बॉय से कॉलबॉय का सफर-5

( Hindi Chut Chudai: Boy Se Callboy Ka Safar Part-5)

मेरी हिन्दी चुत चुदाई की सेक्सी कहानी के पिछले भाग
बॉय से कॉलबॉय का सफर-4
में अभी तक आपने पढ़ा…
मैं मधु के घर उसका मामा का लड़का बन कर पहुँचा, वो मुझे मेरा कमरा दिखाने आयी तो मैंने उसे पकड़ लिया और अब मधु मेरे साथ मेरे कमरे में थी और मैं उसकी चूत में उंगली कर रहा था।

अब आगे…

मैंने उंगली निकाली और चूत को पानी को चाटने लगा, बड़ा ही मस्त स्वाद था। फिर मैं खड़ा हुआ, तो मधु ने शर्म से आँखें बन्द करके चेहरा नीचे झुका लिया। मैंने ठोड़ी पकड़कर उसका चेहरा ऊपर किया और होंठों को चूमने लगा… साथ में चूचियों को मसलने लगा।

अब मेरे लिए बर्दाश्त करना कठिन हो गया; मैं कपड़ों को उतारने लगा; मैं बोला- यार मजा नहीं आ रहा क्या? तुम साथ क्यूँ नहीं दे रही?
मधु ने आँखें खोलीं- राज मुझे शर्म आ रही है… आप करते रहो बस!
ये कहकर वो चुप हो गई।
मैं बोला- जैसी आपकी मर्जी!

मैंने अपनी शर्ट-पैन्ट को उतार कर फेंक दिया। मधु चुपचाप खड़ी नजरें झुका कर मेरी तरफ देख रही थी। फिर मैंने अण्डरवियर को भी उतार फेंका… जिससे मेरा लण्ड झटका खाते हुए सीधा खड़ा हो गया।

मेरा तना हुआ लण्ड देखकर मधु की साँसें रुक सी गईं। शायद उसने असली में इतना बड़ा लण्ड पहली बार देखा था… उसने आँखें बन्द कर लीं। मैंने मधु को अपनी तरफ खींचा और उसके बदन से चिपक गया। पहली बार मैंने उसके बदन की गर्मी को महसूस किया। मेरा और उसका शरीर बिल्कुल गर्म था। कुछ देर बाद मैं उससे अलग हुआ और उसे गोद में उठा लिया। अब उसकी भारी गाण्ड मेरे हाथ पर थी और दूसरे हाथ में एक चूची थी।

मैंने उसकी चूची को मसलते हुए उसे बिस्तर पर बिठा दिया। मैं उसके सामने खड़ा था। मैंने उसका हाथ पकड़ कर लण्ड पर रख दिया और मुट्ठी बन्द करके मुट्ठ मरवाने लगा।

कुछ पल बाद मैंने मधु का हाथ छोड़ दिया। मधु बड़े प्यार से मुट्ठ मार रही थी। मधु के नरम हाथ से रगड़ने से अलग ही मजा आ रहा था। अब मेरा लण्ड बुरी तरह कड़क हो गया… जिसे बैठाना सम्भव नहीं था… तो मधु लण्ड को ऊपर से नीचे की तरफ सहलाने लगी।

लण्ड इतना कडक हो गया कि मुझे लगा कि अभी इसको चूत में न डाला तो फट जाएगा। मैंने मधु के हाथों से लण्ड छुड़ाया और उसके गालों पर रगड़ने लगा। मधु ने फिर आँखें बन्द कर लीं। मैं अपने लण्ड को उसके होंठों पर फिराने लगा… जैसे लण्ड से लिपिस्टिक लगा रहा हूँ। शायद मधु समझ गई कि मैं क्या चाहता हूँ और उसने मुँह खोल कर लण्ड अन्दर ले लिया।

