लण्ड की प्यासी रोशनी-2

अब हम दोनों एक-दूसरे को अपनी बांहों में जकड़े हुए थे और एक दूसरे को ‘आय लव यू’, ‘आय लव यू’ कह रहे थे।

फिर कुछ देर तक एक-दूसरे से चिपके रहने के बाद, हम दोनों ने अपनी पकड़ थोड़ी ढीली की। मैंने फिर से उसकी आँखों में देखते हुए उसके माथे को चूम लिया।

उसने मुझे फिर से चिपका लिया। हम दोनों तो पहले से ही चुदाई के लिए तैयार थे। बस सोच रहे थे, कि कैसे चालू करें। अब तो हमारी शुरुआत भी हो चुकी थी।

तो देर किस बात की थी? मैंने उसका माथा चूमते हुए अपने होंठ उसके होंठों पर सटा दिए और एक जोरदार चुम्मा किया। उसने भी मेरा साथ दिया। एक बार फिर हम एक-दूसरे की आँखों की गहराइयों में देखने लगे। फिर उसने अपने होंठ मेरे होंठों से चिपका दिए। अब वो पागलों की तरह मेरे होंठों को चूसे जा रही थी और मैं उसका साथ दे रहा था।

फिर मैं उसको दीवार के पास ले गया और उसको दीवार से उल्टा चिपका दिया। उसके टॉप को थोड़ा ऊपर उठा कर उसकी चिकनी पीठ को धीरे-धीरे चाटने और चूमने लगा। अब मैंने उसकी गर्दन और पीठ को पीछे से चूमना शुरू किया और उसके पूरे बदन पर अपने हाथ फेरने लगा।

फिर मैंने अपने लण्ड को पैंट के अन्दर से निकाला और उसकी जींस के ऊपर से उसकी पिछाड़ी की दरार में सटा दिया और कपड़ों के ऊपर से ही अपने लण्ड को उसकी गांड पर रगड़ने लगा। ऐसा करने से वो एकदम से ‘आह्ह… उम्म्म… आआह्ह्ह… आह्ह्ह….’ की आवाजें निकालने लगी।

फिर मैंने उसका चेहरा अपनी तरफ किया और उसे चूमने लगा। फिर करीब 5 मिनट की चुम्मा चाटी के बाद मैं उसको बेड पर ले गया। उसको बेड पर लिटा दिया।

फिर मैंने उसके माथे को चूम लिया। फिर उसकी गर्दन को चूमा, फिर उसके कान को हल्का सा काटा जिससे उसके मुँह से ‘आह्ह्ह्ह…’ की आवाज निकल गई। फिर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ सटा दिए और उसकी जीभ को अपनी जीभ से चाटने और चूसने लगा।

हाय क्या रसीली जीभ थी उसकी !

और हम दोनों की जीभ एक दूसरे से ऐसे सट रही थीं, मानो जैसे दो तलवार आपस में लड़ रही हों।

उसके होंठ और जीभ इतने रसीले थे कि क्या बताऊँ ! मन तो कर रहा था कि उसके होंठ और जीभ को काट खाऊँ।

अब उसके होंठों को आज़ाद करता हुआ मैं थोड़ी देर उसकी गर्दन को चूमता रहा। फिर मैंने अपना एक हाथ उसके गोल चूचियों पर रख दिया और उनको मसलने लगा।

“हाय क्या चूचियाँ थी उसकी ! एक बार हाथों में लेने के बाद तो उनको छोड़ने का मन ही नहीं कर रहा था। मेरे हाथ का एहसास पाते ही उसकी चूची और फूल गई, उसके निप्पल कील की तरह नुकीले हो गए।

अब मैं कुछ देर तक उसके होंठों को चूमता रहा और उसके चूचियों को दबाता रहा। वो बस ‘ऊम्म… उफ्फ… उम्म’ की आवाजें निकलती रही।

फिर मैंने उसके टॉप को और उसकी जींस को उसकी काया से अलग किया। उसने काली ब्रा और काली ही पैंटी पहन रखी थी। जो उसके गोरे बदन पर एकदम से कमाल लग रही थी।

उसने अब मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और मेरे ऊपर आ गई, वो मेरे कपड़े निकलने लगी। मैंने पैंट और शर्ट पहनी हुई थी। उसने मेरे शर्ट को उतारा और मेरी छाती पर हाथ फेरते हुए मेरे छाती पर एक चुम्बन लिया। उसके ऐसा करते ही मेरे अंग-प्रत्यंग में मानो करेंट दौड़ गया हो। मेरी पूरी इमारत हिल गई।

फिर उसने मेरे पेट पर चुम्बन किया जिससे मेरा शरीर लहरा गया। फिर उसने मेरे शर्ट को मेरे जिस्म से पूरी तरह जुदा कर दिया और मेरे पैंट को खोलने लगी। पहले तो उसने मेरा पैंट का बेल्ट खोला फिर पैंट का हुक खोला और फिर चैन को खोलते हुए मेरे पैंट को निकाल फेंका। अब मैं अंडरवियर में था और वो ब्रा एंड पैंटी में।

