लण्ड की सलामी-2

Lund ki Salami-2
तो मैं समझ गया कि इनको भी अपनी तारीफ सुनने में मज़ा आ रहा है, फिर भी मैंने डरते-डरते कहा- आपके ऊपर में जो है वो!

तो अब उन्होंने शरारत करते हुए पूछा- ऊपर में क्या है?

मैं समझ गया कि इनको भी यh सब सुनने का दिल कर रहा है।

फिर मैंने कहा- आपके मम्मे!

वो एकदम से चौंक गईं।

पर फिर उन्होंने यh सुन कर एक शरारत भरी सी मुस्कान दी और कहा- अच्छा… ऐसा क्या है मेरे मम्मों में?

तो मैंने कहा- उनको देख कर मुझे उसे छूने का दिल करता है।

तो उन्होंने पूछा- अभी तक किसी का छुआ है या नहीं?

तो मैंने ‘ना’ में सिर हिला दिया।

तो उन्होंने पूछा- छूना है क्या.. किसी का?

तो मैंने अंजान बनते हुए बोला- किसका?

तो वो नशीले अंदाज में बोलीं- अपनी चाची का… जो आपको बहुत अच्छी लगती है।

ये सब बोलते वक़्त मैंने देखा कि उनकी आँखें लाल हो गई थीं शायद उनके ऊपर भी काम-वासना हावी हो गई थी।
खैर… मुझे क्या, मुझे तो यकीन नहीं हो रहा था कि वो खुद ऐसे बोल रही हैं।

फिर उन्होंने इशारे से मुझे अपने करीब बुलाया और बोला- खुद से छू कर देख लो।

मैंने डरते-डरते हाथ लगाया, मेरे हाथ काँप रहे थे।

तो उन्होंने बोला- आपको तो छूना भी नहीं आता, आप तो अभी बच्चे हो।

यh सुन कर मुझे थोड़ा गुस्सा आया और जोश भी और मैं जोश में आकर नाइटी के ऊपर से ही उनके मम्मे ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा।
उनके मुँह से सिसकारियों की आवाज़ निकलने लगी, मैं समझ गया कि इन्हें भी मज़ा आ रहा है।

फिर वो बोली- थोड़े प्यार से दबाइए।

फिर मैंने आराम-आराम से उनके मम्मे दबाने लगा, वो भी मज़े लेने लगी। मम्मे दबाते-दबाते मैंने उनकी नाइटी थोड़ी सी नीचे की ओर खींच दी, जिससे उनके मम्मे मेरे हाथों से छूने लग गए।

उन्होंने नीचे ब्रा नहीं पहनी थी, फिर मैं नाइटी के अन्दर हाथ डालकर उनके मम्मे दबाने लगा।

अब उन्हें और मज़ा आ रहा था और वो ज़ोर-ज़ोर से आवाज़ निकालने लगीं, मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था।

यह सब करते-करते मैं बिस्तर पर चढ़ गया था और उनके पीछे जाकर बैठ गया था।
अब मैं दोनों हाथों से उनके मम्मे दबा रहा था।
मेरा लण्ड अब तक बेकाबू हो रहा था और पूरा खड़ा हो गया था। ऐसे बैठने से मेरा लण्ड उनकी गाण्ड पर रगड़ खा रहा था।

शायद उनको भी इसमें मज़ा आ रहा था, तभी उन्होंने कुछ नहीं बोला।

फिर मैंने एक हाथ से उनके मम्मे को दबाना चालू रखा और दूसरे हाथ को उनके पीछे ले आया और उनकी नाइटी के ऊपर से ही उनकी गाण्ड पर हाथ फेरने लगा।
लेकिन मुझे उतना मज़ा नहीं आ रहा था तो मैंने उनसे बोला- आप थोड़ा ऊपर उठो, मुझे आपकी नाइटी निकालनी है।

उन्होंने बिना कुछ बोले अपने आप को थोड़ा ऊपर उठा लिया, अब उन्हें भी मज़ा आ रहा था।

