रिश्तों में चुदाई

इंडियन इन्सेस्ट स्टोरी, चाचा-भतीजी, चाची-भतीजा, मौसी, बुआ सास, ससुर जैसे रिश्तों में, परिवार में, रिश्तेदारी में चुदाई की कहानियाँ जिसे वर्जित माना जाता है.

Indian Incest Sex Stories in Hindi of Bhai-Bahan, Rishton mein chudai, Jija Sali and Devar-Bhabhi

शादीशुदा आंटी की कुँवारी बुर

हैलो दोस्तो ! यह मेरी पहली कहानी है। यहां पर मैं अन्य लेखकों की तरह यह बिल्कुल नहीं कहूँगा कि यह मेरी सच्ची कहानी है। बल्कि मैं यह कह रहा हूँ कि यह मेरी काल्पनिक कथा है जो कि सिर्फ मनोरंजन के लिए है, इसलिए इसे कुछ और न समझें। मेरा नाम राजीव कुमार है। […]

अपनी मौसी को ही चोद !

महबूब बाशा हेल्लो दोस्तो, कैसे हो आप ! मैं आपका प्यारा मेजस्टी, जिसकी कहानियाँ आप सब बहुत पसंद करते हैं। शायद इसलिये कि मेरी कहानियों में ज्यादातर लड़की या औरत मेरी करीबी होती है, जैसे मम्मी, बुआ या छोटी बहन। बहन से याद आया कि मेरी कहानी ¨छोटी बहन के साथ¨ को पसंद करने के […]

मीरा दीदी की गाण्ड चुदाई

By राजेश अय्यर On 2006-01-14 Tags:

प्रेषक : राजेश अय्यर आज तक मैं अन्तरवासना पर यही पढ़ते आया हूँ कि दोस्तों मैं अगली कहानी लेकर हाजिर हूँ। इसका मतलब पाठक काल्पनिक कहानी भी भेजते हैं। परन्तु मेरे पास ऐसी काल्पनिक नहीं अपितु सत्य घटना है जो मेरे साथ घटी है। बात कुछ साल पहले की है मेरे एक दूर के रिश्ते […]

एक ही थैली के चट्टे बट्टे-2

मेरा भाई मेरी ननद की योनि में अपने लिंग से घर्षण करने लगा था और मैं अपने हाथों से शिल्पा के हाथों को पकड़ कर उनसे अपनी पेंटी का वह हिस्सा रगड़ने लगी थी

आवारगी-4

माया देवी इस प्रकार अपनी योनि के साथ भाँति भाँति के अजीब ढंग के प्रयोग करते करते समय निकल रहा था कि विदेश से मेरी दोनों भाभियाँ आ गई, वे एक माह के लिए हिन्दुस्तान घूमने आई थी, उन दोनों से मेरी खूब पटी। मेरी बड़ी भाभी का नाम मार्टिना और छोटी भाभी का नाम […]

मैं क्यों शरमाऊँ

By vijusexx On 2005-10-11 Tags:

प्रेषक – विजय कुमार हाय, मेरा नाम विजय है। मैं द्वितीय वर्ष का छात्र हूँ। मैं आपको जो कहानी बताने जा रहा हूँ वह गत वर्ष ग्रीष्मकाल की है। मैं गर्मी की छुट्टियों में मुम्बई गया था। मुम्बई में मेरी चाची रहती हैं। वह वहाँ पर चेम्बुर में रहती हैं। मैं जब मुम्बई गया था […]

ससुर जी ने मेरी कोख हरी की

दोस्तों, मेरा नाम सीमा है। मैं उत्तर प्रदेश के गाज़ियाबाद की रहने वाली हूँ। मेरी उम्र तेईस साल है, ख़ूबसूरत और एक कसे हुए बद़न की मल्लिका हूँ। शादी से पहले मैंने कई लड़कों से चुदवाया था, पर शादी अपने घरवालों की मर्ज़ी से की। कहते हैं ना कि यह सच्चाई है कि एक लल्लू […]

सौ लौड़ों से चुद चुकी हूँ मैं !!

मैं उन दिनों अपने चाचा जान के यहाँ वाराणसी आई हुई थी। उनके लड़का अब्दुल बड़ा ही खूबसूरत था। गोरा चिट्टा, दुबला सा, लम्बा सा, उसे देखते ही मेरा दिल उस पर आ गया था। यूँ तो कानपुर में मुझे चोदने वाले कम नहीं थे, पर उनमें ज्यादातर तो गाण्ड मारने के शौकीन थे। गाण्ड […]

सर्दी में पार्टी

By smarty On 2005-08-14 Tags:

प्रेषिका : नितिका सिंह दोस्तो ! मैं अन्तर्वासना की पिछले कुछ समय से नियमित पाठिका हूँ, मैंने देखा कि बहुत से दोस्त और सहेलियां अपना-अपना अनुभव यहाँ बताते हैं तो मैंने सोचा कि क्यों ना मैं भी अपना अनुभव आपको बता कर आपका मनोरंजन करूँ ! दोस्तों यह बात उस समय की है जब मैं […]

नादान कलियों का दीवाना

By tajmahal99 On 2005-07-13 Tags:

प्रेषक : डॉ. एस. पी. सिंह बात कई साल पुरानी है लेकिन है बिल्कुल सच्ची। उस समय में बीएससी सैकिंड ईयर में हास्टल में रहकर पढ़ रहा था। मेरी उम्र करीब उन्नीस साल की रही होगी। कालेज में कुछ दिनों की छुट्टियां हो जाने के कारण मै गांव जाने का कार्यक्रम बनाकर हॉस्टल से शहर […]

