पायल बज गई

प्रेषक : राज पाल सिंह

हेलौ फ्रेंड्स,

मैं राज उम्र 37 साल गुड़गाँव निवासी एक बार फिर आपके सामने अपनी नई कहानी के साथ हाजिर हूँ।

जैसे कि मैंने आपको बताया था कि मेरा अपनी पत्नी के साथ महीने में लगभग एक या दो बार सैक्स हो पाता है। इसलिए मैं और मेरा एक दोस्त देवेन्द्र कभी-कभी घर में दिन में लड़की लाकर या कभी-कभी बाहर किसी काल-गर्ल के साथ सैक्स करते थे। मेरा दोस्त देवेन्द्र एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में सेल्स-मेनेजर है। वो हफ्ते में अकसर 3-4 दिन बाहर रहता है।

पायल से मेरी मुलाक़ात उसी ने करवाई थी। मेरे दोस्त को पायल बस में मिली थी। बस में ही उनका परिचय हो गया। रात काफी हो गई थी, इसलिये मेरे दोस्त ने पायल को घर तक छोड़ दिया। अगले दिन उसने मुझे पायल के बारे में बताया और यह भी बताया कि पायल की शक्ल मेरी एक पुरानी गर्ल-फ़्रेंड से मिलती है। मैं पायल से मिलने को बेचैन हो गया। मैंने मेरे दोस्त को पायल से मिलवाने के लिये कहा।

उसने पायल को फोन किया। पायल ने शाम को मार्केट में मिलने का वादा किया। शाम को हम दोनों पायल से मार्केट में मिलने गये। पायल को देख कर मैं वाकई हैरान रह गया। उसकी शक्ल मेरी एक पुरानी गर्ल-फ़्रेड रेखा से मिलती-जुलती थी। अगले दिन मैंने पायल को फोन किया और उसे मिलने को कहा। वो मिलने आई और हमने काफी देर बातचीत की और गाड़ी में घूमे। धीरे-धीरे पायल से मेरी मुलाक़ातें बढ़ने लगी। एक दिन मैंने पायल को फोन करके घर बुलाया।

पायल घर आई। हम दोनों ड्राइंगरूम में बैठ कर बाते करने लगे। फिर मैंने पायल से कुछ लेने को कहा। पायल ने मना किया तो मैंने पायल को कहा कि थोड़ी-थोड़ी बियर लेते है। पायल मान गई। मैंने बेडरूम में बियर व स्नैक्स का इंतजाम कर दिया। फिर हम दोनों बेडरूम में बैठ कर बियर पीने व बातचीत करने लगे। पायल ने जीन्स व टी-शर्ट पहनी थी। जीन्स की वजह से उसे बैड पर बैठने में दिक्कत हो रही थी। बार-बार वो अपने पैर इधर-उधर कर रही थी।

मैंने पायल को कहा कि जीन्स उतार कर आराम से बैठ जाए। पायल मना करने लगी। मैंने ज़िद की और लगभग जबरदस्ती उसकी जीन्स उतार दी। पायल लाल रंग की पैंटी में अपने पैर सिकोड़ कर बैठ गई। हम दोनों फिर से बियर पीने व बातचीत करने लगे। एक बियर खत्म होते ही मैं दूसरी खोलने लगा। पायल ने मना किया तो मैंने पायल को कहा कि थोड़ी-थोड़ी और लेते है। पायल मान गई।

जब दूसरी बियर की बोतल भी खत्म हो गई तो मैंने स्नैक्स की प्लेटें उठा कर अलग रख दी और पायल को छेड़ने लगा।

पायल ने कहा- क्या कर रहे हो?

मैं बोला- मौके का फायदा उठा रहा हूँ।

मैंने पायल को खींच कर अपनी गोद में लिटा लिया। फिर मैं पायल के बालों में हाथ फिराने लगा। फिर मैं उसके गालों पर हाथ फिराने लगा। फिर मैं उसकी टी-शर्ट के ऊपर से उसके स्तन दबाने लगा। पायल ने अपनी आंखे बंद कर रखी थी। फिर मैं उसकी टी-शर्ट के गले के अन्दर से हाथ डाल कर उसके सख्त हो चुके स्तन दबाने लगा।

फिर मैं उसकी टी-शर्ट को उतारने लगा तो पायल बोली,”क्या करते हो? प्लीज इसे मत उतारो। मुझे डर लगता है।”

मैंने कहा,”डरने वाली क्या बात है।” कह कर मैं फिर उसकी टी-शर्ट को उतारने लगा।

पायल बोली,”कोई आ जाएगा?”

