आखिरी मुलाकात

प्रेषक : आदित्य कश्यप

आप लोगों ने मुझे जो ईमेल और प्यार भेजा, उसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद !

मैं फिर से हाजिर हुआ हूँ यह बताने के लिए उसके आगे क्या हुआ था।

हमारी पहली चुदाई के बाद फिजा (बदला हुआ नाम) की शादी उसके माँ बाप ने किसी और से तय कर दी। मुझे बहुत दुख हुआ कि मेरी जिन्दगी में एक ही तो है, वो भी चली जाएगी तो उसके गम ने मुझे इतना ज्यादा परेशान कर दिया कि मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ, पढ़ने का भी मन नहीं कर रहा था और इसी कारण मेरे नंबर भी कम आये थे जिसके कारण घर वालों से सुनने को मिला करती थी।

लेकिन मैं करता भी क्या !

जैसे जैसे दिन करीब आ रहे थे मुझे डर लग रहा था क्योंकि 24 जनवरी को उसकी शादी थी। दोस्तों के और आप लोगों के मेल मिले तो सोचा कि चलो उसको भगा कर ही ले जाओ। लेकिन रहता कहाँ पर ! अपना तो कोई दूसरा घर भी नहीं था और जॉब की तो मैं सोच भी नहीं सकता था, अभी बी कॉम भी पूरा नहीं हुआ था तो क्या करता मैं। इससे परेशान होकर मैंने दोस्तों के साथ ड्रिंक करना शुरु कर दिया। कभी दोस्तों ने कहा कि ‘यार भूल जा उसे’ लेकिन भूल कैसे सकता था, प्यार जो इतना करता था उससे !

धीरे धीरे दिन बीतने लगे, मैं अपनी जिन्दगी में बहुत उदास हो चुका था, तभी एक दिन पता लगा कि वो आई थी मेरे से मिलने के लिए, लेकिन मैं बाहर गया हुआ था काम से, तो मिल नहीं पाया। उसने मेरे दोस्त को बोला कि जब वो आये तो बोलना कि मैं फिजा मिलने के लिए आई थी।

मैं दो दिन बाद आया तो दोस्त ने बताया- यार तेरी गर्लफ्रेंड आई थी, बहुत परेशान लग रही थी, एक बार उससे मिल ले !

मैंने तुरंत उसका नंबर मिलाया तो बंद आया। मैं बहुत परेशान हो गया कि क्या करूँ?

तब सोचा कि उसके घर पर ही चला जाता हूँ, वहाँ पर गया तो पता चला कि सगाई के लिए वो बाहर गए हैं। मैं वापस आ गया, मैंने उसकी एक सहेली को कहा कि जब वो आये तो बोलना कि मैं मिलने के लिए आया था।

आखिर एक दिन उसने किसी दूसरे फ़ोन से मुझे फ़ोन किया और मिलने के लिए बुलाया।

मिलने के बाद उसने जो मुझे बताया तो मेरे तो होश ही उड़ गए, उसने बताया कि उसके घर वालों को पता चल गया है हमारे रिश्ते के बारे में और इसी कारण उन्होंने मेरी शादी जल्दी करने का कदम उठाया है।

मैंने कहा- अब क्या होगा?

तो वो बोली कि प्यार तो मैं भी तुमसे करती हूँ लेकिन अपने घर वालो के खिलाफ नहीं जा सकती, मेरी शादी भले ही किसी और से हो जाये लेकिन दिल तो तुम्हारा है, तुम्हारा था, और तुम्हारा ही रहेगा।

मुझे रोना आ गया और वो भी रोने लगी।

मैंने कहा- मैं तुम्हारे बिना जी नहीं सकता हूँ !

वो बोली- मैं कौन सा जी सकती हूँ !

