लण्ड की प्यासी रोशनी-3

फिर मैंने देर न करते हुए उसकी पैंटी को भी उससे अलग कर दिया और फिर उसके पैरों को थोड़ा फैलाया।

“हाय क्या चूत थी !” यारों एकदम क्लीन शेव्ड गुलाबी ! और मेरे चुम्बन के वजह से बहुत गीली हो चुकी थी।

उसकी चूत एकदम कसी हुई थी, जिसे देखकर अच्छों-अच्छों की लार टपक जाए। मेरे साथ भी वैसा ही हुआ। उसकी चूत को देखकर मेरे लण्ड से और मेरे मुँह से लार टपकने लगी।

फिर मैंने उसके पैरों को थोड़ा और फैलाया और अपना सर उसके दो पैरों के बीच में घुसेड़ दिया और उसके गीली चूत को चाटने लगा।

मेरे ऐसा करने से उसको बहुत मजा आ रहा था। मुझे उसकी चूत की सुगंध और स्वाद से बहुत ज्यादा चुदास चढ़ रही थी। मैंने उसकी चूत को अब चाटना शुरू किया और अपने एक हाथ से उसके भग को मसलना शुरू किया। वो अपनी कमर को हवा में उछालने लगी, मानो एकदम से खुद पर काबू खो दिया हो उसने।

अब मैं उसकी चूत में अपने जीभ को नुकीला करके उसकी चूत में डाल रहा था और उसकी चूत के गुलाबी से ‘मुकुट’ को सहला रहा था।

और वो जोर-जोर से बोल रही थी- आह्ह…उम्म्म… उम्…आह्ह…उफ्फ्फ…उम्म्म… सुनील बस करो… अब कण्ट्रोल नहीं होता…प्लीज अपना लण्ड मेरी चूत में डाल दो… मुझे मत तड़पाओ !!

मैं उसे और थोड़ा गर्म करना चाहता था, तो मैंने उसके चूत को चाटना और उसके दाने को रगड़ना जारी रखा।

अब मैं उसकी चूत को कुल्फी की तरह चाट रहा था और उसके चूत में अपने जीभ को अन्दर-बाहर कर रहा था। वो भी अपने नितम्ब उठा-उठा कर अपनी चूत मुझसे चटवा रही थी।

उसकी चूत बहुत गर्म थी, जिसका एहसास मुझे अपनी जीभ से हो रहा था। उसके चूत को चाटने से वो एकदम से आउट ऑफ़ कंट्रोल हो चुकी थी और आवाजें निकाल रही थी।

कुछ और चटवाने के बाद उसने अपने दोनों पैर पूरी तरह फैला दिए, वो अपनी चूत एकदम मजे ले-ले कर चुसवा रही थी और बड़बड़ा रही थी, “आय लव यू सुनील ! आज मुझे चूत चटवाने का असली मजा मिला है ! तुम बहुत अच्छे से मेरी चूत को चूस रहे हो उम्म… उम्म्म… उफ्फ्फ… उम्म्म…!”

मुझे महसूस हुआ कि वो अब झड़ने वाली है लेकिन मैंने उसके चूत को चाटना जारी रखा। मैं उसकी चूत की चिड़िया को अपने होंठों के बीच में दबा कर ऊपर को खींचने लगा तो वो और जोर से कामातुर हो उठी- आह्ह… उम्म… आआह… उम्म्म… उफ्फ्फ्फ..