मैंने कहा,”कोई नहीं आएगा !” कह कर मैंने ज़िद की और लगभग जबरदस्ती उसकी टी-शर्ट उतार दी।

पायल के गोरे-गोरे वक्ष गुलाबी ब्रा में फँसे थे। मैंने उठ कर मेन-दरवाज़ा बंद कर दिया। फिर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये और सिर्फ जौकी में पायल से लिपट गया। मैंने पायल का हाथ पकड़ कर उसे अपने साथ लिटा लिया। फिर मैंने लाईट बंद कर दी। कमरे में लाल रंग का नाइट लैम्प जल रहा था।

मैंने पायल को अपनी बाँहो में भर लिया। मैंने अपनी टांगे पायल की टांगों पर रख दी और मैंने अपने जलते हुए होंठ पायल के होंठों पर रख दिए। फिर मैं उसके नरम-नरम होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसने लगा। पायल ने मुझे अपनी बाँहो में कस लिया। मेरे हाथ पायल के जिस्म पर फिर रहे थे। कुछ देर बाद मैंने पायल को बैड पर सिधा लिटा दिया। फिर उसके चिकने पेट पर अपने जलते हुऐ होंठ रख दिए।

फिर मैं उसके नरम-नरम गोरे-गोरे पेट को अपने होंठों में भर कर चूसने लगा। पायल के मुँह से आह निकलने लगी। लगा। फिर मैं उसकी ब्रा के ऊपर से उसकी चूचियों को दबाने लगा। पायल ने अपनी आंखें बंद कर रखी थी। फिर मैंने उसकी ब्रा के अन्दर से हाथ डाल दिया।

कुछ देर बाद मैंने उसकी ब्रा भी उसके तन से जुदा कर दी। पायल ने कोई विरोध नहीं किया, उसके गुलाबी निप्पल को हल्के-हल्के मसलने लगा, फिर मैं अपने होंठों में भर कर चूसने लगा। पायल के मुँह से सिसकियाँ निकलने लगी। फिर मैं उसके पेट पर हाथ फिराते हुए उसकी पैन्टी के ऊपर से पाव रोटी की तरह उभरी हुई उसकी चूत को दबाने लगा। पायल ने अपनी आंखें बंद कर रखी थी। मैं उसकी पैन्टी के अन्दर से हाथ डाल कर उसकी चिकनी और क्लिन-शेव चूत पर हाथ फिराने लगा।

थोड़ी देर बाद मैं उसकी पैन्टी को उतारने लगातो पायल बोली “प्लीज इसे मत उतारो।” पायल ने मेरा हाथ पकड़ लिया, बोली “नहीं इसे मत उतारो !”

मैंने कहा,”देखो पायल हम कुछ करेंगे नहीं ! बस कपड़े उतार कर नंगे एक दूसरे से लिपट कर लेटेंगे और प्यार करेंगे !” कह कर मैंने उसकी पैन्टी उतार दी।

पायल का नंगा बदन और उसकी चिकनी चूत लाल रौशनी में नहाकर लाल हो गये। मेरा लण्ड तन कर खड़ा हो गया था और जौकी को फ़ाड़ कर बाहर आने को हो रहा था। मैंने जौकी उतार कर फेंक दी। फिर मैं पायल से लिपट गया।

मैंने पायल को अपने साथ सटा कर लिटा लिया। मेरा लण्ड तन कर पायल की चिकनी चूत से टकरा रहा था। मैं पायल की चिकनी टांगों पर हाथ फिराने लगा। फिर मैं पायल की चूत पर हाथ फिराने लगा। फिर हाथ फिराते-फिराते मैंने अपनी उँगलियाँ पायल की चूत के अन्दर डाल दी। फिर उंगलियों से पायल की चूत की फाँक को खोलने और बन्द करने लगा। फिर पायल की चूत के दाने को रगड़ने लगा। पायल के मुँह से सिसकियां निकलने लगी।

मेरा लण्ड पायल की जांघों से रगड़ खा रहा था। मैंने पायल का हाथ पकड़ कर अपने लण्ड पर रख दिया। पायल ने मेरा लण्ड अपने हाथ में थाम लिया। वो मेरे लण्ड को अपने हाथ में दबाने लगी। मेरा लण्ड तन कर और भी सख्त हो गया था। पायल मेरे लण्ड को मुठ्ठी में भर कर उपर-नीचे और आगे-पीछे करने लगी। मैं पायल की चूत मारने को बेताब हो रहा था।

मैंने पायल को कहा “पायल जरा सा इसे ऊपर घिस लूं क्या ? बहुत मन हो रहा है !”

