होस्टल के मजे

प्रेषक : नीरज़ गुप्ता

अन्तर्वासना के सभी साथियों को अभिवादन !

अन्तर्वासना पर ज्यादातर कहानियो में यह लिखा होता है कि शेष कहानी अगली बार बताऊंगा !

अरे यार ! क्या अगली बार तक कोई व्यक्ति उसी मूड में रह सकता है?

क्या तब तक आदमी अपना लंड पकड़ कर या औरत अपनी चूत में उंगली डाल कर बैठी रहेगी?

जो लिखना है वो उसी वक्त पढ़ने के काम आएगा और उसी वक्त मजा देगा !

आप लोगों का प्यार मुझको वास्तविक और साइंस आधारित कहानियाँ और लोगों के अनुभव लिखने को प्रेरित करता है। यह भी इसी तरह एक और जानकार के जीवन के कुछ अंश हैं।

मैं एक बात बता दूँ कि मैं स्वयं सेक्स में बहुत रूचि रखता हूँ, एवं घनिष्टता जिस किसी से भी बढ़ी, हम लोग सेक्स की बातों में बहुत रूचि लेते हैं और आपस में वार्तालाप भी करते हैं।

मैंने साइंस से पढ़ाई की और कई बायोलोजी की एवं सेक्स से सम्बंधित अन्य किताबों को मिलने पर उनको अच्छी तरह से पढ़ा। इससे कई तरह के फंडे क्लिअर हुए।

इसका फायदा ये होता है कि हम सेक्स के ज्ञान को तो बढाते ही हैं, नया अनुभव भी जानने को मिलता है और मनोरंजक सेक्स को और भी आनंदित बनाने में मदद भी मिलती है.

एक लड़का रमेश मेरे संस्थान में पढ़ने आया, यह उसकी कथा है !

मेरी जिस से भी पटरी बैठी वो सब बोलने में मेरी तरह तमीजदार और अपने रिश्तों में विश्वास रखने वाले रहे हैं, अर्थात माँ के पेट से बने रिश्तों की इज्जत करने वाले। गन्दी भाषा में बात करने वालो को मैं पास भी नहीं फटकने देता हूँ।

जब रमेश पढ़ाई कर रहा था तो इसके साथ इसके मामा का लड़का और लड़की तीनो होस्टल में रह कर पढ़ाई करते थे। तीनों को अलग अलग कमरे मिले हुए थे। इसके मामा की लड़की का नाम हम रीटा मान लेते हैं। ख़ुद रमेश लगभग पांच फुट नौ इंच कद का है। सुता हुआ शरीर और बोलने में तमीजदार।

रीटा की एक सहेली भी होस्टल में ही थी। रमेश का दिल उस लड़की स्वाति पर था। धीरे धीरे दोनों में घनिष्टता बढ़ने लगी। जैसा कि विपरीत सेक्स वालों में होता है, फ़िर आपस में थोडी बहुत सेक्स से रिलेटेड बातें भी होने लगी।

जब भी दोनों अकेले मिलते हाथ फेरने का सिलसिला भी चलने लगा। और क्योंकि होस्टल में रहते थे इसलिए मौका भी काफी था। स्वाति को भी मजा आता था। वो भी एक ऐसे घर से सम्बंधित थी जो परम्परा में बंधा था। इसलिए स्वाति भी एक हद से ज्यादा बढ़ने में डरती थी। इसलिए हाथ फेरने में बोबे तक तो सब कुछ चलता था लेकिन जैसे ही रमेश नाभि से नीचे हाथ डालने लगता स्वाति उठकर कमरे से बाहर भाग कर ख़ुद के कमरे में आ जाती।

रमेश ने उसको पूछा भी कि मजा आता है तो उसने बताया कि हाँ सनसनाहट होती है। लेकिन आगे नहीं बढ़ेंगे। रमेश ने भी स्वाति को जाहिर कर दिया कि जब तक तू अपने मुह से सेक्स के लिए नहीं बोलेगी तब तक मैं सेक्स नहीं करूँगा।

अब रमेश ने नाभि से नीचे जब भी बढ़ना होता स्वाति को भींच के बैठता ताकि वो उठ कर यूँ न भाग जाए और उसके बोबे दबाता धीरे धीरे टोपर ऊपर करके ब्रा खोलकर उसके बोबों को मसलता। तो स्वाति की आहें निकल जाती और आँखें गुलाबी डोरों में लिपट जाती। लेकिन एक सीमा के बाद वो छुडा कर भाग जाती।