लेकिन मैं नहीं रुका और उसकी चूत को धीरे-धीरे अपनी जीभ से लगातार चाटता रहा। वो बोलने लगी- सुनील मैं झड़ रही हूँ, मैं झड़ रही हूँ… हे भगवान् आह्ह… आआह… उम्म… आह्ह… सुनील मैं झड़ने वाली हूँ।

और यह कहते हुए उसने अपना पूरा पानी मेरे मुँह में छोड़ दिया और मैं उसका सारा पानी गटक गया।

पानी निकलने के बाद वो कुछ देर के लिए मछली की तरह तड़पने लगी। वो मुझे जोर से चिपटाने लगी और मुझे पागलों की तरह चूमने लगी।

फिर मैंने भी उसको अपनी बांहों में भर लिया। उसके रज से भिड़े मेरे होंठों को उसने अपने होंठों से सटा लिया और अपनी जीभ को मेरे मुँह में डाल कर खुद अपने रज का स्वाद लेने लगी।

मैं लगातार उसका साथ दे रहा था और उसके उभारों को मसलता रहा, वो मेरे लण्ड को ऊपर-नीचे करती रही।

करीब 5 मिनट के बाद अब हम दोनों फिर से चुदाई के लिए तैयार हो चुके थे, अब मैंने उसके पैरों को थोड़ा फैलाया और अपने लण्ड का सुपारा उसकी गर्म चूत पर रख दिया।

“उम्म… उम्म्म… सुनील प्लीज़ और मत तड़पाओ… मेरी चूत में अपना लण्ड डाल दो… मैं बहुत दिनों से लण्ड की प्यासी हूँ, प्लीज मेरी प्यास बुझा दो… अब बर्दाश्त नहीं होता !”

लेकिन मैं उसको और तड़पाना चाहता था, तो मैंने अपने लण्ड के सुपाड़े को उसकी चूत पर रगड़ना शुरू किया। वो एकदम से गिड़गिड़ाने लगी, और मुझसे ‘लंड-दान’ की भीख मांगने लगी, उफ्फ… उम्म्म… उम्म्म… आआह्ह्ह्ह… की आवाजें निकालने लगी।

मेरे सुपारे की रगड़ से उसकी चूत एक बार फिर उबलने लगी, तो मैंने उस पर रहम खाते हुए अपने लण्ड को उसकी चूत में डालना शुरू किया।

लेकिन वो सिर्फ 4 बार चुदी थी, तो मेरा लण्ड उसकी चूत में आसानी से नहीं जा रहा था। मैंने थोड़ा धक्का लगाया, चूत के रस से सराबोर होने के कारण मेरा सुपारा फंस गया।

तो वो चिल्ला उठी- आह हह धीरे डालो… दर्द हो रहा है।

फिर मैंने अपने लण्ड को बाहर निकाला और फिर एक जोरदार धक्का मारा और मेरा लण्ड 5 इंच अन्दर घुस गया।

वो जोर से चीख पड़ी- अआह्हह… आआह्ह… जल्दी निकालो इसे… बहुत दर्द हो रहा है।

लेकिन मैंने लण्ड को नहीं निकाला और उसके ऊपर छा गया। वो तड़प रही थी, लेकिन मैं लण्ड को निकाल लेता तो उसे फिर से और दर्द होता। फिर थोड़ी देर के बाद उसको थोड़ा चैन मिला और फिर मैंने अपने लण्ड को अन्दर-बाहर करना शुरू किया।

अब 7-8 धक्कों के बाद मेरा 7 इंच का लण्ड उसकी चूत में पूरी तरह घुस गया। उसकी चूत पानी छोड़ने लगी जिससे मेरा लण्ड चिकना हो गया और आसानी से अन्दर-बाहर होने लगा।

उसे दर्द तो हो रहा था, लेकिन कुछ देर बाद उसे भी मजा आने लगा। वो भी अब आहें भर भर कर मुझसे चुदवाने लगी।

अब मैंने धक्कों की रफ़्तार बढ़ा दी और उसे जोर-जोर से चोदने लगा। पूरा कमरा हम दोनों की सिसकारियों से गूंज रहा था।

“आआह्ह… उफ्फ… उफ्फ…आआह ह्ह्ह…” की आवाजें निकल रही थी।

अब मेरा लण्ड चिकनेपन की वजह से सटासट अन्दर-बाहर होने लगा था। वो भी अपनी कमर उछाल-उछाल कर मुझसे चुदवा रही थी।

