गाँव में चाची की चुदाई का भरपूर मजा लिया

(Ganv Me Chachi Ki Chudai Ka Bharpur Maja Liya)

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज पढने वाले मेरे दोस्तो, आप सबको नमस्ते!
मेरा नाम राज है, मेरी उम्र 21 साल है, मैं इंजीनियरिंग कर रहा हूँ. मैं रतलाम का रहने वाला हूँ.
मैं एक बार, अपने गाँव गया हुआ था छुट्टी पर. गाँव में मेरी चाची रहती हैं जिनका नाम शोभा है, उनकी उम्र 34 साल और साइज़ 32-30-34 है.

मुझे अपनी चाची को चोदने की पहले ही इच्छा थी और मैं उनको जब भी चांस मिलता, तब उनको छू देता था और कभी किस भी किया करता था गाल पर. वो कुछ बुरा नहीं मानती थी.

अचानक एक दिन मुझे चाची ने बुलाया और कहा कि उनको बाहर जाना है और मैं उनको लेकर चलूँ!
मैंने हामी भर दी.

हम दोनों तैयार हो गये और निकल गये. चाची ने उस दिन लाल साड़ी पहनी हुई थी. क्या कयामत लग रही थी उस दिन वो!
मैं तो बस उन्हें देखता ही रह गया.

फिर उन्होंने मुझे एक चूमटी काटी, तो मैं होश में आया. हम चल दिए. मैं बाइक चला रहा था और वो मेरे पीछे थोड़ी चिपक कर बैठी हुई थी.
अचानक से स्पीड ब्रेकर आ गया और मैंने जोर से ब्रेक लगाये. वो सीधे मेरे ऊपर टकरा गई और उनकी चुची मेरी पीठ में गड़ गई.
मेरा तो वहीं खड़ा हो गया.. ऐसे लगा, जैसे किसी नर्म मुलायम चीज़ से मैं टकरा गया हूँ.

फिर हमने शॉपिंग की और आते-आते रात हो गई थी.

हम डिनर करके सो गये और अगले दिन, हुआ यूँ कि घर के लोग कहीं बाहर जा रहे थे. पर चाची की तबीयत ख़राब थी, तो वो नहीं जा रही थी.
सुबह आठ बजे सब निकल गये और घर में मैं और मेरी चाची अकेले रह गये थे.

चाची नहाने जा रही थी. जैसे ही वो अन्दर गई, मैं उनके कमरे में जाकर उनकी ब्रा और पेंटी को लगा सूंघने… मैंने वहीं मुठ मारनी शुरू कर दी और तभी अचानक से चाची आ गई और मुझे देख
लिया.
मेरी तो फट गई और उन्होंने मुझे खूब डांटा और एक चांटा भी लगा दिया.

मैं वहां से चला गया और फिर मैंने उनसे बात नहीं की. वो भी मुझसे बात नहीं कर रही थी.

शाम को जब मैं टेरेस में घूम रहा था, तो चाची आई और मुझे बुलाया और मुझे लगा कि और चांटा खाना पड़ेगा. पर चाची मुझसे कुछ अलग ही ढंग से बात कर रही थी.

रात को हम दोनों ने डिनर किया और उसके बाद मैं टीवी देख रहा था तो चाची आई और मेरे पास ही बैठ गई और मुझसे सॉरी कहा.
फिर मैंने उनसे माफ़ी माँग ली.

हम दोनों अब टीवी देख रहे थे और उसके बाद हम अपने-अपने कमरों में सोने चले गये.
आखिरकार वो दिन आ गया, जब मैंने ठान ली थी कि अब मैं चाची को चोद कर ही रहूँगा.

अगली सुबह मैं नहाने गया और देखा, चाची के कपड़े वहीं पड़े हुए थे. मैंने चाची की पेंटी उठाई और सूंघने लगा और मुठ मार कर उनकी ब्रा और पेंटी पर गिरा दिया और नहा कर वापस आ गया. फिर जब मैं कॉलेज जा रहा था, तब चाची आई. बोली- आज कॉलेज मत जाओ!

मुझे दाल में कुछ काला लगा, मैंने ‘ओके’ कहा और कॉलेज नहीं गया.
मैं कपड़े बदल कर टीवी देखने लगा.
टीवी पर ‘आशिक बनाया आपने..’ सोंग चल रहा था, उसे देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया.

मैंने पीछे देखा, तो चाची भी वो देख रही थी. चाची मेरे पास आई और बैठ गई, उन्होंने मुझसे पूछा कि मैंने आज बाथरूम में क्या किया?
मैं समझ गया, मुझे लगा कि आज फिर से क्लास लगने वाली है लेकिन उसके बाद कुछ ऐसा हुआ कि मैं हैरान हो गया.
चाची ने मुझे मेरे होंठों पर किस किया और मैं हैरान रह गया.

उन्होंने मुझसे कहा कि वह कई सालों से प्यासी हैं, वो मुझसे चुदना चाहती है.
फिर क्या था, मुझे ग्रीन सिग्नल मिल चुका था और मैं शुरू हो गया. मैं उनको रोमांटिक किस कर रहा था.