रमेश भी इरादे का एकदम पक्का था। वो लगा रहा कि कभी तो बहार आएगी। कोई भी मौका नहीं छोड़ता। मिलते ही मसलना, चूमना , जीभ चूसना बदस्तूर चलता।

क्रम से रमेश आगे बढ़ता रहा। स्वाति को भींच कर बैठता उसके बोबे नंगे करता, चूसता। आहों से कमरे में संगीत गूंजने लगता। होटों में होंट लेके चूसता, स्वाति भी साथ देती। लेकिन जब भी चूत की ओर बढ़ने की बारी आती स्वाति के मन में भारतीय परम्परा सर उठाती और जो उसने अपने पति के लिए इतने वर्ष सम्हाल कर रखा उसको यू किसी को सौंप देना उसको गवारा ना होता। जाने कैसे उसने अपने आपको कंट्रोल किया हुआ था।

अब रमेश उसको ज्यादा ध्यान से पकड़ कर रखता ताकि भागने का मौका कम से कम मिले। अब रमेश सलवार के ऊपर चूत पर हाथ फेरने लगा। उसकी चूत की दरार में भी मसलने लगा। स्वाति की हालत पहले से ज्यादा ख़राब होने लगी।

लेकिन मानना होगा स्वाति को। सच में ऐसी होती हैं भारतीय लड़कियां। उस ने चार महीने इसी तरह से कंट्रोल किया। जाने ख़ुद के कमरे में जाने के बाद वो कैसे अपनी चूत की खुजली को काबू करती होगी। लेकिन उस ने अपने मुंह से नहीं बोलना था तो नहीं बोली सेक्स के लिए.

रमेश भी पक्का डीठ। वो कसम खाए बैठा था। उसके मामे का लड़का उकसाता था कि गधे देख मैंने भी तेरे साथ ही मेरी दोस्त से सेटिंग की थी। मैं उसको चोद चुका और तू है कि तपस्या कर रहा है। लेकिन फ़िर भी रमेश ने बड़ी तसल्ली से अपनी जिद पकड़े रखी।

आख़िर एक शनिवार को स्कूल में जल्दी छुट्टी हो गई तो जो भी स्टुडेंट आसपास के गाँव से थे घर जाने वाले थे वो सब चले गए। लेकिन ये चारों और कुछ स्टुडेंट और भी थे जो नहीं गए। लेकिन होस्टल थोड़ा सूना हो गया।

रात को लगभग १० बजे जब रीटा और मामा का लड़का सो गए तो रमेश स्वाति के कमरे के दरवाजे पर थाप दे कर दरवाजा खुलने पर स्वाति के कमरे में आ कर दरवाजा बंद कर के स्वाति को लिए हुए उसके बिस्तर पर आ गया।

स्वाति को बाँहों में लिए उसके होटों को चूसना शुरू कर दिया। स्वाति ने भी साथ दिया। वो भी चूसने लगी। और अपनी जीभ निकाल कर रमेश के मुह में डाल दी। रमेश ने एक हाथ स्वाति के बोबों पर ले कर बोबे दबाने लगा और दूसरा हाथ स्वाति की गर्दन पर कस दिया।

धीरे धीरे दोनों की आँखे मदमस्त होने लगी। सेक्स का सुरूर स्वाति पर चढ़ने लगा। उसकी साँसे भारी होने लगी।

वो भी रमेश की जीभ चूसने लगी। रमेश ने स्वाति की कमीज के बटन खोल दिए फ़िर बोबे दबाने लगा। थोडी देर में हाथ स्वाति की पीठ के पीछे ले कर उसकी ब्रा के हुक को भी खोल दिया। और मुह नीचे लाकर स्वाति के बोबे चूसने लगा। स्वाति की आहें निकलने लगी। कमरे में इस नए संगीत के साथ सेक्स की गर्मी चढ़ने लगी। अब रमेश ने स्वाति के सलवार का नाडा खोलकर सलवार नीचे सरका दी और पैंटी के ऊपर से चूत पर हाथ फेरने लगा।

एक तो बोबे चूस रहा था फ़िर चूत भी सहला रहा था। स्वाति लम्बी लम्बी गरम साँसे लेने लगी और वो आँखें बंद किए लेटी थी।

आज स्वाति के पास कमरे से भाग जाने का कोई रास्ता नहीं था। वो ख़ुद के ही कमरे में थी। और रमेश के पास भरपूर टाइम था।

