चौकीदार से प्यार से चुत चुदवा ली

(Chawkidar se Pyar Se Chut Chudwa Li)

नमस्ते दोस्तो, मेरा नाम रेशमा पाटिल है. मैं पहले भी दो सेक्सी कहानी
पड़ोसन ने मॉम को अपने पति और उसके बॉस से चुदवाया
मेरी मॉम ने चूत चुदवा ली दूध वाले से
लिख चुकी हूँ और आप सबको मेरी पिछली कहानी भी बहुत पसंद आई थी.

यह कहानी मेरी शादी के 6 महीने बाद की है.

हमारा परिवार सयुंक्त परिवार था लेकिन कुछ समय हम लोगों का बंटवारा हो गया था और हम सब अलग रहने लगे थे. सास ससुर को जिधर मर्जी हो, उधर रहने की आजादी थी. आजकल वे दोनों बड़े जेठ जी के पास रहे थे.

इन दिनों मैं घर पर अकेली ही रहती थी क्योंकि सास ससुर जी हर लड़के के पास 4 महीने रुकने वाले थे. दिन में मेरे पति काम पर निकल जाते थे. इस कारण मैं घर पर बिल्कुल अकेली रह जाती थी. सारा दिन घर के काम के बाद टीवी के सामने या मोबाइल पर अन्तर्वासना की हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ कर मजा लेती रहती थी.

पति महोदय के पास काम के चलते समय की तंगी थी और सारा दिन काम के बाद उनकी थकान के चलते सेक्स लाइफ बड़ी बोरिंग चल रही थी. जबकि दूसरी तरफ मुझे सेक्स करने का बड़ा मन होता था. इस वजह से मेरे पास अन्तर्वासना और उंगली का ही सहारा रह गया था.

दोपहर में जब मैं अपने काम से फ्री हो जाती थी तो लगभग नंगी रह कर अन्तर्वासना की देसी इंडियन चुदाई की कहानी को पढ़ कर अपनी चुत की खाज को मिटा लेती थी. लेकिन ऐसा कुछ ही दिन चला कि मुझे अपनी उंगली चुत के लिए नाकाफी लगने लगी. मुझे लंड की नितांत जरूरत महसूस होने लगी, मगर बेबस थी.

कहते हैं न.. जिधर चाह होती है, उधर राह निकल ही आती है.

हमारी ही बिल्डिंग में एक वाचमैन यानि चौकीदार था जो काफी हट्टा कट्टा और तगड़ा जवान था. मैं उससे कभी कभी घर का सामान मंगवा लेती थी और उसे कुछ रुपए भी दे देती थी.

गर्मियों के दिन थे और मैं घर पर अकेली होने के वजह से रोज की तरह ट्रांसपेरेंट नाइटी में थी. दोपहर के समय में बिल्डिंग में ज्यादा कोई आता जाता नहीं था. इसलिए वो वाचमैन कभी कभी फ्रिज का ठंडा पानी लेने के लिए मेरे घर आ जाता था और मुझे पानी लेने तक मुझे वासना भरी निगाहों से घूरता रहता था.

शुरू शुरू में तो मुझे बड़ा अजीब सा लगता था, पर जब से मेरी चुदास बढ़ी तो मुझे वो एक आइटम लगने लगा. तब भी मैं कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी. हालांकि अब जब भी वो आता था तो मैं उसके सामने अपने अंगों का प्रदर्शन करते हुए उसके सामने अपनी गांड हिलाती रहती थी.
मुझे ऐसे मौके का इन्तजार था, जब वो खुद कुछ करने का प्रयास करे.

एक दिन ऐसे ही वो दोपहर में पानी लेने आया, तब मैं झीनी सी काली नाइटी में थी और रोज की तरह आज भी मैंने अन्दर कुछ भी नहीं पहना था. लेकिन आज वाली नाइटी कुछ ज्यादा ही झीनी थी. यह वाली मैंने ऑनलाइन नई खरीदी थी, इसको आज पहली बार पहना था. इसमें से मेरी चुत, चूचियां सब कुछ साफ़ दिख रही थीं.

उसी वक्त उस वाचमैन ने दरवाजे की बेल बजाई. मैंने दरवाजे की झिरी से देखा और थोड़ा सा खोल कर पूछा- क्या काम है?
तो वो मुझसे पानी की बोतल माँग रहा था.

मैं दरवाजा खुला छोड़ कर किचन में गई, तब तक वो अन्दर आ गया और उसने दरवाजा बंद कर दिया. इस बात का मुझे पता ही नहीं चला. वो अन्दर आकर सोफे पर बैठ गया.

मैं पानी लेकर आई, तब वो पानी पी कर बोला- मेम एक बोतल और हो, तो दे दो प्लीज़.
उसके बाद मैं फिर किचन में गई और एक बोतल और ले आई.