मैं लण्ड को उसके मुँह में अन्दर तक डाल कर आगे-पीछे करने लगा। मधु के मुँह से ‘गों… गों…’ की आवाज निकलने लगी और वो कुछ पीछे को हटने लगी। शायद वो कुछ कहना चाहती थी… पर कह न पाई। मैंने उसके सर को पकड़ा और कमर हिला कर आगे पीछे करने लगा। मधु की आँखें खुलकर फटने को हो गईं… क्यूँकि मेरा लण्ड उसके गले तक जा रहा था।

थोड़ी देर बाद मैंने कमर हिलाना बन्द कर दिया लेकिन शायद मधु को अब लण्ड चूसने में मजा आ रहा था, तो वो खुद सर को आगे पीछे करके लण्ड को चूसने लगी।

अब मधु बिस्तर पर डॉगी स्टाइल में होकर लण्ड को चूसने लगी। मैं उसकी गाण्ड पर हाथ फेरते हुए चूत को रगड़ने लगा, जिससे मधु को मजा आने लगा; वो और जोर से लण्ड को चूसने लगी। मेरे मुँह से सिसकारी निकलने लगी।
मैंने लण्ड को उसके मुँह से निकाला और मधु को पीठ के बल लिटा दिया। मैं बिस्तर के नीचे बैठ गया और मधु की टाँगें खोल कर अपना मुँह उसकी चूत पर लगा दिया और चूत चाटने लगा। मधु की ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ निकल गई… वो सर को इधर-उधर हिलाने लगी।

मैंने दोनों हाथों से उसकी गाण्ड उठाई और मुँह में से थूक उसकी चूत में भर दिया… जिससे चूत और चिकनी हो गई। मैं चूत की फांकों पर जीभ रगड़ने लगा और चूत के अन्दर के गुलाबी भाग को जीभ से सहलाने लगा। मधु उत्तेजना से पागल हो गई और चूत को जोर से हिलाने लगी।

अब मैंने अपना मुँह चूत पर दबा दिया और चूत के छेद में जीभ अन्दर-बाहर करने लगा। मधु पूरी तरह गर्म हो गई और चूत से चिकना पानी निकलने लगा। जिसकी मादक खुशबू ने मेरी उत्तेजना और बढ़ा दी। अब लण्ड को चूत से बाहर रखना मुश्किल था और लण्ड झटके मारने लगा। मैं खड़ा हुआ और बिस्तर पर आ गया।

मैंने एक नजर मधु को ऊपर से नीचे तक देखा; उसका चेहरा उत्तेजना से बिल्कुल लाल था और साँसें तेज चल रही थीं… जिससे उसकी चूचियां और पेट ऊपर-नीचे हो रहे थे। मेरी नजर चूत पर जाकर रुक गई। बिना बालों वाली चिकनी चूत… जो मेरे चूसने के कारण पहले से ज्यादा बाहर को उभर गई और उसकी दरार साफ दिखाई दे रही थी। उसकी चूत से पानी और थूक रिस रहा था और ये हल्की सी फड़क भी रही थी; शायद वो अब लण्ड चाहती थी।

मैं मधु के पैरों के बीच में आ गया और लण्ड को चूत पर रगड़ने लगा। मैं झुक कर उसके गालों पर चूमने लगा और बोला- जान आज मैं तुम्हें वो सुख दूँगा और दुनिया की सैर कराऊँगा… जिसे पाने के लिए तुम बार बार मुझे बुलाओगी।
मधु कुछ नहीं बोली।

मैं फिर लण्ड को चूत पर रगड़ने लगा और एक हाथ से उसकी चूचियों को मसल रहा था। अब मैंने लण्ड को चूत के छेद पर लगा दिया।
लण्ड लगाते ही मधु ने अपनी आँखें और मुँह भींचकर अपने को तैयार कर लिया क्योंकि उसे पता था कि इतने बड़े लण्ड से उसे बहुत दर्द होने वाला है।