रमेश ने स्वाति की पैंटी और सलवार को उतार कर टांगो से बाहर किया। अब स्वाति नीचे से पूरी नंगी थी। फ़िर रमेश ने स्वाति की चूत की दरार में ऊँगली कर के धीरे धीरे सहलाने लगा। आज स्वाति हीटर की तरह तप गई।

अब उस से कंट्रोल नहीं हो रहा था। और वो इंतजार कर रही थी। कि काश उसको सेक्स के लिए नहीं बोलना पड़े और रमेश ख़ुद ही उस को चोद दे।

लेकिन रमेश फोरप्ले में लगा हुआ था। उसका लंड कड़क ठोस हो चुका था। रमेश ने अब अपनी पैंट और अंडरविअर उतार दिए और लंड को स्वाति को पकड़ा दिया और ख़ुद स्वाति कि नाभि की और झुक कर नाभि में जीभ डाल कर चूसने लगा। स्वाति की साँसे चढ़ गई। वो हिचकियाँ लेने लगी और रमेश को पकड़ कर अपने ऊपर लेने लगी। रमेश पक्का डीठ हो गया। वो फ़िर स्वाति के बोबे चूसने लगा।

स्वाति की चूत पानी छोड़ने लगी। बिस्तर गीला होने लग गया। आख़िर जब ऐसी हालत हो गई तब रमेश ने स्वाति को कहा कि देख अब सेक्स के लिए बोल दे नहीं तो आज मैं चला जाऊंगा।

आख़िर स्वाति ने रमेश को बोला कि प्लीज मेरे साथ सेक्स करो।

अब रमेश स्वाति की टांगे चौड़ी कर के बीच में घुटनों के बल बैठ गया और स्वाति की चूत पर हाथ लगा कर गीला छेद ढूंढ कर अपने लंड को उस छेद पर टिकाया और स्वाति की टांगो को घुटनों से मोड़ कर अपने घुटने स्वाति के घुटनों के नीचे देता गया इस कारण से रमेश का लंड स्वाति की चूत पर बहुत अच्छी तरह से सेट हो गया अब रमेश ने लंड पर जोर लगाया चूत में घुसा देने को।

लेकिन नहीं जा पाया और स्वाति का मुंह दर्द से लाल होने लगा। फ़िर एक बार रमेश ने जोर लगाया लेकिन फ़िर नहीं गया। तो एक जोर से धक्का लगा कर लंड को जबरदस्ती से थोड़ा घुसा दिया। अब स्वाति को खूब तेज ब्लेड से कटने जैसा एहसास हुआ और उसका मुंह लाल हो गया और उस पर पीड़ा की लकीरें आ गई, बहुत मुश्किल से उसने चीख निकलने से बचाया। स्वाति ने होंट दांतों के बीच दबा लिए। इधर रमेश का भी दर्द के मारे हाल अच्छा नहीं रहा। लेकिन अब चुदाई तो पूरी करनी थी ना। इसलिए और धक्के मार कर पूरा लंड स्वाति की चूत में उतार दिया और स्वाति के ऊपर लेटता गया।

स्वाति को धीरे धीरे किस किया अपने हाथ बोबों पर लेकर सहलाने लगा। और धीरे धीरे स्वाति के होंट चूसने लगा। पहले तो स्वाति ने कोई सहयोग नही दिया फ़िर जैसे जैसे उसका दर्द कम हुआ वो फ़िर गर्म होने लगी। लगभग १० मिनट बाद स्वाति क्रियाशील होने लगी। लेकिन अब भी सामान्य नहीं थी।

फ़िर धीरे धीरे धक्के लगा कर रमेश ने चोदना शुरू किया। उसने अपनी जीभ स्वाति के मुंह में दे दी और धीरे धीरे धक्कों की रफ़्तार बढ़ाता गया जैसे जैसे ओर्गास्म नजदीक आता गया धक्के तेज लगने लगे। स्वाति को मजा और दर्द दोनों हो रहे थे और वो इन्तजार कर रही थी कि चुदाई कब पूरी हो। स्वाति को ओर्गास्म हुआ लेकिन मजा नहीं आया और दर्द को सहते हुए रमेश ने भी स्वाति की चूत की तराई कर दी।