पायल कुछ नहीं बोली। मैंने इसे ही पायल की हाँ समझ लिया। मैं पायल के ऊपर लेट गया। पायल का नंगा जिस्म मेरे नीचे दबा हुआ था।

मैं अपने लण्ड को मुठ्ठी में भर कर पायल की चूत के दाने के उपर-नीचे करके रगड़ने लगा। फिर मैं अपने लण्ड को पकड़ कर पायल की चूत के अन्दर डालने की कोशिश करने लगा। पायल ने मेरा लण्ड अपने हाथ में थाम लिया। वो मेरे लण्ड को अपने हाथ में दबाने लगी। फिर पायल मेरे लण्ड को मुठ्ठी में भर अपनी चूत के दाने के ऊपर रगड़ने लगी। कुछ देर बाद पायल की चूत से कुछ चिकना-चिकना सा निकलने लगा था।

शायद उसको यह करना अच्छा लग रहा था। वो मेरे लण्ड को अपनी चूत से रगड़े जा रही थी। मुझे बहुत ज्यादा उत्तेजना हो रही थी। इसी उत्तेजना में मैंने पायल का हाथ पकड़ लिया।

मैंने पायल को कहा,”कुछ करें क्या ? बहुत मन हो रहा है। लाओ मैं करता हूँ।”

पायल कुछ नहीं बोली।

उसके मुँह से सिसकियाँ निकलने लगी थी। वह बोली,”प्लीज ऐसे ही करते रहो !”

मेरा लण्ड तन कर और भी सख्त हो गया था। मैं पायल को चोदने को बेताब हो रहा था। पायल की चूत से फिर से कुछ चिकना-चिकना सा निकलने लगा था। फिर मैं अपने लण्ड को पकड़ कर पायल की चूत के अन्दर डालने की कोशिश करने लगा।

पायल ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली।”प्लीज कंडोम तो लगा लो ! मुझे डर लगता है।”

मैंने बैड की दराज में से कंडोम निकाल कर अपने लण्ड पर लगा लिया। पायल ध्यान से मुझे कंडोम लगाते देख रही थी। फिर मैं पायल के ऊपर लेट गया। पायल का नंगा जिस्म मेरे नीचे दब गया। फिर मैंने अपने जलते हुऐ होंठ पायल के होंठों पर रख दिए और मैं उसके नरम-नरम होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसने लगा। उसने भी मुझे अपनी बाँहो में भर लिया। मेरा लण्ड पायल की जांघों के बीच फंसा हुआ था। कुछ देर बाद मैंने अपने लण्ड को पायल की चूत के सुराख पर लगा दिया और फिर मैंने हल्का सा ज़ोर लगाया। मेरे लण्ड का सुपाड़ा पायल की चिकनी चूत में घुस गया। पायल के मुँह से आह निकली। उसने मुझे अपनी बाँहो में कस लिया और अपनी आँखें कस कर बन्द कर ली।

मैंने थोड़ा और जोर लगाया। मेरा लगभग आधा लण्ड पायल की चूत में घुस गया। पायल के मुँह से सिसकियाँ निकलने लगी। फिर मैंने तीसरा और आखिरी धक्का दिया तो मेरा पूरा लण्ड पायल की चूत में समा गया। पायल के मुँह से जोर से आह निकली और उसने मुझे अपनी बाँहो में पूरी ताकत से कस लिया। मैंने भी पायल को अपनी बाँहो में भर लिया। मैं उसके नरम-नरम होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसने लगा ताकि वो अपना दर्द भूल जाए। मेरा पूरा लण्ड पायल की चूत के अन्दर समाया हुआ था। हम दोनों ने एक दूसरे को इस कदर अपनी बाँहो में जकड़ा हुआ था कि हवा भी हम दोनों के बीच से पास नहीं हो सकती थी। पायल का नंगा जिस्म मेरे नंगे जिस्म के नीचे दबा हुआ था। मेरी टांगें पायल की टांगों के बीच में फँसी हुई थी। मैं पायल के माथे पर, फिर आँखों पर तथा फिर गालों को किस करने लगा। पायल भी मेरे गालों को किस करने लगी।

कुछ देर हम दोनों इसी तरह से एक-दूसरे को चूमते रहे। फिर मैंने अपने लण्ड को धीरे से पायल की चूत से थोड़ा सा बाहर निकाला और फिर अपने लण्ड को धीरे से उसकी चूत में अन्दर घुसा दिया। फिर मैं अपने लण्ड को धीरे-धीरे से उसकी चूत के अन्दर-बाहर करने लगा। कुछ देर बाद पायल ने अपनी टांगें ऊपर की तरफ मोड़ ली और मेरी कमर के दोनों तरफ लपेट ली। मैं अपने लण्ड को धीरे-धीरे पायल की चूत के अन्दर-बाहर कर रहा था। धीरे-धीरे मेरी रफ़्तार बढ़ने लगी।

