चाची ने चुदाई का तजुर्बा दिला दिया-1

साहिल
दोस्तो, आज मैं आप लोगों को अपनी कहानी सुना रहा हूँ।
मेरी यह कहानी बिल्कुल खरे सोने की तरह सही है।
बात उस वक्त की है जब मैं 19 साल का था। मेरे चाचा का इन्दौर में काम चलता था और उनको कई दिनों तक बाहर रहना पड़ता था।
उनकी शादी हुए 15 साल हो गए थे और उनके एक बच्चा था मेरी चाची सायमा की उम्र करीब 35 साल की होगी।
देखने में वो बस ठीक-ठाक ही थीं।
मैं जवान हो रहा था, मेरे दिल में अक्सर चाची को देख कर पता नहीं क्यों हलचल सी होती थी।
यह हलचल क्या थी..! यह उस वक्त पता नहीं था।
मैं जब भी रात को अकेला लेटता था, तो चाची का ख्याल अक्सर मेरे दिमाग में आ जाता था।
वो बारिश की रात मुझ को आज भी याद है जिसने मेरी ज़िन्दगी को बदल कर रख दिया।
उस दिन सुबह से ही पानी गिर रहा था, चाचा बाहर थे, घर में मैं और चाची थीं और छोटा बच्चा था।
मैंने खाना चाची के साथ ही खाया और सोने को जाने की सोच रहा था, तभी चाची ने मुझको रोक लिया और कहा कि आज मैं उनके कमरे में ही सो जाऊँ।
मैं कभी चाची के कमरे में नहीं सोया था तो मुझको सुन कर अजीब सा भी लगा, मगर अच्छा भी लगा।
मैं ऊपर जाकर अपना बिस्तर उठा लाया और ज़मीन पर ही बिछा लिया।
चाची अभी रसोई में ही थीं, जब तक वो अपना काम निपटा कर आईं, मैं सो चुका था।
रात में करीब एक बजे मेरी नीन्द खुली, किसी की दर्द भरी सिसकारियां सुन कर मैंने ध्यान लगा कर सुना, वो चाची की आवाज़ थी।
कमरे में अंधेरा था, मैंने गौर से देखा चाची बिस्तर पर लेटी थीं और उनकी टाँगों के बीच तकिया दबा था। वो तकिये को अपनी दोनों टाँगों के बीच दबा कर उस को ज़ोर-ज़ोर से हिला रही थीं।
मैं घबरा कर उठ बैठा और चाची से मुखातिब हुआ।
मैं- चाची क्या बात है.. क्या तबियत खराब है?
वो अचानक घबरा गईं और उन्होंने तकिया दूर फेंक दिया।
मैंने अन्दाज़ा लगाया कि चाची ने चड्डी नहीं पहनी है।
वो बोलीं- नहीं रे.. अचानक नीचे ज़ोर का दर्द उठ आया है सो तकिया लगा कर दबा रही थी, पर दर्द जाता नहीं है। तू मेरा एक काम करेगा..?
मैंने कहा- हाँ… आप बोलिए क्या करना है..!
चाची- देख वहाँ कपड़ों पर प्रेस करने वाली प्रेस रखी है.. उसको उठा ला ज़रा।
मैंने कहा- लाईट जला दूँ क्या?
वो- नहीं रे.. बन्द रहने दे..
मैं जाकर प्रेस उठा लाया।
‘देख… तुझको मेरे पेट की सिकाई करना होगी।’
मैंने कहा- ठीक है।
उन्होंने चादर ओढ़ ली। मैंने एक कपड़ा गर्म किया और चाची को दिया तो वो बोलीं- नहीं रे.. तू ही सिकाई कर।
और मेरा हाथ पकड़ कर चादर के अन्दर कर लिया और अपनी दोनों टाँगों के बीच कपड़े को मेरे हाथ समेत दबा लिया और सिसकारी लेने लगीं।
मैंने कहा- दर्द शायद ज्यादा है?
‘हाँ.. रे.. दर्द तो बहुत ज्यादा है। एक काम और करेगा मेरा..?’
‘हाँ.. कहिए क्या करना है?’
‘मैं हिल नहीं पाऊँगी ज़रा मेरी मालिश कर देगा.. तो दर्द कम हो जाएगा !
“हाँ.. क्यों नहीं..!”
मैं जाकर तेल ले आया, तब तक चाची उल्टी लेट गई थीं। मैंने उनकी दोनों टाँगों की मालिश की मगर उनके कूल्हों के नीचे तक चाची के आधे कूल्हे नंगे दिख रहे थे। पर सच कहूँ उस वक्त तक भी मेरे दिल में ऐसा कुछ नहीं आया कि चाची के दिल में क्या है।
फिर चाची पलट गईं और अब उनका सीना सामने की तरफ़ था और मैंने महसूस किया कि वो ज़ोर से हिल रहा था।
उन्होंने कहा- सँभालो साहिल, मुझको कुछ हो रहा है… प्लीज़ कुछ करो..!
मैं घबरा गया।
मैंने कहा- चाची डाक्टर के यहाँ चलते हैं।
तो वो बोलीं- नहीं रे.. अभी नहीं.. तू तो बस मालिश करता रह.. मैं ठीक हो जाऊँगी।
ऐसा कह कर उन्होंने अपना गाउन ऊपर सरका लिया और वो पहला मौका था जब मैंने चाची की चूत देखी। अंधेरे में एक काला सा कुछ दिख रहा था और मैंने पहली बार अपने लन्ड में हरकत महसूस की।
मेरे कानों में हजारों झींगरों की सी आवाज़ होने लगी थी और हाथ-पैर हल्के से कांपने लगे थे और जुबान लड़खड़ाने लगी थी।
फिर मैंने हिम्मत कर के अपने हाथों में तेल लिया और चाची के पेट पर मलने लगा।
चाची ने अपना गाउन और ऊपर सरका लिया और दोनों टाँगें मोड़ कर फैला लीं और मुझको सामने की तरफ़ कर लिया।
अब चाची की चूत बिल्कुल मेरे सामने थी, पर साफ़ नहीं दिख रही थी। मेरा लन्ड मेरी पैन्ट में रगड़ने लगा था। पता नहीं मुझको चक्कर से आने लगे थे।
अब चाची ने अपना गाउन पूरा ऊपर की तरफ़ करके उतार दिया। अब वो अधेड़ जवानी मेरे सामने बिल्कुल नंगी पड़ी थी और मैं अपने होश खोता जा रहा था।

