी का कॉल आ रहा है.
मैं बोली- ओके आने दो.
वो जाने लगा, तो मैं बोली- रुको, कहां जा रहे हो.
वो बोला- बाहर.
मैं- वैसे तुम मुझे छिप कर नहाते हुए देखते थे न … लो आज सामने देख लो.

यह कहते हुए मैंने तौलिया उतार कर बेड पर फेंक दिया और फिर मैं ऐसे ही नंगी होकर अपने बाल सुखाने लगी. वो मुझे बस देखे जा रहा था.

तब मैं हंस कर बोली- क्या हुआ कैसा लग रहा है मुझे पहली बार नंगी देख कर?
आदी- पहली बार कहां … काफी बार देख चुका हूं.

अब वो धीरे धीरे खुल रहा था और मैं भी अब उसे उकसा रही थी- और कब देखा है?
आदी- काफी बार देखा हूँ. कल रात को भी …
मैं- कल कब?
आदी- कल जब आप वो मॉल वाले भैया के साथ सेक्स कर रही थीं.

ये बात सुन कर मैं थोड़ी सहम गई कि इसने तो सीधा ही मुझे बोल दिया.
मैं- क्या बात कर रहे हो … तुम पागल हो गए हो.
आदी- दीदी झूठ मत बोलो. मैंने कल खुद देखा था और पहले भी काफी बार देखा था. राहुल के साथ भी और एक और लड़के साथ भी … मुझे सब पता है.

ये सुनकर मैं थोड़ा रुकी, फिर बोली- अच्छा … तुम्हें सब पता है, तो कुछ बोले क्यों नहीं … छिप छिप कर मेरी चुदाई देखते हो तुम?

मेरे मुँह से चुदाई शब्द सुनकर वो चुप हो गया. तब तक मैं टी-शर्ट पहन कर उसे लेकर बाहर आ गई. हम दोनों सोफे पर बैठ गए.

मैं- बोलो तुम्हें देखने में मज़ा आता है क्या?
तब उसने हां में सर हिलाया.
मैं- तो बस देखने में मज़ा आता है या करने का भी मन होता है?
आदी- हां होता है.
मैं- किसके साथ … मेरे साथ या मेरे ब्वॉयफ्रेंड के साथ?
आदी- ब्वॉयफ्रेंड के साथ.
मैं- अच्छा तो पहले कभी किसी ब्वॉय ने तुम्हारी गांड मारी है?
तब उसने कहा- हां मेरा जो फ्रेंड था न, जो घर आता था. उसने मेरी काफी बार मारी है. लेकिन अब उसकी फैमिली दूसरी सिटी में शिफ्ट हो गई है, इसलिए अब कोई नहीं है.

तब मैं सच में समझ गई कि मेरा भाई पक्का गांडू है.
मैं- तुम उसका लंड भी चूसते थे न.
आदी- हां.
मैं बोली- अच्छा तो बाबू कल वाली बात किसी को बताएगा तो नहीं न!
आदी- नहीं.
मैं- अच्छा, तो बता तुझे कैसा लगा कल वाला लड़का?
आदी- अच्छा था.
मैं- और उसका लंड?

तब वो स्माइल करने लगा.

मैं- कभी उतना बड़ा देखा है रियल में?
आदी- नहीं.
मैं- अच्छा तू मेरे कमरे में चल.

उसे मैं अपने कमरे में लेकर गई और उसको नंगा होने को बोली. मैंने उसे बेड पर लिटा दिया.

उसका लंड 3-4 इंच का था, मगर ढीला था. खड़ा होने के बाद 6-7 का हो सकता था.

मैं उसका लंड पकड़ कर बोली- ये खड़ा होता है या नहीं?
तब आदी ने कहा- नहीं.

मैं आदी का लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. काफी देर तक लंड चूसा, लेकिन लंड खड़ा ही नहीं हुआ.
तो मैं बोली- अपने कपड़े पहन लो.

ऐसे ही शाम हो गई, वो बाहर खेलने चला गया. मैं विक्की से बातें करने लगी.

फिर मैंने खाना बनाया. हम दोनों बहन भाई ने खाना खा लिया.

अब हम टीवी देख रहे थे. तभी विक्की का कॉल आया, मैं अपने कमरे में चली गई और उससे बातें करने लगी.

थोड़ी देर बाद बाहर गई तो आदी अपने कमरे में चला गया था. मैंने जाकर देखा, तो वो लैपटॉप में कुछ कर रहा था. मैंने अन्दर जाकर देखा, तो अपने उसी फेसबुक फ्रेंड से सेक्स चैट कर रहा था.
मैं उससे गुस्से से बोली- ये क्या कर रहे हो?
वो चुप हो गया.