थोडी देर में जब लंड ढीला होकर बाहर आया तो रमेश ने अपना लंड देखा तो सुपाड़े के पीछे का धागा कट चुका था, सुपाड़े के ऊपर की खाल भी पीछे होकर कर लंड पर आ गई थी और लंड ३-४ जगह से छिल गया था।

उधर स्वाति की चूत भी खून से लिप गई थी। दोनों ने नेपकिन से लंड और चूत साफ़ किए और कपड़े पहन लिए।

अगले दिन रमेश ने स्वाति को दर्द के लिए दवाई की दूकान से गोली लाकर दी।

बस गनीमत यह हुई कि इस चुदाई से स्वाति को गर्भ नहीं टिका। दोनों ही नादानी में बिना किसी साधन के काम कर गए।

एक बात और भी थी। कि स्वाति भी क्षत्रीय ही थी। एक दिन दोनों को आपस में एक दूसरे की आँखों में देखते रीटा ने देख लिया। लेकिन चुप रही और अकेले में स्वाति से पूछा तो स्वाति ने बता दिया कि वो रमेश को पसंद करती है। फ़िर रीटा ने रमेश से पूछा तो रमेश ने भी बता दिया कि स्वाति उसको पसंद है।

रीटा ने अपने फूफा यानि रमेश के पिता से और स्वाति की माताजी से बात की और स्वाति के पिताजी को रमेश के घर रिश्ता लेकर भेजा। दोनों की सगाई हो गई।

फ़िर एक दिन मौका पाकर रात को रमेश ढाणी में अपनी ससुराल मोटरसाईकिल पर १०:३० पर पहुँच गया। स्वाति को उसने मोबाइल पर बता दिया। मोटरसाइकिल उसने दूर खड़ी की। रात को ढाणी में लोग जल्दी सो जाते हैं और स्वाति ने धीरे से दरवाजा खोल कर रमेश को अन्दर लिया। दोनों रसोई में घुस गए। स्वाति ने बाकी पिता और भाई दोनों के कमरों के बाहर से धीरे से सांकल लगा दी।

फ़िर दोनों ने रसोई में जश्न किया। दो घंटे वो मजे करते रहे। दोनों ने ही खुल कर सेक्स का मजा लिया। इस बार भी स्वाति थोड़ा चिंतित थी लेकिन अब के दर्द नहीं हुआ तो खुल कर खेली। इस बार रमेश ने कंडोम काम लिया। फ़िर रमेश अपने गाँव चला आया।

रमेश बता रहा था कि सर चूमना, चूसना, दबाना, हाथ फिराना, जो जो मैं कर सकता था किया, और स्वाति ने खूब साथ दिया और मजे भी लिए ………

जब मैंने रमेश को कहा कि पगले पहली बार में इतना दर्द करने की क्या जरूरत थी। ऊँगली डाल कर ओ आकर में घुमा कर थोड़ा तो चूत का छेद चौड़ा कर सकता था न। ना तो स्वाति को दर्द होता न तुझको इतनी दिक्कत उठानी पड़ती। और थोड़ा तेल ही लगा लेता। तो रमेश बोला कि सर किसी ने बताया ही नहीं कि दर्द कम भी हो सकता है। ये तो अब आपने बताया। मेरे मामा के लड़के ने भी नहीं सिखाया।

सच में दूसरी बार में मजा आया। पहली बार में तो दर्द से मजा ही नहीं आया। पहली बार में तो चोदने की रस्म पूरी की बस………..

अब २ महीने बाद उनकी शादी है।

रमेश ने कहा कि सर मुझको क्या पता था जिस लड़की के साथ मैं मजे के लिए चुदाई कर रहा हूँ उसी के साथ शादी हो जायेगी।

तो मैंने कहा कि ये तो बहुत अच्छा है। कम से कम तुझको तो पता है न कि वो कुंवारी लड़की है। वरना खेली खाई मिलती तो भी तो सब्र करना पड़ता। फ़िर जिसको तूने चोदा वो भी तो किसी की पत्नी बनती ही न। फ़िर यार आदमी ही लड़की को चालू करता है तो लड़की को दोष देना बेकार है। फ़िर सेक्स पर किसी का जोर थोड़े ही है। सबको अच्छा लगता है। मजे कर, खुश रह।

यदि आपको कहानी अच्छी लगी और कोई भी परेशानी शेयर करना चाहते हो या दोस्ती खास कर स्त्रियों से तो लिखिए, आपका स्वागत है.

नीरज गुप्ता

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! होस्टल के मजे

प्रातिक्रिया दे