मैंने उनकी नाइटी उठा कर उनके कमर तक कर दी।

अब उनकी गाण्ड मेरे सामने थी बस बीच में एक पैंटी थी। खैर मैंने पैंटी के ऊपर से ही एक हाथ उनके अन्दर ले गया और उनकी नंगी गाण्ड का मज़ा लेने लगा और उनकी चूतड़ों को सहलाने लगा।

फिर मैंने थोड़ा और हिम्मत करते हुए अपनी एक ऊँगली उनकी गाण्ड के छेद पर रख दी और धीरे-धीरे उनको सहलाने लगा और छेद को थोड़ा-थोड़ा दबाने लगा।

वो ज़ोर से सिसकारी लेने लगीं फिर मैंने उनको धीरे से लेटने के लिए बोला, वो बिना कोई विरोध किए आराम से लेट गईं।

मैंने आराम से उनकी नाइटी उतार दी अब उनका ऊपर वाला हिस्सा पूरा नंगा था, बस नीचे एक पैंटी बची थी।

फिर मैं उनके बगल में लेट गया और उन्हें चूमने लगा।

वो भी मेरा साथ देने लगीं, अब तक वो पूरी गर्म हो चुकी थी।

चूमते-चूमते मैं उनके मम्मे भी दबाता रहा और फिर एक हाथ उनके पेट पर से सहलाते हुए उनकी चूत तक ले गया और पैंटी के ऊपर से ही चूत को सहलाने लगा।

उनको भी मज़ा आ रहा था और वो ज़ोर-ज़ोर से मुझे चूमने लगीं फिर मैंने एक ऊँगली से उनकी पैन्टी उठाई, अपना हाथ उसके अन्दर डाल दिया और उनकी चूत को सहलाने लगा।

वो ज़ोर-ज़ोर से सिसकारी लेने लगी और मुझे और ज़ोर से चूमने लगी। फिर मैंने अपनी एक ऊँगली उनकी चूत में डाली तो वो चिहुंक उठीं।
उनकी चूत एकदम गीली हो चुकी थी और मेरी ऊँगली आराम से अन्दर घुस गई।

मैंने दाने को ऊँगली से छेड़ना शुरू कर दिया। इसके साथ ही मैं चूमते हुए आगे बढ़ा और उनके मम्मे चूमने लगा।

अब तो वो एकदम जोश में आ गई और अजीब-अजीब सी आवाज़ें निकालने लगीं।

खैर.. मैंने एक मम्मे को मुँह में लिया और उसे चूसने लगा।

उन्हें बहुत अच्छा लग रहा था तभी वो एक हाथ से मेरे सर को अपने मम्मे पर दबा रही थीं।

मैं अपनी ऊँगली धीरे-धीरे उनके अन्दर-बाहर करने लगा। उन्हें ये बहुत ही अच्छा लग रहा था।
थोड़ी देर तक मम्मे चूसने के बाद मैं उनके ऊपर 69 की अवस्था में चढ़ गया और अब मेरा लण्ड उनके मुँह के ऊपर था और उनकी चूत मेरे मुँह के ऊपर थी।

मैंने अपना मुँह उनकी चूत के ऊपर रखा तो उनकी सिसकारी निकल पड़ी। थोड़ी देर मेरे चाटने के बाद उन्होंने भी मेरे पैंट को नीचे सरका दिया और मेरा 7″ का लण्ड उनके हाथों में आ गया।

उसे देख कर वो बोली- हाय राम.. विक्की.. आपका तो बहुत बड़ा है, इतना तो आपके चाचा का भी नहीं है।

फिर वो अपने आप उसे हाथों में लेकर सहलाने लगीं और फिर अपने मुँह में डाल लिया।

क्या बताऊँ.. ऐसा लग रहा था जैसे मैं जन्नत में पहुँच गया होऊँ।

अब वो गपागप मेरा लण्ड चूस रही थीं और मैं उनकी चूत चचोर रहा था, बीच-बीच में मैं जीभ अन्दर-बाहर भी कर रहा था।