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !
अब मैं मालिश भी नहीं कर पा रहा था। जानता था कि यह कुछ और होने वाला है।
‘क्या सोच रहा है रे..?’ चाची ने मुझसे कहा।
मेरे हलक से आवाज़ नहीं निकली, मैं जड़ हो चुका था।
फिर चाची ने अपने हाथों से मुझको अपने करीब खींचा, उनके भी हाथ काँप रहे थे, ‘साहिल मुझसे नाराज़ तो नहीं है ना.. रे..?’
‘नहीं..!’ मेरे हलक से बस इतना ही निकला।
फिर पता नहीं क्या हुआ, चाची कांपने लगीं और रोने लगीं।
मैंने उनका सर अपने कन्धे पर रख लिया। वो अचानक मुझसे चिपक गईं और ज़ोर से रोने लगीं।
मैं समझ नहीं पा रहा था कि क्या करूँ..!
मैंने उनकी पीठ पर हाथ फेरना शुरु कर दिया। अचानक उन्होंने मेरे कमीज़ के बटन खोलना शुरु कर दिए।
मैंने कोई हरकत नहीं की, फिर उनका हाथ मेरे सीने पर फिरने लगा।
मैंने हथियार डाल दिए।
फिर उनका हाथ धीरे-धीरे से फिसलता हुआ मेरी पैन्ट की ज़िप पर रुक गया।
मेरा लन्ड अब चाची से छुपा नहीं रहा, वो पैन्ट के ऊपर से दिखने लगा था।
चाची ने मेरी पैन्ट की ज़िप खोलना शुरु की, मैंने अपनी आँखें बन्द कर ली थीं।
ज़िप खोल कर चाची ने मेरा लन्ड बाहर निकाला, मेरा लन्ड चाची के हाथ में था और मेरे शरीर से पसीना बहना शुरु हो गया था।
चाची ने मेरी दोनों टाँगें उठा कर मेरी पैन्ट बाहर निकाल दी। अब मेरा लन्ड चाची के सामने खड़ा था।
एक जवान होता लन्ड और उससे चुदने को तैयार हो रही थी एक अधेड़ जवानी..!
फिर चाची ने मेरा सर पकड़ कर अपने चूचुक से लगा दिया। मैंने पहली बार उन चूचुकों पर अपना मुँह रखा जिनको मैं छुप कर देखा करता था।
आज वो चूचुक खुद चल कर मेरे मुँह में आ गए थे, चाची अपने मम्मों को दोनों हाथों से दबा-दबा कर मेरे मुँह में डाल रही थीं।
मेरी सासें रुकने लगी थीं।
‘साहिल..!’ चाची ने कहा।
मेरी आवाज़ नहीं निकली।
‘अपनी चाची को चोदेगा?’
‘मुझको कुछ हो रहा है चाची..!’ मैंने बहुत मुश्किल से कहा।
‘कुछ नहीं होगा रे..! अभी तूने चुदाई का खेल जो नहीं खेला आज तेरी चाची तुझ को पूरा मर्द बना देगी !’ ऐसा कह कर चाची खड़ी हो गईं और अपनी टाँगें फैला कर मेरा मुँह पकड़ कर अपनी चूत से लगा दिया।
मैंने आँख खोल कर देखा मेरा मुँह उनकी झांटों के बीच में था।
‘इसको चाट रे… तेरी चाची की बहुत तरसी चूत है..!’
ऐसा कह कर उन्होंने दोनों हाथों से अपनी चूत को फैला दिया, मैं उनकी चूत को चाटने लगा।
अजीब सी गन्ध आ रही थी।
करीब दो मिनट चाटा होगा कि चाची ने मेरा मुँह झटके से अलग कर दिया, मेरा मुँह गीला हो गया था।
कहानी जारी रहेगी, मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! चाची ने चुदाई का तजुर्बा दिला दिया-1

प्रातिक्रिया दे