वो बोली- देखो, अगर हम भाग कर शादी करेंगे तो हमारे परिवार वालों को बहुत दुःख होगा इसलिए अच्छा होगा कि तुम मुझे भूल जाओ।

लेकिन मेरा दिल नहीं मान रहा था। फिर उसके पापा का फ़ोन आया और वो चली गई, मैं भी घर आ गया।

फिर एक रात मैं अपने दोस्तों के साथ बैठा था तो मैंने वो सब अपने दोस्तों को बताया जो उसने मुझसे कहा था।

हम सबने बहुत ज्यादा ड्रिंक की हुई थी तो मेरे कुछ दोस्तों ने कहा- यार, जब उसके घर वालों को पता चल गया तो कुछ नहीं हो सकता , या तो तू उसे लेकर भाग जा या फिर भूल जा !

ये दोनों ही मैं नहीं कर सकता था।

फिर दोस्तों ने कहा- यार, कुछ भी करने से पहले अपने घर वालों के बारे में सोच लेना, कभी ऐसा ना हो कि तुम्हारी करनी तुम्हारे घर वालों को बदनाम कर दे !

दोस्तों के काफ़ी समझाने के बाद मैंने सोचा कि ये ठीक ही बोल रहे हैं, अब उसकी सगाई तो हो ही गई है, शादी भी हो जाएगी।

तब एक दोस्त ने कहा- यार एक बात मानेगा क्या मेरी?

मैंने कहा- बोल?

वो बोला- अपनी फिजा को बोल कि पहली सुहागरात वो तेरे साथ ही मनाये !

मुझे गुस्सा आ गया, मैंने उसको एक थप्पड़ मारा, मैंने कहा- साले ऐसा मत बोल !

तब कुछ दोस्तों ने कहा- यार, एक बार बोल कर तो देख कि कितना प्यार करती है वो तुझसे।

अब दोस्तों में तो ये सब चलता ही रहता है, ऊपर से ड्रिंक का असर !

तभी उसकी कॉल आई, मैंने फ़ोन उठाया तो वो रो रही थी, मैंने कहा- क्या हुआ?

वो बोली- तुम्हारी बहुत याद आ रही है !

मैंने उससे मिलने के लिए कहा तो बोली- कल बताती हूँ !

मैंने कहा- ठीक है।

अगले दिन उसका फ़ोन आया तो पूछने लगी- कहाँ आना है मिलने?

मैंने कहा- अभी फ़ोन करके बताता हूँ !

मैंने अपने एक दोस्त को फ़ोन किया और कहा- यार, तेरा कमरा चाहिए, वो आ रही है, बात करनी है, बाहर नहीं मिल सकता, कहीं किसी को पता चल गया तो अच्छा नहीं होगा।

उसने कहा- ठीक है, मैं घर की चाबी देता हूँ।

फिर मैंने फ़िज़ा से को बस स्टैंड बुलाकर कहा- मैं लेने के लिए आता हूँ।

उसको लेकर मैं अपने दोस्त के कमरे पर गया, वहाँ हमने काफी देर तक बात की, मैं उससे काफी दूर को बैठा था, तो वो बोली- क्या बात है, इतनी दूर क्यों बैठे हो?

मैंने कहा- जब किसी के ऊपर मेरा हक़ ही ख़त्म हो गया हो तो उसके पास होकर क्या फायदा?

इतना कहने पर वो उठी और मेरे पास आकर मुझे चूमने लगी और बोली- मैं तुम्हारी हूँ और हमेशा तुम्हारी ही रहूँगी, समझे पागल !

मेरे दिल में एक अजीब हलचल हुई और मैं भी उसको पकड़ कर चूमने लगा। वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी, हम एक दूसरे को पागलों की तरह किस कर रहे थे।

फिर वो बोली- किस ही करोगे या फिर आगे भी कुछ करोगे?

मैंने कहा- पूरी जिन्दगी तुम्हारी है, कुछ भी करा लो हमसे !

फिर उसने मेरी शर्ट खोली, मैं भी उसके कपड़े उतारने लगा। हम काफी महीनों बाद ये सब कर रहे थे इसलिए मैंने कहा- क्या बात, तुम्हारे बूब्स का आकार तो काफी बढ़ गया है?