तभी उन्होंने पानी छोड़ दिया और झड़ गईं।

मेरा भी माल उनके मुँह में ही निकल गया और उसे वो पूरा चूस गईं और बोली- अहा.. बहुत टेस्टी था।

फिर उन्होंने मुझे बताया कि मेरे चाचाजी ने कभी उनकी चूत नहीं चाटी थी और उन्हें बहुत मज़ा आया।

अब हम दोनों एक-दूसरे के सामने बिल्कुल नंगे बैठे थे।

उनके उठे हुए मम्मों को देख कर मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया तो वो उसे देख कर हँसने लगीं और बोलीं- यह तो फिर से खड़ा हो गया।

मैंने बोला- आपको सलामी दे रहा है।

तो वो बोलीं- तब तो इसकी सलामी स्वीकार करनी पड़ेगी।

तो मैंने कहा- कीजिए।

फिर वो बोलीं- सलामी कैसे स्वीकार करूँ?

तो मैंने बोला- लेट कर।

तो वो पीठ के बल लेट गईं और मैं उनके ऊपर आ गया और अपने लण्ड को उनकी चूत के मुँह पर रख दिया और लवड़े उनकी चूत पर रगड़ने लगा, उनसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था।

वो बोली- अब देर मत कीजिए विक्की और दे दीजिए सलामी।

तो मैंने अपना लण्ड उनकी चूत पर टिकाते हुए एक ज़ोर का धक्का दिया और मेरा आधा लण्ड उनके अन्दर चला गया।

वो थोड़ा कसमसाई लेकिन फिर मैंने दुबारा धक्का दिया और मेरा पूरा लण्ड उनकी चूत में चला गया।

चूँकि उनकी चूत गीली थी इसलिए कोई दिक्कत नहीं हुई।

वो थोड़ा चिल्लाईं लेकिन मैंने अपना मुँह उनके होंठों पर रख कर उन्हें चुप करा दिया।

फिर वो मज़े लेकर मुझ से जोर के धक्के लगाने को कहने लगीं और मैं भी अपना लण्ड उनके अन्दर-बाहर करने लगा।

मैं उन्हें ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा।

वो बीच-बीच में ‘आह.. उउह’ कर रही थीं जिससे पता चल रहा था कि उन्हें बहुत मज़ा आ रहा है और बीच-बीच में बोल भी रही थीं- और तेज करो.. बहुत मज़ा आ रहा है।

उनको चोदने के दौरान मैं उनका एक दूध चूस रहा था, तो उन्हें और मज़ा आ रहा था।

उनको काफ़ी देर इस तरीके में चोदने के बाद मैंने उन्हें उठाया और घोड़ी बनने को बोला।

वो उठीं और घोड़ी बन गईं और फिर मैंने अपना लण्ड पीछे से उनक चूत में पेल दिया।

उन्हें इस तरह से चुदने में बहुत मज़ा आया।

वो ज़ोर-ज़ोर से सिसकारी लेने लगीं उनको काफ़ी देर इस तरह से चोदने के बाद मैं झड़ने ही वाला था और इस बीच वो दो-तीन बार झड़ चुकी थी।

जब मेरा छूटने वाला था तो मैंने अपना लण्ड उनकी चूत से निकाल कर उनके मुँह में दे दिया।

वो मेरा सारा माल गटक गईं और मेरे लण्ड को चाट कर साफ़ कर दिया।

फिर हमने एक चुम्मी ली।

उन्होंने मुझे बताया कि उन्हें मेरे साथ बहुत मज़ा आया और बोला- तुम्हारे चाचा उन्हें कभी इस तरह से नहीं चोदते।

उस रात हमने एक बार और चुदाई की और उसके बाद भी मैंने उन्हें कई बार चोदा, वो सब कभी और सुनाऊँगा।

तो दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी पहली कहानी मुझे ज़रूर मेल करें।
मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा।

Download a PDF Copy of this Story लण्ड की सलामी-2

Leave a Reply