फिर मैं बोली- क्या तुम रियल में करना चाहते हो?
इस पर वो खुश हो गया और बोला- हां मगर किसके साथ?
मैं बोली- विक्की के साथ … तुम बोलो तो मैं उसे बुला लूं?
वो बोला- उसके साथ कैसे करूंगा?
मैं बोली- आज तुम्हारी खातिर मैं तुमको सिर्फ उसका लंड चुसवा सकती हूं. अब बोलो उसे बुलाऊं क्या?
वो झट से बोला- हां बुला लो.

मैंने उसे पूरा प्लान समझा दिया और विक्की को कॉल करके अभी ही आने को बोल दिया.

विक्की ने बल्कि कहा भी आज इस समय क्यों बुला रही हो? तो मैंने कहा- यार कल ठीक से मजा नहीं आया था. तुम अभी ही आ जाओ.

उसे भी रात को मेरी लेने में मजा नहीं आया था, इसलिए वो भी आने को राजी हो गया.

विक्की से बात हो जाने के बाद मैं अपने कमरे में चली गई और वहां जाकर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और एक टी-शर्ट पहन ली. केवल टी-शर्ट पहन कर बाहर आकर मैंने आदी के रूम में गई.

मैंने उसे फिर से एक बार जताते हुए कहा जैसा बताया है, वो सब तुमको याद है न?
वो बोला- हां दीदी, सब याद है.

कुछ देर बाद विक्की का कॉल आया कि मैं आ गया हूं. मैं बाहर गई और उसे अन्दर लेकर आ गई.
मैं उसे बेडरूम में ले आई, तो उसने कहा- यार यहां नहीं … यहां तुम्हारा भाई आ जाएगा … हम बाहर वाले बाथरूम में ही चलते हैं, वहीं ठीक रहेगा.
मैं उससे नशीले अंदाज में बोली- आज कोई नहीं आएगा … मुझे बहुत आग लगी है, यहीं ठीक रहेगा.

मैंने ये कहते हुए उसे धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और अपनी टी-शर्ट उतार दी. उसके सामने मैं पूरी नंगी खड़ी हो गई थी.

विक्की आंख दबा कर बोला- आज बड़ी हॉट हो रही हो मेरी जान … तुम्हें क्या हो गया है? एकदम सन्नी लियोनी लग रही हो.
मैं हंस दी- अरे मेरे राजा कल पूरा मजा नहीं ले पाई थी, आदी आ गया था. आज पूरा प्लान करके, आदी को नींद की दो गोली दे दी हैं. वो अब सुबह ही उठेगा. तुम बेफिक्र मुझे चोद दो, मेरी आग बुझा दो. आज मैं कुछ अलग करना चाहती हूँ.
विक्की- क्या?
मैं- आज मैं ब्लाइंडफोल्ड सेक्स करना चाहती हूं.
विक्की- तो आओ … मैं तुम्हें पट्टी बांध देता हूँ.
मैं बोली- तुम नहीं … मैं तुम्हारी आंखों पर बांधूंगी और तुम्हारे हाथ भी बांधूंगी.

मेरी बात सुनकर उसने थोड़ी देर तक तो नखरे किए, पर बाद में मान गया.

मैंने उसकी टी-शर्ट उतार कर उसे बेड पर लिटा दिया. फिर अल्मारी से में से अपने 3 दुपट्टे निकाले और उसकी आंख पर अच्छे से बांध दिए. इसके बाद उसके दोनों हाथ साइड में बांध कर उसके ऊपर बैठ गई और उसे किस करने लगी. उसकी छाती चाटने लगी.

वो कामुक आवाजें करने लगा. मैंने उसकी पैंट भी उतार दी. वो अंडरवियर नहीं पहन कर आया था तो जैसे ही उसकी पैंट उतरी, उसका लंड उछल कर बाहर आ गया. मैं विक्की का लंड हाथ में लेकर हिलाने लगी.

वो उठने को हुआ, तो मैं विक्की से बोली- एक मिनट रुको … मैं आ रही हूँ.
वो जब तक बोलता कि कहां जा रही हो … तब तक मैं कमरे से बाहर चली गई थी.

मैं आदी के रूम में ऐसी ही नंगी गई और उससे बोली- चलो तुम्हारा काम हो गया … जल्दी से अपने कपड़े उतारो.

वो भी नंगा हो गया और मेरे पीछे आराम से आ गया. मैं उसके कान में बोली- आवाज़ मत करना … बस उसका लंड चूस कर चले आना.
वो बोला- ठीक है.
मैं अन्दर गई और आदी को शहद की बोतल देते हुए इशारे से बोली- जाओ … इसको टपका कर लंड चूस लेना.

मेरी सेक्स कहानी से आपको खूब मजा आ रहा है ना? मुझे आपके मेल का इन्तजार रहेगा.
[email protected]
कहानी जारी है.

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top