हम दोनों बियर के तथा सैक्स के नशे में चूर हो रहे थे। पायल को भी मजा आने लगा था। वो मेरे हर धक्के का स्वागत कर रही थी। उसने मेरे हिप्स को अपने हाथों में थाम लिया। अब वो भी नीचे से मेरे धक्कों के साथ-साथ अपने हिप्स उपर-नीचे कर रही थी। जब मैं लण्ड उसकी चूत में से बाहर खींचता तो वो अपने हिप्स ऊपर उठा देती। जब मैं लण्ड उसकी चूत के अन्दर घुसाता तो वो अपने हिप्स पीछे खींच लेती। मैं तेज-तेज धक्के मार कर पायल को चोदने लगा।

मैं बैड पर हाथ रख कर पायल के ऊपर झुक कर तेजी से उसकी चूत मारने लगा। अब मेरा लण्ड उसकी चिकनी चूत में तेजी से आ-जा रहा था। वो भी अब आँखें खोल कर चुदाई का भरपूर मजा ले रही थी। मैं पायल को पागलों की तरह से चोद रहा था। अब मैं पूरी तेजी से पायल के ऊपर कूद-कूद कर उसे चोद रहा था। पायल इस चुदाई तथा बियर के नशे से मदहोश हो रही थी।

मैंने रुक कर पायल से कहा “पायल अच्छा लग रहा है क्या?”

पायल बोली,”प्लीज रुको मत। तेज-तेज करते रहो।”

पायल के मुँह से यह सुन कर मैंने अपनी रफ्तार और बढ़ा दी। मैंने पायल के हिप्स को हाथों से जकड़ लिया और छोटे-छोटे मगर तेज-तेज शॉट मार कर पायल को चोदने लगा।

पायल के मुँह से मस्ती में “ओह्ह्ह्ह्ह्होहोहोह सिस्स्स्स्स्स्सह्ह्ह्ह्ह्ह्ह हाहाह्ह्हआआआआ हा-हा करो-करो ऽअआह हाहअआ प्लीज तेज-तेज करो।”

मैं पायल के ऊपर लेट गया और मैंने पायल को अपनी बाँहो में भर लिया। फिर मैंने अपने होंठ पायल के होंठों पर रख दिए और मैं उसके नरम-नरम होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसते हुऐ उसे और तेजी से चोदने लगा। पायल भी अपने होंठों से मेरे होंठों को चूसती हुई मजे से चुदाई का मजा ले रही थी। लगभग 5 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसते हुऐ चुदाई का मजा लेते रहे।

फिर अचानक पायल ने मुझे कस कर अपनी बाँहो में भर लिया। उसने अपने होंठ मेरे होंठों से अलग करके एक जोर से आह भरी। मैं समझ गया कि पायल डिस्चार्ज हो गई है। मैं भी डिस्चार्ज होने वाला था, इसलिये मैं तेज-तेज धक्के मार कर पायल को चोदने लगा। पायल आँखें बंद करके मेरे डिस्चार्ज होने का इंतजार कर रही थी। लगभग 2 मिनट तक पायल को तेज-तेज चोदने के बाद मैं पायल की चूत के अन्दर कंडोम में डिस्चार्ज हो गया।

कुछ देर तक मैं पायल के ऊपर लेटा रहा और अपनी तेज-तेज चल रही सांसों को काबू में आने का इंतजार करता रहा। पायल मेरे नीचे आँखें बंद करके लेटी हुई थी। कुछ देर बाद मैंने अपना लण्ड पायल की चूत में से बाहर खींच लिया।

फिर उठ कर अपने लण्ड पर से कंडोम उतार कर डस्टबिन में फेंक दिया। फिर अपने अन्डरवियर से अपना लण्ड साफ करके पायल की बगल में लेट गया। पायल आँखें बंद करके लेटी हुई थी। कमरे की लाल रौशनी में उसका गोरा और नंगा बदन लाल हो कर चमक रहा था। कुछ देर बाद पायल मेरी तरफ करवट ली और अपनी टांग मेरी टांगों पर रख दी। फिर वो मेरी छाती के बालों पर हाथ फिराने लगी।

फिर पायल बोली,”हो गई तुम्हारे मन की।”

मैंने कहा,”हाँ बहुत अच्छा लगा। मजा आ गया !” कह कर मैंने करवट ले कर पायल को अपनी बाँहो में भर लिया। फिर कुछ देर तक हम ऐसे ही लिपटे हुऐ बातचीत करते रहे।

तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी यह कहानी ? मुझे मेल करेंगे ना ?

Download a PDF Copy of this Story पायल बज गई

Leave a Reply