मेरे कपड़े निकालने के बाद रोशनी एक बार फिर मेरे होंठों को चूसने लगी। वो अपना एक हाथ मेरे छाती एंड पेट पर घुमा रही थी। उसके ऐसा करने से मुझे एक अजीब गुदगुदी और मजा आ रहा था, वो एक तजुर्बेकार की तरह सब कुछ कर रही थी।

फिर मेरे होंठों को चूमते हुए उसने अपना हाथ मेरे अंडरवियर में डाल दिया और मेरे लण्ड को पकड़ कर सहलाने लगी। उसके हाथों का एहसास पाते ही मेरा लण्ड फनफना कर खड़ा हो गया, और मेरे मुँह से ‘उफ्फ्फ्फ़…’ की आवाज निकल गई।

अब उसके होंठ मेरे होंठ से सटे पड़े थे और उसके हाथ मेरे लण्ड को सहला रहे थे जिससे मेरा लण्ड पूरी तरह से खड़ा हो चुका था। उसकी चूत की प्यास बुझाने के लिए एकदम तड़प रहा था।

अब उसने मेरे होंठों को चूमती हुई मेरी छाती को चूमा और फिर कुछ देर मेरे पेट को चूमा। फिर मेरे अंडरवियर से मेरे लण्ड को निकाल कर देखने लगी। मेरा लण्ड एकदम से तन चुका था।

मेरा 7 इंच का लण्ड देखकर उसके चेहरे पर ख़ुशी की लहर दौड़ गई। उसने मेरा लण्ड को थोड़ा सहलाया, थोड़ा ऊपर नीचे किया और फिर मेरे लण्ड के सुपारे को धीरे-धीरे अपने मुँह में लेकर चाटने लगी। वो बहुत ही धीरे-धीरे मेरे सुपारे को चाट रही थी और मैं एकदम से आउट ऑफ़ कण्ट्रोल हो रहा था। मेरे मुँह से बस ‘उफ्फ उफ्फ्फ आह्ह्ह’ की आवाजें निकल रही थीं।

वो एक बहुत अच्छी ‘लण्ड-चूसू’ थी। कुछ देर मेरे सुपारे चाटने के बाद उसने मेरा पूरा लण्ड अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया। मैं तो एकदम स्वर्ग में पहुँच गया था। मुझे तो इतना मजा आ रहा था कि क्या बताऊँ !

अब वो मेरे लण्ड को अपने हाथों में लेकर हिला-हिला कर चूस रही थी, मानो उसको बहुत दिनों के बाद लॉलीपॉप मिला हो।

‘हाय, बहुत मजा आ रहा था।’

मेरा लण्ड तो झटके मार रहा था, मेरे लण्ड में तूफ़ान मचा हुआ था और उसकी जीभ मेरे लण्ड को और उत्तेजित कर रहे थे। मुझे उस वक़्त परम सुख का आनन्द हो रहा था।

मेरे मुँह से बस यही शब्द निकल रहे थे- रोशनी, आज तुमने मुझे खुश कर दिया है, तुम बहुत अच्छे से मेरे लण्ड को चूस रही हो। मेरे सुपारे को धीरे-धीरे प्यार से चाटो मेरी जान ! उफ… बहुत मजा दे रही हो तुम, मेरे लण्ड को अच्छी तरह चाट डालो उम्म्म…

करीब 10 मिनट तक वो मेरे लण्ड को चाटती रही और मैं उसके बालों को सहलाता रहा, फिर मुझे लगा कि अब मैं झड़ने वाला हूँ, तो मैंने रोशनी से कहा- मैं झड़ने वाला हूँ।

लेकिन वो मेरा लण्ड चूसने में इतनी मगन थी कि उसे कुछ सुनाई ही नहीं दे रहा था। वो मेरे लण्ड को लॉलीपॉप की तरह चूसे जा रही थी, और मैं एकदम चरम सीमा पर पहुँच गया था।

फिर मैंने जोर से कहा- रोशनी, मैं झड़ने वाला हूँ !

