जवान लड़की की बुर चुदाई की कहानियाँ

जवान लड़की को प्रेम प्यार के चक्कर में फांस कर सेक्स का मजा लेने या अपनी अन्तर्वासना शांत करने के लिए चूत चुदवाने वाली कहानियाँ हिंदी में

jwan Ladki Ko Prem Pyar ke chakkar me fans kar sex ka maja lene ya apni antarvasna shant karne ke liye bur chudvane vali kahaniyan

Indian Sex stories of teen girls and Boys

प्यार की नयी परिभाषा

अपनी कक्षा की एक खूबसूरत लड़की को पसंद करने लगा लेकिन वो भाव नहीं देती थी. मैंने अपना दिमाग लगाकर उसको पटाया. दोस्ती में हमने कितने मजे लिये, मेरी इस कहानी में पढ़ें.

नयी पड़ोसन और उसकी कमसिन बेटियां-5

पड़ोसन के घर उसकी भतीजी रहने आई हुई थी. मेरे बार बार कहने पर वो अपनी भतीजी को मेरे पास भेजने को राजी हो गई. तो क्या वो लड़की आई और मैं कुछ कर पाया?

नयी पड़ोसन और उसकी कमसिन बेटियां-3

पड़ोसन की बेटी को मैं पेपर दिलाने लखनऊ ले गया. वहां होटल में चुदाई के खूब मजे लेने के बाद दूसरे दिन हम वापस आ गए. लेकिन अब मैं उसकी दोबारा चुदाई के जुगाड़ में था.

नयी पड़ोसन और उसकी कमसिन बेटियां-2

मैं अपनी पड़ोसन की कुंवारी बेटी को एक बार चोद चुका था. उसने अपनी पहली चुदाई खुल कर करवाई और पूरा मजा लिया. उसके बाद मैंने उसके साथ और क्या क्या किया, पढ़ें और मजा लें!

नयी पड़ोसन और उसकी कमसिन बेटियां-1

ट्रांसफर होकर मैंने कानपुर में मकान किराये पर लिया. ठीक सामने गुप्ताइन का घर था. मैंने जब से उसे देखा, दिल उस पर फिदा था, मैं किसी भी तरह उसको चोदना चाह रहा था.

पहली नजर का प्यार चला गांड की चुदाई तक

कोचिंग क्लास जाते हुए मुझे ऑटो में एक दिन एक लड़की मिली. उसकी खूबसूरती पर मैं फिदा हो गया. बात करने पर पता चला कि वह भी मेरे कोचिंग सेंटर में है. उसके बाद क्या हुआ?

भूत की माँ की चूत

मैं अपने नाना जी के गांव गया था. रात में पायल की छन-छन ने मेरी नींद हराम कर दी! दोस्त ने बताया कि भूत है. पर जब मैं बात की तहकीकात करने निकला तो क्या मिला?

कुंवारी लड़की को सुनसान बिल्डिंग में चोदा

एक अधूरी बनी सुनसान बिल्डिंग में जाकर मैं पढ़ाई किया करता था. मगर उस बिल्डिंग ने मुझे एक कुंवारी चूत का मजा दिला दिया. कैसे? वर्जिन गर्ल की सेक्स कहानी पढ़ कर देखें!

ट्रेन में एक हसीना से मुलाक़ात-2

ट्रेन में मिली लड़की से मेरी काफी गहरी दोस्ती हो गई. लेकिन उसे प्रोपोज करने में मेरी फट रही थी. आखिर उसकी सहेली ने मुझे बताया कि ... क्या बताया और बात आगे कैसे बढ़ी?

ट्रेन में एक हसीना से मुलाक़ात-1

मैं इंदौर से जयपुर की ट्रेन में था तो रतलाम से एक लड़की मेरी बोगी में मेरे सामने वाली सीट पर बैठी. मैं उसे देख देख कर मुग्ध हुआ जा रहा था. बात आगे कैसे बढ़ी? कहानी में पढ़ें!

पहला नशा पहला मज़ा-2

मैंने देखा कि मेरी सहेली और उसकी बड़ी बहन अपनी जवानी की आग अपने बाप से चटवा या उंगली करवा के शांत करती थीं. मेरे जिस्म की गर्मी भी उफान पर थी तो ...

अंकल ने मेरी कुंवारी बुर की सील फाड़ दी

मैं 19 साल की कच्ची कली थी, हमारे पड़ोस में एक अंकल मुझे खा जाने वाली नजरों से देखते. एक दिन उनकी उंगलियाँ मेरे चूचियों से छू गयी तो मुझे मजा आया. उसके बाद क्या हुआ?

एक और अहिल्या-5

मेरी साली की बेटी अपनी विदाई के ज़ज़्बाती लम्हे में मुझसे गले मिली तो चुनरी की ओट में उसने अपने हाथ से मेरा लिंग पैन्ट के ऊपर से सहला दिया ... लिंग को मुट्ठी में भर लिया.

पड़ोस की चालू लड़की के साथ पहला संभोग

कॉलेज के टाइम तक मुझे चूत नहीं मिली थी, बस ब्लू फिल्म देख मुट्ठ मारता था. पड़ोस की लड़की ने किस तरह से मुझे चुदाई करना और चूत को खुश करना सिखाया मेरी इस कहानी में पढ़ें.

मैं कैसे बन गई चुदक्कड़-4

मेरे बॉस ने मुझे जॉब और पैसों के लालच से अपनी सेक्स स्लेव यानि चुदाई रखैल बना लिया था. लेकिन अब तो उसने मुझे अपने बिजनेस के लिए किसी और के हवाले कर दिया.

एक और अहिल्या-3

नाड़ा कटते ही लहँगा उसके पैरों में ऐसे गिरा जैसे किसी मूर्ति के अनावरण समारोह में मूर्ति का पर्दा नीचे गिरता है. वसुंधरा की केले के तने सी चिकनी दोनों टाँगें नंगी मेरे सामने थी.

मैं कैसे बन गई चुदक्कड़-3

मेरे बॉस ने गोवा ले जा कर मेरी सील तोड़ी. उसके बाद मेरे बॉस ने मुझे हर तरह से चोदा. एक दिन बॉस ने मुझे फार्महाउस पर बुलाया तो वहां क्या हुआ? कहानी पढ़ कर पता लगायें!

मैं कैसे बन गई चुदक्कड़-1

मैं सामान्य परिवार से हूँ, मेरे पापा नहीं है, मम्मी की जॉब से जैसे तैसे गुजारा चल रहा था. 12वीं के बाद ही मैं जॉब ढूँढने लगी. मुझे एक जॉब मिली भी. कैसे मिली और क्या हुआ?

मेरी सहेली की चुदाई की तलब-2

मेरी सहेली अपनी कामवासना से बेचैन थी, वो एक लड़के से अपनी चूत चुदवाने जाने वाली थी तो मुझे भी अपने साथ ले गयी. वहां जाकर मुझे पता चला कि ...

कमसिन स्कूल गर्ल की व्याकुल चूत-7

मैं पहली चुदाई का मजा ले चुकी थी. लेकिन इससे मेरी चुदाई की आग कुछ ख़ास शांत नहीं हुई थी. चुदाई की आग वो आग है कि जितनो चुदो, उतना भड़कती है. पढ़ें मेरी अगली चुदाई!

Scroll To Top