हॉट आंटी की चुत चुदाई की स्टोरी

(Hot Aunty Ki Chut Chudai Ki Story)

हाय फ्रेंडस, मेरा नाम अमित है और मैं मेरठ, पश्चिमी उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 23 साल है और मैं एक सामान्य का दिखने वाला लड़का हूँ.

यह एक हॉट आंटी की चुत चुदाई की स्टोरी है. कुछ महीने पहले की बात है. तब मैं अपने फ्रेंड के साथ उसके अंकल के यहाँ गया था. उनके अंकल के घर में अंकल, आंटी और उनके दो बच्चे थे और उनका एक भाई भी उनके साथ रहता था.

जब हम लोग वहां पहुँचे, तो मैं आंटी को देख कर दंग रह गया और वो सलवार और कुर्ती में थीं. आंटी की उम्र 35-36 साल की लग रही थी. उनका नाम प्रिया है. आंटी बहुत ही ब्यूटीफुल हैं और उनका फिगर बहुत अच्छा है.

हम वहां बैठ गए और बातें करने लगे. जब भी आंटी झुकती थीं, तो उनकी कुर्ती के गले से उनके मम्मे दिखते थे क्योंकि उसका गला काफी गहरा था. मैं आंटी के मम्मों को देख कर मजा ले रहा था. आंटी ने नोटिस कर लिया था कि मैं उनके मम्मों को ताक रहा हूँ.
वो दिन तो ऐसे ही बीत गया था और हम दोनों दोस्त वापिस आ गए,

एक सप्ताह बाद फिर मैं उधर किसी काम से गया तो मैंने मन में सोचा कि क्यों ना आंटी से मिलता चलूँ, शायद कुछ नजारा देखने को मिल जाए!

मैंने जैसे ही डोरबेल बजाई, आंटी ने दरवाजा खोला, आंटी मुझे देख कर बहुत खुश हो गईं, उन्होंने मुझे अन्दर बुलाया, अन्दर अंकल को न देख कर मैंने पूछा- अंकल कहाँ पर हैं?
उन्होंने बताया कि अंकल काम पर गए हैं.
उन्होंने मुझे बैठने को कहा और पानी पिलाया. उस दिन उन्होंने नाइटी पहनी हुई थी.

हम दोनों ने 15-20 मिनट तक बातें की और मैंने कहा- अब मैं चलता हूँ आंटी.
मैं जैसे ही उठने लगा, तो आंटी बोलीं- खाना खा कर जाओ ना.. खाने का वक्त हो गया है.

मैं तो रुकना ही चाहता था तो बैठ गया. वो खाना बनाने से पहले नहाने चली गईं. उनकी ब्रा और पेंटी मेरे सामने पड़ी हुई थी. मैंने उनकी ब्रा और पेंटी को देखने लगा. उनकी ब्रा का साइज़ 36सी का था. वो नहा कर बाहर आईं. क्या मस्त लग रही थीं.

उसके बाद आंटी ने मुझसे पूछा- अकेले रूम लेकर रहते हो?
मैंने कहा- जी आंटी.
“कोई गर्लफ्रेंड बनाई है या नहीं?”
मैंने कहा- नहीं आंटी! ऐसा कुछ नहीं है!

वो किचन में चली गईं और खाना बनाने लगीं. मैं उनके पास जाकर खड़ा हो गया और बातें करने लगा और हम फिर मजाक भी करने लगे.
आंटी ने कहा- सच बता.. कितनी गर्लफ्रेंड हैं तेरी?
मैंने कहा- सच्ची आंटी, एक भी नहीं है.
मैंने भी मजाक में आंटी से कहा- आपके कितने ब्वॉयफ्रेंड हैं?
तो वो बोलीं- अब औरत हो गई हूँ.. मुझ में कुछ नहीं बचा है.
मैंने कहा- आप ऐसे क्यों बोल रही हो? आप में तो बहुत कुछ बाक़ी है.

वो एक दम से हंसने लगीं और मैंने पानी लेने के बहाने से उनको पीछे टच कर दिया.
मैंने आंटी को कहा- आप अभी भी दो-चार लोगों को एक साथ टहला सकती हो.
वो बोली- ऐसी बात नहीं है. मैं तो तुमको भी नहीं टहला सकती.

मैं इस समय आंटी की आँखों में बहुत वासना देख रहा था. मैंने उनको पीछे से पकड़ लिया और बात करने लगा. वो कुछ नहीं बोल रही थीं. मैं उनके मम्मों को दबाने लगा.
आंटी गर्म हो गई और पीछे घूम कर पागलों की तरह मुझको किस करने लगी.

हम दोनों ही गरम हो गए थे. मैंने उनके मम्मों को और जोर से दबाना शुरू कर दिया और फिर एक हाथ से नीचे आंटी की चुत को सहलाने लगा. आंटी की चुत गीली हो गई थी. मैंने किचन में ही उनकी नाइटी को ऊपर करके आंटी की चुत को चाटना शुरू कर दिया. वो पूरी गर्म हो रही थीं और बस आँखें बंद करके खड़ी थीं.

फिर मैंने अपना लंड निकाल कर उनके हाथ में दे दिया. आंटी मस्त होकर लंड के मज़े ले रही थीं.