तो उसने कहा- झड़ जाओ… जान मुझे तुम्हारा पूरा रस पीना है।

यह बोल कर वो फिर से मेरा लण्ड चूसने लगी। अब मैं काबू से बाहर था, फिर कुछ देर बाद मेरे लण्ड में वीर्य भर गया।और मैंने एक जोर की पिचकारी उसके मुँह में मार दी। जिससे वो थोड़ा पीछे हटी तो थोड़ा पानी उसके मुँह में और थोड़ा बाहर गिर गया लेकिन जितना उसके मुँह में था, उसने वो सारा पी लिया।

पिचकारी मारने के बाद मेरा लण्ड थोड़ी देर के लिए सो गया, तो वो फिर से मेरे लण्ड के साथ खेलने लगी और मेरे लण्ड को हिलाने लगी और मेरे सुपारे को चाटने लगी फिर 5 मिनट बाद मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया।

अब उसने मेरे लण्ड के पानी को पूरी तरह साफ़ कर दिया था और उसकी लण्ड चुसाई की वजह से मेरा लण्ड एकदम चिकना हो गया था। अब मैं उठ कर बैठ गया और उसको बिस्तर पर लिटा दिया, उसके होंठों को चूमने लगा। फिर मैंने उसकी ब्रा को उसकी चूचियों से अलग किया, जिससे उसकी चूचियाँ बाहर आ गईं।

‘हाय क्या रसभरी चूचियाँ थी ! उसकी चूचियाँ एकदम गोल, ना ज्यादा बड़ी, ना छोटी एकदम टाईट ! पता नहीं कितनी हिरोइनों को पीछे छोड़ दे। उसकी गोल चूचियाँ एकदम फूली हुई थी और चूचुक एकदम नुकीले हो चुके थे।

मैंने उसकी चूचियों पर अपना मुख रख दिया और अपने मुँह से उसके चूचुकों को चूसने लगा। अपने एक हाथ से उसके एक स्तन को मसलने लगा।

मेरे ऐसा करने से वो उफ.. उम्म… उम्म..उफ्फ..आह्ह्ह… उफ्फ… की आवाजें निकालने लगी और अपने पैरों को एक दूसरे से रगड़ने लगी।

अब मैं उसके चूचुकों को चूस रहा था और उसके चूचियों को मसल रहा था, वो मेरे बालों को सहला रही थी। यह सिलसिला करीब 5 मिनट चला। फिर 5 मिनट उसके उभार मसलने और उसके चूचुक चूसने के बाद मैं उसके पेट को चूमता हुआ नीचे आया और उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को चूम लिया।

वो जोर से आह ह्ह… करके चिल्ला उठी। अब मैंने उसको उल्टा लेटा दिया और उसके पीठ को धीरे-धीरे चाटने और चूमने लगा और वो उम्म्म… उम्म्म… की आवाजें निकालने लगी।

फिर मैं उसकी पीठ को चूमता हुआ उसकी कमर तक गया और मैंने उसकी कमर पर चुम्बन धरा। फिर उसके चूतड़ों की तरफ बढ़ा। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

‘हाय रे उसके नितम्ब ! कितने गोल थे ! उसके उभारों की तरह उठे हुए !’

फिर मैंने उसकी पैंटी को थोड़ा सरकाया और उसके पिछवाड़े पर चूम लिया और वो एकदम से अपने कूल्हे हिलाने लगी जैसे उसको कोई करेंट दे रहा हो।

फिर मैं उसके चूतड़ों को चूमते हुए उसकी रान को चूमने लगा और उसकी दूसरी जांघ को सहलाने लगा। उसे बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी।

हम दोनों की आह्ह… आह्ह्ह… उफ्फ… उफ्फ्फ.. उम्म…. की आवाजों से पूरा कमरा गूंज रहा था।

फिर मैं उसकी जाँघों को चूमता हुआ उसके एड़ियों तक पहुँच गया और फिर उसके पैर की उंगली को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा।

वो तो एकदम सिहर उठी और पागल सी हो गई और जोर से उम्म… अआह… उम्म्म… उम्म्म… की सिसकारियाँ भरने लगी।

अब मैंने अपने खड़े लण्ड को उसके चूतड़ों के बीचों-बीच टिका दिया और उसके ऊपर ही छा गया। उसके नितम्ब फूले हुए थे, जिससे उसकी गांड की दरार में मेरा लण्ड थोड़ा छुप सा गया।

अब मैंने अपने लण्ड को उसकी गांड के बीच रगड़ना शुरू किया और उसकी पीठ पर हल्का हल्का सा चुम्बन करता रहा। वो तो मानो एकदम बहकती जा रही थी, उसकी जुबान से अब उम्म… उम्म… उफ्फ… की सिसकारियाँ निकल रही थीं।

थोड़ी देर तक अपना लण्ड रगड़ने के बाद फिर से मैंने उसको सीधा लिटा दिया, मैं थोड़ा ऊपर गया और उसकी नाभि में अपने जीभ को धंसाना शुरू किया। मेरे ऐसा करने से उसे बहुत मजा आ रहा था।

फिर मैंने अपने एक हाथ को उसके पैंटी के ऊपर रख दिया और उसके चूत को रगड़ने लगा। वो तो एकदम से पागल हो गई और अपने नितम्ब उठा-उठा कर ऊपर-नीचे करने लगी।

फिर मैंने देर न करते हुए उसकी पैंटी को भी उससे अलग कर दिया और फिर उसके पैरों को थोड़ा फैलाया।

कहानी जारी रहेगी।

मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें- [email protected]

Leave a Reply