बहन की सास की चुदाई

By अजनबी 24 On 2005-06-14 Tags:

प्रेषक : अजनबी हाय दोस्तो ! मैं एक काल बॉय, उम्र २४, हाइट ६ फ़ीट, लंड ७” इंच, फिगर ३२-३४-३२, रंग गोरा ! आज मैं आपको अपनी पहली चुदाई के बारे में बताने जा रहा हूँ। बात उन दिनों की है जब मैं दिल्ली इंजिनियरिंग कॉलेज के आखिरी वर्ष में था। घर के सभी लोग […]

प्यार की प्यास

By नेहा वर्मा On 2005-06-05 Tags:

लेखिका : नेहा वर्मा मेरे ताऊ मेरे घर से दो किलोमीटर दूर ही रहते थे। जब भी कोई छुट्टी का मौका होता तो मैं वहाँ चला जाता था। और स्कूल की छुट्टी समाप्त होने तक वहीं रहता था। उसका एक कारण था….मेरी ताई मुझे बहुत प्यार करती थी। उनके प्यार में सेक्स का पुट अधिक […]

गाण्ड मारने का पहला मज़ा

प्रेषक : अभय शर्मा मेरा नाम अभय शर्मा है मैं २५ साल का हूँ। मैं आज अपने सभी दोस्तों को अपने सेक्स और अपने कुँवारापन खोने के पहले अनुभव के बारे में बताना चाहता हूँ। तब हम लोग इलाहबाद में रहते थे और गर्मी की छुट्टियों में अपने दादा के घर लखनऊ जाते थे। वहां […]

विधवा की अगन

लेखिका : नेहा वर्मा मेरा नाम सुमन है। मेरी उम्र ४० वर्ष की है। मेरे पति का तीन साल पहले एक दुर्धटना में स्वर्गवास हो गया था। मेरी बेटी स्वर्णा की शादी मैंने अभी चार महीने पहले ही सम्पन्न करा दी थी। स्वर्णा का पति शेखर कॉलेज में असिस्टेन्ट प्रोफ़ेसर था। २५ साल का खूबसूरत […]

पहली प्यास अपने ही घर में

प्यारे पाठको, मेरा नाम रोमिल है। मैंने अन्तर्वासना की हर कहानी पढ़ रखी है। आपका अहसान चुका रहा हूँ अपनी सच्ची कहानी भेज कर! कृपया मुझे उत्साहित करें! यह मेरी पहली कहानी है, अच्छी लगे तो तो अपने विचार देना। यह बात आज़ से दो साल पहले की है जब मैं नौकरी नहीं करता था […]

जन्नत की सैर

By ding1_dong22 On 2005-03-29 Tags:

प्रेषक : सलीम हेल्लो मेरा नाम सलीम है। मेरी उमर २५ साल है। मैं गुजरात का रहने वाला हूँ। मैंने यहाँ अन्तर्वासना पर बहुत सी सच्ची-झूठी कहानियाँ पढ़ी हैं पर मुझे बहुत मजा आया और उन्हें पढ़ने के बाद मैंने बहुत बार मुठ मारी है। मैं आपको अपनी कई साल पहले की एक जन्नत के […]

माँ का सफर-2

By exosus2000 On 2005-03-17 Tags:

(गाँव से दिल्ली) प्रेषक : मादरचोद दूसरे दिन दोनों माँ बेटे होटल से घूमने निकले तो राहुल ने पूछा- माँ क्या आज भी बस का मजा लेना है? कमला ने आज स्कर्ट-ब्लाउज पहना था, बिना पैंटी के, उसने कहा- क्यों नहीं ? कुछ घट थोड़े ही जाता है ! और यहाँ हम लोगों को कौन […]

माँ का सफर-१

By exosus2000 On 2005-03-15 Tags:

(गाँव से दिल्ली) प्रेषक : मादरचोद जमुना लाल जी पटना से १२० किलो मीटर दूर बिहार के राजपुर गाँव के हाई स्कूल में हेडमास्टर थे, पढाने में बड़े तेज थे और उन्हें गोल्ड मैडल मिला था। वो कहीं भी और अच्छी नौकरी कर सकते थे, लेकिन उन्हें अपने गाँव से बहुत प्यार था, और वहीं […]

दीदी की ससुराल में स्वागत

बात कुछ साल पुरानी है पर है बिल्कुल सच्ची। उस समय मैं सेक्स के बारे में बिल्कुल अंजान था। मैंने कभी मुठ भी नहीं मारी थी। गर्मियों की छुट्टियों में मुझे अपनी दीदी की ससुराल में जाने का मौका मिला। दो माह की छुट्टियाँ बिताने मैं और मेरा छोटा भाई दीदी की ससुराल में पहुंचे। […]

भतीजी की कुंवारी फूली हुई चूत की चुदाई

मैंने पूरी ताकत से शोट मारा उसके मुँह से चीख निकल गई मेरा आधा लंड मेरी भतीजी की कुंवारी चूत में घुस चुका था, वो नीचे छटपटाने लगी लेकिन मैंने उसे जकड़ रखा था, वो रोने लगी और कहने लगी चाचू आप बहुत गंदे हो, आगे से मैं आपके पास कभी नहीं आऊँगी.

Scroll To Top