छवि की बेवफाई

प्रेषिका : रिया सैनी

हाय दोस्तो, मेरा नाम इशा है, मैं लुधियाना में रहती हूँ। यह मेरे एक दोस्त की कहानी है। जैसा कि हम अन्तर्वासना के नियमित पाठक हैं तो मेरे दोस्त ने उसकी और छवि की कहानी आपके सामने रखने को कहा।

अब आप सोच रहे होंगे न कि यह छवि कौन है, तो मैं आपको बता दूँ मैं, रजत और छवि तीनों एक ही स्कूल के विद्यार्थी थे।

छवि का रजत के साथ चक्कर था। छवि इतनी सुन्दर तो ना थी पर उसका फिगर देख के मुझे भी जलन होती थी, उसकी उम्र उस समय 19 साल थी। उसके मम्मे तो एकदम गोल-गोल और 34 इन्च के थे। रंग एकदम गोरा, लंबे बाल, गोल-गोल चूतड़ !

रजत उसे शुरु से बहुत पसंद करता था और हमेशा उसे चोदने के बारे में ही सोचता था। उस समय हमारी आपस में बहुत अच्छी बनती थी, हमारे +2 के इम्तिहान ख़त्म हुए थे, हम तीनों ने मूवी का कार्यक्रम बनाया पर माँ के बीमार होने के कारण मैं जा ना पाई और मैंने उन दोनों को जाने को कहा।

उसके आगे क्या हुआ, वो सब मैं रजत ने जैसा बताया, उसी तरह लिख रही हूँ। इस कहानी में कितनी सच्चाई है, यह आप सब खुद बताना क्योंकि मैं सबकी तरह पहले कुछ नहीं कहूंगी।

रजत और छवि सुबह दस बजे वेवज सिनेमा गए। रजत ने दो टिकेट पहले ही बुक करा ली थी। उसने जान बूझ कर किसी इंग्लिश पिक्चर की टिकेट ली। पिक्चर शुरू हो गई, ज्यादा लोग नही थे वहाँ, इसलिए रजत ने अँधेरे का खूब फायदा उठाना शुरू कर दिया। पहले तो दोनों में प्रगाढ़ चुम्बन हुआ, छवि गर्म हो गई, दोनों एक दूसरे के कामांगों पर हाथ फिराने लगे। इतने में छवि ने रजत के लंड को पकड़ लिया और मसलने लगी।

तभी रजत ने भी मौके का फायदा उठाते हुए छवि की लेगिंग्स में हाथ डाल दिया। इतने में गार्ड विजिट पर आ गया और दोनों एक दूसरे से अलग हो गए।

इतने में रजत ने छवि को बड़े प्यार से कहा- शोना हम कहीं और चलें, जहाँ सिर्फ हम दोनों हों बस, और कोई न हो !

शायद छवि के मन में भी चोर था तो उसने जवाब में कहा- शोना तो ‘पूरा अपनी जान का है, तो जहाँ वो ले जाना चाहे ले जाये !’

इतने में दोनों उठे और बाहर आ गए, रजत उसे अपने फार्म हाउस में ले गया जो लुधियाना से थोड़ी ही दूर जगराओं में है। वहाँ उन दोनों के सिवा कोई नहीं था।

अपने कमरे में ले जाकर उसने दरवाजा बंद कर दिया। उसके बाद वो बिस्तर पर उसके साथ बैठ गया और बातें करने लगे। बातें करते करते उसने उसके कंधे पर हाथ रखा और उसके होंठों पर चूमने लगा। यह चुम्बन 15 मिनट तक चलता रहा और फिर उसकी छाती पर हाथ फिराना शुरु कर दिया।

उसने विरोध नहीं किया और धीरे धीरे उसके पेट से होता हुआ उसकी चूत को लेगिंग्स के ऊपर से हाथ सहलाने लगा।

अब रजत के होंठ उसके होंठों को चूम रहे थे और एक हाथ उसके वक्ष पर और एक हाथ उसकी चूत पर था।

अब वो धीरे धीरे उसकी गर्दन और उसके बाद उसके स्तनों को कुर्ती के ऊपर से चूसने लगा तो उसके मुंह से अजीब से आवाजें आने लगी। रजत समझ गया कि अब वो गर्म हो चुकी है।

उसके बाद उसने धीरे धीरे एक हाथ कमीज के अन्दर डाल दिया और ब्रा के ऊपर से उसके स्तनों को दबाने लगा।

बाद में रजत ने उसकी कुर्ती उतार दी, वो कुछ नहीं बोली क्योंकि वो पूरी तरह गर्म हो चुकी थी। उसने सेक्सी लेस वाली काली ब्रा पहन रखी थी और वो अपने स्तन अपने दोनों हाथों से छुपाने लगी। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

समय न गंवाते हुए रजत ने उसे दोबारा चूमना चाटना शुरु कर दिया और उसकी ब्रा के ऊपर से चूचियों को सहलाता रहा।

फिर उसकी पीठ पर हाथ ले जाकर उसकी ब्रा के हुक भी खोल दिये।

अब वो रजत के सामने बिल्कुल टॉपलेस थी।

अब रजत उसकी लेगिंग्स धीरे धीरे उतारनी शुरु कर दी। उसकी लेगिंग्स उतारने के बाद वो उसकी चूत को उसकी काली पैंटी के ऊपर से चूमने लगा। तो वो और जोर से ‘जान… जान…’ बोल कर ‘आ… ई…इ…इ…इ सिसकारियाँ लेने लगी।

धीरे धीरे उसने उसकी पैंटी को भी उतार दिया और उसकी चूत को चूमने लगा।

तब छवि ने रजत के कपड़े उतार दिए और कहने लगी- ‘शोना, प्लीज़ हग मी !’

फिर रजत ने उसे बेड पर लेटा दिया, फिर रजत ने उसकी टाँगें खोली और देर न करते हुए अपना 5 इंच का लंड उसकी चूत में डालने लगा तो वो और जोर से सिसकारियाँ लेने लगी। रजत ने धीरे धीरे उसकी चूत में लण्ड घुसाना चाहा पर उसका लंड एक झटके में ही अन्दर चला गया।

रजत यह देख कर बहुत हैरान हुआ कि छवि की चूत की सील पहले से ही न सिर्फ़ टूटी है पर वो कफ़ी खुली भी थी, रजत का लण्ड बिना किसी अवरोध के बड़े आराम से अंदर चला गया फिर भी उसने चुदाई जारी रखी।

छवि सिसकारियाँ ले रही थी, उसके मुँह से ‘आ… आआ… इ… ई… ईई… शोना लव यू… शोना लव यू… निकल रहा था।

रजत उसे 15 मिनट तक चोदता रहा और उसकी चूत में ही झड़ गया।

लगभग 15 मिनट आराम करने के बाद दोनों उठे। अब दोपहर होने लगी थी और उसने घर भी जाना था तो दोनों ने अपने आप को फ़्रेश किया और रजत उसको घर के पास छोड़ कर आ गया।

फिर रजत ने मुझे बताया- छवि बहुत चालू गश्ती है, वो पहले से ही खूब चुद चुकी है।

इसलिए रजत ने उसे छोड़ दिया पर यह मुझे पता था कि छवि पहले भी कई लड़कों से चुद चुकी है।

उन सबके बारे में मैं जल्द ही अन्तर-वासना के पाठकों को बताऊँगी।

आपको मेरी कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करें !

Download a PDF Copy of this Story छवि की बेवफाई

Leave a Reply