मैंने लण्ड पर थोड़ा दबाव डाला; चूत के चिकनी होने के कारण लण्ड का सुपारा आसानी से अन्दर चला गया। लण्ड के अन्दर जाते ही मधु के शरीर में हलचल मच गई और उसके मुँह से दर्द के कारण ‘आह्ह…’ निकल गई जिसे वो होंठ भींच कर रोकना चाहती थी… पर रोक न सकी। मैंने एक जोर का धक्का मारा और आधा लण्ड चूत में डाल दिया। आधा लण्ड जाते ही मधु बिलबिलाने लगी और कराहने लगी- आअह्ह्ह्ह… उईईईई… मर गईई… ममेमैं…

उसकी आँखों से आँसू निकल आए। मैंने उसके ऊपर झुक कर उसके आँसू पोंछे और बोला- ज्यादा दर्द है तो निकालूँ?
मधु ने दर्द से कराहते हुए बस इतना बोला- नहीं राज… तुम करते रहो… चाहे मुझे कितना भी दर्द हो… इस दर्द को पाने को बहुत तड़पी हूँ। तुम मेरी चिन्ता मत करो… बस करते रहो।
उसकी आँखों से आँसू निकल आए, पर मैं ये नहीं समझा कि वो दर्द के आंसू थे या उसके दु:ख के।

मैंने उसके आँसू पोंछे और उसके होंठों को चूसने लगा। थोड़ी देर बाद वो भी मेरे होंठों को चूसने लगी, तो मैं धीरे-धीरे कमर हिलाने लगा। अब मेरा आधा लण्ड आसानी से अन्दर-बाहर होने लगा और मधु भी थोड़ी थोड़ी गाण्ड उठाने लगी।
मैं समझ गया कि उसका कुछ दर्द कम हुआ है।

मैंने लण्ड को बाहर खींचा और पूरा जोर लगा कर अन्दर डाल दिया। लण्ड मधु की बच्चेदानी से जा टकराया… जिससे मधु एकदम थोड़ा ऊपर को खिसक गई और दर्द से साँस सी रुक गई।
दर्द के कारण उसने जैसे ही चीख रोकने के लिए मुँह टाइट किया तो मेरा होंठ उसके दाँतों के बीच आ गया और थोड़ा सा कट गया।

मधु ने आँख खोलीं तो होंठ पर खून देखकर मेरी तरफ ऐसे देखा जैसे माफी माँग रही हो।
मैंने उसके माथे पर हाथ फेरा और फिर चुम्बन करते हुए धीरे-धीरे कमर हिलाने लगा।

थोड़ी देर बाद मधु की कराहें ‘मादक आहों…’ में बदलने लगीं और वो मेरे बालों में हाथ फेरने लगी। मैं उसके ऊपर से उठा और चूचियों को मसलने लगा; फिर उसकी कमर के नीचे से हाथ ले जाकर दोनों कन्धों को पकड़ लिया। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने मुलायम हाथों से लण्ड को कस कर पकड़ा हुआ है।

अब मैं मधु के कन्धों को पकड़ कर कमर को जोर-जोर से हिलाने लगा। थोड़ी देर में स्पीड इतनी बढ़ गई कि लण्ड और चूत की टक्कर में ‘फच… फच…’ की आवाज कमरे में गूंजने लगी। हर झटके साथ मधु के मुँह से ‘आह्ह…’ निकल रही थी- आह्ह… आह्ह… उईई माँम्म्म्माँ… बस्स्… ओफ्फ्फ…

मधु के मुँह से निकली हर आह से मेरा जोश बढ़ता जाता और मैं जोर-जोर से धक्के मार कर मधु को चोदने लगता। हम दोनों की आँखें बन्द थीं और एक-दूसरे से लिपटे हुए थे। मधु अपने हाथों से मेरी कमर को कभी सहलाती… तो कभी नोंचने लगती।

मैंने सर उठा कर देखा तो मधु का चेहरा बिल्कुल लाल हो रहा था और उत्तेजना में अपने सिर को इधर उधर हिला रही थी और बार बार अपने होंठों को दाँतों से दबा रही थी। इससे साफ था कि उसे चुदाई का पूरा मजा मिल रहा था।
उसे देख कर मैंने दो चार धक्के पूरे जोर लगा के मारे, जिससे मधु की चीख निकल गई और वो मुझसे बुरी तरह लिपट गई।

