रिश्तों में चुदाई

इंडियन इन्सेस्ट स्टोरी, चाचा-भतीजी, चाची-भतीजा, मौसी, बुआ सास, ससुर जैसे रिश्तों में, परिवार में, रिश्तेदारी में चुदाई की कहानियाँ जिसे वर्जित माना जाता है.

Indian Incest Sex Stories in Hindi of Bhai-Bahan, Rishton mein chudai, Jija Sali and Devar-Bhabhi

दीदी के ससुर ने मेरी मम्मी को चोदा

यह कहानी काल्पनिक है. मैं सारा दिन चुदाई, सेक्स के बारे में सोचती रहती हूँ. इस कहानी में मैंने अपनी सेक्स भरी कल्पना से, जो कुछ मेरे दिमाग में आया लिख दिया. इस लिए लॉजिक को एक तरफ डाल कर कहानी पढ़ें!

जवान भतीजी को चोदा

मेरे ममेरे भाई की बेटी यानि मेरी भतीजी काफी सेक्सी थी. मैं उनके यहाँ जाता रहता था. मैं दिखने में बहुत अच्छा हूँ तो वो मेरे ऊपर मर मिटी और मुझे फोन करने लगी. बात सेक्स तक कैसे पहुंची?

भाई बहन सेक्स: घर की लाड़ली-1

भाई बहन सेक्स की इस कहानी में पढ़ें कि कैसे एक खूबसूरत लड़की ने कामवासना के ग्रसित होकर अपने सगे भाइयों को अपनी जवानी के जाल में फंसाया और उन्हें बहनचोद बनाया.

गाँव में ससुर जी के लंड के मजे

मैं अपने सास ससुर संग गाँव गयी. वहां मुझे चचिया ससुर मिले. वे मुझे बहुत घूर रहे थे, पहले मुझे अजीब सा लगा, फिर मुझे उम्मीद हो गई कि बहू की चूत को ससुर का लंड मिल सकता है.

भाई बहन ननदोई सलहज का याराना-11

मैंने बाथरूम में रखी हुई क्रीम अपने लिंग और उसकी गांड के छेद पर मल कर एक बार फिर प्रयास किया. तब मेरा लिंग मुंड उसके उसकी गांड में घुस गया।

सास के साथ चरम सुख की प्राप्ति

मेरी सास मेरे घर आई हुई थी. एक दिन मैंने अपनी सास को नंगी देख लिया. वो नहाने के बाद कपड़े पहन रही थी. मेरा मन उनके रस भरे यौवन को चखने के लिए व्याकुल था, वहीं रिश्तों की मर्यादा भी थी.

चुत की खुजली और मौसाजी का खीरा-5

उन्होंने अपने लंड को मेरी चुत के मुँह पर रखा और मेरी तरफ देखा, वह पल आ गया था कि मैं अपने पचास साल के मौसा जी पर अपनी अठारह साल की कमसिन जवानी लुटाने जा रही थी।

दीदी के देवर से चुद गई

मेरे यारो, आज मैं अपनी रियल चुदाई स्टोरी में बताऊंगी कि कैसे मैं अपनी दीदी के देवर से चुदी. मेरी जान पहचान उससे कुछ ज्यादा ही हो गयी थी. एक बार उसने मेरी चूची को मसल दिया तो...

चुत की खुजली और मौसाजी का खीरा-3

नाईटी घुटनों तक लंबी थी पर बीच में जांघों तक कट था तो उसमें से मेरे गोरी जांघें दिख रही थी। बारिश की वजह से मेरी पतली नाईटी भीग कर पारदर्शी हो गयी थी और उसमें मेरी ब्रा और पैंटी दिख रही थी

बहूरानी के मायके में चुदाई-3

हसीनाओं की ये भोली अदाएं ही तो चुदाई का आनन्द दोगुना कर देतीं हैं; इनका ये रोना धोना, नखरे कर कर के चुदना, एक प्रकार का कॉम्प्लीमेंट, उत्साहवर्धक ही है हम चोदने वालों के लिये.