वो मुझे घूरते हुए बोला- मेम सब लोग कब आने वाले हैं?
मैंने उससे कहा- पता नहीं.. क्यों तुमको कोई काम है?
तब वो मेरे पास को आया और कहा- हां मेम, मैं आपसे एक बात बोलना चाहता हूँ.
मैं आँखों में नशा भरके बोली- हां बोलो.
तब उसने मेरी ओर देखते हुए कहा- आप बहुत खूबसूरत हो और हॉट भी हो.

यह कहते हुए वो मेरे मम्मों को दबाते हुए मुझे किस करने लगा. मन ही मन मैं उसकी हिम्मत की दाद देने लगी, मैं उसकी वासना जगाने में लगी हुई थी लेकिन यहाँ तो उसने तो मेरा काम ही उठा दिया था.
उसके अचानक इस कदम से मैं एकदम से हक्की बक्की रह गई. अभी मैं कुछ सोच ही नहीं पा रही थी कि ये क्या कर रहा है.

वो मुझे चूमते हुए बोला- मेम साब, आज मुझे आपकी चुत चोदनी है.

मैंने मना किया और उसे दूर धकेलने की कोशिश करने लगी. मेरी आवाज ही बंद गई थी, मैं चिल्ला भी नहीं पा रही थी, पता नहीं क्या हो गया था. शायद मेरी दबी हुई काम पिपासा जागने लगी थी.
मैंने कुछ देर सोचा और मन बना लिया कि इसको परखना चाहिए.

मेरी काफी नानुकर के बाद भी जब वो नहीं माना और उसने अपनी मजबूत बांहों में मुझे जकड़ लिया. मैं भी उस वक्त पता नहीं किस मूड में आ गई थी कि मुझे उसका ये जबरन पकड़ कर चूमना बुरा नहीं लग रहा था. मेरा मन पक्का हो चला था कि इसके लंड का स्वाद चख लेना चाहिए. अब बस मैं झूठमूठ का कसमसा रही थी, लेकिन चिल्ला नहीं रही थी. उसने इसको शायद मेरी रजा समझी और आगे बढ़ता गया.

कुछ देर बाद मुझे भी मजा आने लगा तब मैंने उससे कहा- ठीक है.. पर ये बात तुम किसी को नहीं बताओगे.
वो भी मान गया और मुझे किस करने लगा.
तब मैंने उससे कहा- अभी नहीं.. अभी तुम ऑन ड्यूटी हो, शाम को ड्यूटी खत्म हो जाने के बाद आना.

इसके बाद उसने मुझे दो-तीन लम्बे लम्बे से किस किए और मेरी गांड को दबा कर चला गया. आज मेरे पति भी आउट ऑफ़ टाउन थे, उनको दो दिन बाद आना था. मैंने भी आज वाचमैन से चुदने का मन बना लिया था और पति की व्हिस्की की बोतल से दो पैग खींच लिए थे.

उस रात में वो 9 बजे आया, तब मैं हल्के नशे की मस्ती में टीवी देख रही थी. कपड़े भी मैंने हॉट पहने हुए थे. उसके आने के बाद मैंने दरवाजा बंद किया और चैक किया कि सारे परदे वगैरह ठीक से बंद हैं कि नहीं.

उसने आते ही मुझे अपनी बांहों में ले लिया. मैंने उससे कहा कि तुम अभी ड्यूटी से आए हो एक बार बाथरूम में जाकर नहा लो, फिर हम लोग मजे करेंगे.

वो मेरी बात मान गया और बाथरूम में जाकर नहाने लगा. वो दस मिनट में मेरे पति की लुंगी बाँध कर बाहर आ गया उसका नंगा चौड़ा सीना देख कर मेरी चुत में कुलबुली होने लगी. मैंने उसको व्हिस्की का पैग दिया उसने एक ही सांस में पूरा गिलास खाली कर दिया. इस तरह से उसने चार लम्बे पैग खींचे और इसके बाद हम लोगों ने खाना खाया.

मैंने सब बर्तन आदि किचन में ले जाकर साफ किए. तब उसने मेरे साथ अन्दर किचन में आकर बर्तन आदि साफ करने में मदद की.

कुछ ही देर में काम ख़त्म होते ही हम दोनों बेडरूम में आ गए. अब वो मुझ पर टूट पड़ा. मैं भी बहुत दिन से प्यासी थी. सबसे पहले उसने मुझे किस किया और मेरी नाइटी उतार दी. मैं बेशर्म होकर उसके सामने बेड पर बैठ गई. उसने भी अपने खुद के कपड़े उतारे और मुझे किस करने लगा. मैंने भी अपने हाथों से उसका लंड पकड़ लिया और हिलाने लगी. वो मेरे मम्मों को पकड़ कर जोर जोर से मसलने लगा.