अब हम दोनों से रहा नहीं जा रहा था. मैंने वहीं किचन में स्लैब के सहारे आंटी की एक टांग उठाकर अपना लंड सैट किया. वो पूरी तरह से तैयार थीं, मैंने पुश किया, तो आंटी ने थोड़ा ‘अहहाह अहहह अहहाह..’ की आवाज़ निकाली और मैंने अपना पूरा लंड आंटी की चुत के अन्दर डाल दिया.

वो एकदम से सिहर गईं और मैंने चोदना शुरू किया. जल्दी ही मैंने स्पीड बढ़ा दी. आंटी कुछ मिनट बाद झड़ने को हुई तो मैंने अपना लैंड आंटी की चुत से निकाल कर उं को उठा कर किचन की स्लैब पर बैठाया और अपनी जीभ को आंटी की चुत में डाल कर चाटने लगा.
आंटी पूरी गर्म हो कर झड़ने लगी, ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… अह ऊओ होहोह..’ की आवाजें उनके मुँह से निकल रही थीं. मैंने आंटी की चुत का पूरा रस पी लिया.

फिर मैंने आंटी की ब्रा को खोल कर फेंक दिया, मैंने उनके मम्मों को चूसना शुरू कर दिया. आंटी के मम्मों को कई मिनट तक पीने से मुझे मज़ा आ गया.

मैं अभी तक झाड़ा नहीं था, मैंने उनके मुँह में अपना लंड डाल दिया और आंटी पूरे मज़े से लंड चूसने लगी.

आंटी की गांड भी बहुत मस्त थी, मैंने आंटी से पूछा- आंटी गांड मरवाती हो?
आंटी बोली- कभी कभी तुम्हारे अंकल मेरी गांड मारते हैं लेकिन मैं ज्यादा मारने नहीं देती.
मैंने कहा- तो आंटी आज तो मेरे से अपनी गांड मरवा लो.
आंटी मुस्कुराती हुई बोली- कर ले आज तू अपने मन की…

मैंने वहीं पास में रखा हुआ सरसों का तेल उठाया और अपने लंड पर लगा कर उसको चिकना कर लिया. फिर एक उंगली तेल में डुबो कर आंटी की गांड में घुसा दी. आंटी एक दम से बोली- क्या कर रहा है, आराम से कर ना!

मैंने आंटी की गांड में तेल लगाने एक बाद उस पर अपना लंड लगा कर सैट किया तो आंटी शाम कर बोलीं- धीरे से डालना.. बहुत दर्द होगा.
मैंने कहा- लंड पसंद आया?
उन्होंने बताया कि हाँ.. तेरे अंकल का ज्यादा बड़ा नहीं है.

मैंने एक बार में ही अपना सुपारा आंटी की गांड में डाल दिया. वो धीरे से चीख पड़ीं. फिर धीरे धीरे मैंने अपना पूरा लंड अंदर घुसा दिया और आराम आराम से आंटी की गांड मारने लगा. मेरे एक हाथ की एक उंगली आगे आंटी की चुत में थी और मैं आंटी की चुत को उंगली से चोद रहा था.
अब आंटी को बहुत मज़ा आ रहा था, आंटी पूरे जोश में चुद रही थीं.

पूरे दस मिनट की चुदाई के बाद, मैंने पूरा का पूरा पानी उनकी गांड में डाल दिया. मैं उनकी पूरी बॉडी को किस करता रहा. आंटी मदहोश होकर मज़े ले रही थीं.
आंटी ने मुझे चूमते हुए कहा- आई लव यू.
मैंने भी ‘आई लव यू टू’ कहा. वो मेरे लंड से खुश थीं और अब तक वो भी झड़ चुकी थीं.

उसके बाद आंटी ने खाना लगाया, खाना खाने के बाद हम दोनों बेडरूम में गए और वहां पर भी चुदाई का खेल किया.
उस दिन पूरे 3 घंटे तक मैंने आंटी के साथ मजा किया. ये सब करते समय एक बगल की भाभी ने देख लिया और मुस्कुरा कर चली गईं.
आंटी ने मुझे बताया- अरे डर मत… वो साली तो खुद ही अपने नौकर से चुदती है क्योंकि उसका पति हमेशा बाहर ही रहता है.
आंटी ने मुझे आश्वस्त किया तो मुझे उस भाभी की चुत में आशा की किरण दिखी, मैंने आंटी को कहा- तो इसका मतलब इन आंटी की चुत भी मुझे मिल सकती है?

आंटी ने मुझे लम्बा किस किया और मुस्कुराती हुई मेरे लंड को हाथ में लेकर बोलीं- बहुत आग लग रही है इसमें चुदाई की? मेरी चुत और गांड से मन नहीं भरा क्या?
फिर बोली- उस की चुत भी दिला दूँगी और आज के बाद, जब भी मन करे तो मुझे चोदने आ जाना.

दोस्तो, हॉट आंटी की गांड और चुत चुदाई की स्टोरी आपको कैसी लगी? आप अपने जवाब मुझे जरूर भेजें.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! हॉट आंटी की चुत चुदाई की स्टोरी