अब मैंने दोनों हाथ बिस्तर पर टेक दिए और थोड़ा ऊपर उठ कर धक्के मारता हुआ मधु को देखता रहा; फिर मैं मधु की दोनों चूचियों को पकड़ कर मसलते हुए चोदने लगा।
मसलने से उसकी गोरी और बड़ी चूचियां लाल हो गईं और उन पर मेरी उंगलियों के निशान साफ दिख रहे थे।

अब मधु भी गाण्ड उठा उठा कर चुदाई में साथ दे रही थी, उसका चेहरा खिल उठा था और उसके मुँह से लगातार कामुक सिसकारियाँ निकल रही थीं। मधु अपनी सुध खो बैठी थी और शर्म छोड़ कर मेरा पूरा साथ दे रही थी; वो अपनी बरसों की प्यास को शान्त करने में लगी थी।

मैं पूरा जोर लगाकर उसे चोदने में लगा था, मधु चुदाई से अब हाँफने लगी थी और लम्बी-लम्बी साँसें लेने लगी।

मैं दोनों हाथ उसकी कमर के नीचे ले गया और मधु को धीरे से अपनी गोद में बिठा लिया, मधु निढाल सी गोदी में आ गई, उसके हाथ दांय-बाएं लटके थे और सर पीछे को झुका था, जिससे उसकी बड़ी चूचियां मेरे मुँह के सामने आ गई थीं।
उत्तेजना में उसकी चूची को मुँह में ले लिया और दाँतों से हल्का मसलने लगा।

अब मैंने दोनों हाथ उसकी गाण्ड के नीचे रखे और उसे ऊपर नीचे करने लगा। अब मधु ने अपने हाथ मेरे कन्धों पर रखे और खुद पैर के पंजों पर ऊपर नीचे होकर चुदने लगी। मुझे भी ज्यादा मजा आ रहा था, क्योंकि उसकी चूचियां मेरी छाती से रगड़ रही थीं।

मेरे हाथ खाली हो गए… तो मैं उसके उसके चिकने चूतड़ों को सहलाते हुए उंगली को गाण्ड के छेद पर ले गया और रगड़ने लगा। मधु को शायद इसमें ज्यादा मजा आ रहा था, इसलिए वो जोर जोर से लण्ड पर उछलने लगी।

मेरा उसकी गाण्ड मारने का बहुत मन था… इसलिए मैं उसे मोटे लण्ड के लिए तैयार कर रहा था। इसी लिए मैं धीरे धीरे रगड़ते हुए उंगली गाण्ड में डाल कर अन्दर बाहर करने लगा। दोहरे मजे से मधु का जोश और बढ़ गया, उसने मेरे कन्धों को कसकर पकड़ लिया और मुझे चूमते हुए पूरे जोश में गाण्ड हिलाने लगी।

थोड़ी देर में मधु ने हाँफते हुए मुझे बांहों में भींच लिया; उसकी चूत से पानी का सैलाब फूट पड़ा जो मेरे लण्ड को भिगोता हुआ जाँघों पर फैल गया।
मैं तो जैसे जन्नत में था।

फिर मैंने मधु को लिटाया और खुद उसके ऊपर लेट कर धीरे धीरे धक्के मारने लगा।
अब वो बिल्कुल शान्त आँखें बन्द करके लेटी थी और हाँफ सी रही थी, उसके चेहरे से खुशी साफ झलक रही थी।

अब मेरा अगला कदम मधु की पूरी हिचक और शर्म हटाना खोलना था इसलिए धक्के मारते हुए मैं उससे कामुक बातें करने लगा।

मधु की चूत की चुदाई के बाद मेरा मन उसकी गाण्ड मारने का भी था।

हिंदी चुत चुदाई कहानी के अगले भाग में देखते हैं कि क्या होता है।
आपके ईमेल के इन्तजार में आपका राज।
[email protected]
कहानी जारी है।