मेरा मन तो हुआ कि उसका लंड खा लूँ. पर उससे पहले उसने मुझसे पूछा- फ्रिज में खाने को क्या रखा है?

फ्रिज में आइसक्रीम थी, मैं जाकर ले आई. उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और आइसक्रीम मेरी चुत में अन्दर तक डाली, मेरी चुत में आइसक्रीम गर्मी से पिघल कर बाहर आने लगी और वो मेरी चुत चाटने लगा.

वाओ.. बहुत मजा आ रहा था. कुछ दस मिनट में चुत ने रस छोड़ दिया और वो सारा रस आइसक्रीम के साथ चाट गया. उसका मूसल जैसा काला लंड मेरे सामने खड़ा था. मैं उसके मूसल लंड को चूसने लगी और चाटने लगी. वो मेरे मम्मों को जोर जोर से मसलने लगा. कुछ 10 मिनट में ही उसने अपने लंड का जूस मेरे मुँह में छोड़ दिया. मैंने उसके लंड की नमकीन मलाई को चाट कर साफ कर दी.

उसके कुछ देर बाद उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और उसने मुझे लिटाया और अपना काला मोटा मूसल जैसा लंड मेरी चुत की फांकों में सैट करके जोर से धक्का दे मारा. मेरे मुँह से आह निकल गई. उसके बाद उसने मुझे किस किया और मेरे मम्मों को मसलते हुए मेरा चूत चोदन करने लगा. मैं सीत्कार करने लगी ‘अह.. उहहह…’

उसके बाद उसने मेरी दोनों टांगें ऊपर की और जोर जोर से धक्का लगाने लगा. मुझे उसके लंड से चुदने में बहुत मजा आ रहा था.. उसका मोटा लंड मेरी चुत में हाहाकार मचा रहा था.

मैं मस्ती में मादक सीत्कारें निकाले जा रही थी. कुछ 15-20 मिनट बाद मैंने अपना पानी छोड़ दिया. लेकिन वो मेरी चुत की ठोकर मारता रहा. अब पूरे बेडरूम में फ़चाक फ़चाक की मधुर आवाज़ गूँजने लगी थी.

कुछ मिनट बाद उसने मेरी चुत को अपने लंड के रस से भर दिया. कुछ देर हम दोनों यूं ही शिथिल होकर चिपके पड़े रहे.

उसके बाद फिर से चुदास चढ़ गई. हम दोनों अब 69 की पोजीशन में आ गए. हम दोनों ने लंड और चुत की चुसाई की और थोड़ा प्यार करने के बाद उसका लंड फिर से तैयार हो गया. मैं उसका लंड चूसने लगी. अबकी बार उसने मुझे खड़ा किया और मेरी एक टांग बेड पर रखी और दूसरी ज़मीन पर रखवा कर कुतिया जैसी पोजीशन में मुझे खड़ा कर दिया. मैं भी लंड खाने को तैयार थी. मैंने खुद उसका लंड अपनी चुत में रखवा कर धक्का देने का इशारा किया तो उसने करारा धक्का दे मारा.

आह.. मेरी तो जान ही निकल गई. उसका मूसल लंड मेरी बच्चेदानी तक टच होने लगा. इस बार वो चोदते समय मुझे गलियां भी दे रहा था- ले मादरचोदी रांड भैन की लौड़ी लंड खा साली कितने दिनों से तुझे चोदने की सोच रहा था.

मैं भी मजे से उसका लंड अपनी चुत में ले रही थी.

इस तरह उसने मुझे पूरी रात में 4 बार चोदा और हम दोनों नंगे ही सो गए. सुबह हम दोनों ने एक साथ नहाया.. और हम लोगों ने कपड़े पहन लिए.

उसके बाद वो आए दिन दोपहर में मुझे चोदने आ जाता और हम दोनों मस्त चुदाई का मजा करते.

मेरे और उसकी लगातार चुदाई के बाद 3 महीने में नतीजा ये निकला कि मैं पेट से हो गई. उसके बाद डॉक्टर के पास जाकर मैंने सफाई करवाई और उसके बाद मैं उससे जब भी चुदवाती, हम कंडोम का इस्तेमाल करते. उसके साथ मेरे सम्बन्ध 6 महीने तक रहे.. क्योंकि अब वो जॉब छोड़ कर जा चुका था.

अगली सेक्स स्टोरी बहुत ही जल्द बताऊंगी क्योंकि वो नए वाचमैन को मेरे बारे में बता गया था.
आपके मेल का इन्तजार रहेगा.
[email protected]