तो उसने कहा- सब तुम्हारे ही कारण है।

मैंने कहा- अच्छा? तो फिर अच्छा है।

और हम एक दूसरे में खोने लगे, मैंने उसके और उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए !

दोस्तो, उस दिन उसमें कुछ अजीब सी बात थी, बहुत ही जोश था उसमें उस दिन, जो उसने पहले नहीं किया था वो आज सब करने लगी, मेरे लौड़ा अपने हाथ में लेकर बोली- क्या बात है, काफी अच्छा हो गया है !

मैंने कहा- तुम्हारी यादों का असर है !

और वो पहली बार मेरे लौड़े अपने मुंह में लेकर चूसने लगी।

मैंने कहा- यह क्या कर रही हो?

बोली- करने दो आज सब कुछ ! क्या पता आगे मौका मिले या नहीं ! आज मैं पूरी तरह से तुम्हारी और तुम मेरे हो ! आज मेरी सारी ख्वाहिशें पूरी कर दो !

कुछ देर चूसने के बाद मेरा माल झड़ गया और वो सारा माल प्यार से पी गई।

मैंने भी उसको 69 की पोजीशन में लिया और कुछ देर बाद वो इतनी उत्तेजित हो गई कि पूरे कमरे में उह आह उह आह आह की आवाजें आने लगी और वो झड़ गई। उसके रस का स्वाद बहुत मधुर था। मैं भी बहुत उत्साहित हो गया था और मैंने देर न करते हुए अपना 7″ लम्बा लण्ड उसकी चूत में डाल दिया।

यह हमारा दूसरी बार का सेक्स था, इसलिए उसको काफी दर्द हुआ लेकिन उसने एक बार भी मना नहीं किया कि बाहर निकाल लो ! वो दर्द में भी बहुत सुन्दर लग रही थी और उसके चेहरे पर जरा भी दर्द नजर नहीं आ रहा था, वो बहुत खुश थी और मैं भी लेकिन इस दर्द के पीछे दोनों का बहुत बड़ा दुःख छुपा था जो हम दोनों एक दूसरे से छिपा रहे थे। लेकिन दिल की बातें आँखों में आ ही जाती हैं !

उस दिन मैंने हर तरीके से उसके साथ सम्भोग किया, मजे लिए, उसको मजे दिए, यहाँ तक कि उसे अपनी गाण्ड मरवाने को मैंने उस दिन बोला तो मान गई।

लेकिन गाण्ड मारना कोई आसान काम नहीं है, मैंने काफी कोशिश की लेकिन अंदर नहीं जा रहा था, उसको जितना दर्द हो रहा था मुझे भी हो रहा था क्योंकि मैं अपने जीवन में पहली बार किसी की गान्ड मार रहा था।

तभी मैंने देखा कि मेज पर जेली का पैकेट पड़ा था, मैंने उसे खोला और उसकी गांड में अन्दर तक लगाने लगा और कुछ अपने लन्ड पर भी लगा ली।

काफी कोशिश करने के बाद मैंने थोड़ा सा अन्दर डाला तो वो बहुत तेज चिल्लाने लगी। मैंने तुरंत उसका मुँह बंद किया और रुक गया। फिर मैंने उसको चूमना शुरु किया और उसके 32″ के बूब्स को सहलाया तो कुछ देर के बाद जब वो शांत हो गई तो मैंने फिर से कोशिश की। इस बार मैंने हल्के हल्के अपना आधा लंड अन्दर डाल दिया। उसके आंसू निकलने लगे।

मैंने बोला- अगर दर्द हो रहा है तो मैं निकाल लेता हूँ !

लेकिन उसने कहा- तुम्हारे दर्द में भी प्यार है !