बहूरानी के मायके में चुदाई-2

बहू के मायके में मैं अपनी बहू को बंजारन के लिबास में देख कर उसकी चुदाई के लिए बेचैन हो रहा था, बहू भी मेरी लालसा को जानती थी और वो भी यही चाहती थी. हमारी प्यास कैसे बुझी?

बहूरानी के मायके में चुदाई-1

मैं अपनी पूत्रवधू को लेकर उसके चचेरे भाई की शादी में गया. अब शादी में तो रंग बिरंगी तितलियाँ आई ही होती हैं, मैं चक्षु चोदन कर रहा था कि मेरी बहू बंजारन लिबास में मेरे पास आई.

साठा पे पाठा मेरे चाचा ससुर-4

मैंने कहा- पापा, खुश करते हैं, उनके प्यार में कोई कमी नहीं है, उन्हें काम की टेंशन है तो हफ्ते में एक दो बार ही करते हैं, पर मेरी ही भूख ज़्यादा है, मुझे तो हर रोज़ चाहिए, इसलिए मुझे हर वक्त सेक्स की चाहत रहती है।

साठा पे पाठा मेरे चाचा ससुर-3

मैंने नीचे पेंटी नहीं पहनी थी, तो साड़ी ऊपर उठाने से मैं उनके सामने नंगी हो गई। मेरी नंगी चूत को देख कर ससुर जी खिल गए- वाह बहू, चूत को तो बहुत चिकना कर रखा है!

साठा पे पाठा मेरे चाचा ससुर-2

एक दिन मैंने अपने चाचा ससुर को हमारी कामवाली को चोदते देखा, चचा का लंड देखा तो मेरे तनबदन में वासना भड़क गयी. मुझे चाचा ससुर का लंड अपनी चूत में लेने की इच्छा होने लगी.

कमसिन लड़की की मोटे लंड की चाहत-3

जैसे ही मैं सामने घूमी तो एकदम से लालजी मुझे देखता ही रह गया. मैं ब्लाउज और पेटीकोट में थी. मेरा पूरा नंगा पेट, खुली नाभि और ब्लाउज में उभरे हुए चूचे देख कर कोई भी पागल हो जाता.

फूफा जी का बड़ा लंड दोबारा चूत में लिया

मेरी पोर्न कहानी में पढ़ें कि मैंने रात को फूफा जी का नशे की हालत का फ़ायदा उठा कर उनका बड़ा हब्शी लंड अपनी चुत में लिया था. कुछ देर बाद फूफा जी का लंड मेरी आँखों के सामने घूम रहा था और मेरा मन कर रहा था कि एक बार और फूफा जी से चुदाई करवा लूँ.

अधूरी ख्वाहिशें-2

हमारे समाज ने सेक्स को टैबू बनाया हुआ है, सौ में से नब्बे लोग इन समाजों में यौनकुंठित और दुखी ही हैं। जबकि पश्चिमी सभ्यता में यह रोजमर्रा का आम व्यवहार है और वे सेक्स को खुल कर जीते हैं और हमारे मुकाबले वे ज्यादा खुश और खुशहाल हैं।

पुत्र वधू की सुहागरात-2

पूजा बेटी, जिस चीज़ के लिये तुम परेशान हो, वही कमी मुझे भी खलती है. अगर तुम चाहती हो कि घर इज़्ज़त बाहर ना लुटे और तुम्हारी जरूरत घर में ही पूरी हो तो हम दोनों ससुर बहू एक दूसरे के तन की भूख को मिटा सकते हैं अगर तुम्हें कोई ऐतराज़ ना हो...

पुत्र वधू की सुहागरात-1

पत्नी की मृत्यु के बाद घर संभालने के लिए मैंने अपने बेटे की शादी की और बेटी जैसी बहू को घर ले आया. लेकिन एक दिन जब मैं दफ्तर से जल्दी लौट आया तो मैंने घर में क्या देखा?

Scroll To Top