उन्होंने मेरे लंड को पकड़ लिया और मुझे अपने बेडरूम में ले गई. उन्होंने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और खुद भी नंगी हो गई.
वो मेरे ऊपर चढ़ गई और मुझे पागलों की तरह किस करने लगी. वो किस करते-करते नीचे आई और झट से मेरे लंड को अपने मुख में लेकर चूसने लगी.
ऊऊह्ह ह्ह्ह शिट… उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैं तो सीधे ही स्वर्ग पहुंच गया.
उन्होंने करीब दस मिनट मेरा लंड चूस कर मेरी हालत ख़राब कर दी.

फिर मैंने उनको नीचे किया और उनको किस करने लगा, वो उम्म उम्म्मह उहम्म की आवाजें निकाल रही थी. फिर मैंने उनकी चुची को पागलों की तरह चूमा चूसा और काटा.
वो बोलती जा रही थी- येस्स अहह अहाहः डार्लिंग अहहहः
यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

चाची मस्ती में मदहोश हो चुकी थी और उन्होंने मुझे एक थप्पड़ भी मारा, लेकिन प्यार से!
मैं उन्हें बोल रहा था- अहहहः हहहः चाची आप बहुत गर्म हो…
वो मुझे थप्पड़ मार कर बोली- चाची नहीं, शोभा बोल!

फिर मैं और नीचे आया और उनकी चूत को चूसना स्टार्ट किया. उनकी चूत में से हल्का सा पानी आने लगा था.
चाची चिल्ला रही थी- आआअह्ह ह्हहऊऊ उफ़्फ़्फ़्फ़् ऊउम्म्म एस राज.. बहुत अच्छा लग रहा है… हीई.. उम्म्म म्म्म्म म्म्म!
और चाची पागलों की तरह चिल्ला रही थी, वो मेरे सिर को अपनी चूत में दबा रही थी. मैं समझ गया था कि वो झड़ने वाली है, मैंने उनकी चूत के अन्दर अपनी जीभ डाल दी और चूसने लगा.
वो झड़ गई और मैंने उनका पूरा पानी पी लिया.

फिर चाची ने कहा- अब और बर्दाश्त नहीं हो रहा है.. प्लीज डाल दो अपना अन्दर..
पर मैं अभी कहाँ डालने वाला था, मैं बाहर गया और फ्रिज से हनी ले आया और चाची की चूत पर डाल कर उसे चूसने लगा.
वो तड़प रही थी और इस बार मैं उन्हें अपनी टंग से फक कर रहा था.
कुछ मिनट बाद चाची फिर से झड़ गई और अब वो मुझे लेटा कर मेरे लंड पर शहद डाल कर चूसने लगी.

मैं तो स्पीचलेस हो गया और आँखें बंद कर एक नशे में चला गया. फिर मैं झड़ गया और चाची ने पूरा पी लिया.

फिर हमने एक दूसरे को एक लम्बी समूच दी और मैंने अब चाची को नीचे लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया.
मैंने अब उनकी चूत के छेड़ पर लंड टिका दिया.
चाची छटपटाते हुए बोली- जल्दी डालो ना जानू…
मैं भी ‘हाँ जानू…’ बोलते हुए धक्के मार रहा था.

मेरे पहले जोरदार धक्के में मेरा आधा लंड उनकी चूत में घुस गया.
चाची चिल्ला उठी. मैं झट से उनको किस करने लगा. फिर कुछ देर किस करने के बाद वो शांत हो गई और नीचे से गांड हिला कर इशारा किया. फिर मैंने धीरे-धीरे लंड अन्दर-बाहर करना शुरू किया.
जब उनको मज़ा आने लगा तो मैं एक और जोरदार झटका मारा और पूरा लंड अन्दर समा गया. उनकी फिर से चीख निकल गई. अब थोड़ी देर बाद चाची को भी मजा आने लगा था और वो नीचे अपनी गांड हिला कर मेरा साथ दे रही थी और चीख भी रही थी- येस्स स्स स्स्स स्श्श्श श्ह्ह्हह्ह और जोर से और जोर चोदो ..ह्म्म म्मम और जोर से मेरी जान…
मुझे ये सब सुनकर सुख मिल रहा था और मैं और जोर से धक्के लगाने लगा.

फिर उन्होंने मुझे जोर से जकड़ लिया और मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है और वो झड़ गई.
मैंने फिर भी चुदाई चालू रखी. मैंने उसके बाद चाची की चुदाई डौगी स्टाइल में की और वो बस यही बोल रही थी- अहहहः अहहः येस्स्स जान, आई लव यू… काश तुम मेरे पति होते…
पूरे कमरे में हमारी चुदाई की ही आवाज़ आ रही थी.

फिर उन्होंने मुझे धक्का देकर लिटाया और खुद मेरे लंड पर बैठ गई, मैं नीचे से लंड अन्दर-बाहर कर रहा था.
मैं अब अंतिम चरण पर आ चुका था, मैंने उनको बोला- कहाँ निकालूँ?
तो उन्होंने झट से मेरा लंड अपने मुख में ले लिया और मस्त होकर मेरा सारा माल पी गई.

चाची की चुदाई के बाद हम दोनों एक दूसरे से चिपक गये और सो गये.
उस पूरे दिन हमने चुदाई की और मस्ती की.

उसके बाद तो मैंने जब भी मौका मिला, तब तब चाची की चुदाई की.

आप मुझे जरूर बताना कि आपको मेरी यह हिंदी सेक्स स्टोरी कैसी लगी.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! गाँव में चाची की चुदाई का भरपूर मजा लिया