मैंने खुशी के मारे जोरदार झटका मारा और पूरा लौड़ा उसकी गाण्ड में चला गया। मुझे भी दर्द हुआ, उसकी गाण्ड से हल्का सा खून निकलने लगा, मैंने उसे नहीं बताया और अपने रुमाल से पोंछ दिया। मैं हलके हकले धक्के मारने लगा, मुझे बहुत मजा आ रहा था, अब वो भी शानत हो गई थी और मजे लेने लगी थी।

हम दोनों मदहोश हो गए एक दूसरे में और लगभग बीस मिनट बाद मैं झड़ गया, मैंने सारा वीर्य उसकी गाण्ड में ही डाल दिया। वो बहुत हसीं लग रही थी, उसके चहेरे पर खुशी थी, मानो वो मेरे लिए और मैं उसके लिए बना हूँ।

हमें सेक्स करते हुए काफी समय हो गया था, वो ऐसे नंगी ही मेरे पास पड़ी रही।

फिर उसका फोन बजा तो उसके भाई का फ़ोन था, वो बोल रहा था- कहाँ हो तुम? जल्दी आ जाओ, अब्बू बुला रहे हैं।

वो डर गई बोली- मैं अपनी एक फ्रेंड के घर पर हूँ, एक घंटे में आती हूँ !

वो जैसे ही खड़ी हुई, गिर गई, उससे सही से चला भी नहीं जा रहा था। हिम्मत करके उठी और अपने कपड़े पहने उसने, मैंने भी अपने कपड़े पहने और बोला- मैं अभी दस मिनट में आ रहा हूँ !

मैं मेडिकल की शॉप पर गया और कुछ मेडिसन लेकर आया, उसको खाने के लिए दी। कुछ देर बाद उसको आराम हो गया। मैं उसको बस स्टैंड पर छोड़ कर वापिस आ गया।

लेकिन यह बात मैंने अपने दोस्तों को नहीं बताई क्योंकि साले मजाक उड़ाते मेरा, बोलते रात को हमसे लड़ाई की और दिन में उसकी चुदाई कर दी।

शाम को जब मैं अपने दोस्तों के साथ घूमने के लिए गया तो उसका फ़ोन आया और बोली- मेरी पहली सुहागरात मेरे प्यार के साथ होनी थी, इसलिए मैं तुमसे मिलने आई थी और प्लीज, मुझे भूल मत जाना और माफ़ कर देना !

उसकी इस बातों से मुझे बहुत दुःख हुआ !

दोस्तो, उसकी शादी हो गई है, मुझे भी शादी का कार्ड मिला था लेकिन मैं नहीं गया क्योंकि मैं उसको अपनी आँखों के सामने किसी और का होता नहीं देख सकता था, इसलिए मैं उस दिन अपने कमरे से बाहर भी नहीं निकला।

मैं चाहता तो उसको भगा कर ले जा सकता था लेकिन यह हमारे प्यार की जीत नहीं, बदनामी होती। उसने मुझे अपने प्यार की ऐसी निशानी दे दी थी कि अब मैं उसकी यादों के सहारे भी जी सकता हूँ।

कुछ ही दिन पहले उसका फ़ोन आया था, उसने बोला- मैं प्रेगनेन्ट हूँ !

मैंने कहा- तो इसमें कौन सी बड़ी बात है?

उसने कहा- यह तुम्हारे प्यार की निशानी है…

अब वो मुझसे बहुत दूर है लेकिन उसकी यादें मेरे पास हैं, कभी कभी उसके फ़ोन आते है तो मैं बस यही पूछता हूँ कि तुम खुश हो ना? और धीमी आवाज में यही बोलती है वो- तुम्हारे बिना कैसी हो सकती हूँ…?

दोस्तो, मुझे माफ़ करना क्योंकि आपके लगभग सभी मेल में मुझे यही लिखा हुआ मिला था कि उसको भगा कर ले जाओ लेकिन मैं मर सकता हूँ लेकिन उसकी बदनामी नहीं सहन कर सकता…

आज भी उसकी यादें मुझे कभी कभी बहुत रुलाती हैं, बहुत कोशिश की भूलने की लेकिन भूल नहीं पाता हूँ।

यह मेरी आखरी कहानी है अन्तर्वासना पर… हो सके तो मुझे अपने दिल में याद रखना…

आपका अपना

आदित्य कश्यप

और मुझे मेल जरूर भेजना…

Download a PDF Copy of this Story आखिरी मुलाकात

Leave a Reply