फिर मैं उसको चूमने चाटने लगा और एक हाथ से उसके उभार को मसलने लगा। अपने लण्ड को उसकी चूत में अन्दर बाहर करता रहा, उसे बहुत मजा आ रहा था और मैं भी बहुत मजे कर रहा था। आखिर ऐसी लड़की बार-बार कहाँ मिलती है !
अब मैंने धक्कों की रफ़्तार थोड़ी धीमी की।

तो वो बोली- अब मत रुको प्लीज, और जोर से पेलो… अपना लण्ड, आज जी भर के मुझे चोदो ताकि यह दिन मैं हमेशा याद रख सकूँ।

और मैंने वैसा ही किया, मैंने अपने धक्कों की रफ़्तार बढ़ा दी, वो और जोर से सिसकारियाँ भरने लगी।

“आह्ह… आआह.. उफ्फ… तुम बहुत अच्छा चोदते हो सुनील ! आआह्ह.. आआह्ह… मेरे बॉयफ्रेंड ने कभी ऐसी चुदाई नहीं की मेरी, उम्म्मम्म… आआह्ह्ह्ह… और जोर से चोदो उम्म्म… उम्म्म…!”

करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद वो 2 बार झड़ चुकी थी, जिससे उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी। चूत में लण्ड जाने के वजह से कमरे में फच्च..फ़च्छ की आवाजें आ रही थीं।

अब मैं अपनी चरम सीमा पर पहुँच चुका था और मैं झड़ने वाला था, मैंने रोशनी से कहा- मैं झड़ने वाला हूँ।

तो उसने कहा- मैं प्रेग्नेंट नहीं होना चाहती, प्लीज मेरे अन्दर मत झड़ना।

तो मैंने कुछ और धक्के लगाए और जब मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने अपने लण्ड को बाहर निकाला और उसके पेट पर सारा माल छोड़ दिया।

फिर उसने पूरे वीर्य को अपनी पेट पर तेल की तरह मल लिया और मेरे लण्ड से जो पानी टपक रहा था, वो सब चाटने लगी।

मैं फिर उसके बगल में लेट गया और हम दोनों प्यार भरी बातें करने लगे। कुछ देर बाद वो फिर मेरे लण्ड को पकड़ने लगी और मैं उसके उभार को पकड़कर मसल रहा था।

इतनी मेहनत के बाद हम बहुत थक चुके थे। लेकिन हम दोनों में जोश इतना था कि हमारे लण्ड और चूत फिर से चुदासे हो चुके थे।

अब वो मेरे लण्ड को सहला रही थी और मैं उसके उभार को, और साथ में हम चूम रहे थे। फिर वो उठी और मेरे लण्ड के तरफ पलटी और फिर उसने मेरा लण्ड मुँह में ले लिया और चूसने लगी।

उसके मुँह का स्पर्श पाते ही मेरा लण्ड एक बार फिर खड़ा हो गया और एक बार फिर हम एक और दौर के लिए तैयार हो गए।

इस बार मैंने रोशनी को घोड़ी की तरह बनने के लिए कहा और वो घुटनों के बल झुककर एक कुतिया की तरह बन गई।

अब मैंने उसकी पीठ को थोड़ा सहलाया, चूमा और फिर अपना लण्ड उसकी चूत में पीछे से डाल दिया जैसे कुत्ता डालता है !

इस बार मेरा लण्ड आसानी से उसकी चूत में चला गया और मैं उसकी कमर को पकड़ कर उसकी चूत में अपना लण्ड अन्दर-बाहर करने लगा।

“हाय…क्या मजा आ रहा था डौगी स्टाइल में उसको चोदने का। उसके चूतड़ एकदम उठे हुए थे, तो उसकी चूत में धक्का मारते समय मुझे अपने पेट पर उसके मस्त पिछवाड़े के स्पर्श का मजा मिल रहा था।

उसकी गांड देख देखकर मेरा लण्ड और सख्त होता जा रहा था। अब मैंने अपने धक्कों की रफ़्तार तेज की और उसकी चूत को जोर-जोर से चोदना चालू किया और वो आह्ह… आआह्ह… उफ्फ.. उफ्फ्फ… आ आअ ह्ह.. की आवाजें निकालने लगी।

मैं बीच में रुकता, उसकी पीठ को चूमता और फिर उसकी चूत में लण्ड अन्दर-बाहर करने लगता। हम दोनों को ही बहुत मजा आ रहा था।

सच में जब दोनों लोग एक्सपर्ट हों तो सेक्स करने का मजा ही कुछ और होता है।

करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मैं फिर से झड़ने वला था। इस दौरान वो एक बार और झड़ चुकी थी, उसकी चूत में से उसका पानी टपक रहा था जो एकदम साफ़ दिखाई दे रहा था।

उसके चूत अब बहुत गीली हो चुकी थी और उसके चूत थोड़ी और फैल चुकी थी। मेरा लण्ड एकदम रॉकेट की तरह उसके चूत से आर-पार हो रहा था।

अब मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ, तो मैंने कहा- रोशनी मैं झड़ने वाला हूँ, तुम्हारी चूत बहुत गर्म है, मेरे लण्ड का सारा पानी निचोड़ रही है… उफफ्फ… तुम्हारी चूत उम्म… उम्म्म्म…उम्म्म…

तो वो भी बोल पड़ी- मेरी चूत तुम्हारे लण्ड का रस पीने ही तो आई है, कितने दिनों से प्यासी थी मेरी चूत, तुम्हारे जैसे एकदम जानदार लण्ड का पानी पीने के लिए !

अब मैं कुछ सेकंड में झड़ने वाला था तो इस बार मैंने अपना सारा पानी उसके नितम्बों पर गिरा दिया। फिर उसने मेरे वीर्य से अपने नितम्बों की मालिश कर ली।

अब हम दोनों एकदम थक चुके थे और एक दूसरे से लिपट कर सो गए और कब शाम के 6 बज गए, कुछ पता ही नहीं चला। हमारी नींद भी तब खुली, जब उसकी सहेली का फ़ोन आया।

वो उसके बारे में पूछ रही थी कि वो आज क्लास क्यों नहीं आई ! इतनी देर हो गई कहाँ है?

तो उसने बताया कि उसके शहर से उसकी सहेली आई हुई थी, वो एक होटल में ठहरी है तो उसके साथ ही थी।

फिर उसने जाने की तैयारी की और अपने कपड़े पहनने लगी। थोड़ी देर बाद वो कपड़े पहन कर तैयार हो गई, मेरे पास आई, तब तक मैंने भी अपने कपड़े पहन लिए थे, उसने मुझे एक बहुत ही प्यारा सा चुम्बन दिया और मेरे गले से लग गई।

मैं उसको छोड़ने बाहर उसके साथ निकला। रास्ते में मैंने उसे कॉफी पीने के लिए कहा, तो पहले उसने ऐतराज किया लेकिन मेरे जोर देने पर वो मान गई, हमने एक होटल में कॉफी पी, थोड़ी बातें की फिर वो रिक्शा करके चली गई।

तीसरे दिन वो फिर होटल आई और हमने पूरी दोपहर मजा किया। तो इस तरह लण्ड की प्यासी रोशनी ने अपनी अधूरी प्यास बुझाई।

हम दोनों अभी भी छुट्टियों में मिला करते हैं, चुदाई का आनन्द लेते हैं।

मुझे उम्मीद है कि आप लोगों को मेरी कहानी पसन्द आई होगी, मुझे आप अपने विचार मेल करें।

Leave a Reply